एनआरआई (NRI) क्या होता है?

भारत के कई नागरिक (Resident Indian or Indian citizen) विदेश में रह रहे है | अधिकांश भारतीय रोजगार और शिक्षा प्राप्त करने के उद्देश्य से विदेश में जाते है | कुछ समय के बाद कुछ भारतीय विदेश में अनिश्चित काल के लिए बस जाते है या भारत से ज्यादा बाहरी देश में अपना समय ज्यादा बिताते है | इन्हें एनआरआई (NRI) कहा जाता है | वर्तमान समय में विदेशों में अध्ययन करने के लिए भारत के छात्रों की संख्या में वृद्धि हो रही है | कई अन्य कारणों से भी भारतीयों को विदेश जाना पड़ता है | वहां पर वह विदेश की ही नागरिकता प्राप्त कर लेते है | एक रिपोर्ट के अनुसार विदेशो से विदेशी मुद्रा भारतीयों द्वारा सबसे ज्यादा भेजी जाती है|

एनआरआई भारतीय डायस्पोरा का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। प्रवासी भारतीयों ने विदेशी निवेश, व्यापार, प्रौद्योगिकी, नवाचार और विशेषज्ञता सहित विभिन्न तरीकों से भारत के विकास में योगदान दिया है। भारतीयों ने भी अन्य राष्ट्रों के विकास में बहुत योगदान दिया है। अनिवासी भारतीयों को उनके निवास की स्थिति के अनुसार तीन श्रेणियों में वर्गीकृत किया जा सकता है: भारत सरकार एनआरआई के लिए एक ओवरसीज सिटीजन ऑफ इंडिया (ओसीआई) कार्ड प्रदान करती है जो उन्हें उन सभी आर्थिक और शैक्षिक लाभों का अधिकार देता है |

भारत सरकार पीआईओ को तीन व्यापक श्रेणियों में वर्गीकृत करती है: अनिवासी भारतीय (एनआरआई), भारत के प्रवासी नागरिक (ओसीआई), और नागरिकता के बिना भारतीय मूल के व्यक्ति (पीआईओ). भारतीय मूल का व्यक्ति (PIO) कार्ड भारत सरकार द्वारा उन लोगों को जारी किया जाता है जो भारतीय मूल के या जन्म के हैं, लेकिन विदेश में रहते हैं। एक पीआईओ कार्ड किसी को वैध पासपोर्ट और वीजा के बिना भारत में प्रवेश करने का अधिकार नहीं देता है। संयुक्त राज्य अमेरिका और कनाडा जैसे कुछ देश पीआईओ को वही अधिकार और विशेषाधिकार प्रदान करते हैं जो वे एक विदेशी नागरिक को देते हैं

प्रवासी भारतीयों को अक्सर अनिवासी भारतीय या भारतीय मूल के व्यक्ति के रूप में संदर्भित किया जाता है। प्रवासी भारतीय भारतीय मूल या वंश के लोग हैं, जो भारत से बाहर रह रहे हैं। दुनिया भर के देशों में रहने वाले लगभग 24 मिलियन प्रवासी भारतीय होने का अनुमान है। उनमें से अधिकांश संयुक्त राज्य अमेरिका में रहते हैं, कनाडा में लगभग 3 मिलियन और यूनाइटेड किंगडम और मलेशिया में प्रत्येक में 1 मिलियन। अनिवासी भारतीय भारतीय मूल के उन विदेशियों का वर्णन करने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला शब्द है जो भारत से दूर चले गए हैं, और अन्य देशों में निवास कर चुके हैं।

बहुत से देशो में भारतीय आबादी एनआरआई (aka Indian Origin) के रूप में बहुत ज्यादा है जैसे कनाडा, अमेरिका, इंग्लैंड आदि | लेकिन इसके जरिये हम यह भी कह सकते है कि भारतीयों द्वारा बहुत देशो के हित और निर्माण में काफी योगदान है | भारतीय होनहार छात्र जो देश के सर्वोपरी यूनिवर्सिटी और संस्थाए जैसे आईआईटी, आईआईएम, एनआईटी आदि से अपनी शिक्षा पूरी करके विदेशो में बड़े पद पर नौकरियां करते है और उस देश के सामाजिक और आर्थिक विकास में योगदान देते है | आज हम NRI के बारे में विस्तार से जानेगे और साथ ही वे देश के बहार रहकर भी कैसे देश के विकास हित में कार्य करते है, इस पर भी प्रकाश डालेंगे |

ये भी पढ़ें: भारत के राज्य और राजधानी की सूची

ये भी पढ़ें: उपभोक्ता फोरम में ऑनलाइन शिकायत कैसे करें?

