बीपीओ का क्या मतलब है



आज के इस कम्पटीशन युग में नौकरी प्राप्त करना बेहद कठिन कार्य है, क्योंकि लगभग सभी क्षेत्रों में प्रतिस्पर्धा निरंतर बढ़ती जा रही है परन्तु वर्तमान समय में बीपीओ एक ऐसा सैक्टर है, जिसमें रोजगार के अनेको विकल्प मौजूद है |  इसके माध्यम से लाखों लोगो को रोजगार मिल रहा है | दरअसल बीपीओ द्वारा अनेक बड़ी-बड़ी कम्पनियों के कस्टमर केयर जैसे कार्यों को संचालित किया जा रहा है, जिसके कारण इस क्षेत्र में रोजगार के अनेको अवसर उत्पन्न हो रहे है |



हालाँकि आपने बीपीओ के बारें में न्यूज़, समाचार पत्रों आदि में अवश्य पढ़ा होगा परन्तु आपको इसके बारें में जानकारी नही है, तो बीपीओ का क्या मतलब है, फुल फॉर्म और बीपीओ में जॉब प्राप्त करनें के बारें में आपको यहाँ पूरी जानकारी विस्तार से दे रहे है |             

उद्योग आधार पोर्टल

बीपीओ का फुल फॉर्म (BPO Full Form)

बीपीओ (BPO) का फुल फॉर्म “बिजनेस प्रोसेस आउटसोर्सिंग (Business Process Outsourcing)” है और हिंदी में इसे व्यावसायिक प्रक्रिया आउटसोर्सिंग कहते है | इसके साथ ही बीपीओ को आईटीईएस (ITES) अर्थात इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी इनेबल्ड सर्विसेज के नाम से भी जाना जाता है |




BPO Full Form In EnglishBusiness Process Outsourcing
बीपीओ फुल फार्म इन हिंदीव्यावसायिक प्रक्रिया आउटसोर्सिंग

भारतीय अर्थव्यवस्था में कोर सेक्टर क्या है

बीपीओ का क्या मतलब है (What Is BPO)

बीपीओ अर्थात बिजनेस प्रोसेस आउटसोर्सिंग एक ऐसी व्यापारिक प्रक्रिया है, जिसमें किसी कम्पनी द्वारा अपनें कार्य को किसी अन्य तीसरी पार्टी द्वारा कॉन्ट्रैक्ट के माध्यम से पूरा कराया जाता है | दूसरे शब्दों में कहे तो बीपीओ एक ऐसा अनुबंध (Contract) है, जहाँ अपनें बिजनेस के लिए किसी अन्य पार्टी को नियुक्त कर उनके द्वारा अपनें कस्टमर को सर्विस प्रदान की जाती है | इसमें अनेक प्रकार के डिवीज़न होते हैं जैसे- कॉल सेंटर, एकाउंटिंग का कार्य, किसी कम्पनी के कर्मचारियों का पेरोल बनाना इत्यादि शामिल होता है |

अधिकांशतः बड़ी-बड़ी कम्पनियां या संस्थाएं अपनें वर्क को स्वयं न करते हुए वह इसके लिए किसी थर्ड पार्टी से कॉन्ट्रैक्ट करते है | इससे उनका कार्य बड़ी सरलता से समय पर हो जाता है, इससे उन्हें धन लाभ के साथ-साथ कई अन्य प्रकार के लाभ प्राप्त होते है | सबसे बड़ा लाभ यह होता है, कि इसके लिए उन्हें अधिक एम्प्लोयी या वर्कर्स को हायर करनें, उनकी सैलरी और उनकी देख-रेख आदि से छुटकारा मिल जाता है |

