पार्षद क्या है?

पार्षद से सम्बंधित जानकारी (Information About Councilor) 

भारत के 74 वें संविधान संशोधन के अंतर्गत पंचायती राज व्यवस्था के माध्यम से पार्षद (Councillor OR Ward Councillor) का पद मुख्य रूप से स्थानीय शहरी शासन (Urban Local Bodies) के अंतर्गत आता है | इसका चुनाव जनता द्वारा किया जाता है | इसके अंतर्गत नगर निगम, नगर पालिका, नगर पंचायत की व्यवस्था का आयोजन किया गया है | पार्षद  का चुनाव  मुख्य रूप से उस क्षेत्र की जनता प्रत्यक्ष मतदान द्वारा करती है | एक पार्षद का मुख्य कार्य  जनता की समस्याओं को परिषद् में विचार- विमर्श के लिए प्रस्तुत करना है | पार्षद क्या है, पार्षद का चुनाव, वेतन और योग्यता की पूरी जानकारी आपको इस पेज पर दे रहे है|

ये भी पढ़े: भारतीय संविधान क्या है?

पार्षद क्या होता है (What Is A Councilor)

प्रत्येक शहर को छोटे- छोटे नगर (मोहल्ले) में विभाजित किया गया है, और नगर (मोहल्ले) को वार्ड में विभाजित किया जाता है | प्रत्येक वार्ड के प्रतिनिधि को ही पार्षद कहते है | पार्षद का चयन सीधे उस वार्ड की जनता द्वारा किया जाता है | पार्षद का मुख्य कार्य उस वार्ड से सम्बंधित समस्याओं को नगर पालिका या नगर परिषद् में पेश करना व इसके बाद परिषद् द्वारा बजट पास करके उस समस्या का हल निकाला जाता है |

ये भी पढ़े: सूचना का अधिकार अधिनियम (RTI)

पार्षद का चुनाव कैसे होता है (Election Of Councilor)

पार्षद का चुनाव प्रत्येक पांच वर्षों के अंतराल में कराया जाता है | प्रत्येक पांच वर्षों के अंतराल में निर्वाचन आयोग राज्य सरकार की सहायता से नगर निकाय चुनाव का आयोजन करती है | इस चुनाव में शामिल होने वाले व्यक्ति को जनता के द्वारा चुना जाता है | उस नगर की सारी जनता एकजुट होकर अपने इलाके के लिए सही व्यक्ति का चुनाव करती है |

पार्षद का वेतन (Salary Of Councillor) 

सभी राज्यों में पार्षदों का वेतन अलग – अलग होता है | सभी पार्षदों को प्रत्येक माह लगभग 10 हजार रुपये मानदेय और एक हजार रुपये प्रति बैठक भत्ता दिया जाता है |

ये भी पढ़े: केंद्र शासित प्रदेश का मतलब क्या होता है?

पार्षद बनने के लिए योग्यता (Eligibility) 

  • पार्षद का चुनाव लड़ने के लिए उम्मीदवार की न्यूनतमआयु  21 वर्ष  होना आवश्यक है |
  • इस चुनाव में भाग लेने वाले व्यक्ति को दसवीं पास होना आवश्यक है  | राज्यों के मुताबिक, यह योग्यता  अलग-अलग निर्धारित की गई है
  • इसके अलावा जिस व्यक्ति के दो से अधिक संतान होंगे तो वह व्यक्ति पार्षद के चुनाव में शामिल नहीं हो सकता है |
  • नामांकन के समय चुनाव लड़ रहें उम्मीदवार के साथ दो समर्थक व दो प्रस्तावक संबंधित वार्ड का होना अनिवार्य माना  गया है |
  • इसचुनाव में शामिल होने वाले उम्मीदवार को स्वघोषणा पत्र में संपत्ति का विवरण देना अनवार्य होता है |

ये भी पढ़े: लोकसभा (Lok Sabha) और राज्यसभा (Rajya Sabha) में अंतर क्या है?

पार्षद के कार्य और उसके अधिकार (Councilor’s Work And Rights)

प्रत्येक पार्षद को सरकार द्वारा अपने-अपने वार्डों में  विकास कार्य  करने हेतु पांच-पांच लाख रूपये प्रदान किये  जाते है | इसके साथ ही पार्षद को ही प्रत्येक वार्ड में बीस-बीस सोडियम और ट्यूब लाइट लगाने का प्रस्ताव दिया जाता है | इसके बाद पार्षद अपने मुताबिक़, सोडियम और ट्यूब लाइट लगवाने का स्थान निर्धारित करता है |

यहाँ पर आपको पार्षद के विषय में जानकारी दी गयी है | इस प्रकार की अन्य जानकारी के लिए आप https://hindiraj.com पर विजिट कर सकते है | अगर आप दी गयी जानकारी के विषय में अपने विचार या सुझाव अथवा प्रश्न पूछना चाहते है, तो कमेंट बॉक्स के माध्यम से संपर्क कर सकते है |

ये भी पढ़े: ग्राम विकास अधिकारी (VDO) कैसे बने?