Special B.Ed क्या है ?



आज के समय में टीचिंग करियर भी एक अच्छ और सफल करियर माना जाता है। क्योंकि इस फील्ड में युवाओं को आसानी से प्राइवेट और सरकारी स्कूलों, संस्थाओं व कोचिंग सेंटर में एक अच्छी खासी नौकरी मिलने का अवसर मिल जाता है। इस समय टीचिंग करियर को अपनाने वाले अधिकतर युवा B.Ed करते हैं। लेकिन Special B.Ed कोर्स भी टीचिंग में करियर बनाने के लिए एक अच्छा विकल्प है। जिसके बारे में बहुत कम युवा जानते हैं। इसलिए आज हम अपने इस लेख में स्पेशल बीएड के बारे में जानकारी लेकर आए हैं। ताकि आप Special B.Ed कोर्स से जुड़ी सभी जरूरी जानकारी को अच्छे से समझ सके।

img-1


इस लेख में हम आपको Special B.Ed क्या है, B.Ed और Special B.Ed में क्या अंतर है, Special.BED Ki Fess Kitni Hai, योग्यता व इसे करने के क्या फायदे हैं आदि के बारे में बताने जा रहे हैं। तो अगर मेरे प्यारे पाठकों आप टीचिंग फिल्ड में अपना एक अच्छा करियर बनाना चाहते हैं तो फिर यह लेख आपके लिए बहुत उपयोगी साबित होने वाला है।

बीएड की तैयारी कैसे करे?

Special B.Ed का फुल फॉर्म

स्पेशल बीएड (Special B. Ed) का फुल फॉर्म “Special Bachelor of Education” है। यह एक 4 वर्षीय स्नातकोत्तर डिग्री (Post Graducation) कार्स है। यह RCI (Rehabilitation Council of India) द्वारा दिव्यांग बच्चों को शिक्षा देने के लिए विशेष रूप से डिज़ाइन किया गया है।



Special B. Ed क्या है?

टीचिंग में Bachelor of Education एक पोस्ट ग्रेजुएट डिग्री है। यह दो तरह से हासिल की जा सकती है। पहली B.Ed और दूसरी Special B.Ed कोर्स के रूप में। पहले दोनों की अवधि 2 साल थी। लेकिन अब Special B.Ed की अवधि को 2 साल से बढ़कर 4 साल कर दिया गया है। हम यहां आपको स्पेशल बीएड के बारे में बताएंगे, तो स्पेशल बीएड करने वाले छात्रों को विशेष प्रकार की ट्रेनिंग दी जाती है। जिसकी सहायता से वह विकलांग, दिव्यांग, अपंग, मानसिक रूप से कमजोर बच्चों को शिक्षा दे सके। अब आप समझ गए होंगे कि बीएड स्पेशल एजुकेशन कोर्स करने वाले मानसिक और शारीरिक रूप से परेशान बच्चों को शिक्षा प्रदान करते हैं।

B. Ed और Special B. Ed में क्या अंतर है?

B. EdSpecial B. Ed
बीएड शिक्षक बनने के लिए एक सामान्य डिग्री है।स्पेशल बीएड भी एक सामान्य डिग्री है। लेकिन यह विकलांग, अपंग तथा मानसिक रूप से कमजोर बच्चों को पढ़ाने के लिए प्राप्त की जाती है।
B. ED का फुल फॉर्म – Bachelor of Education होता है।Special B. ED  का फुल फॉर्म Special Bachelor of Education होता है।
बीएड का आयोजन NCTE (National Council for Teacher Education) द्वारा  किया जाता है।स्पेशल बीएड का आयोजन RCI (Rehabilitation Council of India) द्वारा किया जाता है
B.Ed दो साल की अवधि का कोर्स होता है।‌ इसमे 4 सेमेस्टर होते हैं।Special B.ED कोर्स पहले दो साल का होता था। परन्तु अब इसे 4 साल की अवधि का कर दिया गया है।
उम्मीदवार ग्रेजुएशन डिग्री हासिल करने के बाद बीएड कर सकता है।Special B. ED करने के लिए भी उम्मीदवारों को ग्रेजुएशन पास होना चाहिए।
बीएड करने हेतु प्रवेश परीक्षा देनी होती है।स्पेशल बीएड करने के लिए सरकार द्वारा भारत में कई संस्थान बनाए गए हैं जहाँ पर‌ जाकर आप इस कोर्स को आसानी कर सकते हैं।
बीएड पास करने के बाद आप शिक्षक बन जाते हैं और आप भारत के किसी भी सरकारी स्कूल में शिक्षक के रूप में पढ़ा सकते हैं।स्पेशल बीएड कोर्स करने के बाद आप सभी प्रकार के विकलांग, अपंग तथा शारीरिक एवं मानसिक रूप से‌ कमजोर छात्रों को पढ़ सकते हैं।
B. ED कोर्स करते समय आपको ऐसे प्रशिक्षण दिए जाते हैं जिससे आपको सभी छात्रों को पढ़ा सके।Special B. ED करते समय आपको विशेष प्रकार का प्रशिक्षण दिया जाता है  जिससे आप मानसिक व‌ शारीरिक रूप से कमजोर छात्रों को पढ़ा सके।

टीचर (Teacher) कैसे बने

Special B. Ed में कौन-कौन से सब्जेक्ट होते हैं?

