Raksha Bandhan in Hindi



Raksha Bandhan in Hindi – हम सभी जानते हैं कि रक्षाबंधन एक पारंपरिक भारतीय त्योहार है जो भाई-बहन के प्रेम और बंधन का प्रतीक होता है। भारत में रक्षा बंधन को हर वर्ष श्रावण मास की पूर्णिमा को मनाया जाता हैं। हर वर्ष इस दिन बहन अपने भाई की कलाई पर राखी बांधती है, जिसका अर्थ होता है कि वह अपने भाई की सुरक्षा की कामना करती है। दोस्तों अगर आप यह नहीं जानते हैं की रक्षाबंधन क्या है? या इसे कब और क्यों मनाया जाता हैं, तो आपको बिल्कुल घबराने की जरूरत नहीं हैं। क्योकि आजका हमारा ये आर्टिकल आपके काफी काम आने वाला हैं। क्योकि आज हम आपको अपने आर्टिकल में Raksha Bandhan Kyu Manaya Jata Hai से संबंधित सभी जानकारी देने वाले हैं। इसलिए आप हमारे इस आर्टिकल के साथ अंत तक बने रहें।

आज कौन सा त्यौहार है – आज के दिन कौन सा फेस्टिवल है

img-1


दीपावली का अर्थ क्या होता है?

Raksha Bandhan in Hindi

रक्षा बंधन, या राखी, भाई-बहनों के बीच अटूट प्यार को दर्शाने के लिए मनाया जाता है। यह त्यौहार प्रतिवर्ष श्रावण मास (सावन माह) की पूर्णिमा तिथि (पूर्णिमा दिवस) पर पड़ता है। इस दिन बहनें पूजा-अर्चना करके भाइयों की कलाइयों पर राखी बांधती हैं और उनके स्वास्थ्य व जीवन में सफल होने की कामना करती हैं। वहीं भाई अपनी बहनों की रक्षा करने, उन्हें प्यार करने और बिपरीत स्थिति में उनकी मदद करने के लिए हमेशा तैयार रहने का वचन देते हैं। इस वर्ष रक्षा बंधन 30 और 31 अगस्त को मनाया जायगा। साथ ही इस त्योहार के माध्यम से भाई-बहन के प्यार और संबंध का महत्व दर्शाया जाता है, और यह एक खुशी का और परिवार के बंधन को मजबूत करने का मौका प्रदान करता है।



होली का त्योहार क्यों मनाते हैं

Raksha Bandhan Kyu Manaya Jata Hai

रक्षा बंधन हिंदुओं के लिए एक महत्वपूर्ण त्यौहार है। पौराणिक कथाओं के मुताबिक भगवान कृष्ण की उंगली सुदर्शन चक्र से गलती से कट गई थी। यह देखकर द्रौपदी ने खून रोकने के लिए अपनी साड़ी से कपड़े का एक टुकड़ा फाड़कर चोट पर बांध दिया। जिसके चलते भगवान कृष्ण ने हमेशा उनकी रक्षा करने का वादा किया। साथ ही इंदिरानी ने कठिन तपस्या की और अपने तपोबल से एक रक्षा सूत्र तैयार किया| यह रक्षा सूत्र इंद्राणी ने देवराज इंद्र की कलाई पर बांधा उसी दिन से रक्षा बंधन का महत्वरक्षा बंधन का त्यौहार भाई-बहन के प्यार व भाइयों द्वारा बहनों की रक्षा के प्रतीक के रूप में भी मनाया जाता है। पवित्रता और स्नेह को सूचक यह पर्व भाई-बहन को के बंधन में बांधने का पवित्र एवं यादगार दिवस है इस पर्व को भारत के कई हिस्सों में श्रावणी के नाम से भी जाना जाता है|

Raksha Bandhan के अन्य नाम

भारत में इस वर्ष रक्षा बंधन 30 और 31 अगस्त को है। इस त्यौहार को हम अन्य कई नाम से जानते हैं। जैसे -रक्षाबंधन को पश्चिम बंगाल में ‘’गुरु महा पूर्णिमा’’ दक्षिण भारत में ‘’नारियल पूर्णिमा’’ और नेपाल में इसे ‘’जनेऊ पूर्णिमा’’ के नाम से भी जाना जाता है|

साल के महत्वपूर्ण दिवस हिंदी में

राखी बांधने का शुभ मुहूर्त और पंचांग कब है

दोस्तो जैसा की हमने आपको बताया की इस वर्ष रक्षा बंधन 30 और 31 अगस्त को है। द्रिक पंचांग के अनुसार ये दो तिथियां भद्रा काल के कारण हैं। क्योंकि इस दौरान राखी नहीं बंधी जाएगी। रक्षा बंधन भद्रा काल की समाप्ति का समय 30 अगस्त को रात 9:01 बजे है। वहीं, 31 अगस्त को सुबह 7:05 बजे तक राखी बांधी जा सकेगी।

FAQ’s
रक्षा बंधन की शुरुआत कब हुई ?

जब पांडव कौरवों के हाथों द्रौपदी को जुए में हार गए तो कृष्णजी ने उनके सम्मान की रक्षा कर अपने वचन को निभाया। तब से ही रक्षाबंधन के दिन भाई की कलाई पर राखी बांधे जाने की परंपरा शुरु हुई।

रक्षाबंधन का दूसरा नाम क्या है?

राखी पूर्णिमा रक्षाबंधन का दूसरा नाम है|

रक्षा बंधन का अर्थ क्या है?

का अर्थ है ” सुरक्षा का बंधन “; भाइयों, चचेरे भाइयों और बहनों के बीच रिश्ते का जश्न मनाने वाला एक सार्वभौमिक भारतीय त्योहार; इसमें एक बहन द्वारा अपने भाई की कलाई पर राखी (पवित्र धागा) बांधना शामिल है।

भारत में रक्षाबंधन कब शुरू हुआ?

भारत में रक्षाबंधन 1905 में शुरू हुआ|

भारत के प्रमुख त्यौहारों की सूची

Leave a Comment