एमफिल (M.Phil) क्या होता है ?



वर्तमान समय में शिक्षा का महत्वपूर्ण काफी बढ़ चुका है, जीवन में एक सम्मानित कार्य करने एवम धनोपार्जन में शिक्षा बेहद अहम भूमिका निभाती है। अतः इसी बात की भली भांति समझते हुए हमारे देश का युवा वर्ग भी आज शिक्षा के माध्यम से आगे बढ़ना चाहता है | 

img-1


ऐसे में कई प्रकार के कोर्स उपलब्ध हैं, जिनके माध्यम से हम निश्चित रूप से अपने भविष्य को सही दिशा की ओर ले जा सकते हैं | अतः आज हम आपको एक महत्वपूर्ण कोर्स एमफिल [M.Phil] के बारे में जानकारी देंगे जो निश्चित रूप से ही आने वाले समय में भी संभावनाओं के अनेक मार्ग खोलता है | यहां हम आपको एमफिल कोर्स करने हेतु योग्यता, फुल फॉर्म, फीस और सारी जानकारियों के बारे में बताएंगे ताकि आप भी सही मार्गदर्शन प्राप्त कर सकें |

आर्किटेक्ट (Architect) क्या होता है ?

एमफिल [ M.Phil] क्या है 

अगर आप भीड़  में अलग नजर आना चाहते हैं इसके लिए  एमफिल [M.Phil] का कोर्स  करना फायदेमंद हो सकता है | यह मुख्य रूप से 2 साल का कोर्स होता है जिसे आप अपने पोस्ट ग्रेजुएशन के बाद भी कंप्लीट कर सकते हैं | वे छात्र जो टीचिंग या फिर रिसर्च के क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते हैं उनके लिए एमफिल करना बेहद फायदेमंद साबित होता है | यह एक ऐसा कोर्स होता है जिसके माध्यम से आप प्रैक्टिकल और रिसर्च के बारे में भी ज्यादा जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। अगर आप एम फिल [M.Phil] करना चाहते हैं इसके लिए आप सरकारी और गवर्नमेंट दोनों ही कॉलेजों में अप्लाई कर सकते हैं  और अपना सुनहरा भविष्य निश्चित कर सकते हैं|



एमफिल [M. Phil] का फुल फॉर्म

एमफिल का फुल फॉर्म “Master of Philosophy” है जिसे संक्षिप्त रूप में एमफिल ही कहा जाता है।

एमफिल [M.Phil] के लिए विशेष योग्यताएं

अगर आप एम फिल [M.Phil] करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको इन मुख्य विशेषताओं का होना आवश्यक है ताकि आसानी के साथ इस  कोर्स  को पूरा कर सके |

  1. यह कोर्स पोस्ट ग्रेजुएशन के बाद ही होता है | ऐसे में अगर आपने पोस्ट ग्रेजुएशन कर लिया हो ऐसी स्थिति  मैं आप इस  कोर्स को  कर सकते हैं।
  2. एमफिल [M.Phil] करने के लिए पोस्ट ग्रेजुएशन में आपको कम से कम 55% नंबर होना आवश्यक हैं।
  3. अगर आपने किसी भी शाखा से पोस्ट ग्रेजुएशन किया हो, तो फिर आप आसानी के साथ ही एमफिल कर सकते हैं |
  4. एमफिल [M.Phil] करने के लिए कभी भी कोई आयु का निर्धारण नहीं किया गया है, ऐसे में निश्चित रूप से ही बिना आयु का पता लगाएं  एमफिल कर सकते हैं|
  5. अगर आप किसी आरक्षित वर्ग से आते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको 5% की छूट प्राप्त होती है |
  6. इसके अलावा विभिन्न प्रकार की  प्रतियोगी परीक्षा जैसे NET,SET  एवं GATE एग्जाम में पास होने की स्थिति में भी आपको कुछ हद तक छूट मिल सकती है |
  7. एमफिल [M.Phil] करने के लिए आपको इस बात की संतुष्टि होनी चाहिए कि आप इस कोर्स  को करना चाहते हैं |

एमफिल कोर्स में एडमिशन की प्रक्रिया

आप भारत की किसी भी सरकारी और प्राइवेट यूनिवर्सिटी से  एमफिल [M.Phil] कर सकते हैं | जिसके लिए आपको लिखित परीक्षा और इंटरव्यू  की तैयारी करनी होगी | कई बार  होने वाली प्रतियोगी परीक्षाओं के माध्यम से भी एडमिशन प्राप्त होता है | इसके अलावा कुछ यूनिवर्सिटी ऐसी भी है जो पोस्ट ग्रेजुएशन के हाई परसेंटेज आने पर ही एडमिशन देते हैं | ऐसे में अगर आप  एम फिल  करना चाहते हैं, तो आपको कड़ी मेहनत करनी होगी ताकि किसी अच्छी यूनिवर्सिटी में आपका एडमिशन हो सके | आप अपने हिसाब से यूनिवर्सिटी का चयन कर सकते हैं और फिर एमफिल की पढ़ाई कर सकते हैं |

