एलएसी या वास्तविक नियंत्रण रेखा क्या है

वास्तविक नियंत्रण रेखा  प्रमुख रूप से भारत और चीन के बीच की वास्तविक सीमा रेखा होती है। यह सीमा रेखा 4,057 किलोमीटर लंबी है, जो जम्मू – कश्मीर में भारत अधिकृत क्षेत्र और चीन अधिकृत क्षेत्र अक्साई चीन को पृथक करती है। यह लद्दाख, कश्मीर, उत्तराखंड, हिमाचल, सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश से भी होकर गुजरती है। इसलिये यदि आपको  एलएसी (LAC) या वास्तविक नियंत्रण रेखा के विषय में अधिक जानकारी नहीं प्राप्त है और आप इसके विषय में जानना चाहते है, तो यहाँ पर आपको एलएसी (LAC) या वास्तविक नियंत्रण रेखा क्या है , LAC & LOC में क्या अंतर है ? इसकी विस्तृत जानकारी प्रदान की जा रही है | 

आईईडी (IED) क्या है

वास्तविक नियंत्रण रेखा क्या है ?

भारत-पाक युद्ध के बाद जम्मू कश्मीर का अधिक हिस्सा पाकिस्तान में चला गया | जिसके बाद पाकिस्तान से चीन ने इसे अपने हिस्से में मिला लिया जिसे अक्साई चीन कहा जाता हैं। यह एक ऐसी सीमा रखा है, जो लगभग  4,057 किलोमीटर लंबी है | यह सीमा रेखा जम्मू – कश्मीर में भारत अधिकृत क्षेत्र और चीन अधिकृत क्षेत्र अक्साई चीन को अलग करती है। यह लद्दाख, कश्मीर, उत्तराखंड, हिमाचल, सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश से होकर गुजरते हुए निकलती है, जो एक प्रकार की सीज फायर क्षेत्र  कहा जाता है। इसके बाद 1962 के भारत-चीन युद्घ के बाद दोनों देशों की सेनाएं जहां तैनात थी, उसे वास्तविक नियंत्रण रेखा मान लिया गया।  

राजकोषीय घाटा क्या होता है

वहीं अनुच्छेद 4 के तहत,  दोनों देशों के बीच सीमा पर तनाव घटाने के तरीकों का जिक्र किया गया है , जिसमें बताया गया है कि, “विवाद की स्थिति में दोनों सेनाएं अपने मूल स्थान पर लौट जाएंगी और तनाव कम करने की कोशिश करेंगी। इसके बाद दोनों पक्ष, अगर जरूरी हुआ तो, अपने मुख्यालय को फौरन बातचीत या कूटनयिक संपर्को के जरिए तनाव घटाने की प्रक्रिया शुरू करने के लिए सूचित करेंगे। सीमा पर तनाव की दशा में कोई भी पक्ष बल का प्रयोग नहीं करेगा। दोनों पक्ष यथास्थिति बनाए रखेंगे और आगे बढ़े हुए स्थान पर कोई स्थायी चौकी नहीं बनाएगा।”

नियंत्रण रेखा (लाइन ऑफ कंट्रोल) – LOC

जो सीमा रेखा भारत और पाकिस्तान के बीच  होती है उसे नियंत्रण रेखा कहा जाता  हैं। इसके साथ ही इस क्षेत्र को सीज फायर क्षेत्र भी कहा जाता हैं। दोनों देशों के बीच जारी तनाव की वजह यह रेखा लगभग 740 किमी लंबी होती है, लेकिन अंतराष्ट्रीय मानचित्र में यह वास्तविक सीमा रेखा नहीं दर्शाती है। इसीलिए इसे नियंत्रण रेखा मान लिया गया है। वहीं, 1971 में भारत-पाक युद्ध के बाद दोनों देशों ने एक दूसरे की सीमा में जबरदस्ती घुस कर एक दूसरे की चौकियों पर कब्जा कर लिया था। इसके बाद जब 3 जुलाई, 1972 में शिमला समझौता किया गया तो, इसके बाद नियंत्रण रेखा को बहाल किया गया। इस समझौते में दोनों देशों ने  आपस बात करके इस मामले को सुलझा लिया और इस बात को स्वीकार कर लिया गया |

सुगौली संधि क्या है

LAC & LOC में क्या अंतर है ?

क्र.स. LOC LAC
1. नियंत्रण रेखा  को LOC कहा जाता है।  यह नियंत्रण रेखा भारत और पाकिस्तान द्वारा नियंत्रित कश्मीर के अलग-अलग हिस्सों को परिभाषित करने का काम करती है। वहीं एलएसी (LAC) वास्तविक नियंत्रण रेखा के लिए है। यह भारत और चीन के बीच की सीमा होती  है।
2. LOC एक सीमांकित सीमा कही जाती है ऐसी सीमा, जो उग्रवादियों द्वारा चिह्नित की जाती है। वहीं, एलएसी का सीमांकन नहीं किया जा सकता है इसके साथ ही इसमें एक विशाल खाली जगह होती है।
3. LOC या नियंत्रण रेखा भारत और पाकिस्तान द्वारा नियंत्रित कश्मीर के कुछ हिस्सों को अलग करने का काम करती है। इसके साथ ही यह लगभग 435 मील या 700 किमी लंबी होती है। भारत द्वारा नियंत्रित भाग को जम्मू और कश्मीर के रूप में जाना जाता है। यह  एक राज्य है, जो क्षेत्र के दक्षिणी और पूर्वी हिस्सों का गठन करता है। यह मूल रूप से कश्मीर के लगभग 45 प्रतिशत को कवर करता है।

डीआरडीओ (DRDO) क्या है

यहाँ पर हमने आपको एलएसी (LAC) या वास्तविक नियंत्रण रेखा क्या है ? इसके विषय में जानकारी उपलब्ध कराई है |  यदि आप इस जानकारी से संतुष्ट है, या फिर इससे समबन्धित अन्य जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो कमेंट करे और अपना सुझाव दे सकते है, आपकी प्रतिक्रिया का जल्द ही निवारण किया जायेगा | अधिक जानकारी के लिए hindiraj.com पोर्टल पर विजिट करते रहे |

प्रवर्तन निदेशालय (ED) क्या है