PPF Withdrawal Rules in Hindi

देश में रहने वाले अधिकतर लोग अपनी कमाई से कुछ पैसा बचाकर किसी सेफ जगह पर जमा करना चाहते है, ताकि  जरूरत पड़ने पर वो पैसे समय रहते प्राप्त हो सके | इसलिए रिटायरमेंट के बाद हो या फिर अन्य किसी बड़े काम के लिए रकम इकट्ठा करनी है तो, इसके लिए पीपीएफ अकाउंट बहुत अच्छी और सुविधाजनक बचत स्कीम मानी जाती है, क्योंकि यह एक स्कीम होती है, जिसमें आपको बेहतर ब्याज के साथ-साथ जमा रकम और उसकी ब्याज पर सरकार से पूरी की पूरी टैक्स छूट का फायदा भी प्राप्त होता है | पीपीएफ अकाउंट एक महत्वपूर्ण एकाउंट माना जाता है | इसलिए यदि आपको पीपीएफ अकाउंट के विषय में अधिक जानकारी नहीं प्राप्त है और आप इसके विषय में जानना चाहते है, तो यहाँ पर आपको PPF Withdrawal Rules in Hindi , आंशिक और पूर्ण PPF खाते से राशि कैसे निकालें (नियम) | इसकी पूरी जानकारी प्रदान की जा रही है | 

प्रोविडेंट फण्ड क्या होता है

आंशिक और पूर्ण PPF खाते से राशि कैसे निकालें ?

आंशिक और पूर्ण PPF खाते से राशि निकालने के मामले में कुल तीन तरह  के नियम बनाये गए है, जिनके तहत आप अपने खाते से जमा राशि को निकाल सकते है | 

  1. पूर्ण निकासी: पूर्ण निकासी में 15 साल की मेच्योरिटी पूरी होने के बाद पूरा पैसा निकालना
  2. आंशिक निकासी: 5 साल का खाता होने के बाद किसी आवश्यकता पर पूरा पैसा निकालना
  3. छोटी जरूरत: तीसरे साल के बाद पीपीएफ जमा के आधार पर कर्ज (Loan) लेना

पूर्ण PPF खाते से राशि निकालने का नियम 

पूर्ण खाते से राशि निकालने का नियम 

पीपीएफ अकाउंट में आपके 15 साल में जमा राशि की रकम पूरी हो जाती है। इसका मतलब कि, इस अकाउंट में आपको लगातार 15 साल तक पैसा जमा करना होता है। उसके बाद आपका जमा पैसा उस पर बना ब्याज के साथ आपको पूरा प्रदान कर दिया जाता है लेकिन, यदि आप 15 साल के बाद भी   पीपीएफ अकाउंट से पैसा नहीं निकालना चाहते है, तो आप  पैसा जमा रहने दे सकते हैं, परन्तु 15 साल के बाद खाते का विस्तार कम से कम 5 साल के लिए कराना  आवश्यक हो जाता है। इस प्रकार से खाता की विस्तारित अवधि में  आपको पीपीएफ खाते के लिए तय ब्याज प्रदान की जाएगी | इसके बाद यदि आप  खाता जारी रखने के बाद भी पैसा नहीं जमा करना चाहते है, तो फिर आपको उसके लाभ प्रदान किये जाएंगे | 

मौद्रिक नीति समिति (MPC)

पहली 5 साल की खाता विस्तार अवधि पूरी  हो जाने पर आप अपने मुताबिक अगले 5 साल के लिए इसकी अवधि बढ़वा सकते हैं। इस प्रकार आप 5-5 साल करके जब तक चाहें पीपीएफ खाता जारी रख सकते हैं।

आंशिक खाते से राशि निकालने का नियम 

यदि आपके पीपीएफ खाते के 5 वित्तीय वर्ष पूरे हो चुके है, तो निम्नलिखित दो स्थितियों में आपको अपने पीपीएफ का पूरा पैसा निकालने की अनुमति प्रदान की जा सकती है | 

  1. खाताधारक को या उसके परिवार के सदस्य को गंभीर बीमारी या रोग है, तो वह उनके या अपने इलाज के लिए पैसे निकाल सकता है |
  2. खाताधारक को या उसके परिवार (पत्नी या बच्चों) की उच्च शिक्षा ग्रहण करने के लिए भी पैसे निकाल सकता है | 

एफडीआई (FDI) क्या होता है

खाते से राशि निकालने के नियमो से सम्बंधित पीपीएफ महत्वपूर्ण जानकारी

जैसे कि उपर के पैराग्राफ में बताया गया हा कि दोनों तरह की स्थितियों में भी यदि आप पीपीएफ खाते से पैसे निकालते है तो, पीपीएफ का पैसा निकालने पर आपको एकदम पूरा पैसा वापस नहीं प्रदान किया जाता है | आपकी जमा पर मिलने वाली ब्याज में से 1 प्रतिशत ब्याज काट लिया जाता है और बची हुई रकम ही आपको प्रदान कर दी जाती है। इस प्रकार मेच्योरिटी के पहले पैसा निकालने पर आपको ये थोड़ा सा नुकसान होता है।

पहले 5 साल पूरा करने वाले पीपीएफ अकाउंट से इमरजेंसी की स्थिति में भी ​कुल जमा का सिर्फ 50 प्रतिशत आधा ​निकालने की अनुमति दी जाती थी, लेकिन अब बाद में सरकार ने 2016 में इसे बदलकर विशेष परिस्थितयों में पूरा पैसा निकालने की छूट का नियम लागू कर दिया।

एफपीआई (FPI) क्या है

छोटी जरूरत पर पीपीएफ खाते से राशि निकालने का नियम 

यदि आपके अकाउंट के 5 वित्तीय वर्ष पूरे नहीं हो चुके है, तो आप उसका पूरा पैसा नहीं निकाल सकते है , लेकिन  कोई विशेष आवश्यकता पड़ने पर आप उससे लोन की राशि प्राप्त कर सकते हैं, परन्तु लोन की यह सुविधा भी आपको पीपीएफ अकाउंट के तीसरे वित्तीय वर्ष से ही प्रदान की जाती है | 

उसके बाद आप जरूरत पड़ने पर 6 ​वित्तीय वर्ष तक कभी भी पीपीएफ अकाउंट से लोन के रूप में प्राप्त कर सकते हैं। इसके बाद जब छठा वित्तीय वर्ष पूरा हो जाएगा, तो आपको इसके बाद पीपीएफ खाते से लोन नहीं प्रदान किया जाएगा | हालांकि, इस अवधि के बाद आपके पास पीपीएफ खाते को बंद करने और पूरा पैसा निकालने की सुविधा लागू कर दी जाती है | इसके अलावा पीपीएफ अकाउंट से लोन लेने पर भी आपको अपनी पूरी की पूरी जमा रकम लोन के रूप में नहीं प्रदान की जाती है,  सिर्फ उसका कुछ हिस्सा ही आपको दिया जाता है।  

सांसद निधि (MPLAD) योजना क्या है

यहाँ पर हमने आपको आंशिक और पूर्ण PPF खाते से राशि निकालने के विषय में जानकारी उपलब्ध कराई है | यदि आप इस जानकारी से संतुष्ट है, या फिर इससे समबन्धित अन्य जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो कमेंट करे और अपना सुझाव दे सकते है, आपकी प्रतिक्रिया का जल्द ही निवारण किया जायेगा |अधिक जानकारी के लिए hindiraj.com पोर्टल पर विजिट करते रहे |

प्रधानमंत्री आत्मनिर्भर भारत अभियान क्या है