क्रिसमस क्यों मनाया जाता है



ईसाई अर्थात क्रिश्चियन (Christian) मजहब को मानने वाले हर व्यक्ति के लिए 25 दिसंबर का दिन बहुत ही महत्वपूर्ण होता है, क्योंकि इसी दिन क्रिसमस का त्यौहार दुनिया भर में धूमधाम के साथ सेलिब्रेट किया जाता है। 25 दिसंबर को क्रिसमस डे के तौर पर भी मान्यता दी गई है। हालांकि त्यौहार का शुभारंभ 24 दिसंबर को ही शुरू हो जाता है।



इस दिन लोग शाम को चर्च में जाते हैं और ईसा मसीह से प्रार्थना करते हैं। ईसाई मजहब के लोग 25 दिसंबर को ईसा मसीह के जन्मदिन के तौर पर मनाते हैं। देश और दुनिया में 25 दिसंबर के दिन चर्च में काफी भीड़ लगती है। हालांकि आखिर क्रिसमस का त्यौहार क्यों मनाया जाता है इसके बारे में कम ही लोगों को पता है। इसलिए इस पेज पर हम जानेंगे कि Christmas Kyu Manaya Jata Hai In Hindi  और “क्रिसमस का महत्व क्या है।”

दुनिया में कितने धर्म है

क्रिसमस क्यों मनाया जाता है ?

Christmas Kyu Manaya Jata Hai : क्रिसमस का त्यौहार कई शताब्दी से किया जा रहा है। जानकारी के अनुसार पहली बार क्रिसमस त्यौहार का आयोजन रोम में किया गया था। हालांकि उस समय लोग 25 दिसंबर के दिन क्रिसमस की जगह पर रोम देश में सूर्य देव के जन्म दिवस के तौर पर इस दिन को सेलिब्रेट करते थे। क्योंकि उस समय रोम के जो राजा थे वह सूर्य देव को अपना प्रमुख देवता तन मन धन से मानते थे और इसलिए रोम की जनता तथा रोम के राजा सूर्य देव की आराधना करते थे।



परंतु जैसे-जैसे 330 ईसा आता गया वैसे वैसे ही काफी बड़ी मात्रा में क्रिश्चन अर्थात ईसाई मजहब का तेज गति के साथ प्रचार होने लगा और देखते-देखते बड़ी मात्रा में रोम देश में रहने वाले अधिकतर लोगों के द्वारा ईसाई मजहब को अंगीकार कर लिया गया।

इसके पश्चात सूर्य देव का अवतार ईसा मसीह को 336 ईसा. में ईसाई मजहब के मानने वाले लोगों के द्वारा माना गया और इस प्रकार से 25 दिसंबर का दिन ईसा मसीह के जन्मदिन के तौर पर मनाया जाने लगा।

और तब से लेकर के हर साल 25 दिसंबर को क्रिसमस का त्यौहार धूमधाम के साथ दुनिया भर के अलग-अलग देशों में मनाया जाता है। यहां तक कि जो देश गैर ईसाई देश है वहां पर भी बड़े पैमाने पर इस त्यौहार का सेलिब्रेशन होता है।

ईसाई मजहब के अनुसार इस त्यौहार को बुराई पर अच्छाई की जीत के प्रतीक के तौर पर मनाया जाता है। क्रिश्चियन अर्थात ईसाई मजहब को मानने वाले लोगों के लिए 25 दिसंबर का दिन नया साल होता है। साल 2022 में भी क्रिसमस डे 25 दिसंबर को सेलिब्रेट किया जाएगा।

क्रिसमस का महत्व

Importance of Christmas in Hindi: जब क्रिसमस का त्योहार मनाए जाने की शुरुआत हुई थी, तब इसे सिर्फ पश्चिमी देशों और ऐसे देशों में ही मनाया जाता था जो ईसाई मजहब बहुल देश था।

हालांकि जिस प्रकार से समय गुजरता गया वैसे वैसे दूसरे देशों में भी क्रिसमस का त्यौहार मनाया जाना शुरू कर दिया था और आज हाल यह है कि दुनिया भर के विभिन्न देशों में क्रिसमस का त्यौहार धूमधाम के साथ मनाया जाता है। यहां तक कि हमारे भारत देश में भी हर साल 25 दिसंबर के दिन चर्च में लोगों की भारी भीड़ लगती है।

क्रिसमस के त्यौहार को लेकर के लोगों की यह सोच है कि लोगों को उनके पाप के भार से मुक्त करने के लिए और पाप करने से रोकने के लिए परमेश्वर के द्वारा अपने बेटे को भेजा गया है जिनका नाम ईशा मशीह है जिन्होंने लोगों को पाप से मुक्त करने के लिए हुए संघर्ष में अपने प्राण को त्याग दिए थे।

कुम्भ मेला (Kumbh Mela) क्यों लगता है

क्रिसमस कैसे मनाया जाता है ?

How Christmas is Celebrated in Hindi: ईसा मसीह के जन्म दिवस के तहत 25 दिसंबर को क्रिसमस का त्यौहार मनाया जाता है। जो ईसाई बहुल देश है वहां पर इस दिन बड़े-बड़े जुलूस का आयोजन भी किया जाता है, जिसमें लाखों की भीड़ होती है।

जुलूस में ईसा मसीह की झांकियां निकाली जाती हैं। इसके अलावा इस दिन एक-दूसरे को उपहार भी दिए जाते हैं साथ ही मिठाइयों का वितरण भी किया जाता है।

क्रिसमस के मौके पर लोगों के द्वारा अपनी इच्छा के अनुसार अपने दफ्तर या फिर अपने घर में क्रिसमस ट्री सजाने का काम किया जाता है, जिसमें कलरफुल बोल, स्टार और गिफ्ट लगाए गए होते हैं साथ ही लाइटिंग की व्यवस्था भी क्रिसमस ट्री में की जाती है।

क्रिसमस के मौके पर मिस्टलेटो नाम की एक औषधीय गुणों से भरपूर जड़ी-बूटी को भी लोगों के द्वारा अपने घर में या फिर ऑफिस में लटकाया जाता है।

 और लोग इसके नीचे खड़े होकर के शांति बांटने का संकल्प लेते हैं। क्रिसमस के मौके पर सांता क्लॉज लाल रंग के कपड़े पहन कर आते हैं और छोटे-छोटे बच्चों को अलग-अलग प्रकार के उपहार देते हैं।

गर्मी में क्रिसमस कहां मनाया जाता है?

