मौद्रिक नीति समिति (MPC)

मौद्रिक नीति समिति यानि कि एमपीसी (Monetary Policy Committee) भारत सरकार द्वारा चलाई जाने वाली एक समिति है , जिसका सम्बन्ध बैंक से है | लगभग देश के सभी लोगों को किसी न किसी तरीके से बैंक का काम लगता है | वह तरीका कोई भी हो सकता है, लोग अपनी बचत को बैंक में जमा करके सुरक्षित रखते है या फिर बिजनेस मैन अपना व्यापार चलाने के लिए अकाउंट प्रयोग करते है | बहुत से लोग व्यापार के लिए पढाई के लिए या फिर किसान अपनी खेती के लिए बैंक से लोन लेते है | परन्तु इन सबके बीच बैंकों के नियमों के बारे में जानकारी नहीं होती है | कभी कभी जानकारी के आभाव में वह मुसीबत में भी पड़ जाते है | सभी बैंकें और उनके ज्यादातर नियम रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया (RBI) की निगरानी में रहते है | केंद्र सरकार ने मौद्रिक नीति समिति (MPC) गठन किया है, तथा इसके द्वारा बैंकों की ब्याज दरों का निर्धारण किया जाता है | यदि आप भी मौद्रिक नीति समिति (MPC), कार्य, एमपीसी के अध्यक्ष व सदस्य (MPC in Hindi) इसके विषय में जानना चाहते है तो यहाँ पर इसकी जानकारी दी जा रही है |

सरकारी बैंक और प्राइवेट बैंक की सूची

मौद्रिक नीति समिति (MPC) क्या है

मौद्रिक नीति समिति (MPC), जो भारत सरकार द्वारा गठित एक समिति है जिसे 27 जून, 2016 को गठित करने का मुख्य उद्देश्य ब्याज दर निर्धारण को अधिक उपयोगी एवं पारदर्शी बनाने हेतु किया गया। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) अधिनियम में संशोधन करने के बाद अब भारत में नीति निर्माण को एक नवगठित मौद्रिक नीति समिति यानि कि एमपीसी को सौंप दिया गया है।

केवाईसी (KYC) का मतलब क्या होता है

मौद्रिक नीति व्यवस्था

मौद्रिक नीति वह व्यवस्था होती है जिसके द्वारा केंद्रीय बैंक ब्याज दरों पर नियंत्रण रखती है और  अर्थव्यवस्था में मुद्रा के प्रवाह को भी नियंत्रित करती है, इसके अलावा मूल्य स्थिरता बनाये रखती है और उच्च विकास दरों के लक्ष्य को प्राप्त करने हेतु प्रयासरत रहती है। भारत की मौद्रिक नीति में, भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) सर्वोच्च प्राधिकृत संस्था है जिसके द्वारा अर्थव्यवस्था में मूल्य स्थिरता हेतु इस नीति को प्रयोग में लाती है।

इनकम टैक्स अधिकारी कैसे बनें 

मौद्रिक नीति के कार्य

मौद्रिक नीति समिति के भारत में बहुत से कार्य होते है, इससे बैंकों के ऋणों में नियंत्रण और भारत की अर्थव्यवस्था को मजबूती मिलती है, मौद्रिक नीति समिति के कार्य इस प्रकार है :-

1. मूल्य स्थिरता

किसी भी देश में बढ़ते विकास के बीच यदि महंगाई पर काबू रहता है, तो देश की अर्थव्यवस्था और मुद्रा नीति मजबूत होती है | मौद्रिक नीति समिति का कार्य मूल्य स्थिरता भी रखना होता है |

2. बैंक द्वारा ऋणों की बढ़ोत्तरी पर नियंत्रण

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के प्रमुख कार्यों में उत्पादन को बिना प्रभावित किए उसके उधारी निकासी पर दिए जाने वाले ऋणों को कम से कम रखना होता है | इसके अलावा मौसमी आवश्यकताओं और उत्पादों पर बैंक ऋण और मुद्रा आपूर्ति का नियंत्रित विकास करना होता है |

एफडीआई (FDI) क्या होता है

3.स्थिर निवेश का संवर्धन

गैर-आवश्यक और निश्चित निवेश पर नियंत्रण रखकर निवेश की उत्पादकता को बढ़ाने हेतु योजना योजना तैयार करना |

4. माल पूर्ति पर प्रतिबंध

माल की पूर्ति पर प्रतिबंध लगाना जैसे सामानों का भण्डारण करने से बचना और संगठन के तहत सुस्त मुद्रा को रोकना |

5. निर्यात को संवर्धन और खाद्यान्न खरीद प्रक्रिया का संचालन

मौद्रिक नीति निर्यात में बढ़ोत्तरी हेतु और व्यापार की सुविधा सन्दर्भ में महत्वपूर्ण प्रभाव डालता है | यह मौद्रिक नीति का एक स्व-नियंत्रित उपाय माना जाता है |

ग्राम विकास अधिकारी (VDO) कैसे बने?

6. ऋण का वांछित वितरण

मौद्रिक प्राधिकरण में छोटे उधारकर्ताओं और प्राथमिक क्षेत्रों को दिए जाने वाले लोन के आवंटन से जुड़े निर्णयों पर नियंत्रण रखता है |

7. ऋण (लोन) का समान वितरण

रिजर्व बैंक (RBI) की नीति के मुताबिक अर्थव्यवस्था के सभी क्षेत्रों को समान लाभ का अवसर प्रदान किया जाता है |

8. कठोरता को कम करना

मौद्रिक समीति प्रतिस्पर्धा और विविधीकरण को प्रोत्साहित करना इसके प्रमुख कार्यों में है |

बैंक पीओ (BANK PO) कैसे बने?

एमपीसी के अध्यक्ष व सदस्य (MPC in Hindi)

नयी एमपीसी (MPC) समिति में छः सदस्यों का एक पैनल होता है जिनमें से तीन सदस्य आरबीआई (RBI) के होते है और तीन अन्य स्वतंत्र सदस्य भारत सरकार के चुने हुए होते है। RBI के तीन अधिकारियों में एक गवर्नर, एक डिप्टी गवर्नर तथा एक अन्य अधिकारी सदस्य रखा जाता है। मौद्रिक नीति निर्धारण हेतु यह समिति साल में चार बार मिलती है और सर्वसम्मति से फैसला लेती है । निर्णय लेते समय यदि ‘हाँ’ या ‘न’ को लेकर बराबर के मत पाए जाते है तो ऐसी स्थिति में गवर्नर का फैसला निर्णायक माना जाता है।

वर्तमान में मौद्रिक नीति समिति में भारत सरकार के पमी दुआ, चेतन घाटे तथा रविन्द्र ढोलकिया इसके सदस्य है | तथा आरबीआई (RBI) के तीन सदस्य गवर्नर शान्ति कांत, डिप्टी गवर्नर आर. गांधी तथा माइकल पात्रा सदस्य के रूप में कार्य कर रहे है।

सूचना का अधिकार अधिनियम (RTI)

यहाँ आपको मौद्रिक नीति समिति (MPC)  के विषय में जानकारी प्रदान की गई | यदि आप इस जानकारी से संतुष्ट है, या फिर इससे समबन्धित अन्य जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो कमेंट करे और अपना सुझाव दे सकते है, आपकी प्रतिक्रिया का जल्द ही निवारण किया जायेगा | अधिक जानकारी के लिए hindiraj.com पोर्टल पर विजिट करते रहे|

भारतीय संविधान क्या है?