विदेश में पढ़ाई कैसे करें



प्राप्त जानकारी के अनुसार हुए एक सर्वे में जब भारतीय विद्यार्थियों से यह पूछा गया कि क्या वह विदेश में जाकर पढ़ाई करने की इच्छा रखते हैं तो तकरीबन 91% विद्यार्थियों ने इसके लिए हामी भरी, जो इस बात को साफ तौर पर प्रकट करता है कि भारतीय विद्यार्थियों के मन में विदेश जाकर पढ़ाई करने का कितना अधिक क्रेज है।

हो सकता है कि उन 91 प्रतिशत विद्यार्थियों में आप भी आते हो और आप भी अपनी आगे की पढ़ाई विदेश की किसी बेस्ट यूनिवर्सिटी से करना चाहते हो। आइए इस पेज पर जानते हैं कि “ विदेश में पढ़ाई कैसे करें (Study in Foreign Country) “.

सुबह जल्दी कैसे उठे और पढ़ाई कैसे करें

विदेश में पढ़ाई कैसे करें?

Table of Contents

जब बात विदेशों में पढ़ाई करने की आती है तब एक सामान्य भारतीय विद्यार्थी को काफी असमंजस होती है, क्योंकि वह पहली बार विदेश में पढ़ाई करने के लिए जा रहे हैं, ऐसे में विदेश‌ मे पढ़ाई करने के लिए उन्हें कौन सी तैयारियां करनी होगी।

किस प्रकार के टेस्ट को पास करना होगा, कौन से दस्तावेज की आवश्यकता होगी, कैसे उन्हें विदेश की यूनिवर्सिटी में एडमिशन मिलेगा, उन्हें किस प्रकार की छात्रवृत्ति मिलेगी, यह सभी बातें विद्यार्थियों के दिमाग में चलती रहती है। आइए आपकी इस उलझन को कम करते हैं और विस्तार से विदेश में पढ़ाई करने से संबंधित मुद्दे पर चर्चा करते हैं।

1: सही कोर्स का चुनाव करें

विदेश की किसी भी यूनिवर्सिटी में पढ़ाई करने जाने से पहले आपको यह देखना है कि ऐसा कौन सा कोर्स है जो आपके कैरियर के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है अर्थात आपको अपनी रुचि को समझने की आवश्यकता है। 

2: भरोसेमंद यूनिवर्सिटी का सिलेक्शन करें

अपने कोर्स का सिलेक्शन कर लेने के बाद आपको यह भी जानना चाहिए कि आपको कौन सी यूनिवर्सिटी में एडमिशन पाने का प्रयास करना चाहिए। इसके अलावा यह भी पता करना चाहिए कि जिस यूनिवर्सिटी में आप एडमिशन प्राप्त करना चाहते हैं, उस यूनिवर्सिटी में आपने जिस कोर्स का चुनाव किया है वह उपलब्ध है अथवा नहीं।

3: अपना पसंदीदा कोर्स चुनें

आपने जब विदेश की किसी यूनिवर्सिटी में जाकर पढ़ाई करने का मन बना लिया है तो आप की पहली प्राथमिकता होनी चाहिए अपनी पसंद का कोर्स चुनना। इसके पश्चात ही आप अपने आगे के कदम का निर्धारण कर सकते हैं।

4: अपनी पसंद की जगह चुने

कुछ विद्यार्थी ऐसे होते हैं जो किसी विशेष जगह पर जाकर अपनी आगे की पढ़ाई को पूरा करने की इच्छा रखते हैं |

जैसे कि कुछ विद्यार्थियों को अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में मौजूद यूनिवर्सिटी में पढ़ाई करने की इच्छा होती है, तो कुछ विद्यार्थियों को ऑस्ट्रेलिया के किसी शहर में जाकर पढ़ाई करने की इच्छा होती है

