Homeopathy Doctor क्या होता है ?



आज के समय में मेडिकल क्षेत्र में निरंतर विकास देखा जा रहा है, विशेषकर युवा वर्ग इस क्षेत्र में कई प्रकार के नए प्रयोग करते नजर आते हैं। और जब बात होती है एक डॉक्टर बनने की तो निश्चित रूप से होम्योपैथिक डॉक्टर बन कर अपने भविष्य को उज्जवल किया जा सकता है।



अतः कई सारे इच्छुक विद्यार्थी या आवेदक जो होम्योपैथिक डॉक्टर (Homeopathy Doctor) के बारे में जानने में रुचि रखते हैं उनके मन में सवाल खड़ा होता है कि होम्योपैथी डॉक्टर कौन होता है? कैसे बनें? इसके लिए आवश्यक योग्यता इत्यादि तो आज हम आपको विशेष रुप से इस विषय पर जानकारी देने वाले हैं, जो निश्चित रूप से ही आपके लिए फायदेमंद होगी।

डॉक्टर (Doctor) कैसे बने

होम्योपैथी डॉक्टर (Homeopathy Doctor) क्या होता है?

Table of Contents

होम्योपैथी डॉक्टर (Homeopathy Doctor) वे डाँक्टर होते हैं, जो अपने मरीजों का विशेष रूप से इलाज करते हैं। यह कुछ एलोपैथिक डॉक्टर की तरह होते हैं लेकिन उनके इलाज का तरीका काफी अलग होता है जिसके अंतर्गत किसी भी तरह के ऑपरेशन के बिना इलाज किया जाता है।




जहां पर इलाज की प्रक्रिया थोड़ी लंबी होती है लेकिन उसका असर काफी गहरा होता है जिसकी वजह से किसी भी रोग को हमेशा के लिए खत्म किया जा सकता है।

होम्योपैथी डॉक्टर (Homeopathy Doctor) का उद्देश्य

किसी भी होम्योपैथी डाॅक्टर का उद्देश्य अपने मरीजों का सही समय पर सही इलाज करना साथ ही साथ किसी भी रोग  को सही समय पर खत्म करना होता है ताकि मरीजों को ज्यादा नुकसान ना होना पाए।

सामान्य तौर पर यह देखा जाता है कि लोग होम्योपैथी डॉक्टर के पास जाने में हिचक महसूस करते हैं। ऐसे में होम्योपैथी डॉक्टर (Homeopathy Doctor) का उद्देश्य निश्चित रूप से ही अपने मरीजों के दिल की बात को समझते हुए इलाज करना होता है।

होम्योपैथी डाॅक्टर (Homeopathy Doctor) कैसे बने?

आज के समय में कई सारे युवा ऐसे हैं, जो एक अच्छे होम्योपैथी डॉक्टर बनना चाहते हैं उन्हें 12वीं की पढ़ाई विज्ञान विषय के साथ करना होगा साथ ही साथ बीएचएमएस ( BHMS) की डिग्री होना चाहिए जिसके माध्यम से होम्योपैथिक डॉक्टर बना जा सके।

इसके अलावा अगर आप चाहें तो होम्योपैथी डॉक्टरी करने के लिए निश्चित रूप से ही आपके पास सर्टिफिकेट होना जरूरी है जिसके माध्यम से आप होम्योपैथी डॉक्टर बन सकते हैं।

बी एच एम एस ( BHMS) का फुल फॉर्म

बी एच एम एस का फुल फॉर्म “बैचलर ऑफ होम्योपैथिक मेडिसिन एंड सर्जरी” कहा जाता है, जो मुख्य रूप से एक मेडिकल क्षेत्र का विशेष रूप से कोर्स माना जाता है। जिसके अंतर्गत होम्योपैथी प्रणाली को आगे बढ़ाने का कार्य किया जाता है और जिसके बाद में होम्योपैथी की डिग्री पूरी कर ली जाती है।

