कबड्डी (Kabaddi) में करियर कैसे बनायें

हर खेल की अपनी अलग पहचान होती हैं, जिनमें से एक कबड्डी का भी खेल होता हैं | इस खेल को खेलना बहुत लोग पंसद  करते हैं और इसे देखना भी | वैसे तो यह खेल अधिकतर गाँवों में खेला जाता था लेकिन वर्तमान समय यह खेल इतना प्रचलित हो गया कि, आप इसे अपना कमाई का जरिया बना सकते है और अपना भविष्य भी संवार सकते है | मुख्य रूप से कबड्डी खेल की शुरुआत भारत से ही कई गई हैं लेकिन अब इस खेल को और भी कई  देश  के लोग खेलने की शुरुआत कर चुके हैं | यदि आप भी कबड्डी में अपना करियर बनाना चाहते है, तो यहाँ पर आपको कबड्डी (Kabaddi) में करियर कैसे बनायें, खेलनें का तरीका | इसकी पूरी जानकारी प्रदान की जा रही है |

ये भी पढ़े: नागरिकता संशोधन बिल (CITIZENSHIP AMENDMENT BILL) क्या है

कबड्डी (Kabaddi) में करियर कैसे बनायें  

भारत सरकार ने जब से ‘खेलो इण्डिया योजना’ का आरम्भ किया है, इसके बाद इस खेल के प्रति लोगों की रूचि बढ़ती जा रही है | आपको इस खेल में करियर बनाने के लिए सबसे इस खेल को खेलने में रूचि बनाकर रखनी चाहिए क्योंकि किसी भी फील्ड में करियर बनाने के लिए हमे उसके प्रति इंट्रेस्ट रखना जरूरी होता है | कबड्डी का खेल अधिकतर स्कूलों में खेला जाता है जिसकी शुरुआत अभ्यर्थी स्कूल से ही करने लगते है|

इसके साथ ही इसमें करियर बनाने के लिए आपको इस खेल से सम्बंधित सभी प्रकार की जानकारी रखनी होती है | इसके सभी नियमो के बारे में मालूम करना होता है |  इस खेल को सीखने के लिए आपकी  शरीरिक और मानसिक फिटनेस बेहतरीन होनी चाहिए| सबसे पहले आप इस खेल को स्कूल में खेले, इसके बाद  तहसील स्तर पर अच्छा प्रदर्शन करें , फिर जिले स्तर पर कबड्डी खेले और  फिर बड़ी जीत दर्ज करते हुए राज्य स्तर पर  अपना अच्छा प्रदर्शन दिखाएँ |

कोच की मदद लें सकते हैं 

आपको इस खेल में अच्छा प्रदर्शन करने के लिए एक कोच की मदद लेनी चाहिए, जो अपने सीखने वाले खिलाड़ी को सही मार्गदर्शन देने में उसकी मदद करता है| जब इस खेल  के लिए  टूर्नामेंट शुरू किया  जाता है  तो इससे पहले प्रोफेशनल एक्सपर्ट और कोच की मौजूदगी में अभ्यास कराया जाता है| इसके बाद खिलाड़ियों को प्रो कबड्डी के मैदान में उतारा जाता है।

ये भी पढ़े: मुख्यमंत्री (CM) को पत्र कैसे लिखे?

ये भी पढ़े: बिजली का नया कनेक्शन कैसे ले?

कबड्डी खेलने का तरीका 

कबड्डी के इस खेल में हर टीम में 12 खिलाड़ी शमिल किये जाते  हैं लेकिन पाले में केवल 7 ही खिलाड़ी खेलने के लिए आगे आते हैं और  5  खिलाड़ियों को सुरक्षित रखा जाता हैं, जिन्हें विशेष परिस्थितियां आ जाने पर आगे किया जाता है | अंतर्राष्ट्रीय स्तर के दलों में प्रत्येक दल में 7 खिलाड़ी रखे जाते  हैं |