5: यूनिवर्सिटी का चयन करें और अपनी योग्यता चेक करें

एक विद्यार्थी के तौर पर आप विदेश की जिस यूनिवर्सिटी में एडमिशन प्राप्त करना चाहते हैं, उस यूनिवर्सिटी में एडमिशन पाने के लिए कौन सी योग्यताएं हैं जिन्हें आपको पूरा करना है इसकी भी जानकारी आपको प्राप्त करनी चाहिए। हर किसी यूनिवर्सिटी के लिए योग्यता की जानकारी ऑफिसियल वेबसाइट पर उपलब्ध होती है |

6: एप्लीकेशन प्रोसेस को ध्यान से पढ़ें

हर कोर्स में आवेदन की प्रक्रिया अलग होती है। जैसे कि अगर आप बैचलर कोर्स करना चाहते हैं तो उसमें आवेदन की प्रक्रिया अलग होगी और अगर आप मास्टर कोर्स करना चाहते हैं तो उसमें आवेदन की प्रक्रिया अलग होगी। इसके लिए आपको सम्बन्धित कॉलेज या यूनिवर्सिटी की आधिकारिक वेबसाइट पर जानकारी प्राप्त कर सकते है |

7: जरूरी दस्तावेज तैयार करके रखें

विदेश की किसी यूनिवर्सिटी में पढ़ाई करने जाने के लिए विभिन्न प्रकार की प्रक्रियाओं से गुजरना होता है इसके लिए आप को पहले से ही अपने सभी आवश्यक दस्तावेज को तैयार करके रखना चाहिए और साथ ही साथ आवेदन की अंतिम तारीख खत्म होने से पहले ही आपको एप्लीकेशन की प्रक्रिया को शुरू करना चाहिए।

और यूनिवर्सिटी के द्वारा जो भी अपडेट उनकी आधिकारिक वेबसाइट पर अथवा डायरेक्ट आपके फोन नंबर या फिर ईमेल आईडी पर प्रदान की जा रही है उन पर ध्यान देना चाहिए।

8: छात्रवृत्ति को भी इंपोर्टेंस दें

विदेश में लगभग जितने भी कॉलेज मौजूद है, उन सभी कॉलेज के द्वारा अलग-अलग पैकेज वाले छात्रवृत्ति अर्थात स्कॉलरशिप होनहार विद्यार्थियों को ऑफर की जाती है। स्कॉलरशिप की कीमत कोर्स और कॉलेज के हिसाब से अलग-अलग हो सकती है, जिसकी जानकारी उन सभी की ऑफिसियल वेबसाइट से प्राप्त की जा सकती है |

9: एडमिशन प्रक्रिया पूरी करें

कॉलेज में कोर्स हेतु आवेदन करने के पश्चात आपका काम खत्म नहीं हो जाता है, क्योंकि अभी भी कई काम बाकी होते हैं। जैसे कि विदेश की कई यूनिवर्सिटी होती है जो एंट्रेंस टेस्ट के आधार पर विद्यार्थियों को एडमिशन देने का प्रयास करती है।

वहीं कुछ कॉलेज ऐसे भी है जो आपका इंटरव्यू भी ले सकते हैं या फिर ग्रुप डिस्कशन में आप को आमंत्रित करते हैं। इसके पश्चात ही एप्लीकेशन अथवा एडमिशन प्रोसेस को कंप्लीट माना जा सकता है।

H-1B वीजा क्या है

विदेश में पढ़ने के लिए दुनिया के बेस्ट देश

नीचे उन प्रमुख देशों के नाम दिए गए हैं, जो विदेश के किसी यूनिवर्सिटी में जाकर पढ़ाई करने के लिए भारतीय विद्यार्थियों की पहली पसंद है।

  • यूनाइटेड किंग्डम 
  • यूनाइटेड स्टेट ऑफ अमेरिका
  • कनाडा
  • ऑस्ट्रेलिया
  • न्यूज़ीलैंड
  • जर्मनी
  • जापान 
  • रसिया 
  • फिनलैंड
  • स्वीडन 
  • स्पेन

