कस्टम अधिकारी कैसे बने

भारत में केंद्र सरकार के वित्त मंत्रालय के अंतर्गत केंद्रीय उत्पाद एवं सीमा शुल्क बोर्ड को रखा गया है | केंद्रीय उत्पाद एवं सीमा शुल्क बोर्ड के द्वारा उत्पादन शुल्क और सीमा शुल्क को अर्जित किया जाता है | कस्टम अधिकारी अथवा सीमा शुल्क अधिकारी के द्वारा निर्धारित सीमा क्षेत्र में वस्तुओं की गहन जाँच की जाती है | जाँच के द्वारा प्रतिबंधित वस्तु के प्रवेश को रोकने का प्रयास किया जाता है | कस्टम अधिकारी  राजस्व विभाग के अंतर्गत आता है | अगर आप एक कस्टम अधिकारी  बनना चाहते है तो इसके बारे में यहाँ आपको पूरी जानकारी दे रहे है |

आईएएस (IAS) कैसे बने

कस्टम अधिकारी के लिए योग्यता 

एक कस्टम अधिकारी बनने के लिए योग्यता निर्धारित की गई है, जिसकी जानकारी इस प्रकार  है-

शैक्षणिक योग्यता 

कस्टम अधिकारी के लिए अभ्यर्थी को किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से किसी भी संकाय में 55 प्रतिशत अंक अर्जित करते हुए स्नातक उत्तीर्ण होना आवश्यक है |

आयु

कस्टम अधिकारी हेतु अभ्यर्थी की आयु 21 वर्ष से 28 वर्ष के मध्य होनी आवश्यक है | जो अभ्यर्थी आरक्षित वर्ग में आते है उन्हें आरक्षण के नियमानुसार छूट प्रदान की जाती है |

बेसिक शिक्षा अधिकारी (BSA) कैसे बने

शारीरिक योग्यता

कस्टम अधिकारी के लिए अभ्यर्थी को शारीरिक रूप से स्वस्थ होना आवश्यक है | इसके साथ ही उसकी लम्बाई 157.5 सेमी और  सीना 81 सेमी होना आवश्यक है |

कस्टम ऑफिसर के लिए आवश्यक गुण 

कस्टम ऑफिसर में योग्यताओं के अतिरिक्त आवश्यक गुण भी होने आवश्यक है-

  • सबसे पहले आपको भारत का नागरिक होना आवश्यक है | इसका अर्थ आपके पास भारत की नागरिकता होनी चाहिए |
  • आपके पास किसी भी एक वाहन को चलाने के लिए लाइसेंस होना चाहिए |
  • एक कस्टम ऑफिसर को कभी भी किसी प्रकार का ड्रग का उपयोग नहीं करना चाहिए| 
  • आपको रिलाएबल ट्रांसपोर्टेशन होना अनिवार्य है |
  • आपको कस्टम ऑफिसर के रूप में जिस कम्युनिटी के साथ कार्य करना होगा उसके लिए आपमें संवाद और व्यवहार करने का बेहतर गुण होना आवश्यक है |
  • आपके अंदर सहयोग करने का गुण अवश्य होना चाहिए इससे आप एक टीम के रूप में कार्य करने सक्षम होंगे |
  • कस्टम ऑफिसर के रूप में आपको निर्धारित समय से अधिक या अन्य किसी समय कार्य करना पड़ सकता है | इसके लिए आप में समय से अधिक कार्य करने का गुण अवश्य होना चाहिए |

IFS OFFICER कैसे बने

कस्टम ऑफिसर पाठ्यक्रम  

संघ लोकसेवा आयोग अथवा यूपीएससी के द्वारा कस्टम ऑफिसर हेतु परीक्षा का आयोजन किया जाता है | इस परीक्षा को तीन भागों में आयोजित किया जाता है |

  • सिविल सर्विस एप्टीट्यूड टेस्ट (सीएसएटी)
  • सिविल सेवा मुख्य परीक्षा
  • व्यक्तित्व परीक्षण

कस्टम ऑफिसर के लिए सिविल सर्विस एप्टीट्यूड टेस्ट (सीएसएटी)

कस्टम ऑफिसर बनने के लिए सिविल सर्विस एप्टीट्यूड टेस्ट को देना होता है | यह एप्टीट्यूड टेस्ट में दो भागों में विभाजित होता है | प्रत्येक भाग के लिए 200 अंक का निर्धारण होता है | इस परीक्षा में सभी प्रकार के प्रश्न ऑब्जेक्टिव होते है | अगर आप कस्टम ऑफिसर बनना चाहते है तो आपको इसको उत्तीर्ण करना आवश्यक है | इसको उत्तीर्ण करने के बाद आपको मुख्य परीक्षा में सम्मिलित होने का अवसर प्रदान किया जायेगा |

ग्राम विकास अधिकारी (VDO) कैसे बने?

