डॉक्टर (Doctor) कैसे बने

सभी विद्यार्थी पढ़ लिख कर एक बेहतरीन करियर बानाना चाहते है कोई इंजीनियर बनना चाहता है तो कोई साइंटिस्ट प्रोफ़ेसर या फिर डॉक्टर। अगर आपकी रुचि किसी बीमार व्यक्ति की सेवा करने में है तो आपके लिए डॉक्टर बहुत बढ़िया कैरियर ऑप्शन हो सकता है। डॉक्टर बनने का सपना सभी लोग देखते हैं लेकिन सभी लोग अपने इस सपने को पूरा नहीं कर पाते क्योंकि डॉक्टर बनने के लिए ढेर सारे पैसों के साथ दिन रात कठिन मेहनत करनी पड़ती है तभी जाकर कुछ व्यक्ति डॉक्टर बनने के सपना को पूरा कर पाते हैं।

पूरी दुनिया में डॉक्टर को भगवान के रूप में माना जाता है क्योंकि वह लोगों की जिंदगी को बचाने का कार्य करते है। अगर आपको भी डॉक्टर बनना है तो आज हम इस पोस्ट में डॉक्टर (Doctor) कैसे बने | तैयारी कैसे करे | योग्यता | सिलेबस | सैलरी इत्यादि के बारे में विस्तार से बताने जा रहे हैं।

बीएएमएस (BAMS) क्या है ?

डॉक्टर (Doctor) बनने हेतु आवश्यक योग्यता

Table of Contents

डॉक्टर (Doctor) बनने के लिए कुछ खास योग्यता की जरूरत नहीं पड़ती है। डॉक्टर बनने के लिए आपको दसवीं पास करने के बाद 12वीं में साइंस सब्जेक्ट का चुनाव करना होता है। इसके बाद मेडिकल में एडमिशन के लिए एंट्रेंस एग्जाम देना होता है। इंट्रेंस एग्जाम पास करने पर डॉक्टर का कोर्स कराया जाता है।

डॉक्टर (Doctor) बनने के लिए आवश्यक स्किल

एक अच्छा डॉक्टर बनने के आपके अंदर आवश्यक योग्यताएं भी मौजूद होनी चाहिए। नीचे डॉक्टर बनने के लिए उपयोगी स्किल्स के बारे में बताया गया।

अच्छी कम्युनिकेशन स्किल

डॉक्टर (Doctor) बनने के लिए अच्छी कम्युनिकेशन स्किल होना बेहद जरूरी है। क्योंकि मरीजों से कैसे बात करना है, उन्हें उनकी बीमारी के बारे में कैसे समझाना है ताकि लोग आप पर विश्वास कर सके। यही नहीं बातचीत की कला आपको हर क्षेत्र में अच्छा मुकाम दिला सकती है।

इमोशनल इंटेलिजेंस

डॉक्टर (Doctor) बनने के लिए आपको अपने इमोशन पर कंट्रोल करना होता है। कई बार ऐसे मरीज देखने को मिलते हैं जिसे देखते ही आप अंदर से भावुक हो सकते है। लेकिन उसी समय आपको अपने इमोशनल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल करना होता है।

प्रॉब्लम सॉल्विंग स्किल

डॉक्टर (Doctor) के सामने मरीज अपनी सभी प्रॉब्लम को एक साथ बताता है। अगर आप में प्रॉब्लम सॉल्विंग की योग्यता रहेगी तो आप उनकी समस्याओं के जड़ तक पहुंच कर उन प्रॉब्लम का जल्दी से समाधान खोज सकते हैं।

डिसीजन मेकिंग स्किल

चूंकि कई बार परिस्थितियां विकट होती है ऐसे में डॉक्टर (Doctor) को समय रहते फास्ट डिसीजन लेकर मरीज की जान बचानी होती है। अगर आपने डिसीजन मेकिंग स्किल मौजूद है तो ही आप जल्दी फैसले लेने के लिए तैयार रहेंगे।