विदेश में पढ़ाई हेतु योग्यता

विदेशी यूनिवर्सिटी में पढ़ाई करने के लिए डिप्लोमा और बैचलर डिग्री के लिए एक समान योग्यता होती है, वही मास्टर डिग्री के लिए अलग योग्यता होती है। नीचे डिप्लोमा और बैचलर के लिए तथा मास्टर डिग्री के लिए योग्यता की जानकारी दी गई है।

डिप्लोमा और बैचलर की योग्यता

जिन विद्यार्थियों ने 12वीं क्लास की एग्जाम को पास कर लिया है वह डिप्लोमा और बैचलर के लिए योग्यता रखते हैं।

इसके अलावा इंग्लिश के टेस्ट जैसे कि -IELTS, TOEFL इत्यादि को पास करना आवश्यक है और अच्छे स्कोर लाना जरूरी है।

  • SOP
  • LOR

मास्टर डिग्री की योग्यता

  • मास्टर डिग्री की पढ़ाई करने के लिए आपके पास बैचलर की डिग्री उपलब्ध होनी चाहिए।
  • कुछ यूनिवर्सिटी के द्वारा एक्सपीरियंस की भी डिमांड की जाती है।
  • इसके अलावा इंग्लिश के टेस्ट जैसे कि -IELTS, TOEFL इत्यादि को पास करना आवश्यक है ।
  • SOP
  • LOR

विदेश में पढ़ाई करने हेतु आवश्यक दस्तावेज

विदेश की यूनिवर्सिटी में एडमिशन ले कर पढ़ाई करने के लिए आपको विभिन्न प्रकार के दस्तावेज को पहले से ही इकट्ठा करके रखने का प्रयास करना चाहिए, ताकि आपका काम बिना अटके हुए पार हो सके। नीचे प्रमुख दस्तावेज की सूची दी गई है।

  • कोर्स की आवश्यकता के अनुसार आपके पास सीनियर सेकेंडरी सर्टिफिकेट, बैचलर अथवा मास्टर डिग्री ट्रांसक्रिप्ट और मार्कशीट उपलब्ध होनी चाहिए।
  • आपके पास इंग्लिश वेरिफिकेशन टेस्ट IELTS, TOEFL का सर्टिफिकेट होना चाहिए।
  • GRE, GMAT, SAT इत्यादि सर्टिफाइड एग्जाम का स्कोर कार्ड होना चाहिए।
  • एंट्रेंस निबंध
  • SOP
  • LOR

वैज्ञानिक (Scientist) कैसे बनें

विदेश में पढ़ने हेतु बेस्ट कोर्स

नीचे आपको विदेश में पढ़ने लायक बेस्ट डिप्लोमा, बैचलर और मास्टर डिग्री की जानकारी दी जा रही है।

डिप्लोमा           

  • Managment
  • Accounting
  • Hotel Managment
  • Kulinari Arts
  • Design Course
  • Engineering
  • Hospitility Managment

 बैचलर्स

  • Bachelors in Business and Management     
  • Bachelors in Computer Science and IT
  • Bachelors in Electrical Engineering
  • Bachelors in Civil Engineering and Construction
  • Bachelors in Medicine           
  • Bachelors in Architecture      
  • Bachelors in Design   

 मास्टर

  • Masters in Economics
  • Masters in International Business
  • Masters in Psychology
  • Masters in Management & Leadership
  • Masters in Computer Science
  • Masters in Business Administration (MBAs)
  • Masters in International Relations

विदेश में पढ़ने हेतु बेस्ट यूनिवर्सिटी

साल 2023 में जारी हुई एक रैंकिंग के अनुसार दुनिया की टॉप यूनिवर्सिटी की लिस्ट में नीचे दी गई यूनिवर्सिटी के नाम आते हैं। इस प्रकार से विदेश में जाकर पढ़ाई करने के लिए विद्यार्थी नीचे दी गई यूनिवर्सिटी में एडमिशन पाने के बारे में विचार कर सकते हैं।

  • मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, यूनाइटेड स्टेट ऑफ अमेरिका |
  • ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी, यूनाइटेड किंग्डम |
  • स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी, अमेरिका |
  • कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी यूनाइटेड किंगडम |
  • हार्वर्ड यूनिवर्सिटी, अमेरिका |
  • कैलिफोर्निया टेक्नोलॉजी इंस्टीट्यूट, अमेरिका |
  • इंपीरियल कॉलेज लंदन, यूनाइटेड किंगडम |
  • ETH ज्यूरिख- स्विस फेडरल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी |
  • यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन, यूके |
  • शिकागो विश्वविद्यालय, अमेरिका |

CUET Exam kya hai

विदेश में पढ़ाई की लागत

विदेश में मौजूद अधिकांश यूनिवर्सिटी में पढ़ाई की लागत अलग-अलग हो सकती है क्योंकि हर यूनिवर्सिटी के द्वारा विद्यार्थियों से अलग-अलग फीस मासिक तौर पर अथवा सालाना तौर पर वसूल की जाती है।

1: अमेरिका

अमेरिका की यूनिवर्सिटी में अंडरग्रैजुएट कोर्स के लिए सालाना ट्यूशन फीस ₹21,75000 होती है, वही पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स के लिए सालाना फीस ₹13,87000 होती है और अमेरिका में 1 साल का रहने का खर्चा तकरीबन 8 से 10 लाख के आसपास में होता है।

2: यूनाइटेड किंगडम

यूनाइटेड किंगडम की यूनिवर्सिटी में पढ़ाई करने पर आपको अंडर ग्रैजुएट कोर्स की ट्यूशन फीस 1 साल के तौर पर 12 से लेकर 42 लाख के आसपास में भरने पड़ सकती है, वही पोस्ट ग्रैजुएट कोर्स की सालाना ट्यूशन फीस 14 से लेकर के 35 लाख के आसपास में हो सकती है। इसके अलावा रहने का खर्चा 13 लाख से लेकर 16 लाख के बीच में हो सकता है।

3: कनाडा

अंडर ग्रैजुएट कोर्स की कनाडा की यूनिवर्सिटी में सालाना ट्यूशन फीस 1600000 रुपए और पोस्ट ग्रैजुएट कोर्स की सालाना ट्यूशन फीस 9 से लेकर ₹1000000 के आसपास में होती है तथा रहने का खर्चा 900000 के आसपास में होता है।

4: ऑस्ट्रेलिया

ऑस्ट्रेलिया के किसी कॉलेज में अंडरग्रैजुएट कोर्स की सालाना ट्यूशन फीस ₹600000, पोस्टग्रेजुएट की 11 से लेकर 2100000 रुपए होती है और रहने का खर्चा 1 साल का तकरीबन 10 से लेकर 11 लाख रुपए का आसपास में आता है।

5: जर्मनी          

जर्मनी देश में अंडर ग्रैजुएट कोर्स की सालाना ट्यूशन फीस 22.62 लाख और पोस्टग्रेजुएट कोर्स की 36.54 लाख रुपए के आसपास में होती है तथा रहने का खर्च 1 साल का 9 लाख के आसपास में आता है।

विदेश में पढ़ाई हेतु आवेदन कैसे करें?

