आरएएस (RAS) क्या होता है ?



हमारे देश के हर छात्र में खुद का अलग पोटेंशियल होता है। हर छात्र अपने आप में ही कुछ कर गुजरने के बारे में हर समय सोचता रहता है। कई छात्र दिन रात एक करके पढ़ाई करते हुए कई प्रतियोगी परीक्षाओं को पास करके अपनी योग्यता सिद्ध करते है और समाज में अपनी अलग ही पहचान बनाते है।



आज हम सभी छात्रों के लिए ऐसी ही एक प्रतियोगी परीक्षा आरएएस जिसका पूरा नाम राजस्थान एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस है, के बारे में बताने जा रहे है। यह सर्विस राजस्थान की सबसे ऊंची सेवाओं में से एक है और समाज में इसकी एक अलग ही पहचान है। आरएएस (RAS) से जुड़ी पूरी जानकारी हासिल करने के लिए इस पोस्ट को ध्यानपूर्वक जरूर पढ़े।

आईएएस (IAS) कैसे बने

आरएएस (RAS) क्या है?

आरएएस (RAS) का पूरा नाम राजस्थान एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस है, यह परीक्षा RPSC यानी राजस्थान पब्लिक सर्विस कमिशन, अजमेर के द्वारा हर साल ऑफलाइन विधि में आयोजित करवाई जाती है।




यह परीक्षा राजस्थान अकाउंट्स सर्विस और राजस्थान पुलिस सर्विस के साथ ही करवाई जाती है। इस परीक्षा को पास कर लेने वाले विद्यार्थियों को हरीश चंद्र माथुर राजस्थान स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन में दो साल ट्रेनिंग के लिए भेजा जाता है।

आरएएस (RAS) बनने के लिए क्या योग्यता चाहिए?

  • RAS बनने के लिए सबसे पहले आप के पास एक स्नातक की डिग्री आवश्यक है। आप बिना स्नातक की डिग्री हासिल किए इस परीक्षा के लिए आवेदन नही कर सकते है।
  • वे छात्र जो अपने स्नातक के आखिरी साल में हैं वो भी इस परीक्षा में आवेदन के लिए पात्र है।
  • स्नातक की डिग्री होने के पश्चात आप की आयु कम से कम 21 वर्ष होनी ही चाहिए और ज्यादा से ज्यादा 35 वर्ष।
  • आपकी श्रेणी की अनुसार उम्र ज्यादा कम हो सकती है। एससी, एसटी, ओबीसी यानी अन्य पिछड़ा वर्ग तथा ईडब्ल्यूएस यानी इकोनॉमिकली वीकर सेक्शन के पुरुषों को अधिकतम आयु की सीमा में 5 अतिरिक्त वर्षो की छूट है।
  • एससी, एसटी, ओबीसी तथा ईडब्ल्यूएस श्रेणी की महिलाओं को अधिकतम आयु में 10 वर्ष, सामान्य श्रेणी की महिलाओं को 5 वर्ष, विधवा अथवा तलाक सुधा महिलाओं की लिए आयु की कोई बाध्यता नहीं है।
  • सामान्य श्रेणी के दिव्यांग आवेदनकर्ता को 10 वर्ष, ओबीसी श्रेणी के दिव्यांग आवेदनकर्ता को 13 वर्ष तथा एससी एसटी श्रेणी के दिव्यांग आवेदनकर्ता को अधिकतम आयु में 15 वर्ष की छूट दी गई है।
  • कोई भी आवेदनकर्ता ऊपर बताई गई अधिकतम आयु में छूट के लिए केवल एक ही श्रेणी के लिए पात्र है, अर्थात् कोई भी आवेदनकर्ता एक से अधिक श्रेणी में अधिकतम आयु के लिए छूट नहीं ले सकता है।

आरएएस (RAS) परीक्षा का सिलेबस क्या है?

आरएएस (RAS) बनने के लिए सबसे पहले कठिन परिश्रम के साथ ही साथ ध्यान का एक जगह केंद्रित होना आवश्यक है। आपको अपनी रोजाना की बोल चाल की भाषा में अंग्रेजी शब्द के वोकेबुलरी का प्रयोग करके अधिक से अधिक शब्द सीखने होंगे।

आरएएस की परीक्षा में राजस्थान के इतिहास, कला, संस्कृति, साहित्य, परंपरा तथा विरासत, राजस्थान के भूगोल, राजस्थान के राजनीतिक और प्रशासनिक व्यवस्था आदि से जुड़े हुए सवाल पूछे जाते है।

इसके अलावा भारत तथा विश्व के भूगोल, भारत के अर्थशास्त्र और अर्थव्यवस्था, भारत की कानून व्यवस्था, राजनीतिक व्यवस्था तथा शासन से जुड़े हुए सवाल, विज्ञान और तकनीकी शिक्षा से जुड़े हुए सवाल, मानसिक क्षमता, विचार विमर्श और दैनिक समाचार से जुड़े हुए सवाल भी पूछे जाते है।

आरएएस (RAS) कैसे बने?

