कृषि यंत्र पर सब्सिडी कैसे प्राप्त करें?

राज्य सरकार ने किसानों के विकास के लिए कृषि यंत्र पर सब्सिडी देने का निर्णय लिया है | इससे किसानों को कृषि उपकरण को खरीदने के लिए बढ़ावा मिलेगा | उपकरण के प्रयोग से किसान कम श्रम पर अधिक फसल का उत्पादन कर सकेंगे | अभी भी हमारे देश में खेती पारम्परिक विधि से की जा रही है | पारम्परिक विधि का प्रयोग करने से किसान का श्रम और फसल दोनों की हानि होती है | किसान की फसल का उत्पादन बढ़ाने के लिए राज्य सरकार अधिक से अधिक कृषि यंत्रों पर सब्सिडी प्रदान करना चाहती है, इससे किसानों की आर्थिक स्थिति में सुधार हो सकता है |

ये भी पढ़ें: गन्ना पर्ची कैलेंडर कैसे देखे?

ये भी पढ़ें: ग्राम प्रधान (Gram Pradhan) कैसे बने?

कृषि यंत्र पर सब्सिडी

किसानों की आय को बढ़ानें के लिए सरकार द्वारा निरंतर प्रयास किया जा रहा है| इनमें सरकारी तंत्र और निजी क्षेत्र की कंपनिया भी शामिल है, परन्तु किसानों की आय बढ़ाने के लिए सबसे अधिक जिस चीज की आवश्यकता है, वह है आधुनिक कृषि यंत्रों का होना| जो कंपनियां कृषि के अनुरूप बेहतर कृषि यन्त्र निर्मित कर रही है, वह काफी महंगे है, जिसके कारण किसान उन्हें खरीदनें में असमर्थ हो जाता है| इस प्रकार की समस्याओं के निदान हेतु सरकार की और से इन बड़ी कृषि मशीनों पर अनुदान भी दिया जा रहा है, ताकि किसान अच्छे कृषि यंत्रों को आसानी से खरीद सके|

यदि कोई किसान नया कृषि यन्त्र खरीदना चाहता है, सबसे वो सबसे पहले तो यह सुनिश्चित करना होगा, कि वह किस कंपनी का कृषि यन्त्र खरीदना चाहते है|  उसके बाद किसान उस कृषि यंत्र पर अनुदान की जानकारी के लिए अपने जिले या ब्लाकस्तर के कृषि कार्यालय पर संपर्क करे| वहां से अनुदान की पूरी प्रक्रिया को समझे, उसके बाद ही उस कृषि यंत्र को ख़रीदे| यदि कोई भी कृषि अधिकारी जानकारी देने में जरा भी आनाकानी करता है तो इसके लिए जिलास्तर पर कृषि अधिकारीयों से मुलाकात कर किसान अपनी समस्या बता सकते है. किसान को कृषि यंत्रों के विषय में पूरी जानकारी जिला और ब्लाकस्तर कृषि कार्यालय पर आसानी से मिल जाएगी|

सरकार द्वारा इन कृषि यंत्रों पर है सब्सिडी (Subsidy on Agricultural Equipment)

सरकार द्वारा लगभग सभी कृषि यंत्रों पर सब्सिडी दी जाती है, लेकिन यह राज्य सरकार पर भी निर्भर करता है, कि वह किन कृषि यंत्रों पर सब्सिडी दे रही है| किसान सरकार द्वारा मैनुअल स्प्रेयर्स, पावर नैपसेक स्पेयर्स, मल्टीक्राप प्लांटर, सीडड्रिल, रोटावेटर, जीरोटिल मल्टीक्राप प्लांटर, पंपसेट, मल्टीक्राप थ्रेसर, रिज फैरो प्लांटर, ट्रैक्टर माऊंड स्पेयर्स, स्प्रिंकलर सेट, बखारी, एचडीपीई पाइप, पीवीसी पाइप, एचडीपीई लैमिनेटेड पाइप, बड़े तिरपाल, छोटा तिरपाल जैसे कृषि यंत्रों पर अनुदान पा सकते हैं।

ये भी पढ़ें: अपनी जमीन कैसे देखे?

सरकार द्वारा दी जानें वाली सब्सिडी (Government Subsidized) 

सरकार द्वारा दी जाने वाली सब्सिडी राज्य सरकारों पर निर्भर करती है, क्योंकि हर एक राज्य के कृषि विभाग की अलग योजना है, जिसके अनुसार ही अनुदान दिया जाता है| वैसे अधिकांश राज्यों में 30 प्रतिशत से 50 प्रतिशत का अनुदान कृषि यंत्रों पर दिया जाता है|

वर्तमान में उत्तर प्रदेश सरकार “मिशन ऑन एग्रीकल्चर मेकेनाइजेशन (एनजीटी)” योजना के माध्यम से  80% तक  सब्सिडी प्रदना की जा रही है, इससे किसानों को काफी लाभ मिलेगा| इन कृषि यंत्रों में खेत की जुताई, फसलों की बुवाई, निराई – गुडाई, फसलों की कटाई से संबंधित शामिल हैं | अनुदानित दर पर कृषि यंत्र क्रय करने हेतु इच्छुक कृषकों से आनलाइन आवेदन प्राप्त किये जा रहे हैं, इसके लिए राज्य के किसान अपनी सुविधा के अनुसार आवेदन कर सकते हैं|

आवश्यक दस्तावेज (Important Document)

  • आधार कार्ड
  • खतौनी
  • बैंक पास बुक

 ये भी पढ़ें: आईआरडीए (IRDA) का फुल फॉर्म क्या है?

