बैडमिंटन प्लेयर (Badminton Player) कैसे बने

दुनिया में बहुत से लोग ऐसे होते हैं जो खेल की दुनिया में अपना करियर बनाना  चाहते है | इसमें करियर बनाने के लिए अनेकों पद होते हैं, जिनमे से कुछ लोग बैडमिंटन प्लेयर बनना चाहते है | बैडमिंटन प्लेयर बनने के लिए लोगों को  लगातार अत्याधिक मेहनत करनी होती और इसके कई नियमो के विषय में जानकारी प्राप्त करनी होती हैं जिसके बाद ही अभ्यर्थी इस पद को प्राप्त करने में सफल हो सकता है | बैडमिंटन प्लेयर बनने वाले व्यक्ति को सैलरी भी अच्छी प्रदान की जाती है | यदि आप भी बैडमिंटन प्लेयर बनना चाहते हैं, तो यहाँ पर आपको बैडमिंटन प्लेयर (Badminton Player) कैसे बने, नियम, कब करें शुरुआत, टिप्स की पूरी जानकारी प्रदान की जा रही है |

ये भी पढ़े: जिम ट्रेनर (GYM TRAINER) कैसे बने

बैडमिंटन प्लेयर (Badminton Player) कैसे बने 

बैडमिंटन प्लेयर बनने वाले व्यक्ति की शारीरिक क्षमता बहुत ही अच्छी होनी चाहिए क्योंकि इस फील्ड में करियर बनाने वाले व्यक्ति की जब तक  शारीरिक क्षमता अच्छी  नहीं होगी तब तक खेल के मैदान में  डटकर  सामना नहीं कर सकेगा | इसके साथ ही यदि आपको बैडमिंटन प्लेयर  बनना है तो इसमें बनाये गए कुछ नियमो के विषय में पूरी जानकारी रखनी आवश्यक होती है |

बैडमिंटन कोर्ट  का आकार  चतुर्भुज होता है जिसे एक नेट की सहायता से दो खिलाड़ियों के खेलने के लिए दो बराबर भागों में  विभाजित कर दिया जाता है। प्रायः एक ही कोर्ट को इस तरह से  तैयार कर लिया  जाता है कि  वह  सिंगल्स और डबल्स दोनों के लिए इस्तेमाल हो सके| यदि अहम कोर्ट की चौड़ाई की बात करें तो  कोर्ट की चौड़ाई 6.1 मीटर या 20 फिट होती है, जो सिंगल्स मैच के दौरान घटाकर 5.18 मीटर कर दी जाती है। कोर्ट की पूरी लम्बाई 13.4 मीटर या 44 फिट होती है। इसके अलावा कोर्ट के बीच में स्थित नेट से 1.98 मीटर पीछे दोनों तरफ एक सर्विस लाइन  बनी हुई होती  है। डबल्स कोर्ट के दौरान ये सर्विस लाइन बेक बाउंड्री से 0.73 मीटर की दूरी पर होती है।

ये भी पढ़े: सिंगर (SINGER) कैसे बने

बैडमिंटन रैकेट की लम्बाई – 680 मिलीमीटर

इसकी कुल चौड़ाई –  230 मिलीमीटर

इसका आकार – अंडाकार, इसमें एक हैंडल लगा हुआ होता है, जिसे पकड़ कर खिलाड़ी कॉक को स्ट्रोक करते हैं।

एक अच्छे क़िस्म के रैकेट का वजन – 70 से 95 ग्राम के बीच होता है

एक शटलकॉक  का वज़न  करीब –  4.74 ग्राम से 5.50 ग्राम के मध्य होता  है।

इसका आधार – 25 मिलीमीटर से 28 मिलीमीटर के व्यास का एक वृत्त होता है , यह एक  व्यास का  व्रत होता है, जिसका आकार एक      तरफ गोलाकार  होता  है | इसी का इस्तेमाल करके प्लेयर पूरे खेल को खेलते है |

ये भी पढ़े:  करोड़पति (CROREPATI) कैसे बने

बैडमिंटन नियम

सेवा 

आपको यह खेल खेलते समय ध्यान रखना चाहिए, कि सेवा हमेशा तिरछे करके खेले , और  यदि आप ऐसा नहीं करते है तो, आपका सामने वाला व्यक्ति  विनर बन सकता है ।

