Self Introduction in Hindi

आज के समय मे जब भी आप किसी भी नौकरी की तलाश में रहते हैं या फिर किसी नए संस्थान में प्रवेश लेना चाहते है ऐसे समय में हमें सेल्फ इंट्रोडक्शन की आवश्यकता होती है। ऐसे में अगर आपने सही तरीके से अपना इंट्रोडक्शन या परिचय दिया हो,तो आप सफलता प्राप्त कर सकते हैं क्योंकि सेल्फ इंट्रोडक्शन (Self Introduction) के माध्यम से खुद का विकास करते हुए आगे बढ़ा जा सकता है और अच्छी नौकरी भी हासिल किया जा सकता है।



अतः आज हम आपको सेल्फ इंट्रोडक्शन के बारे में संपूर्ण जानकारी दे रहे हैं जिससे आपको अपने किसी भी नए प्रोजेक्ट या नौकरी की तलाश में परेशानी ना उठानी पड़े और आप सफलता हासिल कर सके |

इंटरव्यू में सफलता कैसे पाए

Self Introduction क्या है?

सेल्फ इंट्रोडक्शन से तात्पर्य व्यक्ति के संक्षिप्त परिचय से है। यह एक सामान्य प्रक्रिया होती है जिसका उपयोग उस समय किया जाता है, जब आप किसी नई नौकरी या किसी नए संस्थान में प्रवेश लेने जाते हैं। ऐसी स्थिति में आपको अपना सेल्फ इंट्रोडक्शन देना होता है जिसके अंतर्गत आप अपने समस्त जानकारियां नाम, जगह, शिक्षा, कार्य अनुभव, शौक आदि  दी जाती है।




इस क्रिया के माध्यम से आप अपने बारे में संपूर्ण जानकारी के माध्यम से सामने वाले व्यक्ति, समूह या फिर संस्था को अपनी परिस्थिति के बारे में अवगत कराते हैं।

Self Introduction का हिंदी स्वरूप

सामान्य रूप से self-introduction करना जरूरी माना जाता है। ऐसे में सेल्फ इंट्रोडक्शन का हिंदी रूप “स्वयं का परिचय” होता है जिसमें आप खुद के बारे में लोगों को जानकारी देते है।

Self Introduction के प्रकार

अगर आपने self introduction  के बारे में सही जानकारी प्राप्त नहीं है ऐसी स्थिति में हम आपको इनके प्रकारों से अवगत कराने वाले है

Formal Introduction

जब भी आप पेशेवर कार्यों के लिए अपना परिचय देते हैं, तो आप इस प्रकार के इंट्रोडक्शन का उपयोग करते हैं। सामान्य रूप से फॉर्मल इंट्रोडक्शन का उपयोग उस समय होता है जब आप किसी नौकरी या साक्षात्कार के दावेदार होते हैं और आपको अपनी प्रतिभा दिखाते हुए सही तरीके से अपना इंट्रोडक्शन देना होता है। फॉर्मल इंट्रोडक्शन स्वयं से संबंधित जानकारी होती है जिसमें आपको खुद से संबंधित मुख्य बातों के बारे में जानकारी देना होता है।

Informal Introduction

इसके अतिरिक्त हम इनफॉरमल इंट्रोडक्शन का उपयोग रोजमर्रा के कार्यों में करते आए हैं, इसका ज्यादा से ज्यादा उपयोग हम अपने दोस्तों एवं रिश्तेदारों के बीच करते हैं। जहां पर हम अपनी शिक्षा, योग्यता, पता से संबंधित जानकारी लोगों को देते हैं और फिर इससे संबंधित बातों पर गहनता से विचार-विमर्श और चर्चा किया जाता है।

