Dark web (डार्क वेब) क्या होता है

आज के समय में इन्टरनेट हमारे लिए एक आवश्यक आवश्यकता बन चुका है, शायद इसीलिए इन्टरनेट पर रोजाना करोड़ो लोग विजिट करते है | जब आपको कुछ समझ नहीं आता है, तो आप तुरंत अपनें स्मार्टफ़ोन या कंप्यूटर की सहायता से इंटरनेट में सर्च कर उसके बारें में जानकारी प्राप्त कर लेते है और इसीलिए शायद आप इंटरनेट की दुनिया को बहुत बड़ा समझते है, पर ऐसा नही है |

आपको बता दें, कि हम लोग 100% इन्टरनेट में से मात्र 4 से 5% ही फेसबुक, ट्विटर, व्हाट्सप्प, यूट्यूब आदि में इस्तेमाल करते है और शेष 95 या 96 प्रतिशत वेब के बारें में हमें कोई जानकारी नहीं होती है और यह एक आम व्यक्ति की पहुँच से बाहर होता है, जिसे हम डार्क वेब कहते है | Dark web (डार्क वेब) क्या होता है, Dark Web Definition के बारें में आपको यहाँ पूरी जानकारी विस्तार से दे रहे है |  

वेब डेवलपर (Web Developer) कैसे बने

डार्क वेब क्या होता है (What Is Dark Web)

डार्क का मतलब अँधेरा होता है और डार्क वेब नाम से ही कुछ अलग लग रहा है | दरअसल डार्क वेब इन्टरनेट का वह भाग है, जहाँ दुनिया के उन सभी कार्यों को अंजाम दिया जाता है जो कानूनी रूप से प्रतिबंधित है | सबसे खास बात यह है, कि डार्क वेब का यूज़ करनें वाले लोगो को ट्रैक करना मुश्किल ही नामुमकिन होता है, क्योंकि इसका उपयोग करनें वाले लोगो का कोई सटीक आईपी एड्रेस नहीं होता अर्थात इनका आईपी एड्रेस लगातार बदलता रहता है |            

डार्क वेब को अच्छी तरह से समझनें से पहले इन्टरनेट के बारें में गहराई से समझना आवश्यक है | इंटरनेट तीन प्लेटफॉर्म सरफेस वेब, डीप वेब और डार्क वेब पर वर्क करता है, जिनका विवरण इस प्रकार है-

1.सरफेस वेब (Surface Web)

सरफेस वेब इंटरनेट का एक ऐसा भाग है, जिसे कोई भी व्यक्ति किसी भी समय और किसी भी स्थान पर बड़ी आसानी से इस्तेमाल कर सकता है | इसे एक्सेस करनें में किसी प्रकार की कोई समस्या नहीं होती है |

इसे यूज़ करनें के लिए किसी प्रकार की परमीशन की आवश्यकता नहीं होती है | जैसे कि गूगल(Google), बिंग (Bing), याहू (Yahoo) जैसे सर्च इंजन में सर्च करने पर हमें जानकारी मिल जाती है | इस प्रकार आसानी से एक्सेस होने वाली वेबसाइटस को हम सरफेस वेब कहते है |

WWW (डब्लू. डब्लू. डब्लू) क्या है

2.डीप वेब (Deep Web)

डीप वेब इन्टरनेट का एक ऐसा भाग है, जिसका उपयोग करना गैरकानूनी नहीं माना जाता है | डीप वेब के अंतर्गत सीक्रेट्स वेबसाइट होती हैं, अर्थात इनमें ऐसा डाटा रखा जाता है जो सार्वजानिक नहीं होता है | इसका उपयोग सिर्फ वही व्यक्ति कर सकता है, जिसके पास इन वेबसाइटस को एक्सेस करनें की परमीशन दी जाती है |

इसमें अधिकांशतः बैंक्स सीक्रेट्स, गवर्नमेंट एम्प्लाइज, आर्मी, इंटेलिजेंस ब्यूरो, सीबीआई  जैसी संस्थाए इसका उपयोग करती है | इनसे सम्बंधित कोई भी सीक्रेट इनफार्मेशन आप गूगल या किसी अन्य सर्च इंजन में सर्च करके प्राप्त नहीं कर सकते, इसलिए इस तरह की वेबसाइट या पेजेज को डीप वेब में रखा गया है |  

