बीइंग ह्यूमन क्या है

बीइंग ह्यूमन फ़ाउन्डेशन (Being Human Foundation) एक मुंबई में स्थित समाज कल्याण से जुडी हुई संस्था है जिसकी स्थापना बॉलीवुड के स्टार सलमान खान द्वारा 2007 में किया गया था। यह संस्था भारत के पिछड़े वर्ग से जुड़े हुए और गरीब लोगों की शिक्षा और उनके स्वस्थ्य का पूरा खर्च उठाती है। संस्था के लिए अनुदान का प्रमुख स्रोत बीइंग ह्यूमन ब्रांड की वस्तुओं को बेचकर किया जाता है, जिनसे वर्ष 2016 में लगभग 300 करोड़ रुपये की राशि जुटाई गई थी। यह संसथान अपना अनुदान एकत्रित करने के लिए घडी और कपड़ों का उत्पादन करके मार्किट में बेचने का कार्य करती है | इसके प्रोडक्ट आप मॉल या ऑनलाइन किसी भी माध्यम से खरीद सकते है | यह एक सामाजिक संस्था है, जो गरीब और पिछड़े लोगों को रोजगार, शिक्षा और इलाज जैसी सेवाएं निशुल्क प्रदान करती है | यदि आप भी बीइंग ह्यूमन क्या है, हेल्पलाइन नम्बर (What is Being Human Explained in Hindi), क्या है इसके विषय में जानना चाहते है तो यहाँ पर इसके विषय में पूरी जानकारी दी जा रही है |

प्रधानमंत्री आवास योजना लिस्ट कैसे देखे

बीइंग ह्यूमन संस्था के कार्य

बीइंग ह्यूमन फ़ाउन्डेशन बहुत सी नि:शुल्क सेवाएं प्रदान करता है। यह मुंबई के अक्षरा हाई स्कूल के 200 बच्चों की शिक्षा का पूरा खर्च उठाता है। इसके अलावा 300 बच्चों का खर्च मुंबई की ग़ैर-लाभकारी संस्था असीमा के द्वारा भी उठाया जाता है। इसके अलावा फ़ाउन्डेशन वीर (VEER) पहल को भी अनुदान प्रदान इसी संस्था द्वारा प्रदान किया जाता है जिसके कार्यक्रम से दिव्यांगों को अत्म-निर्भर बनाने के लिए प्रयास के साथ सहायता प्रदान की जाती हैं। दिसम्बर 2015 तक इस कार्यक्रम के तहत 1909 व्यक्तियों को प्रशिक्षित किया गया था, जिनमें से 1194 लोग रोज़गार भी प्राप्त कर चुके थे। संस्था ऐसे कार्यक्रम भी करती है जिनसे विद्यार्थियों की मूल क्षमताओं के विकास में सहायता मिलती है और इसी दिशा में कैरियर विकास केन्द्रों को भी गठित किया गया है।

आरोग्य सेतु ऐप क्या है

बीइंग ह्यूमन संस्था की सेवाएं

बीइंग ह्यूमन फाउंडेशन शिक्षा और रोजगार सेवाएं देने के अलावा जन्मजात हृदय दोष और जन्मजात खोपड़ी से सम्बंधित बीमारी से पीड़ित बच्चों के इलाज के लिए अनुदान प्रदान करता है। इसके पहले इस संस्था द्वारा महाराष्ट्र में खूखे से पीड़ितों की सहायता की है | इसके अलावा कश्मीर में तूफ़ान से पीड़ित लोगों को मुफ्त में रज़ाइयाँ पहुँचा चुका है, और मुफ़्त में नेत्र शिविर कैंपों का भी आयोजन करती आयी है जहाँ पर मोतियाबिन्द शल्यचिकित्साओं की सुविधाएँ दी जा चुकी है। मुंबई में उसने अस्थि मज्जा अनुदानकर्ताओं के पंजीकरण कैंपों में भी सहायता प्रदान कर चुकी है।

कोरोना पूल टेस्टिंग क्या है

संस्था का विवाद

वर्ष 2018 में बृहन्मुंबई महा नगर पालिका ने धमकी देते हुए कहा था कि वह इस संस्था का नाम काली सूची में यानि कि ब्लैक – लिस्टेड कर देगी, यदि इस संस्था ने अपोहन (dialysis) मशीनों को बांद्रा में नहीं लगाया । यह परियोजना एक सार्वनिक-निजी साझेदारी थी जिसमे नगर पालिका सरकार कि जगह मुहैया करवाने वाली थी जबकि फ़ाउन्डेशन कम-खर्च अपोहन सुविधा और कर्मचारियों को बनाए रखने का विचार कर रखा था। फ़ाउन्डेशन ने साफ़ इंकार किया था कि संस्था ने कभी भी कोई नगर पालिका के साथ औपचारिक समझौते पर हस्ताक्षर किए है। 

कोरोना वाइरस हेल्पलाइन, टोल फ्री मोबाइल नंबर

बीइंग ह्यूमन की शिक्षा संस्थाएं

  1. अक्षरा हाई स्कूल
  2. असीमा
  3. कैरियर विकास केन्द्र
  4. शिक्षा संसाधन केन्द्र,
  5. महाराष्ट्र महाराष्ट्र प्रबोधन सेवा मंडल (MPSM)
  6. रंगमंच और नाटक की पहल
  7. बीइंग बजरंगी
  8. ब्रिलिअंट स्कूल ऑफ़ साइंस
  9. ट्यूबलाइट परियोजना

परमाणु बम (NUCLEAR WEAPON) क्या होता है

बीइंग ह्यूमन संस्था के साझेदार

  1. अक्षरा हाई स्कूल
  2. असीमा
  3. माया फ़ाउन्डेशन
  4. मैरो डोनर रेजिस्ट्री, भारत
  5. दि मैक्स फ़ाउन्डेशन

सूर्य मित्र (SURYA MITRA) योजना क्या है

बीइंग ह्यूमन हेल्पलाइन नम्बर

इसके लिए आप इ मेल के माध्यम से या फिर वेबसाइट पर विजिट करके कांटेक्ट कर सकते है, वेबसाइट और ई मेल की जानकारी कुछ इस प्रकार है :-

  1. http://www.beinghumanonline.com/
  2. mail@beinghumanonline.com

डिप्रेशन (DEPRESSION) क्या होता है

यहाँ पर आपको बीइंग ह्यूमन के विषय में जानकारी दी गई | यदि इस जानकारी से सम्बंधित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न या विचार आ रहा है, या अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है, हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है | अधिक जानकारी के लिए hindiraj.com पोर्टल पर विजिट करे |

वैज्ञानिक (SCIENTIST) कैसे बनें