स्पेशल बैचलर ऑफ एजुकेशन (Special B. Ed) एक अंडर डिग्री कोर्स होता है। पहले इसे करने में 2 साल की अवधि का समय लगता था। परन्तु अब इस कोर्स को चार वर्ष की अवधि का कर दिया गया है। उम्मीदवार स्पेशल बीएड किसी भी विषय में कर सकता है। इसमें कई प्रकार के विषय जैसे – हिंदी, अंग्रेजी, अर्थशास्त्र, केमिस्ट्री, फिजिक्स तथा आदि  विषय का चयन करके कोर्स पूरा कर सकते हैं।

स्पेशल बीएड करने के लिए पात्रता क्या होनी चाहिए?

वह उम्मीदवार जो स्पेशल बीएड कोर्स करना चाहते हैं, तो उन्हें नीचे दी गई कुछ पात्रता मानदंडों को पूरा करना होगा जो कि इस प्रकार है।

  • उम्मीदवार को भारत के किसी भी मान्यता प्राप्त कॉलेज से कम से कम स्नातक डिग्री (Graduation Degree) पास होना चाहिए।
  • विज्ञान / सामाजिक विज्ञान / मानविकी में मास्टर डिग्री रखने वाले या विज्ञान और गणित के साथ इंजीनियरिंग या प्रौद्योगिकी में स्नातक होने वाले या स्नातक डिग्री में ऑनर्स रखने वाले उम्मीदवार आवेदन कर सकते हैं।
  • ग्रेजुएशन में उम्मीदवार को कम से कम 50% अंक प्राप्त होने चाहिए।

योग्यता के आधार पर प्रवेश

  • कई संस्थान योग्यता के आधार पर स्पेशल बीएड में एडमिशन देते हैं। जिसके लिए वह अपनी ऑफिसियल वेबसाइट पर सूचना को जारी करते हैं।
  • ऑनलाइन व ऑफलाइन दोनों माध्यम से प्रवेश दिए जाते हैं। आपको ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर पात्रता चेक करनी होती है। यदि आप पात्रता को पूरा करते हैं तो आवेदन कर सकते हैं ‌
  • जिसके बाद कॉलेज Cut Off के अनुसार official website पर मेरिट लिस्ट जारी करते हैं।

प्रवेश आधारित प्रक्रिया

  • कई ऐसी यूनिवर्सिटी ऐसी होती हैं जो स्पेशल बीएड कोर्स के लिए प्रवेश परीक्षा आयोजित करती है।
  • उम्मीदवार पात्रता के आधार पर रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं।
  • जब उम्मीदवार आवेदन कर लेते हैं उसके बाद प्रवेश परीक्षा होती है। जिसके लिए एडमिट कार्ड जारी किए जाते हैं। आप कॉलेज की ऑफिसियल वेबसाइट से एडमिट कार्ड डाउनलोड कर सकते हैं और प्रवेश परीक्षा दे सकते हैं। अगर आप प्रवेश परीक्षा पास कर लेते हैं तो आपको स्पेशल बीएड में एडमिशन दे दिया जाता है।

बीएड स्पेशल एजुकेशन के टॉप कॉलेज और उनकी फीस

  • संस्कृति यूनिवर्सिटी- 1,20,000 रुपए
  • बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी- 5,670 रुपए
  • कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी- 10,860 रुपए
  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ एजुकेशन एंड रिसर्च- 1,70,000 रुपए
  • नेताजी सुभाष ओपन यूनिवर्सिटी- 30,000 रुपए
  • नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेंटल हैंडीकैप्ड- 20,000 रुपए

टीजीटी (TGT) क्या होता है ?

स्पेशल बी.एड. के फायदे

  • इस समय विशेष आवश्यकता वाले छात्रों को पढ़ने के लिए कुशल शिक्षकों की बहुत जरूरत है। ऐसे में अगर आप Special B.Ed कर लेते हैं तो आपकी नौकरी आसानी से लग जाएगी।
  • बीएड स्पेशल एजुकेशन करने के बाद प्राइमरी टीचर, करियर काउंसलर, कंटेंट राइटर और समान रूप से शैक्षणिक संस्थान, समाचार और मीडिया, एनजीओ जैसे क्षेत्रों में आसानी से अच्छी नौकरी मिलती है।
  • Special B.Ed करने के बाद आप M.Ed भी कर सकते हैं। इससे आपके टीचिंग करियर को ओर ग्रोथ मिलेगी।
  • इस कोर्स करने वालो का औसत वेतन INR 2 LPA से लेकर INR 5 LPA तक होता है।

FAQs – Special B.ED Kya Hai

स्पेशल बीएड क्या होता है?

Special B.ED एक एजुकेशन कोर्स है। इस कोर्स में कैंडिडेट को विकलांग, दिव्यांग, अपंग स्टूडेंट्स को पढ़ने के लिए स्पेशल ट्रेनिंग दी जाती है।

स्पेशल बीएड कितने साल का होता है?

पहले Special B.ED 2 साल का कोर्स था लेकिन अब इसे 4 साल का कर दिया गया है।

स्पेशल बीएड की कितनी फीस है?

इस समय कई कॉलेज‌ स्पेशल करने की सुविधा ‌दे रहे हैं। आप इनकी Office Website पर जाकर फीस स्ट्रक्चर चेक कर सकते हैं।

क्या Special B. ED की डिग्री सामान्य B. ED के समान ही होती है?

जी, हां स्पेशल बीएड की डिग्री सामान्य बीएड की तरह ही होती है। परंतु स्पेशल बीएड में मानसिक व शारीरिक रूप से कमजोर छात्रों को पढ़ने के लिए उम्मीदवार को विशेष प्रशिक्षण दिया जाता है। वहीं सामान्य बीएड में नियमित छात्रों को पढ़ने के लिए प्रशिक्षण दिया जाता है।

पीजीटी (PGT) क्या होता है ?

Leave a Comment