एनआरआई क्या होता है  (What is an NRI)

India’s Foreign Exchange Management Act 1999 (FEMA) के अनुसार एनआरआई की निम्न प्रकार से परिभाषित किया जाता है:-

  • एनआरआई एक भारतीय है जो एक साल में भारत में 182 दिन से कम समय रहता है |
  • एक ऐसा भारतीय जो भारत से बाहर चला गया है या भारत के बाहर नौकरी के उद्देश्य से रहता है |
  • भारतीय जो भारत से बाहर कारोबार या बिज़नेस के उद्देश्य से रहते है |
  • ऐसे भारतीय जो भारत के बाहर बिना किसी कारण के अनिश्चित काल के लिए बाहर रहते है |

एनआरआई एक स्टेटस है जो एक भारतीय नागिकता धारक को दिया जाता है जिसे इनकम टैक्स प्रक्रिया में कोई असुविधा न हो और उन्हें दोहरे कर जैसे नियमो से कारण मुसीबत न झेलनी पड़े | यह नागरिकता के स्टेटस को नहीं बताता अपितु व्यक्ति के इनकम टैक्स के स्टेटस को बताता है जिसे फेमा के अंतर्गत बताया गया है |

एनआरआई और पीआईओ में अंतर  (Difference between NRI and PIO)

PIO का फुल फॉर्म Person of Indian Origin होता है | ऐसे व्यक्ति जो भारतीय नागरिक नहीं है परन्तु उनका जन्म भारत की सीमा में हुआ है (बांग्लादेश और पाकिस्तान को छोडकर) पीआईओ के नाम से जाने जाते है या आप इन्हें भारतीय मूल के व्यक्ति भी बोल सकते है | इतिहास में इनके माता माता को संविधान के द्वारा प्रदत अधिकार के आधार भारतीय नागरिकता मिली होगी अर्थात वे कभी भारतीय नागरिक रहे होंगे | मुख्य अंतर के रूप में जहा एनआरआई अभी भी भारतीय नागरिक है वही एक Person of Indian Origin के पास भारतीय नागरिक न होकर उसी देश के नागरिक है |

ये भी पढ़ें: 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था का अर्थ

Full Form of NRI

एनआरआई का फुल फॉर्म Non-Resident Indian है, हिंदी में इसे अप्रवासी भारतीय के नाम से जाना जाता है | ध्यान रहे ये सभी एनआरआई  भारतीय नागरिक ही है और विभिन्न उद्देश्य से विदेश में है जिसकी परिभाषा आप पहले ही पढ़ चुके है |

ये भी पढ़ें: आईआरडीए (IRDA) का फुल फॉर्म क्या है?

एनआरआई टैक्सेशन (NRI Taxation)

एनआरआई को फेमा (FEMA) के प्रावधानों के अंतर्गत टैक्स में छूट प्रदान की जाती है | प्रत्येक एनआरआई को भारत में प्राप्त आय पर टैक्स चुकाना होता है | इसके अतिरिक्त उसे जो विदेश से वेतन प्राप्त होता है, उसका टैक्स केवल विदेश में ही जमा होता है | उस व्यक्ति द्वारा भेजा गया धन भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में जोड़ा जाता है |

ये भी पढ़ें: एसएससी CHSL परीक्षा तैयारी कैसे करे?

एनआरआई स्टेटस (NRI Status)

एनआरआई स्टेटस इनकम टैक्स विभाग के द्वारा प्रदान किया जाता है | इसका निर्धारण भारत में रहने के समय के अनुसार निर्धारित किया जाता है | इससे व्यक्ति के विदेश में रहने के उद्देश्य के बारे में जानकारी प्राप्त होती है |

ये भी पढ़ें: बीएड की तैयारी कैसे करे?

आधार कार्ड (Aadhar Card)

यदि भारत का नागरिक विदेश में निवास कर रहा है, तो उसके लिए भी आधार कार्ड आवश्यक है | आधार कार्ड को नागरिकता के साथ नहीं जोड़ा जाता है | परन्तु यह उसके लिए भारतीय नागरिक होने का एक सबूत हो सकता है |

ये भी पढ़ें: संघ सूची, राज्य सूची और समवर्ती सूची क्या है?

यहाँ पर आपको एनआरआई (NRI) क्या होता है, के विषय में जानकारी दी गयी है | इस प्रकार की अन्य जानकारी के लिए आप http://hindiraj.com पर विजिट कर सकते है | अगर आप दी गयी जानकारी के विषय में अपने विचार या सुझाव अथवा प्रश्न पूछना चाहते है, तो कमेंट बॉक्स के माध्यम से संपर्क कर सकते है |

ये भी पढ़ें: प्रधानमंत्री (PM) को पत्र कैसे लिखे?

ये भी पढ़ें: मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना क्या है?

ये भी पढ़ें: हैकर बनने के लिए कोर्स, फ़ीस, योग्यता