Positive Pay System क्या है

भारतीय रिजर्व बैंक के द्वारा पॉजिटिव पे प्रणाली (Positive Pay System) प्रारम्भ करने की सूचना जारी की गयी है | आरबीआई (RBI) के अनुसार यह प्रणाली 1 जनवरी 2021 से लागू की जाएगी | आरबीआई (RBI) की पॉजिटिव पे प्रणाली का मुख्य उद्देश्य चेक के दुरूपयोग को रोकना है, इससे नकली चेक द्वारा होने वाली धोखा-धड़ी पर भी नियंत्रण हो सकेगा |

प्रतिवर्ष बैंको में चेक सम्बन्धी अनेक जाली मामले आते है, रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया के द्वारा बैंक ग्राहकों की इस समस्या को ध्यान देते हुए ऍमपीसी (MPC) की बैठक में पॉजिटिव पे प्रणाली जारी करने की सूचना प्रदान की है इस प्रणाली द्वारा जाली चेक से होने वाली धोका-धड़ी से मुक्ति मिलेगी | यह प्रणाली  50,000 या इससे अधिक की धनराशि के भुगतान करने पर ग्राहक को बैंक खाता सम्बन्धी तथा निजी जानकारिया बैंक से साँझा करनी होंगी | इस पृष्ठ पर आपको “Positive Pay System क्या है? पॉजिटिव पे सिस्टम के बारे में जानकारी” उपलब्ध कराई गयी है |

WORLD BANK (विश्व बैंक) क्या है

पाजिटिव पे प्रणाली का क्या मतलब होता है?

पॉजिटिव पे प्रणाली एक “ऑटोमैटिक कैश मैनेजमेंट सर्विस” (Automatic Cash Management Service) है जिसे हिंदी में “स्वचालित नगद प्रबंधन सेवा” भी कहते है, इसके द्वारा चेक की धोखा-धड़ी सम्बन्धी जाँच की जाती है | पॉजिटिव पे प्रणाली के माध्यम से बैंक चेक जारी करने वाले व्यक्ति या संस्था तथा चेक प्राप्त करने वाले व्यक्ति की जानकारी की जाँच करता है |

निरिक्षण के दौरान चेक में किसी भी प्रकार की गलती या गड़बड़ी की अवस्था में  चेक ट्रंकेशन सिस्टम (Cheque Truncation System) के द्वारा चिन्हित किया जाता है तथा भुगतान करने वाली बैंक को चेक सम्बन्धी जानकारी प्रदान की जाती है, और चेक को पुनः जारी करने वाले व्यक्ति या संस्था को वापस कर दिया जाता है | पॉजिटिव पे प्रणाली को चलन में लाने के लिए सीटीएस (CTS) के द्वारा नेशनल पेमेंट कार्पोरेशन ऑफ़ इंडिया (National Payment Corporation of India) को विकसित किया जायेगा, इसके बाद सभी बैंको को यह नयी सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी | वर्तमान समय में यह सेवा आईसीआईसीआई बैंक (ICICI Bank) अपने ग्राहकों को मुहैया करा रही है |

बैंक कैशियर (BANK CASHIER) कैसे बने

पॉजिटिव पे प्रणाली कैसे कार्य करता है?(How to Work Positive Pay System)

पॉजिटिव पे प्रणाली के अंतर्गत चेक जारी करने वाले व्यक्ति या संस्था को एसएमएस (SMS), एटीएम, इंटरनेट बैंकिंग तथा मोबाइल ऍप आदि  इलेक्ट्रानिक माध्यम से लाभार्थी का नाम, खाता नंबर, चेक नंबर,  चेक की तारीख, भुगतान की धनराशि तथा चेक के दोनों तरफ की फोटो के बारे में बैंक को पुनः जानकारी उपलब्ध करानी होगी | यह सभी जानकारी बैंक को उपलब्ध कराने के पश्चात ही चेक लाभार्थी को देना होगा | इसके बाद पॉजिटिव पे प्रणाली के अंतर्गत चेक की जाँच की जायेगी | प्राप्त जानकारी सही पायी जाने की अवस्था में चेक का भुगतान कर दिया जायेगा |

कैंसिल चेक (CANCEL CHEQUE) क्या है

पॉजिटिव पे प्रणाली के लाभ (Benefit of Positive Pay System )

  • इस प्रणाली के द्वारा जाली तथा नकली चेको की धोखा-धड़ी समाप्त हो सकेगी |
  • चेक सुरक्षा के तहत चेक तथा चेक प्राप्त कर्ता से सम्बंधित जानकारी बैंक में उपलब्ध रहेगी |
  • इस प्रणाली के द्वारा बैंक तथा ग्राहक दोनों को ही फर्जी चेक के मामलो से छुटकारा मिल सकेगा |
  • चेक को एक स्थान से दूसरे स्थान तक जाने में लगने वाली लागत तथा समय में भी कमी आएगी |

बैंक मैनेजर (BANK MANAGER) कैसे बने

आपको इस पृष्ठ पर पॉजिटिव पे प्रणाली (Positive Pay System) के बारे में जानकारी उपलब्ध करायी गई है अब आशा है आपको जानकारी पसंद आयी होगी | यदि आप इससे संतुष्ट है, या फिर अन्य जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो कमेंट करे और अपना सुझाव प्रकट करे, आपकी प्रतिक्रिया का जल्द ही जवाब देने का प्रयास किया जायेगा | अधिक जानकारी के लिए hindiraj.com पोर्टल पर विजिट करते रहे |

सरकारी बैंक और प्राइवेट बैंक की सूची

Leave a Comment