ऑनलाइन आवेदन (Online Application)

  • अब आपके सामने एक नया पेज ओपन हो जायेगा यहाँ पर आपको “ऑनलाइन पंजीकरण करें /लिंक 2” पर क्लिक करना है |
  • अब आपके सामने एक और नया पेज खुलेगा यहाँ पर आपको अपनी आवश्यक जानकारी भरनी होगी | इसमें आपको आधार कार्ड, खतौनी, बैंक पास बुक की जानकारी देनी होगी |
  • आधार कार्ड से लाभार्थी की पहचान की जाएगी |
  • खतौनी से भूमि की पहचान की जाएगी |
  • बैंक पास बुक से आपके खाते में सब्सिडी प्रदान की जाएगी |
  • अब आपके सामने एक नया पेज ओपन होगा यहाँ पर आपको अपने जिले का चयन करना है |
  • अब आपको कृषक का विवरण, कृषक की भूमि का विवरण, अनुदानित वस्तु का विवरण, बैंक का विवरण भरना होगा |
  • सभी जानकारी भरने के बाद आपको फ़ाइनल सबमिट पर क्लिक करना है |
  • इस प्रकार से आप कृषि यंत्र पर सब्सिडी के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते है |

ये भी पढ़ें: UPPCF (यूपीपीसीएफ) क्या है?

कृषि यंत्र सब्सिडी  या अनुदान (Agricultural Equipment Subsidy or Grant)

उपकरणसब्सिडी 
टैक्टर (40 H.P. तक)25 प्रतिशत अथवा अधिकतम 45000 रुपये जो भी कम हो।
पावर टिलर (8 H.P. या उससे अधिक)40 प्रतिशत अथवा अधिकतम रू0 45000 जो भी कम हो।
पम्पसेट (7.5 H.P. तक)50 प्रतिशत अथवा अधिकतम रू0 10000 जो भी कम हो।
जीरोटिल सीड ड्रिल, सुगर केन कटर प्लांटर, रीपर, बाइंडर40 प्रतिशत अथवा अधिकतम रू0 20000 जो भी कम हो।
पावर थ्रेशर25 प्रतिशत अथवा अधिकतम रू0 12000 जो भी कम हो।
विनोइंग फैन, चेफ कटर(मानवचालित)25 प्रतिशत अथवा अधिकतम रू0 2000 जो भी कम हो।
टैक्टर माउंटेड स्प्रेयर25 प्रतिशत अथवा अधिकतम रू0 4000 जो भी कम हो।
ऐरो ब्लास्ट स्प्रेयर25 प्रतिशत अथवा अधिकतम रू0 25000 जो भी कम हो।
रोटावेटर50 प्रतिशत अथवा अधिकतम रू0 30000 जो भी कम हो।
सीडड्रिल/ जीरोटिल सीडड्रिल/ मल्टी क्राफ्ट प्लांटर/ रिज फरो प्लांटर50 प्रतिशत अथवा अधिकतम रू0 15000 जो भी कम हो।
नैपसैक स्प्रेयर/ फुट स्प्रेयर/ पावर स्प्रेयर50 प्रतिशत अथवा अधिकतम रू0 3000 जो भी कम हो।
लेजर लैण्ड लेवलर50 प्रतिशत अथवा अधिकतम रू0 150000 जो भी कम हो।
पम्प सेट50 प्रतिशत अथवा अधिकतम रू0 10000 जो भी कम हो।
स्प्रिंकलर सेट50 प्रतिशत अथवा अधिकतम रू0 75000 जो भी कम हो। बुन्देलखण्ड क्षेत्र 90%

ये भी पढ़ें: निवास प्रमाण पत्र (Domicile Certificate)

यहाँ पर आपको कृषि यंत्र पर सब्सिडी कैसे प्राप्त करें, के विषय में जानकारी दी गयी है | इस प्रकार की अन्य जानकारी के लिए आप https://hindiraj.com पर विजिट कर सकते है | अगर आप दी गयी जानकारी के विषय में अपने विचार या सुझाव अथवा प्रश्न पूछना चाहते है, तो कमेंट बॉक्स के माध्यम से संपर्क कर सकते है |

ये भी पढ़ें: आय प्रमाण पत्र (Income Certificate)

ये भी पढ़ें: ग्राम विकास अधिकारी (VDO) कैसे बने?

ये भी पढ़ें: मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना क्या है?