  • आरएएस बनने के लिए ऊपर बताए गए सभी विषयों में अपने आप को मजबूत करिए और रोजाना इन सभी की प्रैक्टिस कीजिए।
  • अपनी बोल चाल की भाषा में अधिक से अधिक वोकेबुलरी का प्रयोग करे, इससे वोकेबुलरी पर आपकी पकड़ अच्छी बनती जायेगी और आपकी जुबान भी वोकेबुलरी पर साफ होती जायेगी। सभी विषयों का गहन अध्ययन करे।
  • अंग्रेजी अखबारों को रोजाना पढ़े, अपनी अंग्रेजी में जितना हो सके उतना सुधार करे और रोजाना अंग्रेजी के कुछ नए शब्द सीखने का प्रयास करे। आप चाहे तो अपनी योग्यता अनुसार कोई कोचिंग भी ज्वॉइन कर सकते है।
  • आरएएस की परीक्षा को उत्तीर्ण करने के लिए आपका गहन अध्ययन करना बहुत जरूरी है। आरएएस परीक्षा को उत्तीर्ण करने के लिए यह जरूरी है की आप पिछले 9 10 सालों के पेपर अवश्य हाल करे।

CDO (Chief Development Officer) कैसे बने

आरएएस (RAS) परीक्षा का फॉर्म कैसे भरे?

  • आरएएस (RAS) परीक्षा आईएएस परीक्षा को आधार रखकर बनाई गई है। आरएएस परीक्षा के लिए राजस्थान पब्लिक सर्विस कमीशन, अजमेर द्वारा आवेदन मांगे जातें है। आवेदन की शुरुआत जुलाई अगस्त में होती है, इस समय विद्यार्थियों से RAS प्रीलिम्स के लिए आवेदन मांगे जाते है।
  • आरएएस प्रीलिम्स में सिर्फ एक ही पेपर होता है। आरएएस प्रीलिम्स की परीक्षा अक्टूबर के माह में होती है। इस परीक्षा में 150 प्रश्न जिनकी कुल अंक 200 होते है, पूछे जाते है। यह परीक्षा 3 घंटे की होती है। हर गलत जवाब पर एक तिहाई अंक काट लिए जाते है।
  • जो छात्र यह परीक्षा उत्तीर्ण कर लेते है, आरपीएससी उनसे आरएएस मेंस की परीक्षा के लिए आवेदन मांगती है, आरएएस मेंस की परीक्षा फरवरी मार्च में होती है। आरएएस मेंस की परीक्षा में कुल चार पेपर होते है, हर परीक्षा 200 अंक की होती है।
  • जो आवेदनकर्ता आरएएस मेंस की परीक्षा उत्तीर्ण कर लेते है, उन्हे इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है। यह इंटरव्यू 100 अंक का होता है। यदि इंटरव्यू में सिलेक्शन हो जाता है, तब आवेदनकर्ता के कुल अंको की जांच की जाती है। जो आवेदनकर्ता इन सभी पायदानों पर खरा उतरता है, उसे अब दो साल की ट्रेनिंग के लिए भेज दिया जाता है और ट्रेनिंग के बाद उसे पोस्टिंग दे दी जाती है।

आरएएस (RAS) की सैलरी कितनी होती है?

आरएएस (RAS) अधिकारी सरकार के लिए काम कर रहा होता है, तो उसे उसका मासिक वेतन तो मिलता ही है, साथ में सरकार द्वारा दिए गए कई और फायदे भी मिलते है। औसतन एक आरएएस अधिकारी की सैलरी ₹53,000 से लेकर ₹65,000 के मध्य होती है। इसके अलावा मेडिकल भत्ता, न्यूजपेपर भत्ता, पीएफ, सरकारी वाहन, सरकार की तरफ से सुरक्षा भी दी जाती है।

आरएएस अधिकारी का काम क्या होता है?