विदेश में पढ़ाई करने के लिए आवेदन की प्रक्रिया निम्नानुसार है।

  • विदेश में पढ़ाई हेतु आवेदन करने के लिए सबसे पहले आपको अपने सभी आवश्यक दस्तावेज इकट्ठा कर लेने हैं।
  • अब आप जिस कॉलेज में एडमिशन लेना चाहते हैं, उस कॉलेज की आधिकारिक वेबसाइट को इंटरनेट पर ओपन करना है।
  • वेबसाइट ओपन होने के बाद आपको कोर्स वाले सेक्शन में जाकर अपने पसंदीदा कोर्स पर क्लिक करना है।
  • अब आपको कोर्स के नीचे जो Apply ऑप्शन पर क्लिक कर देना है।
  • अब एक एप्लीकेशन फॉर्म आपकी स्क्रीन पर ओपन होकर आता है, जिसमें कुछ महत्वपूर्ण जानकारियों को दर्ज करने के लिए कहा जा रहा है, आपको उन सभी जानकारियों को उनकी निर्धारित जगह में बिल्कुल सही सही दर्ज करना है।
  • सभी जानकारियों को दर्ज करने के बाद आपको अपलोड डॉक्यूमेंट वाले ऑप्शन पर क्लिक करना है और उसके पश्चात जिन दस्तावेज की डिमांड की जा रही है उन्हें अपलोड कर देना है। दस्तावेज की सूची आपको आर्टिकल में पहले ही प्रदान कर दी गई है।
  • दस्तावेज अपलोड करने के बाद आपको फाइनल तौर पर अपने आवेदन को सबमिट कर देना है।
  • इसके पश्चात एक्सपर्ट निवास, स्टूडेंट विजा और स्कॉलरशिप के लिए आवेदन की प्रोसेस को शुरू करेंगे।
  • अब आपको लगभग 4 से 6 सप्ताह या फिर उससे थोड़े अधिक समय तक इंतजार करना है, क्योंकि आपके एप्लीकेशन प्रोसेस पर कार्रवाई चल रही होती है।
  • अगर आप विश्व विद्यालय के मापदंड और योग्यता के अनुरूप खरे उतरते है हैं, आपको ऑफर लेटर प्रदान किया जाता है जिसे स्वीकार करने के बाद आपको सेमेस्टर फीस की पेमेंट ऑनलाइन करनी होती है।

इस प्रकार से विदेश में पढ़ाई करने हेतु आप आवेदन कर सकते हैं।

मैकेनिकल इंजीनियर (Mechanical Engineer) कैसे बनें

विदेश में पढ़ाई करने हेतु स्कॉलरशिप

नीचे हम आपको कनाडा, यूके, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड जैसे देशों में कॉलेज के द्वारा दी जाने वाली छात्रवृत्ति की सूची दे रहे हैं।

1: कैनेडियन स्कॉलरशिप

  • Humber College International Entrance Scholarships
  • Winnipeg President’s Scholarship for World Leaders
  • York University International Student Scholarships
  • Lester B. Pearson International Scholarship Program at the University of Toronto
  • University of Calgary International Entrance Scholarship
  • Carleton Prestige Scholarships
  • University of British Columbia Scholarships for International Students

2: यूनाइटेड किंगडम स्कॉलरशिप

  • British Chevening Scholarships for International Scholarships
  • A.S Hornby Educational Trust Scholarship
  • Felix Scholarships
  • Rhodes Scholarship
  • Commonwealth Scholarship and Fellowship Plan
  • Erasmus Mundus Joint Masters Degree Scholarship
  • GREAT Scholarships
  • Charles Wallace India Trust Scholarships (CWIT)
  • Dr. Manmohan Singh Scholarships
  • Inlaks Scholarships 
  • Scotland Saltire Scholarships
  • Goa Education Trust Scholarships
  • Queen Mary University Scholarships
  • University of Westminster Scholarships

3: अमेरिकन स्कॉलरशिप

  • The Hubert H. Humphrey Fellowship Programme
  • The Indian Trust Fellowship
  • American University Emerging Global Leader Scholarship
  • Inlaks Shivdasani Foundation Scholarship
  • Fulbright-Nehru Research Scholarship
  • Stanford Reliance Dhirubhai Fellowships for Indian Students
  • Tata Scholarships for Cornell University
  • AAUW International Fellowships
  • Rotary Foundation Ambassadorial Scholarship
  • Akhtarali H. Tobaccowala Fellowship

