हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन क्या है

हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन (Hydroxychloroquine) एक दवाई (Medicine) का नाम है, जो एंटी मलेरिया ड्रग क्लोरोक्वीन से अलग है। अभी तक इस दवा का प्रयोग मलेरिया के उपचार में तो किया ही जाता रहा है, साथ ही इसका इस्तेमाल आर्थराइटिस के उपचार में भी करते है। पिछले दिनों में भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) ने कोरोना वायरस (Coronavirus) के उपचार के लिए हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन के उपयोग करने सुझाव दिया था। जिसके बाद पूरे विश्व में इसकी मांग बढ़ गई थी, और इस दवाई का भारत निर्यातक भी रहा है | इसकी बढ़ती मांग को देखते हुए भारत सरकार ने इसके निर्यात पर रोक लगा दी थी | भारत में इस दवाई के मांग करने वाले लगभग 30 से अधिक देश थे, जिसमे जर्मनी, फ़्रांस अन्य देशों के साथ अमेरिका भी शामिल था | भारत इस दवाई का अभी तक निर्माण करता आया है और विश्व में इस दवाई का बड़ा निर्यातक रहा है | यदि आप भी हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन (Hydroxychloroquine) क्या है, हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन किस काम आती है, इसके विषय में जानकारी पाना चाहते है तो यहाँ पर बताया जा रहा है |

बीसीजी (BCG) का टीका क्या होता है

हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन का भारत में उत्पादन

विश्व में हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन (Hydroxychloroquine) का भारत बड़ा उत्पादक है, क्योंकि भारत में मलेरिया जैसी खतरनाक बीमारी से लड़ने में हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन बेहद कारगर दवाई है और भारत में प्रतिवर्ष बड़ी संख्या में लोग मलेरिया की चपेट में आ जाते हैं | इस सबको देखते हुए भारतीय दवा कंपनियां बड़े स्तर पर हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वीन का उत्पादन करती आ रही हैं | इसलिए भारत इसका विश्व स्तर पर बड़ा उत्पादक माना जाता है |

हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन किस काम आती है

अभी तक यह मेडिसिन भारत में मुख्य रूप से मलेरिया के इलाज में काम आती थी परन्तु कुछ समय पहले भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) ने कोरोना वायरस (Coronavirus) से लड़ने में इस दवाई को सहायक बताया, जो कोरोना वायरस के इलाज में कारगर सिद्ध होगी | जिसके बाद से इस दवाई की मांग पूरे विश्व में इसकी मांग बहुत तेजी के साथ बढ़ गई | क्योंकि अभी तक अगर सही मायने में देखा जाये तो कोरोना वायरस का पूर्ण इलाज नहीं मिल पाया है | लेकिन हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन की मदद से भारत समेत अन्य देशों में कोरोना के कुछ मरीजों को इससे ठीक किया जा चुका है | हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन मेडिसिन की मदद से कोरोना पर शुरूआती समय में काबू पाकर उसे ठीक किया जा सकता है |

पीपीई (PPE) क्या है

हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन (Hydroxychloroquine) चर्चा में क्यों है

विश्व के कई देशों में कोरोना वायरस की समस्या विकराल रूप ले चुकी है, जिसके चपेट में दुनिया का दिग्गज देश अमेरिका भी इसकी चपेट में आ चूका है जहाँ पर अभी तक 3.60 लाख लोग इसकी चपेट में आ चुके है | जिसके बाद अमेरिका के राष्ट्रपति ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कोरोना से लड़ने के विषय में बात की और इसके साथ ही हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन (Hydroxychloroquine) दवाई की पूर्ति के लिए भी मांग की | इसके पहले भारत ने हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन (Hydroxychloroquine) की बढ़ती मांग को देखते हुए, इसके निर्यात पर रोक लगा दी थी | जानकारी देते हुए बता दे कि मीडिया रिपोर्टों के अनुसार 30 अन्य देश भी इसकी मांग भारत से कर चुके है | भारत ने अमेरिका को आश्वासन दिया है, कि जल्द ही इस दवाई का उत्पादन बढ़ाया जायेगा और अमेरिका समेत अन्य देशों में भी इसकी पूर्ति की जाएगी |

आपको यहाँ पर हाइड्रोक्सी क्लोरोक्वाइन (Hydroxychloroquine) के बारे में जानकारी दी गई | यदि इससे सम्बंधित अन्य जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो कमेंट बॉक्स के माध्यम से पूछ सकते है | अधिक जानकारी के लिए hindiraj.com पोर्टल पर विजिट करते रहे |

महामारी अधिनियम (एपिडेमिक एक्ट) क्या है