नेट पर चलाएं

यदि आप खेलते समय नेट को गलती से भी स्पर्श कर लेते है और स्पर्श या शरीर या रैकेट के साथ पर्याप्त होता है, तो इसे गलत मानकर आपको हारा हुआ समझ लिया जाएगा और प्रतिद्वंद्वी बिंदु  को विजेता घोषित कर दिया जाएगा |

गलत पक्ष परोसें 

इस खेल में आपकी जीत सेवा पक्ष  के अंकों की संख्या पर निर्भर करता है। यदि आप इस खेल को खलेने के लिए गलत तरीके का इस्तेमाल करते हैं, तो यह स्वचालित रूप से गलत माना जाता है और साथ ही प्रतिद्वंद्वी को  और अधिक बढ़ावा प्रदान करता  है | इस खेल में ऐसा तब होता है जब खिलाडी इस खेल को गलत तरीके से खेलता है |

ये भी पढ़े: फिल्म प्रोड्यूसर (FILM PRODUCER) कैसे बने

बैडमिंटन प्लेयर बनने की कब करें शुरुआत

इस फील्ड में करियर बनाने के लिए अभ्यर्थियों को छोटी ही क्लास से इस खेल को खेलने के लिए शामिल होना चाहिए, क्योंकि इस फील्ड में अभ्यर्थियों को अच्छा प्रदर्शन करने के लिए स्कूल से ही इस खेल को  सीखना चाहिए और  किसी अकैडमी में 6-7 साल की उम्र  से ही ऐडमिशन  ले लेना चाहिए  और उन्हें  कम-से-कम 10 से 12 साल तक की उम्र तक  अच्छे से इस खेल की प्रैक्टिस करना चाहिए | यदि अभ्यर्थी इतनी ही कम उम्र में इस खेल से सम्बंधित सभी जानकारी और खेलना सीख जाता है तो वह भविष्य में एक अच्छा बैडमिंटन प्लेयर बन जाता है |

ये भी पढ़े: बैंक कैशियर (BANK CASHIER) कैसे बने

ये भी पढ़े: सॉलिसिटर जनरल ऑफ इंडिया क्या होता है?

बैडमिंटन प्लेयर बनने की टिप्स 

  1. बैडमिंटन प्लेयर बनने के लिए आप कम उम्र से ही अपने मोहल्ले की गलियां या फिर किसी फील्ड में बैडमिंटन खलेने की प्रैक्टिस करते रहें|
  2. आपको खेल में अच्छा प्रदर्शन करने के लिए सबसे पहले शॉट पर कंट्रोल बनाना  अनिवार्य  होता है।
  3. देश के सभी बड़े शहरों में बैडमिंटन ट्रेनिंग सेंटर उपलब्ध है, वहां से आप इसके लिए ट्रेनिंग ले सकते है और एक बैडमिंटन प्लेयर बन सकते है |
  4. कोच की मदद ले सकते हैं क्योंकि कोच अपने अभ्यर्थी को इस खेल में अच्छा प्रदर्शन करने के लिए सभी नियमो के बारे में समझाता है |
  5. इस खेल से सम्बंधित सभी नियमो की जानकारी रखे |

ये भी पढ़े: ठेकेदार (CONTRACTOR) कैसे बने

यहाँ  पर हमने आपको बैडमिंटन प्लेयर के विषय  में जानकारी उपलब्ध कराई है | यदि आपको इससे सम्बंधित जानकारी यदि आपको इससे  सम्बंधित अन्य जानकारी प्राप्त करनी है तो आप  अपने विचार या सुझाव कमेंट बॉक्स के माध्यम से पूंछ सकते है | इसके साथ ही आप अन्य जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो www.hindiraj.com पर विजिट करे |

ये भी पढ़े: प्रधानमंत्री महिला शक्ति केंद्र योजना (PMMSY)

ये भी पढ़े: प्रॉपर्टी डीलर (PROPERTY DEALER) कैसे बने

ये भी पढ़े: वैज्ञानिक (SCIENTIST) कैसे बनें

ये भी पढ़े: टीचर (TEACHER) कैसे बने