एमफिल कोर्स की फीस

अगर आप एमफिल [M.Phil] कोर्स की फीस के बारे में जानना चाहते हैं तो हम आपको बताना चाहेंगे कि अलग-अलग यूनिवर्सिटी के फी स्ट्रक्चर अलग-अलग होते हैं | ऐसे में अगर आप किसी सरकारी कॉलेज से एम फिल करना चाहते हैं, तो ऐसे में फीस 30 से ₹50000 होती है | इसके अलावा अगर आप किसी प्राइवेट इंस्टिट्यूट से कोर्स करना चाहते हैं तो इसमें  फीस लगभग 3  लाख रुपए से 5 लाख रुपए  होती है |

एमफिल [M.Phil] के कोर्स के बाद मिलने वाले करियर के विकल्प

अगर आपने एक बार  एमफिल [M.Phil] का कोर्स कर  लिया  हो इसके बाद आपको किसी प्रकार की दिक्कत नहीं आती है और फिर आपके सामने कुछ  मुख्य  करियर के विकल्प  खुल जाते हैं |

  1. एम फिल करने के बाद अगर आप चाहे तो पीएचडी की जा सकती है लेकिन अगर आप  यही तक ही सीमित रहना चाहते हैं तो आप आसानी के साथ ही किसी अच्छे इंस्टिट्यूट में टीचिंग की जॉब कर सकते हैं|
  2.  कई बार कुछ संस्थान ऐसे होते हैं जिन्हें एक्सपर्ट की आवश्यकता होती है | ऐसे में  एमफिल  करने के बाद आसानी के साथ ही किसी इंस्टिट्यूट में एक्सपर्ट बन सकते हैं |
  3. कुछ विषय ऐसे होते हैं, जिनके माध्यम से  एम फिल [M.Phil] करने पर आप खुद का एनजीओ खोल सकते हैं | जिसमें मुख्य रुप से सामाजिक अध्यन जैसे विषय शामिल हैं |
  4. इसके अलावा अगर आप चाहे  तो मीडिया और रिसर्च एंड डेवलपमेंट क्षेत्रों में भी भाग्य आजमाया जा सकता है |
  5. इसके माध्यम से आप ह्यूमन सर्विसेज इंडस्ट्री और कंसलटेंसी में भी आसानी के साथ  जॉब  प्राप्त कर सकते हैं |
  6. कुछ ऐसे भी लॉ फर्म होते हैं जिनमें  एमफिल वालों की  पूछ परख होती है | ऐसे में अगर आप चाहे तो किसी अच्छे लॉ फर्म में भी अप्लाई कर सकते हैं |

एमफिल [M.Phil] कोर्स करने के बाद मिलने वाली सैलरी

अगर आपने किसी अच्छे  इंस्टीट्यूट से एमफिल  किया हो ऐसे में आसानी के साथ आपको ₹30000 से ₹40000 मिल जाते हैं | जैसे-जैसे आप का अनुभव बढ़ता जाता है वैसे आपकी सैलरी भी बढ़ती चली जाती है ऐसे में आप आसानी के साथ ₹50000 से ₹100000 प्रति महीने भी कमा सकते हैं |

एमफिल [M.Phil] करने के मुख्य फायदे

अगर आप मुख्य रूप से  एमफिल  का कोर्स करना चाहते हैं तो इससे आपको कुछ फायदे प्राप्त होंगे |

  1. एमफिल [M.Phil] करने के बाद आप खुद को सही तरीके से स्थापित कर सकते हैं जिसमें अपने विषय के एक्सपर्ट भी बन सकते हैं |
  2. एमफिल करने के बाद आपकी जॉब भी सिक्योर होती है और आसानी के साथ महीनों के हजारों रुपए कमा सकते हैं |
  3. एमफिल एक ऐसी डिग्री है जिसको करने के बाद आपका आत्मविश्वास बढ़ता है और आप सही तरीके से आगे बढ़ सकते हैं |
  4. यह एक हाई लेवल की डिग्री है जिसको करने के बाद आप कई जगह उच्च पद हेतु नौकरी के लिए अप्लाई कर सकते हैं |
  5. अगर आप चाहें तो एमफिल के बाद पीएचडी की डिग्री भी हासिल कर सकते हैं |

पीजीडीएम (PGDM) क्या होता है ?