Self Introduction के कुछ खास पहलू

  • आज हम आपको सेल्फ इंट्रोडक्शन के कुछ खास पहलुओं के बारे में जानकारी देने वाले हैं जिसके माध्यम से आप सही तरीके से अपना इंट्रोडक्शन दे सकते हैं और आकर्षक व्यक्तित्व हासिल कर सकते हैं।
  • सबसे पहले आपको इस पहलू पर ध्यान देना होगा कि जब आप किसी नई जगह पर जाते हैं या फिर अजनबियों के बीच में जाते हैं तो हमेशा अपना कॉन्फिडेंस बनाकर रखना होगा जिसके माध्यम से आप सही तरीके से अपना इंट्रोडक्शन दे सके।
  • अगर आप फॉर्मल इंट्रोडक्शन देना चाहते हैं ऐसी स्थिति में आपको सामने वाले की आंखों में देखते हुए अपना इंट्रोडक्शन देना चाहिए ताकि आपके अंदर आत्मविश्वास दिखाई दे सके।
  • Self introduction की शुरुआत उसी समय करें जब आपसे इस बारे में पूछा जाए। अगर आप स्वयं ही अपने बारे में जानकारी देना शुरू करते हैं, ऐसे में आपकी छवि का नुकसान होता है।
  • जब आप अपने इंट्रोडक्शन के बारे में सामने वाले से बात करें तो हमेशा अपनी बॉडी लैंग्वेज पर विशेष रूप से ध्यान दें। ऐसे में कभी भी आपको अपने बाल, नाक और मुंह पर हाथ नहीं रखना चाहिए।
  • इंट्रोडक्शन देते समय हमेशा अपनी सिटिंग पोजीशन पर ध्यान देना चाहिए जिसके अंतर्गत कभी भी आपको झुक कर या फिर टेबल के ऊपर हाथ रखकर नहीं बैठना चाहिए।
  • एक विशेष बात का ध्यान हमेशा अपने सेल्फ इंट्रोडक्शन के समय रखना चाहिए कि जब भी आप कमरे में अंदर जाते हैं, तो हमेशा अपने चेहरे पर स्माइल बनाकर रखना चाहिए और इंटरव्यू लेने वाले सदस्यों को हमेशा सही शब्दों के इस्तेमाल से विश करना चाहिए।
  • जब आपका इंट्रोडक्शन खत्म हो जाता है उसके बाद ही आगे की प्रक्रिया पूरी करनी चाहिए। ऐसे में ध्यान रखना चाहिए कि सेल्फ इंट्रोडक्शन के समय धीरे धीरे बोलना चाहिए।
  • अगर आप इनफॉर्मल इंट्रोडक्शन देते हैं, ऐसी स्थिति में भी सही कपड़ों का चयन करना चाहिए और विशेष रूप से अपनी बॉडी लैंग्वेज पर ध्यान देना चाहिए।

सरकारी नौकरी कैसे पाए ?

Self Introduction देने का सही तरीका

  • कई बार ऐसी स्थिति उत्पन्न होती है जिसके माध्यम से हम अपनी बातों को सही तरीके से नहीं बता पाते हैं और किसी ना किसी प्रकार की गड़बड़ी कर बैठते हैं। ऐसी स्थिति से निपटने के लिए हम आपको सेल्फ इंट्रोडक्शन  का सही तरीका बताने जा रहे हैं, जो निश्चित रूप से ही आपके लिए सही साबित होंगे।
  • जब भी आप अपना सेल्फ इंट्रोडक्शन देते हैं तो सबसे पहले आपको अपना नाम बताना चाहिए। यह बात सच है कि जिस जगह आप इंटरव्यू देने जाते हैं, वहां पर आपका नाम सभी को पता होता है लेकिन फिर भी यह आपकी जिम्मेदारी होती है सबसे पहले आप अपना नाम सभी लोगों को बताएं।
  • नाम बताने के बाद आपको सभी लोगों के सामने अपनी शैक्षिक योग्यता के बारे में बताना चाहिए। इसके अंतर्गत आपको उन सभी माध्यमों के बारे में जानकारी देना होता है जहां आपने शिक्षण योग्यता हासिल की हो और आपने कौन सी शिक्षण योग्यता हासिल की है उस बारे में भी सभी जानकारी देना चाहिए।
  • अगर आप एक नई नौकरी की तलाश में है ऐसी स्थिति में जब भी आप किसी नई जगह पर जाते हैं तो आप अपने इंट्रोडक्शन में पहले काम किए हुए जगह के बारे में निश्चित रूप से ही बताना चाहिए। इसके अलावा आपको यह बताना आवश्यक माना जाता है कि आपने कितने समय पूर्व जगह में काम किया है?
  • इसके अलावा आप खुद से संबंधित जरूरी बातें बता सकते हैं जिसमें आपसे यह बात निश्चित रूप से पूछा जाता है कि आप अपने जीवन में क्या करना चाहते हैं? ऐसी स्थिति में आप को पहले से ही सवाल का जवाब मानसिक रूप से सोचते हुए आगे बढ़ना चाहिए क्योंकि सवाल कभी भी कहीं से भी पूछा जा सकता है।
  • इसके अलावा आपसे आपके  इंटरेस्ट के बारे में भी जानकारी ली जाती है ताकि उससे संबंधित सवाल आपसे पूछे जा सके।
  • जब आपका इंटरव्यू हो रहा होता है ऐसी स्थिति में आखिरी में आपसे सैलरी के बारे में जानकारी ली जाती है कि आप कितनी सैलरी लेना चाहते हैं? ऐसी स्थिति में आप को पहले से ही उस जगह के बारे में जानकारी देना होगा जहां आपने अप्लाई किया है। और इस बात की भी जानकारी रखना आवश्यक है कि उस जगह पर कितनी सैलरी निर्धारित की जाती है ताकि उस  आधार पर आप भी सही सैलरी के बारे में जानकारी दे सकें।

