मिड डे मील (Mid Day Meal) योजना

मिड डे मील योजना भारत सरकार द्वारा शुरू की गई एक योजना हैं | इस योजना के तहत सभी सरकारी स्कूलों में शिक्षा ग्रहण करने वाले बच्चों को खाना दिया जाता है | इस योजना की शुरुआत करने का एक प्रमुख कारण था कि सभी गरीब और छोटे-छोटे बच्चों को शिक्षा के साथ-साथ भोजन देने का है, ताकि वो भूख के कारण किसी भी कुपोषण का शिकार न बन सके | इसलिए सरकार ने इस योजना की शुरुआत कर दी है |

इस योजना के तहत भारत में स्थित सभी प्राइमरी और सरकारी स्कूलों में भोजन बनाने के लिए सारी सामग्री भेजी जाती है, जिससे बच्चों को अच्छे से भोजन दिया जा सके | यदि आप भी मिड डे मील योजना के विषय में जानना चाहते हैं, तो यहाँ पर आपको मिड डे मील (Mid Day Meal) योजना क्या है? शुरुआत कब हुई ? उद्देश्य की पूरी जानकारी दी जा रही है |

प्राइमरी स्कूल के टीचर कैसे बने

मिड डे मील (Mid Day Meal) योजना क्या है?

मिड डे मील योजना को भारत के सभी प्राइमरी और सरकारी स्कूलों में लागू कर दिया गया हैं इस योजना की शुरुआत कई साल पहले ही कर दी गई थी जो, अभी भी लगातार चलाई जा रही  है | वहीं जिन स्कूलों में मिड डे मील का खाना बनाया जाता है, उन स्कूलों  के लिए अलग से रसोई घर बनाने की इजाजत दी गई है ताकि वो बच्चों के लिए एक रसोई घर में खाना बना सके | ऐसा करने से बच्चों के लिए साफ-सुथरा खाना तैयार किया जा सकता हैं और स्कूलों में पड़ने वाले बच्चों को रसोई से किसी भी प्रकार समस्या भी न हो | इसलिए सरकार ने रसोई घर, क्लास रूम से अलग रखने के निर्देश दिए हैं |  इसके साथ ही इस योजना के तहत बच्चों का खाना बिलकुल साफ-सुथरा होना चाहिए, क्योंकि यदि उनके खाने में किसी प्रकार की समस्या होती है तो स्कूल और उस स्कूल के अध्यापको के ऊपर केस भी किया जा सकता है | इसलिए बच्चों को खिलाया जाने वाला खाना भी साफ-सुथरा होना चाहिए | बच्चो को खाना वितरण करने के पहले अध्यापकों द्वारा चेक करवाया जाता है |

मिड डे मील (Mid Day Meal) योजना की शुरुआत कब हुई  

केंद्र सरकार ने इस योजना की शुरुआत 15 अगस्त, 1995 में कर दी थी | इस योजना की शुरुआत हो जाने के बाद सबसे पहले इस योजना  को 2000 से अधिक ब्लॉकों के स्कूलों में लागू कर दिया गया था | इसके बाद धीरे-धीरे साल 2004 में इस योजना की शुरुआत पूरे देश के सरकारी स्कूलों में कर दी गई थी और  अब  इस  योजना को भारत के सभी प्राइमरी और सकारी स्कूलों में लागू कर दिया गया है |

मैथ्स (MATHS) में इंटेलिजेंट कैसे बने

मिड डे मील योजना के उद्देश्य  

सरकार का मिड डे मील योजना  की शुरुआत करने के लिए निम्न प्रमुख उद्देश्य रहें हैं, जिन्हे पूरा करने के लिए सरकार ने मिड डे मील योजना की शुरुआत की हैं जो इस प्रकार से हैं-

बच्चों को कुपोषण से बचाना  

सरकार ने बच्चों को अच्छा भोजना मुहैया  करवाने और उन्हें भूख की वजह से किसी कुपोषण से बचाने के लिए इस योजना का शुरुआत की है | इस योजना के लागू होने के बाद कुपोषण का शिकार होने वाले बच्चों की संख्या में भारी गिरावट देखने को मिली है |

बच्चों का बेहतर विकास हो

सरकार ने बच्चों के बेहतर विकास को ध्यान में रखते हुए  इस योजना को शुरू कर दिया है क्योंकि, आज भी हमारे देश में कई ऐसे परिवार हैं, जो अपने बच्चों को दो वक्त का खाना  भी अच्छे से नहीं खिला पाते हैं, जिसके कारण ऐसे परिवार के बच्चों को अधिक मुसीबतों का सामना करना पड़ जाता है |  इसलिए सरकार ने सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले सभी गरीब बच्चों को मिड डे मील योजना की शुरुआत करके  पोषक भोजन  प्राप्त कराती है ताकि उन सभी बच्चों का बेहतर विकास ही सके |

अधिक बच्चों का शिक्षा ग्रहण करना 

सरकार का मुख्य उद्देश्य है कि, हमारे देश के सभी बच्चे  शिक्षा  ग्रहण करने के लिए स्कूल जाएँ | इसलिए बच्चों को शिक्षा ग्रहण कराने के उद्देश्य से सरकार ने इस योजना की शुरुआत कर दी थी ताकि बच्चों को शिक्षा के साथ-साथ खाना भी दिया जा सके | जिससे देश शिक्षा के क्षेत्र में आगे बढ़ सके |

इस योजना में किन स्कूलों के बच्चों को शामिल किया जाता है 

  • सरकार द्वारा शुरू की गई इस योजना में सरकारी स्कूलों के प्राइमरी और अपर प्राइमरी कक्षा के छात्रों को, सरकार सहायता, स्थानीय निकाय, शिक्षा गारंटी योजना से जुड़े स्कूलों के छात्रों को, वैकल्पिक अभिनव शिक्षा केंद्र, मदरसे और श्रम मंत्रालय द्वारा संचालित राष्ट्रीय बाल श्रम परियोजना स्कूल में पढ़ने वाले अभ्यर्थियों को शामिल किया जाता है |
  • इस योजना के तहत प्राइमरी और अपर प्राइमरी कक्षा में  पढ़ने वाले अभ्यर्थियों को  प्रतिदिन  (जिन दिनों स्कूल खुले होते हैं) मुफ्त में स्कूल लंच में भोजन करवाना आवश्यक होता है |

मिड डे मील योजना किस मंत्रालय के द्वारा चलाई जाती है           

मिड डे मील योजना  ह्यूमन रिसोर्स डेवलपमेंट मिनिस्ट्री द्वारा चलाई जाती  है | ह्यूमन रिसोर्स डेवलपमेंट मिनिस्ट्री को इस योजना से सम्बंधित हर प्रकार की जिम्मेदारी सौंपी गई हैं जिसे उसे बखूबी निभाना होता है | जिस विद्यालय में इस योजना का लाभ नहीं दिया जाता है, उसपर कड़ी कार्यवाही की जाती है |

यहाँ पर हमने आपको मिड डे मील योजना के विषय में सम्पूर्ण जानकारी उपलब्ध कराई है |  यदि  आपको इससे  सम्बंधित अन्य जानकारी प्राप्त करनी है तो आप  अपने विचार या सुझाव कमेंट बॉक्स के माध्यम से पूंछ सकते है | इसके साथ ही आप अन्य जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो www.hindiraj.com पर विजिट करे |

डी एल एड (D.EL.ED) क्या है?