हालाँकि थर्ड पार्टी के अंतर्गत यह कार्य करनें वाले लोग उस क्षेत्र के प्रोफेशनल होते है | वर्तमान समय में अधिकांश कम्पनियां अपनें कार्यों के लिए दूसरे देश के एम्प्लॉयीज हायर करते हैं | जैसे अमेरिकन कम्पनियां अपनें कार्यों को आउटसोर्स करनें के लिए इंडियन आर्गेनाईजेशन से कॉन्ट्रैक्ट करते है, क्योंकि अमेरिका में यह कार्य करानें के लिए उन्हें एम्प्लॉयी को अधिक पैसे देने पड़ते है, जबकि इसी कार्य को किसी भारतीय आर्गेनाईजेशन से करानें पर उन्हें कम धनराशि देनी पड़ती है |

प्रधानमंत्री आत्मनिर्भर भारत अभियान क्या है

बीपीओ के अंतर्गत कार्य कैसे होता है (BPO Works)

बीपीओ सर्विस के अंतर्गत कॉन्ट्रैक्ट लेने वाली कम्पनी द्वारा बिजनेस प्रोसेस या कार्यों को दो प्रकार से आउटसोर्स किया जाता है, जो इस प्रकार है-

1.बैक ऑफिस आउटसोर्सिंग (Back Office Outsourcing)

बैक ऑफिस आउटसोर्सिंग को “इंटरनल बिजनेस फंक्शन (Internal Business Function)” के नाम से भी जाना जाता है | इसके अंतर्गत ह्यूमन रिसोर्सेज (HR), अकाउंटिंग, पेरोल, क्वालिटी एश्योरेंस जैसे कार्यों का मैनेजमेंट करने में आर्गेनाईजेशन सर्विसेज प्रदान करती है |

शेयर मार्केट क्या है

2. फ्रंट ऑफिस आउटसोर्सिंग (Front Office Outsourcing)

फ्रंट ऑफिस आउटसोर्सिंग के अंतर्गत कस्टमर रिलेटेड सर्विसेज, मार्केटिंग और सेल्स आदि सेवाओं पर विशेष ध्यान दिया जाता है | इस सर्विस में कर्मचारियों को अपनें कस्टमर्स से फ़ोन से बातचीत करना इसके साथ ही ईमेल, फैक्स आदि शामिल हैं | 

एनबीएफसी (NBFC) क्या है

बीपीओ के प्रकार (Types Of BPO)

कार्यों के अनुसार बीपीओ सिस्टम को 3 भागों में डिवाइड किया गया है, जो इस प्रकार है-

1.ऑफ सोर्स आउटसोर्सिंग (Offshore Outsourcing)

किसी कार्य को पूरा करनें के लिए कोई कम्पनी किसी दूसरे देश की कम्पनी या ऑर्गनाइजेशन के साथ में कॉन्ट्रैक्ट करती है, तो उसे ऑफ सोर्स आउटसोर्सिंग कहते है |

आईआरडीए (IRDA) का फुल फॉर्म क्या है ?

2.ऑन सोर्स आउटसोर्सिंग (Onshore Outsourcing)

ऑन सोर्स आउटसोर्सिंग के अंतर्गत जब कोई कम्पनी या संस्था अपनें कार्यों को करानें के लिए अपने देश की किसी कम्पनी के साथ कॉन्ट्रैक्ट करती है | ऑन सोर्स आउटसोर्सिंग को डॉमेस्टिक आउटसोर्सिंग के नाम से भी जाना जाता है |

3.नियर सोर्स आउटसोर्सिंग (Near Source Outsourcing)

जब किसी ऑर्गनाइजेशन द्वारा अपनें कार्यों को करानें के लिए अपनें पड़ोसी देशों की कंपनियों से कॉन्ट्रैक्ट साइन किया जाता है, तो इसे नियर सोर्स आउटसोर्सिंग कहते है |

एनसीएलटी क्या है

बीपीओ कम्पनी में जॉब कैसे पायें (How To Get Job In BPO Company)

