लक्षद्वीप में कितने जिले हैं

लक्षद्वीप का संस्कृत में मतलब होता है एक लाख द्वीप। यह हमारे देश में दक्षिण पश्चिमी तट से 200 से लेकर के 400 किलोमीटर की दूरी पर लक्षद्वीप सागर के पास में मौजूद एक द्वीप समूह है। पहले इसका नाम लक्कादीव-मिनिकॉय-अमिनीदिवि था परंतु वर्तमान में इसे लक्षद्वीप (Lakshadweep) ही कहा जाता है।

इसका कुल सतही क्षेत्रफल सिर्फ 32 वर्ग किलोमीटर है। लक्षद्वीप की राजधानी (Capital of Lakshadweep) कवरती है और यह इलाका केरल हाईकोर्ट के अधिकार के क्षेत्र के तहत आता है। आज इस आर्टिकल में हम देखेंगे कि “लक्षद्वीप में कितने जिले हैं, और देश के नक्शे में यह प्रदेश कहाँ पर स्थित है |

पुडुचेरी में कितने जिले हैं

लक्षद्वीप में कितने जिले हैं ?

लक्षद्वीप सरकार द्वारा शासित प्रदेश है अर्थात यह केंद्र शासित प्रदेश है जहाँ सिर्फ एक ही जिला है जो कि खुद लक्षद्वीप ही है। इस प्रकार लक्षद्वीप जिला ही यहां का एकमात्र जिला है। साल 2011 की सामाजिक आर्थिक और जाति जनगणना के हिसाब से लक्षद्वीप जिले की कुल जनसंख्या 64473 थी।

इसके अलावा यहां पर टोटल लिंगानुपात प्रति 1000 पुरुषों पर 946 महिलाओं का था। इस जिले की साक्षरता की दर 91.50% है और जिले में टोटल 21 गांव मौजूद है। यह हमारे देश का सबसे छोटा केंद्र शासित प्रदेश है। यहां पर तकरीबन 96.58 प्रतिशत आबादी मुसलमानों की है और 2.77% आबादी हिंदुओं की है। इसकी स्थापना 1 नवंबर 1956 को हुई।

लक्षद्वीप के सभी जिलों के नाम & नक्शा [Total Districts in Lakshadweep with Map]

देश के मानचित्र में लक्षद्वीप जिला कुछ इस प्रकार दिखाई देता है-

लक्षद्वीप के प्रमुख पर्यटन स्थल | Tourist Places in Lakshadweep

लक्षद्वीप के इतिहास के बारे में कहा जाता है कि यहां पर अंतिम शासन करने वाले व्यक्ति का नाम चेरमन पेरुमल था। मद्रास से अलग करके एक केंद्र शासित प्रदेश के तहत साल 1956 में 1 नवंबर के दिन लक्षद्वीप को मान्यता दी गई।

लक्षद्वीप को ट्रैवल करने के दरमियान आप इसके प्रमुख पर्यटन स्थलों की यात्रा करने का आनंद उठा सकते हैं। आप यहां पर एक द्वीप से दूसरे दीप पर जाने के लिए लोकल ट्रांसपोर्ट की सहायता ले सकते है।

मिनिकॉय द्वीप

लक्षद्वीप में मौजूद यह बहुत ही प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है जिसकी गिनती लक्षद्वीप के 36 छोटे द्वीपों में होती है। लोकल भाषा में इसे मलिकू कहा जाता है। इसकी दूरी कोचीन समुद्री इलाके से तकरीबन 400 किलोमीटर की है। यहां पर घूमने जाने के पश्चात आपको विभिन्न प्रकार की सुंदर चीजें दिखाई देती हैं।

एक तो जो लोग समुद्री सीमा घूमना पसंद करते हैं उन्हें यहां पर अवश्य घूमने के लिए जाना चाहिए। इसके अलावा यहां पर मूंगे की चट्टान, अट्रैक्टिव सफेद रेत और अरब सागर का सुंदर पानी दिखाई देता है। इसकी गिनती लक्षद्वीप के दूसरे सबसे बड़े द्वीप में होती है। यहां पर आपको लग्जरी समुद्र तट रिसोर्ट भी दिखाई देते हैं।