डॉक्टर (Doctor) कितने प्रकार के होते हैं।

डॉक्टर मुख्यतया चार प्रकार के होते हैं, जो कि निम्नलिखित है।

  • एलोपैथिक डॉक्टर |
  • होम्योपैथिक डाक्टर |
  • आर्युवेदिक डाक्टर |
  • यूनानी डॉक्टर |

डॉक्टर (Doctor) बनने के लिए महत्वपूर्ण तथ्य

  • अगर आप डॉक्टर (Doctor) बनना चाहते हैं तो 12वीं में फिजिक्स केमिस्ट्री या बायोलॉजी से पढ़ाई करें।
  • डॉक्टर बनने के लिए 12वीं में 50% अंक होने अनिवार्य है।
  • मेडिकल क्षेत्र में इंटरेस्ट है और डॉक्टर बनना चाहते हैं तो आपको इंग्लिश सब्जेक्ट पर पकड़ अच्छी बनानी चाहिए। इसके साथ ही इंग्लिश में लिखना बोलना आना चाहिए।

डॉक्टर (Doctor) कैसे बने? स्टेप बाय स्टेप प्रक्रिया

  • अगर आप मरीजों की सेवा करना चाहते हैं और आपके अंदर कठिन परिश्रम करने की क्षमता के साथ मरीजों की सेवा करने का जज्बा है तो । डॉक्टर बनने की प्रक्रिया नीचे स्टेप बाय स्टेप बताई गई है जिसको फॉलो करके आप डॉक्टर बन सकते हैं।
  • डॉक्टर बनने के लिए सबसे पहले 10 वीं पास होना पड़ेगा। आपको दसवीं क्लास में 70 प्रतिशत से अधिक अंक लाने होंगे, हालांकि डॉक्टर बनने के लिए ज्यादा मार्क्स लाना जरूरी नहीं होता। लेकिन अगर दसवीं में बेहतर एक आएंगे तो आपके एक चिकित्सक बनने के हौसले में वृद्धि होगी।
  • 10वीं पास कर लेने के बाद डॉक्टर बनने के लिए आपको 12वीं क्लास में साइंस स्ट्रीम का चयन करना होगा। जिसके अंतर्गत आपको बायोलॉजी विषय का चयन करना होता है। इसके साथ ही 12वीं में 50% से अधिक अंक प्राप्त करना अनिवार्य है।
  • इसके बाद डॉक्टर बनने के लिए मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम जैसे – CET, AIMEE और NEET की तैयारी करनी होगी।
  • मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम इंडिया लेवल और स्टेट लेवल पर किया जाता है। आप अपनी सुविधानुसार एंट्रेंस एग्जाम के लिए फॉर्म भर सकते हैं।
  • एंट्रेंस एग्जाम के फॉर्म भरने के बाद कठिन परिश्रम करनी होती है क्योंकि एंट्रेंस एग्जाम को क्रैक करना सरल नहीं होता, लाखों लोग इस एग्जाम में अप्लाई करते हैं।
  • आपको एंट्रेंस एग्जाम में अच्छे मार्क्स हासिल करने हैं क्योंकि अच्छे एक हासिल करने पर गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज में एडमिशन मिलता है जिसमें आपको कम फीस में डॉक्टर बनने का कोर्स कराया जाता है।
  • डॉक्टर बनने के लिए सबसे लोकप्रिय कोर्स एमबीबीएस होता है। इस कोर्स की अवधि 5.5 (पांच साल 6 महीने) साल का होता है जिसमें 1 साल की इंटर्नशिप शामिल है।
  • एमबीबीएस का कोर्स पूरा करने के बाद मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया (MCI) के द्वारा डॉक्टर की डिग्री प्रदान कि जाती है।
  • इसके बाद आप किसी भी हॉस्पिटल में डॉक्टर की नौकरी करने के लिए योग्य माने जाएंगे।

बीएचएमएस (BHMS) कोर्स क्या है ?

