सेविंग अकाउंट में डिपाजिट लिमिट क्या है

दुनिया में सभी लोग जीवन-यापन करने के लिए कमाई करते हैं और अपनी कमाई का कुछ हिस्सा  भविष्य के लिए शेष और सुरक्षित भी रखा जाता  है,  जिससे समय आने पर वो अपनी जरूरत को पूरा कर सके और अपना भरण-पोषण कर सके |  अपने धन का कुछ हिस्सा सुरक्षित रखने के लिए सभी लोग  अपने बचत खाता में जमा करना पसंद करते है | ताकि वो कभी भी अपने बैंक खाते से वो रकम निकाल सकते हैं और समय पर अपने काम को पूरा कर सकते है | इसलिए यदि आप भी अपने धन को सुरक्षित  रखने के लिए बैंक में जमा कर रहे है और सेविंग अकाउंट में डिपॉजिट लिमिट के विषय में जानना चाहते हैं, तो यहाँ  पर आपको सेविंग अकाउंट में डिपाजिट लिमिट क्या है , बचत खाते में कितना पैसे जमा कर सकते है | इसकी पूरी जानकारी प्रदान की जा रही है |

सेविंग अकाउंट क्या है ?

अब देश के लोगों को उनके अतिरिक्त धन को सुरक्षित रखने के लिए बैंक द्वारा सुविधा प्रदान की जाती है, जिससे  वह अपने अतिरिक्त धन को सुरक्षित रखने के लिए बैंक में खाता खुलवा कर जमा कर सकते है, जिसमें उनका धन सुरक्षित होने के साथ-साथ  उन्हें उनके धन पर कुछ प्रतिशत ब्याज भी प्रदान किया जाता है, जिसका लाभ उठाते हुए वो जब चाहे अपने धन की निकासी कर सकते है और अपना कार्यों  को समय रहते पूरा कर सकते है |  इसलिए इस  प्रकार की जाने वाले प्रक्रिया और खाते को सेविंग अकाउंट या बचत खाता के नाम से जाना जाता है|

अपनी राशि (HOROSCOPE) कैसे जाने?

सेविंग अकाउंट डिपाजिट लिमिट क्या है ?

बैंक का लाभ उठाने वाले सभी लोगों के लिए बैंक द्वारा कुछ नियम भी बनाये जाते हैं, जिन्हे उन्हें फॉलो करना होता है | बैंक द्वारा बनाये गए नियमों के मुताबिक़,  आपको अपने सेविंग अकाउंट में न्यूनतम और अधिकतम राशि जमा करना आवश्यक होता है क्योंकि, यदि आपका धन इससे कम या अधिक हो जाता हैं तो इसके लिए आपके धन से कटौती कर ली जाती है | इसलिए इस प्रक्रिया को सेविंग अकाउंट डिपाजिट लिमिट कहा जाता है, इसके साथ ही यह लिमिट सभी में एक समान नहीं होती है, क्योंकि यह अलग- अलग खाते में  अलग- अलग होती है |

न्यूनतम राशि

साधारणतयः सभी बैंक में न्यूनतम 500 रूपये से सेविंग खाता खोल दिया जाता है, तो वहीं किसी बैंक में 1000 रूपये की राशि के साथ भी खाता खोला जाता है | इसलिए यदि आपके खाते में इससे कम राशि होने पर जुर्माने के रूप में आपके खाते से कटौती  कर ली जाती है |  (जनधन खाते में यह लागू नहीं है) |

सरकारी बैंक और प्राइवेट बैंक की सूची

अधिकतम राशि

सेविंग अकाउंट के नियम के तहत यदि आपने अपने सेविंग एकाउंट या बचत खाता में 2 लाख 50 हजार से अधिक राशि जमा कर रखी है, तो बैंक आपसे टैक्स के रूप में कुछ राशि का भुगतान करा लेती है | इसके बाद जब आप टैक्स भर देंगे तो, आपको  अपने खाते में अधिक राशि रखनी की पूरी छूट रहेगी |

बैंक में 2 से 2.5 लाख जमा करने पर Tax देना होगा:  शून्य, ( क्योंकि Rs.2.5 लाख तक की राशि तक जमा करने के लिए आपको कोई Tax नही देना होगा) |

Rs.5 लाख तक बैंक में जमा करने पर टोटल Tax देना होगा-

Rs. 2.5 लाख पर 10% का Tax लगेगा =Rs. 25,000

कुल कर= Rs.25,000

Tax पर 200% की पेनाल्टी = Rs.50,000

कुल सरकार को मिलने वाला कर  (b+c)   = Rs.75,000

नोट- समय- समय पर इन नियमों में परिवर्तन सरकार द्वारा किया जाता है |

सेविंग एकाउंट के प्रकार

सेविंग अकाउंट के निम्नलिखित अकाउं है, जो इस प्रकार है-

  • नो फ्रिल अकाउंट
  • सैलरी अकाउंट
  • 18 से कम उम्र के लिए भी अकाउंट
  • युवा सेविंग बैंक अकाउंट
  • बेसिक सेविंग अकाउंट
  • सेविंग्स प्लस अकाउंट
  • प्रिमियम बचत खाता
  • सेविंग अकाउंट टैक्सेशन

संवैधानिक पीठ क्या होता है

यहाँ पर हमनें आपको सेविंग अकाउंट डिपाजिट लिमिट के विषय में जानकारी उपलब्ध करायी है |यदि आपको इससे  सम्बंधित अन्य जानकारी प्राप्त करनी है तो आप  www.hindiraj.com पर विजिट कर सकते है |

अध्यादेश (ORDINANCE) का क्या मतलब है