होम्योपैथी डॉक्टर (Homeopathy Doctor) बनने के लिए विशेष योग्यता

अगर आप होम्योपैथी डॉक्टर (Homeopathy Doctor) बनना चाहते हैं, तो इसके लिए आपके अंदर कुछ विशेष योग्यताओं का होना आवश्यक है।

  1. होम्योपैथी डॉक्टर बनने के लिए 12 वीं पास होना अनिवार्य है जहां पर आप के कम से कम 55% अंक होने चाहिए।
  2. इसके अलावा आपको 12वीं की पढ़ाई बायोलॉजी सब्जेक्ट लेकर करनी होगी।
  3. इसके अलावा अंग्रेजी भाषा में अच्छी पकड़ होना चाहिए क्योंकि इसकी पढ़ाई ज्यादातर अंग्रेजी विषय में ही होती है।
  4. होम्योपैथी डॉक्टर बनने के लिए आपकी आयु 18 वर्ष से अधिक होनी चाहिए।
  5. इसके अलावा आप इसकी पढ़ाई तभी करें जब आप सही तरीके से पढ़ाई को करने के लिए तैयार हो।

होम्योपैथी डॉक्टर (Homeopathy Doctor) बनने के लिए विशेष डिप्लोमा कोर्स

अगर आप एक अच्छे होम्योपैथी डॉक्टर बनना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको विशेष डिप्लोमा कोर्स करना आवश्यक होगा जिसके माध्यम से आप आगे बढ़ सकते हैं।

  1. डिप्लोमा इन इलेक्ट्रो होम्योपैथी |
  2. मास्टर ऑफ डॉक्टर इन होम्योपैथी कोर्स |
  3. पोस्ट ग्रैजुएट डिप्लोमा इन होम्योपैथिक मेडिसिन एंड सर्जरी |
  4. डिप्लोमा इन होम्योपैथिक मेडिसिन एंड सर्जरी |

बीएचएमएस (BHMS) कोर्स क्या है ?

होम्योपैथी करने के लिए विषय स्पेशलाइजेशन कोर्स

अगर आप होम्योपैथी के माध्यम से कोई विशेष स्पेशलाइजेशन कोर्स करना चाहते हैं, तो आप निश्चित रूप से ही इन कोर्स को पूरा कर सकते हैं आपके लिए बहुत ही ज्यादा फायदेमंद होंगे।

  • साइकाइट्रिक |
  • स्किन स्पेशलिस्ट |
  • होम्योपैथिक फार्मेसी |
  • पेडियाट्रिक्स |

होम्योपैथी डॉक्टरी करने के लिए कुछ विशेष संस्थान

अगर आप होम्योपैथी डॉक्टर बनना चाहते हैं, तो इसके लिए हम आपको कुछ विशेष संस्थानों के बारे में जानकारी दे रहे हैं

  1. बाबा फरीद यूनिवर्सिटी ऑफ हेल्थ साइंस फरीदकोट |
  2. नेशनल इंस्टीट्यूट आफ होम्योपैथी, कोलकाता |
  3. नेहरू होम्योपैथिक कॉलेज मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल, नई दिल्ली |
  4. गवर्नमेंट होम्योपैथिक मेडिकल कॉलेज, बेंगलुरु |
  5. कानपुर होम्योपैथिक मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल, कानपुर |
  6. जीडी मेमोरियल होम्योपैथिक मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल, पटना |
  7. नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ होम्योपैथी, Kolkata |
  8. गुरु गोविंद सिंह इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी, दिल्ली |
  9. पंडित खुशीलाल शर्मा गवर्नमेंट आयुर्वेद कॉलेज, भोपाल |

होम्योपैथी डॉक्टरी करने में लगने वाली फीस

अगर आप होम्योपैथी डॉक्टर बनना चाहते हैं इसके लिए आप किसी भी गवर्नमेंट कॉलेज या फिर प्राइवेट कॉलेज से पढ़ाई पूरी कर सकते हैं। अगर आप किसी भी गवर्नमेंट कॉलेज से अपनी होम्योपैथी डॉक्टर की पढ़ाई पूरी करते हैं, तो इसमें आपको कम से कम ₹25000 से लेकर ₹60000 सलाना देना होता है इसके अलावा अगर आप प्राइवेट कॉलेज में पढ़ाई पूरी करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको अपेक्षाकृत ज्यादा अर्थात लगभग ₹100000 से लेकर ₹400000 तक फीस अदा करनी होगी।