सेल्फ इंट्रोडक्शन में इंग्लिश का उपयोग

आज के समय में इंग्लिश का बोलबाला हर जगह है जहां पर आपको इंग्लिश के माध्यम से खुद का इंट्रोडक्शन देना होता है और सामान्य रूप से ऐसा भी देखा जाता है कि अगर आप  इंग्लिश में इंटरव्यू देते हैं तो इंटरव्यूर आप से आकर्षित होकर नौकरी देने के लिए आपका नाम ले सकते हैं।

ऐसे में अगर आप सेल्फ इंट्रोडक्शन की तैयारी इंग्लिश में करें तो निश्चित रूप से ही नौकरी प्राप्त होने के अवसर बढ़ जाते हैं। इसके अतिरिक्त अगर आप किसी मान्यता प्राप्त कॉलेज के लिए भी इंटरव्यू देना चाहते हैं ऐसी स्थिति में भी आपकी इंग्लिश सही होना बहुत जरूरी है। ऐसे में आपको निश्चित रूप से ही ग्रामर और  वोकैबुलरी का सही तरीके से इस्तेमाल करना आना चाहिए। इसके लिए अगर आप चाहे तो पहले से ही प्रैक्टिस कर सकते हैं ताकि नई जगह में आप को दिक्कतों का सामना ना करना पड़े।

जब भी आप इंग्लिश में अपना इंट्रोडक्शन ( self introduction) दे तो इस बात का ध्यान रखें कि अगर आप हिंदी मीडियम से हैं ऐसी स्थिति में भी आपको पूरे आत्मविश्वास के साथ इंग्लिश में इंटरव्यू देना होगा।

 इंग्लिश में सेल्फ इंट्रोडक्शन देने का तरीका

अगर आप फ्रेशर है ऐसे में आप इंग्लिश में इंट्रोडक्शन देने के लिए कुछ इस प्रकार से तैयारी कर सकते हैं

Good Morning sir / Madam

My name is …….……. I am from Mumbai. I have done B.com from …..,……. I have 4 years experience in Teaching as a lecturer. I will do my best as per my qualifications. My hobbies are writing, gardening, listening music. That’ all about me which I wanted to tell you. Thank you so much .

Self introduction आपके किसी ऑफिस मीटिंग के लिए

अगर आप अपने किसी बड़ी ऑफिस मीटिंग के लिए जाने वाले हैं लेकिन उसके पहले आपको घबराहट महसूस होती है तो ऐसे में आपको घबराने की बिल्कुल भी आवश्यकता नहीं है और अपने आत्मविश्वास को बनाए रखना जरूरी है।

किसी भी उच्च संस्था तबकंपनी में नौकरी करने का मतलब यह होता है कि आपको हर समय खुद को प्रेजेंटेबल रखना होता है ऐसी स्थिति में समय-समय पर मीटिंग का आयोजन होता है। अगर आप किसी ऑफिस मीटिंग के लिए जाते हैं, तो ऐसे में आपको अपने नाम के साथ साथ अपने पोस्ट के बारे में भी जानकारी देना चाहिए और साथ ही साथ आने वाले प्रोजेक्ट को लेकर आपका क्या नजरिया है? इस बारे में भी सही तरीके से जानकारी लोगों के सामने रखनी चाहिए।

इंट्रोडक्शन देते समय आपको अपने पुराने सभी कामों को भूल कर जिस काम के लिए मीटिंग के लिए आए हैं उस पर फोकस करना चाहिए ताकि आप अपना हंड्रेड परसेंट अपनी मीटिंग में दे सकें और नया प्रोजेक्ट भी हासिल कर सके।

Self Introduction के लिए ली जा सकती है विशेषज्ञ से सलाह

कई बार ऐसी स्थिति उत्पन्न होती है जब बार-बार इंटरव्यू या मीटिंग के बाद भी हमारा सिलेक्शन नहीं हो पाता और हम हताश होने लगते हैं। ऐसी स्थिति में अगर आप चाहे तो किसी विशेषज्ञ से भी सलाह ली जा सकती है। यह जरूरी नहीं है कि वह विशेषज्ञ आपके क्षेत्र से ही संबंधित हो।

अगर आप चाहे तो किसी दूसरे क्षेत्र के विशेषज्ञ से सलाह ली जा सकती है। ऐसे में आप सोशल मीडिया के माध्यम से भी निश्चित रूप से ही सही तरीके से आकलन करते हुए सेल्फ इंट्रोडक्शन के माध्यम से खुद को मजबूती के साथ इंटरव्यू के लिए तैयार कर सकते हैं।

एक परिवार एक नौकरी योजना क्या है

Leave a Comment