एमफिल  [M.Phil] के मुख्य विषय

एमफिल के विषय का चयन अपने पसंद के अनुसार कर सकते हैं जिसमें आप सही  इस तरीके से आगे बढ़ सके | ऐसे भी कुछ  मुख्य विषय के बारे में आपको बताने वाले  हैं |

  1. बायोकेमेस्ट्री
  2. बायोटेक्नोलॉजी
  3. सायकोलॉजी
  4. बायो साइंस
  5. हिंदी
  6. गुजराती
  7. प्राकृत

एमफिल [M.Phil] के लिए विशेष  कोर्स

एमफिल  के अंतर्गत कई सारे ऐसे कोर्स हैं जिन्हें  आप कर सकते हैं |

  1. M.Phil in History
  2. M.Phil in English
  3. M.Phil in Economics
  4. M.Phil in Political science
  5. M.Phil in Hindi
  6. M,Phil in Geography
  7. M.Phil in Sociology
  8. M.Phil in Social work
  9. M.Phil in Public administration
  10. M.Phil in Humanities and social science
  11. M,Phil in Commerce
  12. M.Phil in Law
  13. M.Phil in Education

भारत के टॉप एमफिल  कॉलेज

  1. अन्नामलाई यूनिवर्सिटी, अन्नामलाई नगर |
  2. क्राइस्ट यूनिवर्सिटी, बैंगलोर |
  3. श्री गुरु गोविंद सिंह  ट्राई  सेंचुरी यूनिवर्सिटी, गुड़गांव |
  4. गुजरात फॉरेंसिक साइंस यूनिवर्सिटी, गांधीनगर |
  5.  जैन यूनिवर्सिटी, बैंगलोर |
  6. उत्कल यूनिवर्सिटी, भुवनेश्वर |
  7. आईआईटी हैदराबाद इंस्टीट्यूट आफ टेक्नोलॉजी |
  8. NIMS यूनिवर्सिटी, जयपुर |
  9. गुरु गोविंद सिंह  इंद्रप्रस्थ यूनिवर्सिटी, दिल्ली |
  10. टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंस, मुंबई |

एमफिल [ M.Phil] और पीएचडी [P.HD,] में मुख्य अंतर

हमारे देश के कुछ विद्यार्थी ऐसे हैं जिन्हें एमफिल और पीएचडी में कन्फ्यूजन होता है और सही तरीके से इस बात का आकलन नहीं कर पाते कि इन दोनों में से किस कोर्स को करने में ज्यादा भलाई है। ऐसे में हम उन विद्यार्थियों के लिए उन दोनों कोर्स के अंतर्गत कुछ अंतर बताने वाले हैं ताकि आप भी सही तरीके से आकलन कर सके |

  1. एमफिल [M.Phil] का कोर्स हमेशा 2 सालों का होता है लेकिन अगर आप पीएचडी [P.HD] करते हैं, तो आपको 2 से 4 सालों का समय लगता है |
  2. अगर आप एमफिल करते हैं तो इसके बाद आपको मास्टर ऑफ फिलॉसफी की डिग्री प्राप्त होती है लेकिन अगर आप पीएचडी करते हैं तो आपको डॉक्टर ऑफ़ फिलोसोफी की डिग्री प्राप्त होती है |
  3. एमफिल कर लेने के बाद आपके नाम के आगे डॉक्टर नहीं लगता है जबकि अगर आप एमफिल कर लेते हैं तो आपके नाम के आगे हमेशा  ‘’डॉक्टर’’ लगता है |
  4. एमफिल में रिसर्च हमेशा छोटे लेवल पर की जाती है जबकि पीएचडी करने पर रिसर्च हमेशा बड़े लेवल की होती है |
  5. एमफिल में अपने रिसर्च वर्क को कंबाइन कर दिया जाता है लेकिन पीएचडी में हमेशा अपनी ही ओरिजिनल वर्क और रिसर्च पर लिखा जाता है |
  6.  एमफिल एक प्रकार की पोस्ट ग्रैजुएट डिग्री है जबकि पीएचडी हायर डिग्री के नाम से जानी जाती है |

एम फिल [M.Phil] करने में है कड़ी मेहनत

जैसा कि हम सभी को पता है कि किसी भी कोर्स को करने में कड़ी मेहनत लगती है लेकिन अगर एमफिल की  बात करें तो इसमें आपको दोगुनी मेहनत करनी पड़ती है क्योंकि यह एक प्रकार का पोस्ट ग्रैजुएट से ऊपर का कोर्स है जिसे करना आपका  सपना होता है | ऐसे में अगर आप एमफिल [ M.Phil] का कोर्स  करते हैं तो निश्चित रूप से ही अपने भविष्य को सुरक्षित करते हैं | ऐसे में आपको अपनी कड़ी मेहनत पर ध्यान देना होगा ताकि आप हमेशा आगे की ओर बढ़ते जाएं | कुछ लोग आपको बहकाने की भी कोशिश करेंगे लेकिन आपको मेहनत करके आगे बढ़ाना  होगा |  

एलएलबी (LLB) क्या होता है

Leave a Comment