होम्योपैथिक डॉक्टर (Homeopathy Doctor) को मिलने वाली सैलरी

अगर आप एक अच्छे होम्योपैथी डॉक्टर (Homeopathy Doctor) बनना चाहते हैं तो इसके माध्यम से आप महीनों के हजारों रुपए कमा सकते हैं। जिसके लिए आपको महीने के लगभग ₹30000 से लेकर लगभग ₹60000 आसानी से प्राप्त हो सकते हैं।

इसके अतिरिक्त अगर आपको 4 से 5 साल का अनुभव होता है, तो आप लाखों में अपनी कमाई कर सकते हैं। इसके अलावा आप अपने काम को पूरा करते हुए मेडिकल सुपरिटेंडेंट के पद पर भी आ सकते हैं।

होम्योपैथी डॉक्टर (Homeopathy Doctor) बनने के बाद भविष्य की संभावनाएं

अगर आप होम्योपैथी डॉक्टरी का कोर्स पूरा करते हैं तो आपको आसानी के साथ ही किसी गवर्नमेंट कॉलेज में प्रोफेसर की जॉब मिल जाती है इसके अलावा आप खुद का क्लीनिक भी खोल सकते हैं। अगर आपने इसी क्षेत्र में पीएचडी कर रखी हो तो आप प्रोफेसर के पद पर भी जा सकते हैं जहां पर आप महीनों के हजारों रुपए कमा सकते हैं।

इसके अलावा आप एक कंसलटेंट के रूप में भी कार्य कर सकते हैं जिसके माध्यम से लोगों को होम्योपैथी के इलाज के प्रति जागरूक किया जा सकेगा और आप सही तरीके से अपने कार्य का निर्वहन कर सकेंगे।

होम्योपैथी डॉक्टर (Homeopathy Doctor) बनने की विशेष तैयारी

अगर आप होम्योपैथी डॉक्टर बनना चाहते हैं और इसी क्षेत्र में आगे बढ़ना चाहते हैं, तो इसके लिए विभिन्न प्रकार की मेडिकल परीक्षाओं का आयोजन किया जाता है।

अगर आप निश्चित रूप से ही परीक्षा की तैयारी करते हैं तो आप कहीं ना कहीं खुद को आगे बढ़ने के लिए कामयाब कर पाते हैं।  इसके लिए विभिन्न प्रकार से राज्यों में कॉमन एंट्रेंस एग्जाम लिया जाता है और उसके बाद ही होम्योपैथी  के लिए चुनाव किया जाता है

ऐसे में आपको निश्चित रूप से ही आगे बढ़ते हुए विशेष रूप से होम्योपैथी परीक्षा की तैयारी करनी होगी ताकि आपको एक अच्छी मंजिल प्राप्त हो सके।

होम्योपैथी डॉक्टर (Homeopathy Doctor) बनने के लिए महत्वपूर्ण तथ्य

अगर आप एक कुशल होम्योपैथी डॉक्टर बनना चाहते हैं तो यह आपके लिए बहुत अच्छा मौका होता है। आज बहुत से लोग ऐसे हैं, जो होम्योपैथी डॉक्टरी या होम्योपैथी इलाज में भरोसा करते हैं।

ऐसे में यह माना जाता है कि यदि होम्योपैथी डॉक्टर के पास जाकर इलाज करवाया जाए तो निश्चित रूप से ही वह रोग जड़ से खत्म हो सकता है साथ ही साथ इसके इलाज के लिए थोड़ा धैर्य रखना आवश्यक होता है क्योंकि इसके माध्यम से इलाज करने पर ठीक होने में थोड़ा समय लगता है।