अगत्ती द्वीप समूह

यह बहुत ही रोमांचक जगह है जो कि लक्षद्वीप में स्थित है। यह जगह मूंगा भित्तियों की सुंदरता के लिए बहुत ही अधिक प्रसिद्ध है। भले ही यह द्वीप छोटा है परंतु यहां जगह साफ पानी, समुद्र तट, सफेद रेत और ऑफबीट प्रेमियों के लिए बहुत ही बढ़िया है।

यह द्वीप तकरीबन 8 किलोमीटर की दूरी तक फैला हुआ है और इस द्वीप के अंतर्गत तकरीबन 8000 लोग रहते हैं। यहां पर आपको प्राकृतिक सुंदरता भर भर कर देखने को मिलती है। इसके अलावा यहां पर विभिन्न प्रकार की वनस्पतियां भी मौजूद है।

नागालैंड में कितने जिले हैं

बांगरम द्वीप

यह जगह हिंद महासागर में मौजूद है और इस जगह में आपको बहुत ही आकर्षक साफ नीला पानी दिखाई देता है। यह जगह साफ नीले पानी के अलावा प्राचीन मूंगा चट्टान और समुद्री तटों के लिए भी काफी अधिक प्रसिद्ध है।

यहां पर आपको खूबसूरत मछलियों के साथ तैरने का मौका मिलता है। इसके अलावा आपको यहां पर डॉल्फिन भी मिलती है साथ ही यहां पर आप सुबह के समय और शाम के समय चलने वाले पानी से संबंधित गतिविधियों का भी आनंद ले सकते हैं।

कावारत्ती द्वीप समूह

यह लक्षद्वीप की राजधानी भी है जो सफेद मखमली रेत अट्रैक्टिव समुद्री द्वीप और खूबसूरत नजारों के लिए जाना जाता है। इसकी दूरी कोच्चि समुद्री तट से तकरीबन 360 किलोमीटर की है। इसे स्मार्ट सिटी बनाने के तहत विकसित किया जा रहा है। प्राकृतिक सुंदरता से भरपूर यह इलाका अवश्य ही प्रकृति प्रेमी लोगों को पसंद आएगा।

इसलिए अगर आप लक्षद्वीप घूमने जाने का प्लान बना रहे हैं तो इस जगह पर अवश्य जाएं। यहां पर आप अपने दोस्तों के साथ, अपनी गर्लफ्रेंड के साथ अथवा अपने परिवार वालों के साथ जा सकते हैं। यहां पर नारियल के बहुत ही सुंदर सुंदर पेड़ मौजूद हैं। इसके अलावा यहां पर आप पानी से संबंधित गतिविधियां भी देख सकते हैं।

स्कूबा डाइविंग

अगर आप स्कूबा डाइविंग का आनंद दिल खोलकर के लेना चाहते हैं तो आपको निश्चित ही लक्षद्वीप जाना चाहिए, क्योंकि स्कूबा डाइविंग के चाहने वाले लोगों के लिए यह जगह किसी स्वर्ग से कम नहीं है।

यहां पर आपको मन को मोह लेने वाले दृश्य देखने को मिलेंगे। आप लक्षद्वीप में स्कूबा डाइविंग का आनंद लेने के लिए अगती, कदमत और बांगरम जैसे द्वीपों पर जा सकते हैं। बता दें कि अगर आप यहां पर जा करके स्कूबा डाइविंग लेते हैं तो आपको प्रति स्कूबा डाइविंग के पीछे ₹2000 तक खर्च करने की आवश्यकता होगी।

कल्पेनी द्वीप लक्षद्वीप

आप लक्षद्वीप में जाने के पश्चात कल्पेनी द्वीप को भी घूम सकते हैं। यहां पर आपको स्कूबा डाइविंग करने का मौका मिलता है। इसके अलावा रिफ वाकिंग करने का मौका मिलता है तथा नौकायान के अलावा पानी से संबंधित दूसरे खेलों को भी देखने का मौका मिलता है।

FAQ

लक्षद्वीप की स्थापना कब हुई ?

1 नवंबर 1956

लक्षद्वीप क्या है ?

केंद्र शासित प्रदेश

लक्षद्वीप में सबसे अधिक आबादी किस की है ?

मुस्लिम समुदाय

लक्षद्वीप की राजधानी क्या है ?

कवरत्ती

हिमाचल प्रदेश में कितने जिले है

Leave a Comment