मुख्य परीक्षा 

सिविल सेवा मुख्य परीक्षा के अंतर्गत नौ पेपर्स का आयोजन किया जाता है | इन सभी पेपरों में वर्णनात्मक प्रकार के प्रश्न पूछे जाते है | कस्टम ऑफिसर बनने के लिए सिविल सेवा मुख्य परीक्षा को उत्तीर्ण करना अत्यंत आवश्यक है | यदि आप इस परीक्षा को सफलता पूर्वक उत्तीर्ण कर लेते है तो आपको व्यक्तित्व परीक्षण में भाग लेने का अवसर प्रदान किया जायेगा |

कस्टम ऑफिसर हेतु व्यक्तित्व परीक्षण

कस्टम ऑफिसर बनने के लिए व्यक्तित्व परीक्षण अंतिम चरण है | इसे साक्षात्कार भी कहा जाता है | इस साक्षात्कार में सिविल सेवा मुख्य परीक्षा में सफल होने वाले अभ्यर्थियों की बुद्धि, क्षमताओं, गुणों और मूल्यों का आंकलन किया जाता है | व्यक्तित्व परीक्षण में कई प्रकार के प्रश्न पूछे जाते है, यदि अभ्यर्थी के द्वारा उनका सही उत्तर दे दिया जाता है, तो उसे अच्छे अंक प्रदान किये जाते है, जो उसके चयन में सहायता करते है |

सी.डी.ओ. (CDO) कैसे बने

वेतन 

एक कस्टम ऑफिसर का वेतन 7 वीं सीपीसी के अनुसार 52000 रु० है | (जबकि सकल (ग्रॉस) के अनुसार इसका वेतन लगभग 60000 रु० होता है ) |

कस्टम ऑफिसर के अधिकार

कस्टम ऑफिसर को कस्टम ड्यूटी (टैक्स) को एकत्रित करना होता है | यदि आपका चयन एक कस्टम इंस्पेक्टर के रूप में होता है तो आपको वस्तुओं की जाँच करके कस्टम ड्यूटी (टैक्स) को जमा करना होगा | वस्तुओं की जाँच के समय आपको प्रबंधित वस्तुओं के प्रवेश पर रोक लगाना रहता है | प्रबंधित को पकड़ने के लिए आप वस्तुओं और व्यक्तियों की पूर्ण रूप से जाँच कर सकते है | कस्टम ऑफिसर का पद बेहद जिम्मेदारी का है | आपको अपने कर्तव्य को पूरा करने के लिए किसी भी तस्करी (स्मगलिंग) पर पूर्ण रूप से प्रतिबन्ध लगाना होता है | अगर जाँच में किसी व्यक्ति के पास गलत वस्तुएं पायी जाती है, तो आपको उस सम्बंधित व्यक्ति के विरुद्ध क़ानूनी कार्यवाही करनी होती है | आपको उस व्यक्ति को पकड़ने और उस पर नियमानुसार कार्यवाही करने का पूर्ण अधिकार रहता है |

एसडीएम (SDM) कैसे बने?

कस्टम ऑफिसर के कार्य 

कस्टम ऑफिसर के कार्य इस प्रकार है- 

  • जाँच के समय आपको लोगों को अपराध करने के पहले ही पकड़ने का प्रयास करना होता है | इसके आपको संभावित जोखिम उठाकर कई प्रकार के प्रश्न पूछने होते है जिससे व्यक्ति की पहचान की जा सके |
  • आपको तस्करी करने वाले व्यक्ति की पहचान करने के लिए उसके सामान और स्वयं उसकी तलाशी लेनी होती है |
  • यदि तलाशी में आपको किसी भी प्रतिबंधित वस्तु प्राप्त होती है तो आपको उसे गिरफ्तार करना होता है |
  • एक कस्टम ऑफिसर के रूप में आपको इम्पोर्ट किये जाने वाले सामान से संबंधित डॉक्यूमेंट की जाँच करना रहता है |
  • यदि किसी व्यक्ति के ऊपर ड्रग तस्करी का आरोप है और उस पर केस चल रहा है, तो आपको उसके ऊपर नजर बना कर रखनी होती है | इससे आपको अन्य संदिग्त व्यक्तियों के विषय में जानकारी मिल सकती है |

 पीसीएस (PCS) अधिकारी कैसे बने

यहाँ आपको कस्टम अधिकारी (Custom Officer) बनने की जानकारी के विषय से अवगत कराया गया | यदि इस जानकारी से संतुष्ट है, या फिर इससे समबन्धित अन्य जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो कमेंट करके अपना सुझाव दे सकते है, आपकी प्रतिक्रिया का जल्द ही उत्तर देने का प्रयास किया जायेगा | अधिक जानकारी के लिए hindiraj.com पोर्टल पर विजिट करते रहे |

बैंक पीओ (BANK PO) कैसे बने

Leave a Comment