आई फ्लू के लक्षण और उपचार



Eye Flu in Hindi: जैसे की हम सभी को पता है की इस साल काफी खतरनाक बाढ़ और बारिश हुई है। इस वजह से कई राज्य तहस-नहस हो चुके हैं और बाढ़ की स्थिति के कारण कई बीमारियां भी उत्पन्न हो रही है। इन बीमारियों में से Eye Flu सबसे अधिक चर्चा में है। क्योंकि इस समय यह देश के हर राज्य के नागरिकों को अपनी चपेट में ले रहा है। देश के लोगों के लिए आई फ्लू काफी बड़ी समस्या बन गई है।

img-1


यदि अभी इस बीमारी से बचने का कोई उपाए नहीं निकला गया तो आने वाले समय में यह लोगो के लिए काफी समस्या उत्पन्न कर सकती है। तो आज के इस लेख के तहत हम आपको Eye Flu Kya Hai से जुड़ी सभी जानकारी देने वाले है की किस तरह से इसकी शुरुआत होती है, इससे कैसे बचा जा सकता है आदि। तो चलिए आगे बढ़ते है और आई फ्लू से जुड़ी सभी जानकारी प्राप्त करते है।

डॉक्टर कितने प्रकार के होते हैं

आई फ्लू क्या है?- What is Eye Flu in Hindi

यदि बात करें की आई फ्लू क्या है तो यह एक प्रकार का आँखों का संक्रमण है। जिसको पिंक आई और कंजंक्टिवाइटिस भी कहा जाता है। इस इन्फेक्शन में आखें में लालिमा, दर्द और सूजन जैसी परेशानियां होती हैं। Eye Flu ऐसा संक्रमण है जो एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति को होता है। सीतापुर आंख अस्पताल के नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉक्टर नरेंद्र सिंह जी द्वारा बताया गया है कि आई फ्लू के ज्यादातर मामले एडेनोवायरस के संक्रमण की वजह से होते हैं। जो संक्रमित व्यक्ति से सीधे संपर्क में आने की वजह से दूसरे व्यक्ति को होने का खतरा होता है।  



Eye Flu के लक्षण

Eye Flu Symptoms: आई फ़्लू से संक्रमित व्यक्ति का अंदाजा हम निम्नलिखित लक्षणों के आधार पर लगा सकते हैं। यदि व्यक्ति में यह लक्षण पाए जा रहे हैं। तो हो सकता है कि उसे आई फ़्लू हो गया हो:-

  • आंखों में दर्द होना। 
  • आंखों में सूजन होना। 
  • आंखों का लाल होना। 
  • आंखों में कीचड़ ज्यादा आना। 
  • आंख से पानी और खुजली होना। 
  • सुबह होने पर आंखों का चिपकना।

आई फ्लू के कारण

आई फ्लू ऐसी बीमारी है जोकि बारिश के मौसम में ज्यादा होता है। इस साल काफी ज्यादा बारिश हुई है और केवल बारिश ही नहीं बल्कि बाढ़ भी काफी ज्यादा आयी है और इस कारण से आई फ्लू लगातार बढ़ता ही जा रहा है। यदि किसी व्यक्ति को पहले से आई फ्लू है तो इससे भी आपको आई फ्लू होने का खतरा रहता है। इस बचने के लिए आपको आई फ्लू से संक्रमित व्यक्ति से सीधे संपर्क में आने से बचना चाहिए और आंखों को बार-बार छूने से बचना चाहिए।

डॉक्टर (Doctor) कैसे बने

Eye Flu का इलाज

यदि किसी को आई फ्लू होता है तो उसे तुरंत इलाज करना चाहिए। आई फ्लू के लिए आपको आई फ़्लू इलाज के लिए आपको ओवर द अकाउंट दवाओं का सेवन नहीं करना चाहिए। इसके लक्षण दिखने पर आपको तुरंत डॉक्टर के पास जाना चाहिए और डॉक्टर आपके लक्षणों के आधार पर आपको दवाई देते है। आप उस तरीके से ही दवाइयों का सेवन करें।

वैसे आमतौर पर संक्रमण रोकने हेतु डॉक्टर एंटीबायोटिक दवाओं और ड्रॉप्स का इस्तेमाल करने की सलाह देते हैं। हॉट और कोल्ड कंप्रेस से भी इस समस्या में आराम मिलता है। इसके अलावा बाहर निकलते समय काला चश्मा लगाने की सलाह दी जाती है।

आई फ्लू से कैसे बचें

Eye Flu Se Bachne Ke Upay: तो जैसे की हमने आपको बताया आई फ़्लू जैसे संक्रमण बारिश के मौसम में काफी ज्यादा बढ़ जाते हैं। तो इससे बचाव के लिए हमें साफ सफाई का ध्यान रखना चाहिए और साथ ही नियमित रूप से हाथ को साबुन से धोना चाहिए। क्यूंकि हाथो से भी संक्रमण का शिकार होने का खतरा होता है।

ज्यादातर लोगों में यह संक्रमण हाथों के कारण ही होता है। जब गंदे हाथ एक दूसरे से मिलाए जाते हैं उसके पश्चात उन्ही हाथो को आखो से लगा लिया जाता है। इसके साथ ही अपने कपड़े, तौलिया, मेकअप जैसी सामान किसी ओर के साथ शेयर न करें।

यदि आप किसी सार्वजानिक जगहों पर जाते हैं तो संक्रमण से बचने के लिए दरवाजों के हैंडल, या किसी भी सतह को छूने से बचें। इसके साथ अगर आप इन चीजों को छूते हैं तो हाथों को साबुन से साफ ज़रूर करें। नियमित रूप से हाथ धोने के साथ साथ आई फ्लू से बचने के लिए आंखों पर काला चश्मा या सनग्लास भी ज़रूर लगाए।

डॉक्टर का रजिस्ट्रेशन नम्बर कैसे चेक करे

Eye Flu से जुड़े प्रश्न

आई फ्लू क्यों होता है?

जैसे की हमने आपको बताया की मानसून में कम टेम्प्रेचर और हाई ह्यूमिडिटी की वजह से लोग बैक्टीरिया, वायरस और एलर्जी के कॉन्टेक्ट में आते हैं। यही एलर्जिक रिएक्शन्स और आई इन्फेक्शन जैसे कंजंक्टिवाइटिस का कारण बनते हैं।

क्या आई फ्लू का इन्फेक्शन सिर्फ बैक्टीरिया और वायरस से ही होता है?

नहीं,आई फ्लू कई तरह का है। जो कई अलग-अलग कारणों से आंखों को नुकसान देते है।

किन लोगों में आई फ्लू होने का ज्यादा रिस्क रहता है?

देखा जाए तो वैसे तो किसी को भी हो सकता है। परन्तु बच्चों, एलर्जिक पेशेंट, बुजुर्ग और वीक इम्यूनिटी वाले लोगों में ज्यादा रिस्क होता है।

Eye Flu के लक्षण

आई फ़्लू के निम्नलिखित लक्षणों हैं। 

  • आंखों में दर्द होना। 
  • आंखों में सूजन होना। 
  • आंखों का लाल होना। 
  • आंखों में कीचड़ ज्यादा आना। 
  • आंख से पानी और खुजली होना। 
  • सुबह होने पर आंखों का चिपकना।

मोहल्ला क्लीनिक क्या है

Leave a Comment