यदि हम बीपीओ जॉब्स की बात करे तो यह कॉल सेन्टर की तरह वर्क करते है | इसके अंतर्गत आप दोनों तरह डोमेस्टिक और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर कार्य कर सकते है | यदि आपकी इंग्लिश अच्छी है तो आप ऑफ सोर्स कम्पनी के अंतर्गत कार्य कर सकते है, यदि आपको अंग्रेजी भाषा का अच्छा ज्ञान नही है तो आप ऑन सोर्स अर्थात अपने देश के बीपीओ सर्विस के अन्तर्गत कार्य कर सकते है परन्तु इसके लिए आपकी कम्युनिकेशन स्किल अच्छी होनी चाहिए |     

बिजनेसमैन कैसे बने

बीपीओ जॉब्स हेतु योग्यता (Qualification for BPO Jobs)

बीपीओ के अंतर्गत जॉब की बात करे तो वर्तमान समय में कॉल सेंटर में आसानी से जब मिल सकती है | इसके लिए आपको किसी खास वर्क एक्सपीरियंस की आवश्यकता नहीं होती है, परतु कुछ खास स्किल्स का होना आवश्यक है जो इस प्रकार है-

  • बीपीओ सर्विस के लिए आपकी शिक्षिक योग्यता कम से कम 12th पास होनी चाहिए |  
  • इस प्रकार की जॉब्स के लिये आपकी कम्युनिकेशन स्किल में अच्छी पकड़ होनी चाहिये |
  • बीपीओ जॉब्स के अंतर्गत आपको कंप्यूटर का बेसिक नालेज होना आवश्यक है |

रियल एस्टेट (Real Estate) क्या होता है

बीपीओ जॉब्स प्राप्त करनें से सम्बंधित जानकरी (Information Related to Getting BPO Jobs)

  • बीपीओ जॉब्स प्राप्त करनें के लिए सबसे पहले अपना एक अच्छा बायोडाटा प्रोफेशनल ढंग से बनाये | 
  • बीपीओ सर्विस के लिए अपनी कम्युनिकेशन स्किल को मजबूत करे और इंटरव्यू की बेहतर तैयारी करे |
  • बीपीओ जॉब्स को क्रैक करने के लिए जिस कम्पनी में आप इंटरव्यू देने के लिए जा रहे है, उसके बारें में पूरी जानकारी एकत्र करे | 
  • इस बात का ध्यान रखे कि आप जॉब के लिए सिर्फ एक कंपनी में ही नहीं बल्कि अलग- अलग कम्पनियों में अप्लाई करे |
  • यदि आप आई टी फील्ड में टेक्निकली क्वालिफाइड हैं, तो आप को टेक्निकल सपोर्ट प्रोफेशनल में जॉब आसानी से मिल सकता हैं |

आईपीओ (IPO) क्या है

बीपीओ जॉब्स सैलरी (BPO Jobs Salary)

बीपीओ जॉब्स के अंतर्गत आपको सैलरी आपके अनुभव अर्थात एक्सपिरियन्स के आधार पर मिलती है | यदि आप फ्रेशर है, तो शुरुआत में आपको सैलरी के रूप में लगभग 15 से 20 हजार के बीच मिल सकती है | यदि आप पहले भी कार्य कर चुके है, तो आपको सैलरी आपके एक्सपिरियन्स के अनुसार मिलेगी |  हालाँकि आपका वेतन कम्पनी और स्थान पर भी निर्भर करता है |    

मुद्रा विनिमय (CURRENCY SWAP) क्या होता है

यहाँ आपको बीपीओ (BPO) के विषय में जानकारी उपलब्ध कराई है | यदि आप इससे सम्बंधित अन्य जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो आप  कमेंट बॉक्स के माध्यम से पूछ सकते है आपकी प्रतिक्रिया का हमें इन्तजार है अधिक अन्य जानकारी प्राप्त करने के लिए www.hindiraj.com पोर्टल पर विजिट करे |

मनी लॉन्ड्रिंग क्या होता है

Leave a Comment