टॉप मेडिकल कोर्स लिस्ट

भारत में डॉक्टर बनने के लिए कई कोर्स किए जाते हैं। जिनकी अवधि 6 माह से लेकर 5 साल 6 महीने तक का होता है। नीचे भारत के टॉप डॉक्टर डिग्री धारक कोर्स के बारे में बताया गया।

बैचलर ऑफ मेडिसिन एंड बैचलर ऑफ सर्जरी (MBBS)

मेडिकल क्षेत्र में सबसे लंबा और लोकप्रिय कोर्स है इस कोर्स की अवधि 5 साल 6 महीना होती है जिसमें 1 साल का इंटर्नशिप शामिल होती है।

बैचलर ऑफ डेंटल सर्जरी (BDS)

बैचलर आफ डेंटल सर्जरी को 5 साल में पूरा किया जाता है जिसमें इंटर्नशिप शामिल होता है। इस कोर्स को पूरा करने के बाद दांत का डॉक्टर बन सकते है।

बैचलर ऑफ आयुर्वेदिक मेडिसिन एंड सर्जरी (BAMS)

आयुर्वेदिक चिकित्सक का सबसे लोकप्रिय कोर्स है। इस कोर्स को 5 साल 6 महीना में पूरा किया जाता है जिसमें इंटर्नशिप भी शामिल है। इस कोर्स को पूरा करने के बाद आपको आयुर्वेद डॉक्टर का उपाधि मिलती है।

बैचलर ऑफ होम्योपैथिक मेडिसिन एंड सर्जरी (BHMS)

होम्योपैथिक डॉक्टर बनने के लिए सबसे लोकप्रिय कोर्स है। इस कोर्स की अवधि 5 साल 6 महीना होती है जिसमें 1 साल का इंटर्नशिप शामिल है।

बैचलर ऑफ यूनानी मेडिसिन एंड सर्जरी (BUMS)

बीयूएमएस कोर्स को 5 साल 6 महीना में पूरा किया जाता है जिसमें इंटर्नशिप भी शामिल है। यह कोर्स यूनानी चिकित्सा पद्धति पर आधारित है।

बैचलर ऑफ फिजियो थेरेपी (BPT)

बीपीटी कोर्स को 4 साल 6 महीना में पूरा किया जाता है जिसमें इंटर्नशिप भी शामिल है। इस कोर्स को पूरा करने के बाद फिजियोथैरेपी डॉक्टर बनेंगे।

बैचलर ऑफ वेटरनरी साइंस एंड एनिमल हसबेंडरी (B.V.Sc & A.H)

5 साल की अवधि वाले इस कोर्स को पूरा करने के बाद वेटरनरी डॉक्टर की उपाधि मिलेगी। जिसमें जानवरों में होने वाली बीमारियों के इलाज के बारे में सिखाया जाएगा।

  • क्लिनिकल साइकोलॉजी |
  • हैल्थ इंस्पेक्शन |
  • डाइटिशियन |
  • फार्मास्युटिकल मैनेजमेंट |
  • हॉस्पिटल मैनेजमेंट |
  • रिसर्च अपोर्चुनिटीज़ |
  • इत्यादि |

डॉक्टर बनने के लिए भारतीय यूनिवर्सिटी

डॉक्टर बनने के लिए भारत में कई बेहतरीन विश्वविद्यालय हैं जिनमें मेडिकल की पढ़ाई करवाई जाती है। नीचे टॉप इंडियन मेडिकल इंस्टीट्यूट की लिस्ट दी गई है।

क्रम संख्याभारतीय मेडिकल यूनिवर्सिटीस्थान
1ऑल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंस नई दिल्लीनई दिल्ली
2क्रिस्टियन मेडिकल कॉलेज वेल्लोरवेल्लोर
3नेशनल इंस्टीट्यूट आफ मेंटल हेल्थ एंड न्यूरोसाइंसेज बेंगलुरुबेंगलुरु
4अमृता विद्यापीठ कोयंबटूरकोयंबटूर
5बनारस हिंदू विश्वविद्यालय वाराणसीवाराणसी
6कस्तूरबा मेडिकल कॉलेज मणिपालमणिपाल
7किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी लखनऊलखनऊ
8इंस्टीट्यूट आफ लिवर एंड बायेलारी साइंस नई दिल्लीनई दिल्ली
9सेंट जॉन मेडिकल कॉलेज बेंगलुरुबेंगलुरु
10अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी अलीगढ़अलीगढ़

डॉक्टर (Doctor) बनने के लिए कितना पैसा लगता है?

