बीएलओ (BLO) क्या होता है

जैसे – जैसे हमारे देश के चुनाव नजदीक आते जाते हैं, वैसे – वैसे सभी नेताओं के लिए चुनाव से सम्बंधित कुछ समस्याएं भी उत्पन्न होने लगती है, जिससे उन्हें चुनाव प्रकिया को आख़िरी तक ले जाने में कई समस्याओं का सामना करना पड़ जाता है | इसलिए इसी तरह की समस्याओं का समाधान करने के लिए चुनाव आयोग ने सभी चुनाव क्षेत्रों में बीएलओ की नियुक्ति कर देता है | इससे चुनाव आयोग में आने वाली सभी समस्याओं  को पहले से सुलझा लिया जाता है, जिससे चुनाव आयोग की प्रक्रिया सफलता पूर्वक संपन्न हो जाती है | इसलिए यदि आप भी बीएलओ के विषय में जानना चाहते हैं, तो यहाँ पर आपको बीएलओ (BLO) क्या होता है, बीएलओ का फुल फॉर्म , कैसे बने, कार्य, वेतन और योग्यता की पूरी जानकारी प्रदान की जा रही है | 

ग्राम प्रधान (GRAM PRADHAN) कैसे बने?

बीएलओ (BLO) क्या है 

चुनाव आयोग का हमेशा यही प्रयास रहता है कि, भारत में चुनाव की प्रक्रिया को सरल व सुदृढ  बनाया जा सके, जिसके लिए चुनाव आयोग यह चाहता है कि चुनावों के समय  वह हर क्षेत्र में अपनी पकड़ मजबूत बना सके, जिससे वह मतदाताओं का उचित मार्गदर्शन करने में सफल हो सके और  चुनाव की प्रक्रिया को बिना किसी परेशानी के बहुत ही आसानी के साथ पूरा कर सके | इसी उद्देश्य को ध्यान में रखते हए चुनाव आयोग सभी चुनाव क्षेत्रों में BLO का चुनाव करता है। बीएलओ की नौकरी सरकारी और अर्द्ध सरकारी दोनों ही मानी जाती है|

बीएलओ का फुल फॉर्म

BLO का फुल फॉर्म “Booth Level Officer” होता है, जिसे हिंदी भाषा में “बूथ स्तर अधिकारी” कहा जाता है | चुनाव आयोग द्वारा जमीनी स्तर पर किसी क्षेत्र में चुनाव प्रक्रिया को सफलता पूर्वक आगे बढ़ाने के लिए BLO की नियुक्ति की जाती है। बीएलओ  के पद पर कार्यरत  होने वाले व्यक्ति को चुनाव क्षेत्र के विषय में सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त होती है ताकि, वह क्षेत्रीय जानकारी का प्रयोग कर  किसी निश्चित क्षेत्र में चुनाव प्रक्रिया को सफल बना सके |

आचार संहिता क्या होता है?

बीएलओ कैसे बने 

बीएलओ बनने के लिए नागरिक को चुनाव से सम्बंधित अधिक से अधिक जानकारी होनी बहुत ही आवश्यक होती है, क्योंकि एक बीएलओ की नौकरी करने वाले व्यक्ति से चुना से सम्बंधित ही कार्य करने होते है | इसके आलावा उसे समाज के विषय में भी अधिक जानकारी रखने की आवश्यकता होती है, जिससे उसे अपपनी नौकरी करने में बहुत अधिक सहायता मिल सकती हैं | बीएलओ का यह पद बड़ा पद होता है, जिसमें व्यक्ति को सम्मान के साथ-साथ अच्छी सैलरी भी प्रदान की जाती है |  

विधानसभा चुनाव में नामांकन कैसे होता है

बीएलओ के कार्य

  1. बूथ लेवल ऑफिसर  का मुख्य कार्य यह होता है कि, वह अपने क्षेत्र के सभी मतदाताओं की चुनाव व वोट से सबंधित हर प्रकार की जानकारी से अवगत कराये |
  2. बूथ लेवल ऑफिसर ही होता है, जो अपने क्षेत्र के सभी मतदाताओं को चुनाव से सम्बंधित आने वाले सभी समस्याओं का समाधान करता है | 
  3. कार्ड या चुनाव से संबंधित  हर प्रकार की जानकारी बीएलओ ही प्रदान करता है | इसलिए यदि आपको इस प्रकार की कोई भी समस्या होती है, तो इसके लिए आप अपने क्षेत्र के बीएलओ से संपर्क करके उस समस्या का हल निकाल सकते हैं |   

बीएलओ का वेतन 

एक बीएलओ को प्रतिमाह लगभग साढ़े सात हजार रूपये सैलरी प्रदान की जाती है, लेकिन अभी इस सैलरी को लेकर कुछ बीएलओ अधिकारियों का कहना है कि, वर्तमान समय इतनी सैलरी बहुत ही कम है | इसलिए बीएलओ के कुछ अधिकारी अपनी सैलरी बढ़ाने की मांग कर रहें है |

बीएलओ बनने के लिए योग्यता 

BLO के पद की जिम्मेदारी उस व्यक्ति को  सौंपी जाती  है, जो  किसी सरकारी ढांचे का हिस्सा हो या फिर लोकल क्षेत्र में  कार्य करने वाले व्यक्ति को यह पद प्रदान किया जाता है। इस पद पर व्यक्ति की नियुक्ति प्रेजेंटेशन ऑफ पीपल्स एक्ट 1950 के सेक्शन (B) (2) के अंतर्गत की जाती है। इसके अलावा  बीएलओ चुनाव आयोग का जमीनी स्तर पर प्रतिनिधित्व  करने वाले व्यक्ति को भी इस पद के लिए नियुक्त कर लिया जाता है | चुनाव आयोग ने इस पद पर नियुक्ति की  शुरुआत अगस्त 2006 से  कर दी थी |

बीजेपी (BJP) का फुल फॉर्म क्या है

यहाँ पर हमने आपको बीएलओ के विषय में सम्पूर्ण जानकारी उपलब्ध कराई है | यदि आपको इस जानकारी से सम्बंधित मन में किसी प्रकार का प्रश्न या विचार आ रहा है, या अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है, हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

भारत में कितने राजनीतिक दल है