आरएएस (RAS) अधिकारी अपने नीचे काम कर रहे, सभी अधिकारियों की रिपोर्ट अपने ऊपर कार्य कर रहे अधिकारी को भेजते है। समय समय पर जनता को सरकारी योजनाओं के बारे में बताते है। इसके अलावा कई जगहों को निरीक्षण आदि कार्य करते है। आरएएस अधिकारी जनता के लिए सरकार का प्रतिनिधित्व करते है।

आरएएस (RAS) परीक्षा पास करने से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण टिप्स

  • आरएएस परीक्षा के लिए आपको क्लास 6 से क्लास 12 की किताबो का गहन अध्ययन करना होगा। प्रतियोगी परीक्षाओं को उत्तीर्ण करने के लिए कक्षा 6 से लेकर कक्षा 12 तक की एनसीईआरटी की किताबो का बारीकी से अध्ययन करना काफी अच्छा माना जाता है।
  • यदि आप कोई कोचिंग संस्थान ज्वाइन कर रहे है तो यह जरूर ध्यान रखे की वह आपके घर के नजदीक ही हो, जिसका आने जाने में आपको ज्यादा समय न खराब हो।
  • आरएएस की परीक्षा के लिए पढ़ाई का मैटेरियल आपको ऑनलाइन आसानी से मिल जायेगा। इसके लिए आप गूगल या फिर यूट्यूब की सहायता के सकते है।  गूगल और यूट्यूब पर आपको यह मैटेरियल बिना किसी लागत के मिल जायेगा।
  • पिछले वर्षों के पेपर अवश्य हाल करे, हो सके तो पिछले 9 10 सालों के आरएएस परीक्षा की पेपर हल करे। यह जरूर ध्यान रखे की आप अपने एग्जाम के हिसाब से पेपर को हल करे। यदि आप प्रीलिम्स की तैयारी कर रहे है तो प्रीलिम्स के पेपर हल करे और मेंस की तैयारी कर रहे है तो मेंस के पेपर हल करे।
  • अंग्रेजी न्यूजपेपर रोजाना पढ़े। अंग्रेजी न्यूजपेपर पढ़ने से आपकी वोकेबुलरी तेज होगी और आपकी जुबान वोकेबुलरी पर सेट हो जायेगी। अपनी रोजाना की भाषा में भी इसका प्रयोग करे।
  • रोजाना घट रही घटनाओं पर जरूर नजर रखे, पेपर में इनसे जुड़े हुए काफी सवाल नजर आते है।
  • अपना कीमती समय बिलकुल भी बर्बाद न होने दे।
  • परीक्षा देने जाते समय या परीक्षा देते समय बिलकुल भी न घबराए और संयम से काम ले, अन्यथा आपका बना बनाया काम बिगड़ सकता है। पेपर को हड़बड़ाहट में बिल्कुल भी हल न करे।
  • आरएएस की परीक्षा में नेगेटिव मार्किंग भी होती है, तो यदि आपको कोई सवाल का जवाब न आए तो उस पर तुक्का लगाने से बचे। प्रत्येक गलत उत्तर पर आपका एक तिहाई अंक काट लिया जाएगा।
  • आपका प्रीलिम्स तथा मेंस दोनो निकल लेते है तो साक्षात्कार अर्थात् इंटरव्यू में अडिग होकर उत्तर दे। इंटरव्यू लेने वाले आपकी वोकेबुलरी और दैनिक घटनाओं की जानकारी पर ज्यादा जोर देते है। इसीलिए इन दोनो पर अवस्था ध्यान दे और बिल्कुल भी घबराए न।
  • इंटरव्यू में आपका आत्मविश्वास और आपकी सहनशीलता देखी जाती है। आपको परखा जाता है की आपको कौन सी स्तिथि को कैसे हैंडल करते है। इंटरव्यू के विडियोज आपको ऑनलाइन यूट्यूब पर मिल जायेगे, इंटरव्यू पर जाने से पहले उन विडियोज को जरूर देखे। इससे आपको आइडिया हो जायेगा की कैसे क्या करना है।
  • आरएएस की परीक्षा उत्तीर्ण करने के लिए आपका एक टाइम टेबल होना जरूरी है। टाइम टेबल के जरिए आप ये निर्धारित कर सकेंगे की आपको कब क्या करना है। इससे आपको अपनी पढ़ाई में ध्यान केंद्रित करने में सफलता मिलेगी।

IFS Officer कैसे बने

Leave a Comment