डॉक्टर बनने के लिए काफी ज्यादा पैसा लगता है। हालांकि डॉक्टर बनने के लिए स्कॉलरशिप और लोन भी मिलता हैं। अगर आप एंट्रेंस एग्जाम में अच्छे अंक लाएंगे और आपका नामांकन गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज में होता है तो आपकी फीस प्राइवेट कॉलेज के मुकाबले कम होती है।

गवर्नमेंट कॉलेज मेडिकल फीस

सभी सरकारी मेडिकल कॉलेज में उनकी फैकल्टी, हॉस्टल और टीचिंग लेवल की वजह से फीस अलग-अलग निर्धारित की जाई है। लेकिन भारत में सरकारी मेडिकल कॉलेज में डॉक्टर बनने के लिए औसतन फीस 40 लाख से 60 लाख तक होता है।

प्राइवेट कॉलेज मेडिकल फीस

अगर आप किसी उच्चतम अथवा प्रतिष्ठित प्राइवेट कॉलेज से डॉक्टर बनना चाहते हैं तो आपको 80 लाख से 1 करोड़ तक का खर्चा उठाना पड़ है।

BNYS Course क्या है ?

डॉक्टर बनने के लिए आवश्यक डॉक्यूमेंट

अगर आप डॉक्टर बनना चाहते हैं और उनसे जुड़े कोर्स में नामांकन कराना चाहते हैं तो नीचे दिए गए निम्नलिखित दस्तावेज की आवश्यकता पड़ सकता है।

कम पैसे में डॉक्टर कैसे बने?

अगर आपको कम पैसे में डॉक्टर बनना है तो जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज, अजमेर से डॉक्टर की डिग्री हासिल कर सकते हैं। इसके लिए ऑल इंडिया प्री मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम (AIPMT) को क्रेक (पास) करना होगा। इस कॉलेज में डॉक्टर बनने के लिए मात्र ₹4900 सालाना फीस लगती है।

डॉक्टर बनने के लिए टॉप एंट्रेंस एग्जाम

भारत में डॉक्टर बनने के लिए एंट्रेंस एग्जाम के द्वारा नामांकन किया जाता है नीचे टॉप एंट्रेंस एग्जाम के नाम दिए गए हैं।

नीट एंट्रेंस एग्जाम (NEET)

मेडिकल कोर्स में प्रवेश के लिए सबसे लोकप्रिय एंट्रेंस एग्जाम है। इस एंट्रेंस एग्जाम को नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) द्वारा कंडक्ट करवाया जाता है जिसमें हर साल 70,000 से ज्यादा सीटों के लिए एग्जाम होता है।

एम्स एंट्रेंस एग्जाम (AIIMS)

एम्स एंट्रेंस एग्जाम को नेशनल बोर्ड ऑफ एग्जामिनेशन (NBE) के द्वारा कंडक्ट किया जाता है जिसमें 12000 सीटों के लिए एग्जाम लिया जाता है।

जेआईपीएमईआर एंट्रेंस एग्जाम (JIPMER)

इस एंट्रेंस एग्जाम को नेशनल बोर्ड ऑफ एग्जामिनेशन के द्वारा आयोजित किया जाता है। इस एंट्रेंस एग्जाम को साल में एक बार आयोजित किया जाता है।

एएफएमसी एंट्रेंस एग्जाम (AFMC)

आर्म्ड फोर्स मेडिकल कॉलेज का एंट्रेंस एग्जाम 150 शीट के लिए हर साल आयोजित की जाती है।

सीएमसी वेल्लोर एंट्रेंस एग्जाम (CMC)

इस एंट्रेंस एग्जाम को क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज वेल्लोर द्वारा आयोजित किया जाता है।

एआइपीवीटी एंट्रेंस एग्जाम (AIPVT)