दुनिया के नक्शे पर एक ऐसा भी देश है जहां पर गर्मी के मौसम में क्रिसमस का त्यौहार मनाया जाता है। हालांकि आप यह सोच रहे होंगे कि यह त्यौहार शायद मई जून में मनाया जाता होगा तो ऐसा नहीं है।

उस देश में भी क्रिसमस का त्यौहार 25 दिसंबर को ही मनाया जाता है परंतु इस समय उस देश में ठंडी की जगह पर भीषण गर्मी का मौसम होता है, उस देश का नाम ऑस्ट्रेलिया है जो कि उत्तरी गोलार्ध में मौजूद है।

जब दुनिया के अन्य देशों में तगड़ी ठंडी होती है तो उसी समय यहां पर तगड़ी गर्मी पड़ती रहती है। इसलिए यहां पर लोग क्रिसमस का त्यौहार मनाने के लिए समुद्र के किनारे जाते हैं।

ऑस्ट्रेलिया में 25 दिसंबर के दिन ही लोग समुद्र के किनारे पर जाते हैं और वहीं पर क्रिसमस का त्यौहार मनाया जाता है। इस दिन ऑस्ट्रेलिया के दुकान, एयरपोर्ट और मुख्य बाजार को क्रिसमस ट्री और सांता क्लॉज के स्टेचू के द्वारा सजा दिया जाता है।

क्रिसमस के दिन किसका जन्म हुआ था ?

बाइबल और ईसाई मजहब के धर्म ग्रंथों के अनुसार क्रिसमस के मौके पर ईसाई समुदाय के प्रमुख देवता ईसा मसीह का जन्म हुआ था, जिन्हें अंग्रेजी में जीसस क्राइस्ट भी कहा जाता है।

बाइबिल में इस बात का साफ उल्लेख है कि ईश्वर की संतान के तौर पर ईसा मसीह को ही मान्यता दी गई है, जिन्हें इस धरती पर लोगों के बीच सद्भावना का संदेश देने के लिए भेजा गया था।

हालांकि बता दे कि ईसा मसीह की जन्म तारीख को लेकर के कोई सटीक स्त्रोत मौजूद नहीं है। यहां तक कि ईसाई समुदाय के प्रमुख ग्रंथ बाइबिल में भी उनकी जन्म तिथि के बारे में कुछ खास जिक्र नहीं है।

साल के महत्वपूर्ण दिवस हिंदी में

मैरी क्रिसमस का क्या मतलब है ?

Meaning of Merry Christmas: इसमें मेरी का मतलब खुशी होता है। इस शब्द का निर्माण जर्मनिक और ओल्ड इंग्लिश से किया गया है। आसान भाषा में समझाया जाए तो मैरी का मतलब और हैप्पी का मतलब दोनों एक ही होता है। हालांकि क्रिसमस के त्योहार के मौके पर हैप्पी क्रिसमस की जगह पर मेरी शब्द का इस्तेमाल ज्यादा होता है।

इस शब्द को प्रचलन में लाने का श्रेय मशहूर साहित्यकार चार्ल्स डिकेंस को जाता है। इनके द्वारा अपनी किताब ‘अ क्रिसमस कैरोल’ में इस शब्द का बड़े पैमाने पर इस्तेमाल किया और इसलिए आज क्रिसमस के मौके पर हैप्पी क्रिसमस से ज्यादा मैरी क्रिसमस कहा जाता है।

क्रिसमस कब मनाया जाता है ?

When Christmas is Celebrated in Hindi: दुनिया भर के अधिकतर क्रिस्चियन बहुल देशों में हर साल 25 दिसंबर के दिन ही क्रिसमस का त्यौहार मनाया जाता है, क्योंकि क्रिसमस का त्यौहार मनाने के लिए इसी दिन को तय किया गया है, जिसके पीछे ऐतिहासिक बात मौजूद है। क्रिसमस का त्यौहार भले ही 25 दिसंबर के दिन मनाया जाता है परंतु इस त्यौहार की धूम 24 दिसंबर की शाम से ही चालू हो जाती है। 24 दिसंबर की शाम को चर्च में बड़े पैमाने पर लोग इकट्ठा होते हैं और ईसा मसीह से प्रार्थना करते हैं।

FAQ:

क्रिसमस कहां मनाया जाता है ?

दुनिया के हर बड़े ईसाई देश में क्रिसमस का त्यौहार तो मनाया ही जाता है। इसके अलावा जहां जहां पर ईसाई समुदाय के लोग होते हैं वहां वहां पर भी इसका त्यौहार सेलिब्रेट होता है।

क्रिसमस ट्री का पौधा कैसा होता है ?

क्रिसमस ट्री का पौधा हरे रंग का होता है जिस पर रंगीन झालर, बोल और लाइट लगी हुई होती है। यह आर्टिफिशियल पौधा होता है।

25 दिसंबर को क्या मनाया जाता है ?

क्रिसमस का त्यौहार

वैलेंटाइन डे क्या होता है

Leave a Comment