4: ऑस्ट्रेलियन स्कॉलरशिप

  • Australia Award Scholarships 
  • ACU Destination Australia International Scholarship
  • Australia Research Training Program (RTP) Scholarship 
  • Sydney Scholars India Equity Scholarship
  • University of Sydney International Research Scholarship (USydIS)
  • Sydney Scholars India Scholarship Program
  • NU Chancellor’s International Scholarship 
  • Law International Excellence Scholarship
  • Master of Architecture Scholarship
  • Transformer Scholarship

5: न्यूजीलैंड स्कॉलरशिप

  • The Eamon Molloy Memorial Scholarship
  • University of Waikato Excellence Scholarship for Asia
  • New Zealand International Undergraduate Fees Scholarship
  • New Zealand Commonwealth Scholarships
  • New Zealand International Doctoral Research Scholarships (NZIDRS)
  • Research Alliance Doctoral Scholarship
  • SEG Scholarship
  • BayerBoost Environmental Scholarship Scheme
  • The University of Canterbury’s College of Engineering Scholarship
  • Victoria Master’s Scholarship
  • Lincoln University Academic Scholarships
  • A C Rayner Memorial Scholarship

बीएचएमएस (BHMS) कोर्स क्या है ?

विदेश में पढ़ाई करने हेतु वीजा

विदेशी कॉलेज में पढ़ाई करने जाने के लिए आपको वीजा की आवश्यकता होती है जिसकी जानकारी निम्नानुसार है।

1: जर्मनी

जर्मनी में जाने के लिए आपको रेजिडेंटल परमिट की आवश्यकता होती है जिसकी कीमत भारतीय रुपए में ₹9570 होती है।

2: ऑस्ट्रेलिया   

ऑस्ट्रेलिया में पढ़ाई के लिए जाने हेतु आपको स्टूडेंट वीजा की आवश्यकता होती है। इसकी कीमत भारतीय रुपए में ₹31000 होती है।

3: अमेरिका      

अमेरिका में जाने के लिए आपको F-1 और J-1 जैसे वीजा की आवश्यकता होती है। इसमें F1 विजा की कीमत भारतीय रुपए में 26250 होती है और J1 विजा की कीमत भारतीय रुपए में ₹13500 होती है।

4: यूनाइटेड किंगडम      

यूनाइटेड किंगडम में जाने के लिए आपको टियर 4 वीजा की आवश्यकता होती है जिसकी कीमत भारतीय रुपए में ₹34800 होती है।

5: कनाडा          

कनाडा में जाने के लिए आपको कैनेडियन स्टडी परमिट वीजा की आवश्यकता होती है। इसकी कीमत इंडियन रुपए में ₹9600 होती है।

विदेश में पढ़ाई के फायदे

विदेश में पढ़ाई करने से आपको कई फायदे प्राप्त होते हैं। एक तो जब आप विदेश में पढ़ाई करने के लिए जाते हैं तब आपको वहां पर फ्री कल्चर मिलता है।

  • अर्थात आपको वहां पर कोई रोकने टोकने वाला नहीं होता है। इसलिए आप अपनी इच्छा के अनुसार जो चाहे वह कर सकते हैं। हालांकि आपको अवैध कामों से बचना चाहिए।
  • इसके अलावा आपको विदेश की संस्कृति को करीब से जानने का मौका मिलता है और विदेश की भाषा सीखने का भी मौका मिलता है, साथ ही आपको विदेशी लोगों से बातचीत करने का और उनके साथ घूमने मिलने का मौका मिलता है। विदेश में पढ़ाई करने के पश्चात आप चाहे तो विदेश में सेटल भी हो सकते हैं।
  • इसके अलावा विदेश में पढ़ाई करने के दरमियान ही आप चाहे तो किसी प्राइवेट पार्ट टाइम जॉब को भी ज्वाइन कर सकते हैं और अपने पढ़ाई के खर्चे को निकाल सकते हैं। इसके अलावा जब आप भारत में वापस आते हैं तो आप की विदेशी डिग्री की अहमियत भारतीय कल्चर में ज्यादा होती है।
  • विदेश की ऐसी कई यूनिवर्सिटी है जो अच्छे कोर्स के साथ स्कॉलरशिप भी ऑफर करती है। ऐसे में अगर आप पढ़ने में होशियार है तो आप छात्रवृत्ति के द्वारा अपने पढ़ाई के आर्थिक बोझ को कम भी कर सकते हैं। इसके साथ ही साथ आपको पढ़ाई करने के दरमियान विदेश घूमने का मौका भी मिल जाता है।

