बीडीसी (BDC) क्या है



भारत एक कृषि प्रधान देश है, जहाँ पर 67 प्रतिशत जनसंख्या गांवों में निवास करती है | जहाँ पर सरकार द्वारा विकास करने के लिए जनता से सीधा प्रधान और क्षेत्र पंचायत सदस्य यानि कि बीडीसी (BDC) को चुना जाता है | सभी बीडीसी (BDC) मिलकर एक ब्लॉक प्रमुख का चुनाव करते है, ब्लॉक प्रमुख बीडीसी सदस्य का मुखिया होता है | वहीँ बीडीसी को ग्राम पंचायत में कई कार्य भी सौंपें जाते है, जैसे नाली निर्माण कराना, खड़ंजा लगवाना और अन्य कार्य भी बीडीसी सदस्य की निगरानी में होते है |

क्षेत्र पंचायत सदस्य पूरे ग्राम सभा में वार्ड के मुताबिक चुने जाते है, यह एक बड़ी ग्राम सभा में कई हो सकते है | यदि आप भी बीडीसी (BDC) क्या है, चुनाव प्रक्रिया, फुल फॉर्म, योग्यता और वेतन के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो यहाँ पर इसके विषय में बताया जा रहा है |

ग्राम प्रधान (सरपंच) की शिकायत कैसे करे

बीडीसी (BDC) का फुल फॉर्म (BDC Full Form)

बीडीसी (BDC) का फुल फॉर्म “Block Development Council” होता है, इसका हिंदी में उच्चारण “ब्लॉक डेवलपमेंट काउंसिल” होता है | इसके अलावा इसे “ब्लॉक डेवलपमेंट कमेटी” भी कहा जाता है, तथा हिंदी में क्षेत्र पंचायत सदस्य भी कहते है, इसका शार्ट फॉर्म बीडीसी (BDC) सबसे प्रचलित शब्द है, जगहों पर इसे “प्रखंड विकास समिति” भी कहते है | इसके अलावा बिजनेस के क्षेत्र में भी, यह काफी प्रसिद्ध शब्द है | इस क्षेत्र में इसे “Bussiness Development Company” भी कहा जाता है | इसका हिंदी उच्चारण “बिजनेस डेवलपमेंट कंपनी” है|

बीडीसी (BDC) चुनाव प्रक्रिया (BDC Election Process)

बीडीसी (BDC) चुनाव के लिए साधारण चुनाव प्रक्रिया होती है, जो राज्य सरकार के निर्वाचन आयोग द्वारा करवाई जाती है, इसका चुनाव बैलेट पेपर के माध्यम से कराया जाता है | इस प्रक्रिया में ग्राम सभा की जनता सीधे रूप से भाग लेती है | इसके लिए एक वार्ड निश्चित होता है, उसी के अंतर्गत आने वाले वोटर्स ही इसमें भाग ले सकते है, एक ग्राम पंचायत में एक से अधिक बीडीसी हो सकते है | इस चुनावी प्रक्रिया में जीतने वाले उम्मीदवार को बीडीसी (BDC) माना जाता है |

ग्राम प्रधान (Gram Pradhan) कैसे बने?

बीडीसी की योग्यता (BDC Eligibility)

अभी पंचायती चुनाव के लिए कोई योग्यता निर्धारित नहीं की गई है | परन्तु उत्तर प्रदेश सरकार और राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा वर्ष 2021 में होनें वाले पंचायती चुनाव (Panchayat Election) में सभी के लिए न्यूनतम योग्यता निर्धारित करने की योजना बना रही है | चुनाव की घोषणा के साथ नियमों की भी घोषणा की जा सकती है |

बीडीसी का वेतन (BDC Salary)

उत्तर प्रदेश में बीडीसी (BDC) पद के लिए कोई वेतन अभी तक निर्धारित नहीं किया गया है, परन्तु देश के कुछ राज्यों में उसे मानदेय के रूप में वेतन दिया जाता है | जैसे कि मध्य प्रदेश में क्षेत्र पंचायत सदस्यों को मानदेय के रुप में 4500 से 4800 रुपए तक देने का प्रावधान है | इस तरह भारत में किसी राज्य में वेतन दिया जाता है और किसी राज्य में नहीं |

यहाँ आपको बीडीसी (BDC) के विषय में जानकारी प्रदान की गई | यदि इस जानकारी से संतुष्ट है, या फिर इससे समबन्धित अन्य जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो कमेंट करे और अपना सुझाव प्रकट करे, आपकी प्रतिक्रिया का निवारण किया जायेगा | अधिक जानकारी के लिए hindiraj.com पोर्टल पर विजिट करते रहे |

ई ग्राम पंचायत पोर्टल क्या है

Leave a Comment