ईमेल आईडी कैसे बनाई जाती है

3.डार्क वेब (Dark Web)

सरफेस वेब और डीप वेब नियमों के अंतर्गत कार्य करते है, परन्तु डार्क वेब इन्टरनेट का एक ऐसा भाग है, जहाँ सभी प्रकार के गैरकानूनी कार्यों जैसे बैंक से पैसे उड़ाना, ड्रग्स बेचना, मर्डर की सुपारी देना, हैकिंग, आदि को अंजाम दिया जाता है |  इन्टरनेट के इस भाग को किसी सामान्य ब्राउज़र से एक्सेस नहीं किया जा सकता है |

इस तरह की साइटस को ओपन करनें के लिए विशेष ब्राउजर की जरूरत होती है, जिसे टोर (Tor) कहते हैं | सबसे खास बात यह है, कि एक्स्टेन्शन नेम (Extension) बिलकुल अलग होते हैं | डार्क वेब की साइट को टॉर एन्क्रिप्शन टूल की सहायता से छुपा (Hide) कर दिया जाता है। ऐसे में यदि कोई यूजर्स किसी भी तरह से पहुंच भी जाता है, तो उसका डेटा चोरी हो जाना या सिस्टम हैक हो जाना स्वाभाविक है |

कंप्यूटर एक्सपर्ट कैसे बने

डार्क वेब यूज़ कैसे करे (How To Use Dark Web)

  • डार्क वेब में login करना आसन नहीं होता है, इसमें लॉग इन करनें के लिए कुछ नियमों का पालन करना होता है जो इस प्रकार है-
  • सबसे पहले आपको एक Secured VPN Service की आवश्यकता होगी, जो आपकी पहचान को हाईड कर सके |
  • अब आपको Tor Web Browser को डाउनलोड करना होगा, ताकि आप डार्क वेब पूरी सिक्यूरिटी से लॉग इन कर सके |
  • डार्क वेबसाइटस को सर्च करनें के लिए एक सर्च इंजन डाउनलोड करना होगा | आप चाहे तो GRAM Search Engine का यूज़ कर सकते हैं, यह बिल्कुल गूगल की तरह ही है |     

सीसीसी कंप्यूटर कोर्स क्या होता है

डार्क वेब को एक्सेस करनें की प्रक्रिया (Dark Web Access Process)

  • डार्क नेट पर एक्सेस के लिए सबसे पहले आप एक Dark Web Browser डाउनलोड करे | आप यहाँ दिए गये लिंक से डायरेक्ट डाउनलोड कर सकते है |
  • ब्राउज़र डाउनलोड होनें के बाद ब्राउज़र पर Double-Click कर ओपन कर Destination Folder Select कर Extract करे |
  • अब आपको वह फोल्डर ओपन करना है, जहाँ आपनें TOR Browser को Extract किया था |
  • इसके बाद  Double-Click कर Start Tor Browser क्लिक करे |
  • अब TOR Start Page ओपन हो जायेगा और आप एक नई दुनिया में Entry ले सकते है |

DP Ka Full Form in Hindi

डार्क वेब ब्राउज़र की सूची (List of Dark Web Browsers)

1.Whonix
2.Subgraph OS
3.Waterfox
4.The Tor Browser
5.ISP – Invisible Internet Project

डार्क वेब ब्राउज़र सर्च इंजन की सूची (List Of Dark Web Search Engine)

1.http://www.topix.net/
2.http://surfwax.com/
3.https://www.yippy.com/
4.https://www.dogpile.com/

डार्क वेब ब्राउज़र डाउनलोड करनें के लिए – यहाँ क्लिक करे  

कंप्यूटर हार्डवेयर इंजीनियर कैसे बनें

यहाँ आपको Dark web (डार्क वेब) के विषय में जानकारी दी गई है | यदि इस जानकारी से संतुष्ट है, या फिर इससे समबन्धित अन्य जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो कमेंट करके अपना सुझाव दे सकते है, आपकी प्रतिक्रिया का जल्द ही उत्तर देने का प्रयास किया जायेगा | अधिक जानकारी के लिए hindiraj.com पोर्टल पर विजिट करते रहे |

बीटेक (B.TECH) क्या है?

Leave a Comment