Tablighi Jamaat (तबलीग़ी जमात) क्या है

कोरोना वायरस की समस्या से जहाँ भारत समेत सभी देश जूझ रहे है वही देश की राजधानी दिल्ली के हजरत निजामुद्दीन स्थित मरकज (Markaz) में 1 से 15 मार्च के मध्य 2000 से भी ज्यादा लोग तबलीगी जमात (Tablighi Jamaat) में एकत्रित हुए थे | इसमें देश के लोगों के साथ कुछ विदेशी लोग भी हिस्सा लेने पहुंचे थे | मरकज (Markaz) के आसपास इलाके के और दिल्ली के लगभग 500 से भी ज्यादा लोग इसमें शामिल हुए थे | कोरोनावायरस (Corona virus) की महामारी को देखते हुए जहां लोगों को अधिक भीड़-भाड़ वाले क्षेत्रों में जाने पर पाबंदी लगाई जा रही थी वहीं ऐसी स्थिति में मरकज़ में यहां कई लोग इकट्ठा हुए थे | तबलीगी जमात में शामिल हुए कई लोगों को कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जाने के पश्चात् सरकार द्वारा कई ठोस कदम भी उठाए गए हैं | यदि आप भी Tablighi Jamaat (तबलीग़ी जमात) क्या है, तबलीगी जमात और मरकज़ से जुड़ी मुख्य बातों के बारे में जानना चाहते है तो इसकी जानकारी बताई जा रही है |

आरोग्य सेतु ऐप क्या है

तबलीगी जमात और मरकज़ का मतलब

मरकज़ का मतलब केंद्र (Center) होता है तथा तबलीग का अर्थ अल्लाह और कुरान, हदीस की बात दूसरों तक पहुंचाना होता है | वहीं जमात का अर्थ ग्रुप (समूह) से है, तबलीगी जमात यानी एक ग्रुप की जमात है | तबलीगी मरकज का अर्थ इस्लाम की बात दूसरे लोगों तक पहुंचाने का केंद्र (Center) हैं |

ई पास (UP EPASS) क्या है

tablighi markaz से जुड़ी मुख्य बातें

  1. तबलीगी जमात (Tablighi Jamaat) का अर्थ है आस्था का प्रचार करने वालों के एक समूह से है |
  2. यह सुन्नी देओबंदी या वहाबी मुसलमानों की एक जमात होता है |
  3. इसकी शुरुआत मेवात के रहने वाले देओबंदी मौलाना मोहम्मद इलियास ने 1927 की थी |
  4. यह गठन के दो दशकों में मेवात के बाहर बहुत दूर-दूर तक फैल चुका है |
  5. तबलीगी जमात का प्रथम जलसा 1941 में हुआ था, जिसमें लगभग 25,000 से भी ज्यादा लोग सम्मिलित हुए थे |
  6. देश के बंटवारे के समय 1947 में इसकी प्रमुख ब्रांच पाकिस्तान के लाहौर में बनाई गई थी |
  7. वर्तमान समय में भारत के बाद बांग्लादेश में जमात का सबसे बड़ा संगठन माना जाता है |
  8. विश्व भर में 100 से अधिक देशों में जमात की ब्रांचें कार्य कर रही है |
  9. यूएस (US) और ब्रीटेन (Britain) में भी इसकी बड़ी संख्या उपस्थिति है, जहां पर भारतीयों की संख्या सबसे अधिक मानी जाती है |
  10. जमात के लोग कई समूह बना कर मस्जिदों में रुकते हैं और इसके बाद उस क्षेत्र के मुसलमानों को एकत्रित कर धार्मिक प्रवचन देने का कार्य करते हैं |
  11. इन लोगों का काम घर-घर जाकर मुसलमानों को नमाज पढ़ने, रोजा रखने, हज करने आदि के लिए प्रेरित करके जमात से जोड़ते हैं |
  12. जमात के लोगो का शिया मुसलमानों, सूफी मुसलमानों और मजार पर जाने वाले सुन्नी मुसलमानों से अधिक मतभेद रहते हैं |
  13. इन लोगों का खुदा के अतरिक्त मजार, पीर, इमाम आदि में कोई विश्वास नहीं रखते है, ये लोग केवल गैर इस्लामी काम मानते हैं |

प्रधानमंत्री केयर फण्ड क्या है

यहाँ पर हमने Tablighi Jamaat (तबलीग़ी जमात) | Tablighi Markaz के विषय में जानकारी उपलब्ध कराई है | अन्य सम्बंधित जानकारी प्राप्त करने के लिए कमेंट करे | अधिक जानकारी के लिए पोर्टल hindiraj.com पर विजिट करे |

CORONA KAVACH APP डाउनलोड कैसे करे