यदि हम खेलने की बात करें तो खेल का मैदान दो हिस्सों में बंटा हुआ होता है और यह खेल बीस बीस मिनट के अंतराल पर खेला जाता है , जिसके बीच खिलाड़ियों को पांच मिनट का हाफ- टाइम भी दिया जाता है | इस हाफ टाइम के दौरान ही दोनों दल अपना पाला  बदल लेते हैं और जो खिलाड़ी गलती से पाले से बाहर चला जाता है उसे आउट मान लिया जाता है तथा मैच शुरू होने के बाद लॉबी को भी मैदान का हिस्सा  बना लिया जाता है।

वहीं यदि खेल के दौरान सभी खिलाड़ी आउट हो जाते है और जिनमें से  केवल  1 या 2 खिलाड़ी ही शेष रह जाते हैं तो कप्तान को अधिकार होता है, कि वह सभी खिलाड़ियों को बुला ले लेकिन उतने अंक और 2 अंक अतिरिक्त विपक्षी टीम को प्राप्त हो जाते  हैं । विपक्षी क्षेत्र में सांस तोड़ने पर रेडर को आउट  घोषित कर दिया जाता है।  इस खेल में एक पाली से दूसरे पाले जाने वाले खिलाड़ी को लगातार कबड्डी कबड्डी बोलते रहने होता है ,सांस टूटने पर इस शब्द के रुकने पर खिलाड़ी आउट हो  जाता है | इन नियमो का पालन करते हुए खिलाड़ी इस खेल में अपना अच्छा प्रदर्शन देने की कोशिश करते है |

ये भी पढ़े: केंद्र शासित प्रदेश का मतलब क्या होता है?

ये भी पढ़े: सरकारी बैंक और प्राइवेट बैंक की सूची

कबड्डी खिलाड़ियों की ड्रेस 

कबड्डी  खेलने वाला प्रत्येक खिलाड़ी बनियान व निक्कर पहनता है| साथ में जुराब व कपड़े के जूते भी पहने हुए होता है| प्रत्येक खिलाड़ी की बनियान पर नंबर अंकित कर दिया जाता  है | इसके अलावा इस खेल को खेलने वाले किसी भी खिलाड़ी को ऐसी चीजें पहनने की अनुमति नहीं दी जाती है, जिससे अन्य खिलाड़ियों को हानि पहुंचे |

इस खेल के प्रमुख कोचिंग स्थान

इस खेल को सिखाने के कई कोचिंग संस्थान मौजूद है जैसे – दिल्ली, जयपुर व देश के अन्य भाग में भी  इसके प्रमुख संस्थान है जहाँ पर सभी खिलाड़ी बहुत ही अच्छे तरह से कबड्डी के विषय में जानकारी प्राप्त कर सकते है और खेल के मैदान में अपना अच्छा प्रदर्शन दे सकते है  | इसके अलावा दिल्ली हरियाणा सीमा पर बसा एक गांव जो इस खेल को सिखाने के लिए बहुत अधिक बहुत प्रसिद्ध है जिसका   नाम  “निज़ामपुर “ हैं | यह एक ऐसा गाँव हैं जहां पीढ़ियों से कबड्डी खेली जा रही है |  वहीं जिन्होंने इंचियॉन एशियाई खेलों में स्वर्ण में अपनी जीत दर्ज की थी उस टीम के सदस्य मंजीत चिल्लर भी इसी गांव के रहने वाले हैं |

ये भी पढ़े: सूचना का अधिकार अधिनियम (RTI)

यहाँ और हमने आपको कबड्डी में करियर बनाने के विषय में जानकारी उपलब्ध कराई है | यदि आपको इससे  सम्बंधित अन्य जानकारी प्राप्त करनी है तो आप  अपने विचार या सुझाव कमेंट बॉक्स के माध्यम से पूंछ सकते है | इसके साथ ही आप अन्य जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो www.hindiraj.com पर विजिट करे |

ये भी पढ़े:  सॉलिसिटर जनरल ऑफ इंडिया क्या होता है?

ये भी पढ़े: प्रधानमंत्री महिला शक्ति केंद्र योजना (PMMSY)

ये भी पढ़े: बैंक कैशियर (BANK CASHIER) कैसे बने

ये भी पढ़े: प्रॉपर्टी डीलर (PROPERTY DEALER) कैसे बने