अगर आप वेटरनरी डॉक्टर बनना चाहते हैं तो इस एंट्रेंस एग्जाम में भाग लेकर चुनिंदा कॉलेज में नामांकन करवा सकते हैं।

  • फॉरेन मेडिकल ग्रैजुएट एग्जामिनेशन एंट्रेंस एग्जाम (FMGE)
  • फेलोशिप एंट्रेंस टेस्ट (FET)
  • ऑल इंडिया आयुष पोस्ट ग्रेजुएट एंट्रेंस टेस्ट ( AIAPGET)
  • डिप्लोमा ऑफ नेशनल बोर्ड पोस्ट डिप्लोमा सेंट्रलाइज एंट्रेंस टेस्ट ( DNB PDCET)
  • कंबाइंड मेडिकल सर्विसेज एग्जामिनेशन एंट्रेंस एग्जाम (CMSE)
  • इत्यादि

नोट – NEET एंट्रेंस एग्जाम सबसे लोकप्रिय एंट्रेंस एग्जाम है इसी के आधार पर सभी इंट्रेंस एग्जाम में वरीयता दी जाती है।

डॉक्टर (Doctor) का स्कोप

डॉक्टर की डिग्री पाने के बाद सरकारी और प्राइवेट क्षेत्रों में आसानी से जॉब पा सकते हैं। इसके अलावा खुद के हॉस्पिटल या क्लीनिक खोलकर अपना बिजनेस कर सकते हैं। इसके अलावा बायोमेडिकल फोर्मनसिक, हेल्थ केयर इंस्टिट्यूशन, लैबोरेट्रीज, कम्युनिटी हेल्थ सेंटर, मेडिकल सेंटर में आसानी से नौकरी पा सकते हैं।

डॉक्टर (Doctor) जॉब प्रोफाइल

  1. डेंटिस्ट |
  2. गायनोकोलॉजिस्ट |
  3. पैथोलॉजिस्ट |
  4. फिजीशियन |
  5. डर्मेटोलॉजिस्ट |
  6. रेडियोलॉजिस्ट |
  7. पीडियाट्रिशियन |
  8. ऑर्थोपेडिक्स |
  9. मेडिकल एनालिस्ट |
  10. फॉरेंसिक ऑफिसर |
  11. ऑडियोलॉजिस्ट |
  12. साइकैटरिस्ट |
  13. कार्डियोलॉजिस्ट |
  14. यूरोलॉजी |
  15. न्यूरोलॉजी |
  16. नेफ्रोलॉजी |
  17. वेटनरी |
  18. थैरेपिस्ट |
  19. इत्यादि |

सिलेबस और पैटर्न

डॉक्टर बनने के लिए होने वाले एंट्रेंस एग्जाम नीट के परीक्षा पैटर्न नीचे दिए गए हैं। डॉक्टर बनने के लिए अलग-अलग कॉलेज में अलग-अलग सिलेबस पढ़ाया जाता है। सिलेबस के बारे में विस्तार जानकारी के लिए संबंधित यूनिवर्सिटी की ऑफिसियल वेबसाइट को चेक करें।

क्र॰ संoसबजेक्टनम्बर आफ क्वेश्चनमार्क्सटाइम
1फिजिक्स45180180 मिनट (3 घंटे)
2केमिस्ट्री45180
4जूलॉजी45180
3बॉटनी45180
टोटल180720

डॉक्टर (Doctor) की सैलरी

डॉक्टर का कोर्स पूरा करने के बाद उनके एक्सपीरियंस के बेस पर वेतन दिया जाता है। इसके अलावा किस सेक्टर में और किस कंपनी के लिए नौकरी कर रहे हैं वेतन इस पर भी निर्भर करता है। एक अनुमान के अनुसार भारत में एक डॉक्टर को 50 हजार से ₹4 लाख प्रति महीना की सैलरी मिलती है। अगर आप सरकारी डॉक्टर बनते हैं तो सैलरी के अलावा आपको अन्य भत्ते भी दिए जाते हैं।

एमबीबीएस, एमडी का मतलब क्या होता है