होम्योपैथी डॉक्टर बनने के लिए विशेष कौशल

अगर आप एक अच्छे होम्योपैथी डॉक्टर बनना चाहते हैं, तो इसके लिए आपके अंदर कुछ विशेष कौशल का होना आवश्यक माना गया है जिसके बारे में आज हम आपको विस्तृत से जानकारी देंगे।

  • अगर आप इस प्रकार के डॉक्टर बनना चाहते हैं तो आपको अंग्रेजी भाषा का अच्छा ज्ञान होना चाहिए, जहां आप सही तरीके से अंग्रेजी पढ़ना, लिखना और बोलना कर सके।
  • डॉक्टरी करने के लिए कड़ी मेहनत की आवश्यकता होती है। ऐसे में आप सभी इस कोर्स का चुनाव करें जब आपके अंदर इच्छाशक्ति बनी हो।
  • इसके अतिरिक्त आपके अंदर कम्युनिकेशन स्किल बहुत अच्छी होनी चाहिए ताकि आप सही तरीके से लोगों से बात करते हुए समस्याओं का हल ढूंढ सके।
  • अपनी पढ़ाई पर विशेष रूप से ध्यान देना होगा ताकि आप सही दिशा में बढ़ने पर खुश रह सके।

एमबीबीएस, एमडी का मतलब क्या होता है

 होम्योपैथी कोर्स करने के बाद मिलने वाले पद

अगर आप कोई भी होम्योपैथी कोर्स करते हैं, तो इसके बाद आपको कई प्रकार के पद प्राप्त हो सकते हैं–

  1. फार्मासिस्ट |
  2. Teacher |
  3. पब्लिक हेल्थ स्पेशलिस्ट |
  4. कंसलटेंट |
  5. डॉक्टर |
  6. प्राइवेट प्रैक्टिशनर |
  7. रिसरचर |

होम्योपैथी डॉक्टर बनने के विशेष फायदे

अगर आपने होम्योपैथिक course पूरा कर लिया हो तो इसके माध्यम से आप कुछ मुख्य फायदे ले सकते हैं—

  1. अगर आप होम्योपैथी कोर्स करते हैं, तो उसके माध्यम से आप एक अच्छे जानकार हो सकते हैं जो अपने विषय में पारंगत हासिल करते हुए लोगों को भी जागरूक करने का कार्य कर सकते हैं।
  2. यह एक प्रकार की साइंस संबंधित डिग्री होती है जिसको करने के बाद आप होम्योपैथी कोर्स में महारत हासिल कर सकते हैं।
  3. इसके अलावा अगर आप भारत में नौकरी हासिल करना चाहते हैं, तो यह आपके लिए आसान होता है लेकिन इसके माध्यम से आप विदेशों में भी नौकरी प्राप्त कर सकते हैं।
  4. अगर आपने होम्योपैथी का कोर्स किया है तो आप अपने किसी भी व्यवसाय को आगे बढ़ा सकते हैं, जो मुख्य रूप से होम्योपैथी की तरह होता है।

होम्योपैथिक दवाइयों का विशेष असर

जब भी हम किसी रोग का इलाज करने के लिए होम्योपैथी दवाइयों का सहारा लेते हैं तो इसका विशेष रूप से असर देखा जाता है। सामान्य  रूप से होम्योपैथिक दवाइयां स्वाद में मीठी होती हैं जो धीरे-धीरे असर करती हैं। यहां पर एक बात ध्यान देने योग्य है कि होम्योपैथिक दवाइयों के माध्यम से कोई भी साइड इफेक्ट नहीं होता है और निश्चित रूप से ही यह दवाइयां बहुत ही ज्यादा कारगर साबित होती हैं।

जब भी होम्योपैथी इलाज लिया जाता है तो साथ में कई सारी दवाइयां दी जाती हैं जो सीमित मात्रा में होती हैं और इनका सही समय पर उपयोग करना जरूरी माना जाता है। ऐसा करने से निश्चित रूप से ही आराम प्राप्त होता है और उन रोगो को हमेशा के लिए दूर किया जा सकता है।

नीट (NEET) परीक्षा क्या होता है?

Leave a Comment