आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 क्या है

Disaster Management Act in Hindi

भारत समेत पूरे विश्व में कोरोना महामारी की समस्या, एक विशाल समस्या बन चुकी है | इसके कारण कई देशों को भारी नुकसान हुआ है | विश्व भर में वैश्विक मंदी का खतरा मंडराने लगा है, इस कारण भारत की भी अर्थ व्यवस्था पर काफी असर देखने को मिलेगा | भारत में कोरोना महामारी की समस्या को देखते हुए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने पूरे देश में लॉक डाउन की घोषणा कर दी है, इसके साथ ही इसे एक बड़ी आपदा भी बताया है | COVID-19 महामारी पर नियंत्रण पाने हेतु केंद्र सरकार ने आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 के तहत अपनी शक्तियों का प्रयोग किया है इसमें लॉक डाउन के साथ अन्य नियम भी बनाये है, जिसे देश के नागरिकों को पालन करना होगा | यदि देश का कोई भी नागरिक या विदेशी नागरिक भारत में इसका उल्लंघन करते हुए पाया गया तो इसके अंतर्गत आने वाली धाराओं और जुर्माने के अनुसार कार्यवाही की जाएगी | यदि आप भी आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 क्या है, Disaster Management Act in Hindi, इसके विषय में जानना चाहते है तो आपको इस पूरी जानकारी से अवगत कराया जा रहा है |

आईपीसी धारा 188 क्या है

आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005

प्रकृति द्वारा किये गए भारी नुकसान या किसी महामारी के कहर को, एक प्राकृतिक आपदा के रूप में माना जाता है। संविधान में लिखित आपदा प्रबंधन एक्ट की धारा 2 (डी) में आपदा का मतलब बताया गया है – ‘किसी क्षेत्र में प्राकृतिक या मानवकृत कारणों या उपेक्षा से पनपने वाली कोई महाविपत्ति।’ होता है | वर्तमान समय में कोरोना वायरस महामारी के मामलों को केंद्र सरकार ने इसे गंभीर चिकित्सा स्थिति / महामारी के रूप में ‘अधिसूचित आपदा’ माना है।

महामारी अधिनियम (एपिडेमिक एक्ट) क्या है

आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धाराएं

इस अधिनियम में आपदाओं से निपटने हेतु कई प्रावधान बनाये गए हैं। यहां आपको उन 10 प्रमुख धाराओं (धारा 51 से 60 तक) के विषय में जानकारी दी जा रही है –

धारा 51 – बाधा डालना

यदि कोई भी नागरिक किसी सरकारी कर्मचारी को आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत, उनके कर्तव्यों को पूरा करने में बाधा डालता है, सरकार द्वारा दिए निर्देशों का पालन नहीं करता है, तो उसपर कार्रवाई करने का प्रावधान बनाया गया है | इसके नियम के तहत ऐसे व्यक्ति को एक साल की कैद और जुर्माना भी लगाया जा सकता है। इसके अलावा यदि वह व्यक्ति किसी सरकारी कर्मचारी को क्षति पहुंचाता है तो यह सजा दो साल तक कैद और जुर्माने का प्रावधान है |

धारा 52 – मिथक अथवा झूठे दावे

यदि कोई भी नागरिक पीड़ितों या किसी निश्चित वर्ग को दी जाने वाली राहत सामग्री, सहायता या अन्य फायदे हेतु गलत दावे करता है, तो ऐसी स्थिति में उस पर धारा 52 के तहत कार्यवाई की जा सकती है। इस धारा के अंतर्गत दोषी पाए जाने पर दो साल तक की जेल और जुर्माना लगाया जा सकता है।

धारा 53 – धन या सामग्री का दुरुपयोग करना

सहायता प्राप्त होने वाली राशि या सामग्री का दुरूपयोग करते हुए इस धारा के तहत कार्यवाई करने का प्रावधान बनाया गया है | इसमें दोषी होने पर दो साल की कैद और जुर्माना लगाया जाता है |

कम्‍युनिटी ट्रांसमिशन (थर्ड स्‍टेज) क्या है

धारा 54 – झूठी चेतावनी या खबर

आपदा के समय यदि कोई भी व्यक्ति जूठी खबर या चेतावनी देते हुए पाया जाता है तो उसके ऊपर धारा 54 के तहत कार्यवाई की जाती है | इसमें 1 साल की कैद और जुर्माना होता है |

धारा 55 – सरकारी कर्मचारी के अपराध करने पर

यह धारा सरकारी कर्चारियों के लिए बनाई गई है, आपदा के समय कोई सरकारी कर्मचारी अपने पद का गलत फायदा उठता है या फिर सरकार के निर्देशों का पालन नहीं करता है तो उसपर करवाई का प्रावधान बनाया गया है |

धारा 56 – कर्तव्य पूरा न करना

यदि कोई सरकारी अधिकारी, कर्मचारी आपदा के समय सरकार द्वारा दिए गए निर्देशों / कर्तव्यों का उल्लंघन करते हुए पाया जाता है, तो इस धारा के अंतर्गत दोषी पाया जायेगा। इसके लिए उसे एक साल की कैद और जुर्माना की राशि भरने का प्रावधान है।

सोशल डिस्टेंस (SOCIAL DISTANCING) का क्या मतलब है

धारा 57 – आदेश का पालन न करने पर

धारा 57 के तहत राष्ट्रीय, राज्य या जिला कार्यकारिणी समिति. देश में आपदा की स्थिति में आवश्यक होने पर किसी वाहन, भवन या अन्य संसाधन की मांग जनता/संस्थानों से भी कर सकता है। यदि इस संबंध में जारी किये गए आदेश का कोई उल्लंघन करता है, तो उस पर आपदा प्रबंधन एक्ट 2005 की धारा 57 के अंतर्गत दोषी माना जायेगा। इसमें दोषी को एक साल की कैद और जुर्माने का प्रावधान बनाया गया है |

धारा 58, 59 व 60 – नियम

आपदा प्रबंधन एक्ट 2005 की इन धाराओं को निजी कंपनियों (धारा 58), न्यायलयों (धारा – 60) द्वारा किये गए अपराधों को संज्ञान में लेने के सम्बन्ध में बनाया गया हैं। धारा 59 के तहत किसी अभियोजन के लिए पूर्व मंजूरी (धारा 55 व 56 के मामलों में / सरकारी विभागों हेतु) के संबंध में है। यदि इसमें कोई पाया जाता है तो इन धाराओं के तहत कार्यवाई किये जाने का प्रावधान है |

आरोग्य सेतु ऐप क्या है

यहाँ पर आपको आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के विषय में जानकारी प्रदान की गई | यदि इस जानकारी से संतुष्ट है, या फिर इससे समबन्धित अन्य जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो कमेंट करे और अपना सुझाव दे, आपकी प्रतिक्रिया का जल्द ही निवारण किया जायेगा | अधिक जानकारी के लिए hindiraj.com पोर्टल पर विजिट करते रहे|

आयुष्मान भारत योजना क्या है