भारत के पड़ोसी देशों के नाम व राजधानी 

विदेश में पढ़ाई के नुकसान

विदेश में पढ़ाई का सबसे बड़ा नुकसान यह है कि आपको भारतीय यूनिवर्सिटी में पढ़ाई की तुलना में विदेशों की यूनिवर्सिटी में अधिक फीस भरनी पड़ती है।

जिसे भर पाना हर किसी व्यक्ति के बस की बात नहीं होती है, क्योंकि भारत में अधिकतर मध्यमवर्गीय परिवार रहते हैं जो अपने बच्चों को उच्च शिक्षा दिलाने का उद्देश्य रखते है, परंतु इसके बावजूद स्कूल की महंगी फीस अथवा कॉलेज की महंगी फीस उनके बजट से बाहर होती है।

इसके अलावा विदेश में पढ़ाई करने जाने पर आपको निश्चित सालों के लिए अपने घर परिवार से दूर रहना पड़ता है। ऐसे में आपको अपने घर परिवार की कमी महसूस हो सकती है और अगर आप अपने घर से दूर रहने के आदी नहीं है तो आपको अकेलापन लग सकता है। 

विदेशों में किसी भी प्रकार की अनहोनी होने की अवस्था में आप तक आपके परिजन जल्दी से नहीं पहुंच पाते हैं, क्योंकि उन्हें विभिन्न प्रकार की कानूनी कार्यवाही और विजा इत्यादि की प्रोसेस को पूरा करना होता है।

विदेश में पढ़ाई करने जाने पर आपको वहां की लोकल लैंग्वेज की भी जानकारी इकट्ठा करनी होती है, बिना लोकल लैंग्वेज जाने हुए आप वहां के स्थानीय निवासियों के साथ एडजस्ट करने में समस्याओं का सामना करते हैं। 

इसके अलावा विदेशों में अधिकतर लोग नॉनवेजिटेरियन खाना खाते हैं, ऐसे में अगर आप शाकाहारी हैं तो आपको शाकाहारी खाना ढूंढने में थोड़ी समस्या हो सकती है।

FAQ: 

मुझे विदेश में पढ़ाई करने के लिए स्कॉलरशिप कैसे मिल सकती है?

अगर आप पढ़ाई में तेज है तो आप विभिन्न स्कॉलरशिप प्राप्त करने के हकदार होते हैं। इसके लिए आपको संबंधित स्कॉलरशिप की आधिकारिक वेबसाइट पर जाकर आवेदन करना होता है।

मैं 12वीं के बाद विदेश में पढ़ाई करने के लिए क्या कर सकता हूं ?

आप विदेश जाकर बैचलर डिग्री की पढ़ाई कर सकते हैं। इससे संबंधित जो कार्रवाई होती है, वह आर्टिकल में शेयर की गई है।

विदेश में पढ़ाई के लिए हमें कौन सी परीक्षा देनी होगी?

ANS: SAT, MCAT, LSAT, GMAT, GRE, IELTS और TOEFL

विदेश जाने के लिए कौन सा कोर्स करें ?

मकैनिकल इंनीजनियरिंग, कंप्‍यूटर साइंस, सिविल इंजीनियरिंग, बीमा विज्ञान, बायोमेडिकल इंजीनियरिंग

BA LLB Course क्या है ?

Leave a Comment