समीक्षा अधिकारी क्या होता है

समीक्षा अधिकारी में आवेदन करने वाले अभ्यर्थियों को UPPSC (यू.पी.पी.एस.सी.) की परीक्षा में सफलता प्राप्त करनी होगी क्योंकि, RO की परीक्षा के माध्यम से ही आप यह पद प्राप्त कर सकते है | RO पद के लिए उत्तर प्रदेश के सरकारी संस्थाओं और सचिवालय में नियुक्त की जाती है | यह किसी के भी लिए करियर बनाने के लिए एक बहुत ही अच्छी नौकरी साबित होगी | यह एक महत्वपूर्ण पद है, लेकिन इस पद  में सफलता पाने के लिए अभ्यर्थी को अत्यधिक परिश्रम करने की आवश्यकता है | आवेदन करने वाले अभ्यर्थियों  को परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण जानकारी होना  भी अतिआवश्यक है | इसलिए समीक्षा अधिकारी क्या होता है, RO कैसे बने, वेतन, योग्यता क्या है?  आपको इसके बारें में  यहाँ पर विस्तार से जानकारी बताई जा रही है |

ये भी पढ़े: सी.डी.ओ. (CDO) कैसे बने

RO कैसे बने

जो अभ्यर्थी समीक्षा अधिकारी बननें के लिए आवेदन करते हैं तो उन अभ्यर्थियों को सबसे पहले उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (यू.पी.पी.एस.सी.) द्वारा आयोजित उत्तर प्रदेश समीक्षा अधिकारी/ सहायक समीक्षा अधिकारी परीक्षा में  शामिल होना रहता है | जो अभ्यर्थी इस परीक्षा में सफल हो जाते है तो उन्हें  सामान्यत: सचिवालय भवन, लखनऊ एवं उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग भवन, इलाहाबाद आदि में  चयन कर लिए जाता है |

शैक्षिक योग्यता (Qualification)

इस पद के लिए आवेदन करने वाले अभ्यर्थियों को किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक होना  अनिवार्य है क्योंकि, इसके बिना वो इस पद के लिए आवेदन नहीं कर सकते है |

आयु सीमा (age limit)

इस परीक्षा में शामिल होने वाले अभ्यर्थी की न्यूनतम आयु 21 वर्ष और अधिकतम आयु 40 वर्ष के बीच होनी चाहिए | वहीं, आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों को नियमानुसार आयु सीमा में छूट प्रदान की जाती है |

चयन प्रक्रिया (selection process)

इस पद के लिए अभ्यर्थियों को केवल लिखित परीक्षा  ही देनी पड़ती है इसमें अभ्यर्थियों को इंटव्यू के लिए नहीं बुलाया जाता  है, लेकिन अभ्यर्थी को लिखित परीक्षा के अंतर्गत प्रारंभिक परीक्षा और मुख्य परीक्षा देनी रहती है, प्रारंभिक परीक्षा के अंतर्गत  अभ्यर्थियों को दो पेपर देने रहते है |

ये भी पढ़े: बेसिक शिक्षा अधिकारी (BSA) कैसे बने

ये भी पढ़े:  पीसीएस (PCS) परीक्षा की तैयारी कैसे करे?

प्रारंभिक परीक्षा (pre Exam)

प्रारंभिक परीक्षा के अंतर्गत सामान्य अध्ययन में 140 बहुविकल्पीय प्रश्न दिए जाते है, और हिंदी से सम्बंधित परीक्षा में 60 बहुविकल्पीय प्रश्न हल करने रहते है,  जिसके  लिए एक अंक निर्धारित किया जाता  है, अर्थात परीक्षा का पूर्णांक 200 अंको  का निर्धारित किया गया है | इसके बाद  अभ्यर्थियों को दोनों प्रश्नपत्रों को मिलाकर सामान्यत: 60 से 65 प्रतिशत अंक लाने अनिवार्य रहेंगे |

विषयप्रश्न स०अंक
सामान्य अध्ययन140140
हिंदी6060

सामान्य अध्ययन की परीक्षा के लिए महत्वपूर्ण जानकारी 

सामान्य अध्ययन से सम्बंधित पाठ्यक्रम के अंतर्गत निम्न पुस्तकों  की सहायता लेकर अध्यन किया जा सकता है |

1.इतिहास

इस परीक्षा में अच्छे मार्क्स लाने के लिए और भारतीय इतिहास के बारें में जानने के लिए यूनिक या स्पेक्ट्रम की पुस्तक पढ़ सकते है, विशेष रूप  से इस पद के लिए कॉम्पटीशन और घटनाचक्र पूर्वावलोकन, भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन से सम्बंधित  प्रश्न अधिक पूछे जाते है |

ये भी पढ़े: संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) क्या है?

2.विश्व भूगोल के लिए 

इसमें महेश बर्णवाल और घटनाचक्र पूर्वावलोकन के बारे में  पढ़ सकते है |

3.भारतीय अर्थव्यवस्था

प्रतियोगिता दर्पण तथा भारतीय अर्थव्यवस्था से सम्बंधित जानकारी  प्राप्त करने के लिए भारतीय अर्थव्यवस्था पुस्तक  का अध्यन करके  राष्ट्रीय  आय, कृषि आर्थिकी, बैंकिंग और पूँजी बाजार, विदेश व्यापार और अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक संगठनों के बारें में पूरी जानकारी ले सकते है|

4.संविधान के  विषय में अध्ययन करने के लिए परीक्षावाणी की भारतीय राजव्यवस्था और घटनाचक्र पूर्वावलोकन पुस्तक पढ़कर अध्यन कर सकते है |

5.कृषि के लिये घटनाचक्र की किताब ‘कृषि प्रौद्योगिकी’ और घटनाचक्र पूर्वावलोकन का अध्ययन कर सकते है ।

6.भारतीय भूगोल का अध्यन किया जा सकता है |

7.साइंस के लिए एनसीईआरटी और घटनाचक्र पूर्वावलोकन और घटनाचक्र समसामयिक वार्षिकी के विज्ञान प्रौद्योगिकी के बारे में पूर्ण जानकारी प्राप्त कर सकते है।

द्वितीय प्रश्न पत्र – हिंदी से सम्बंधित महत्वपूर्ण जानकारी 

हिंदी प्रश्न पत्र में 60 बहुविकल्पीय प्रश्न अभ्यर्थियों को हल करने रहते है  |

क्रम स०हिंदी पाठ्यक्रमप्रश्नों की स०
1.विलोम शब्द10 प्रश्न
2.वाक्य शुद्धि एवं वर्तनी10 प्रश्न
3.अनेक शब्दों के लिए एक शब्द10 प्रश्न
4.तत्सम और तद्भव10 प्रश्न
5.विशेषण और विशेष्य10 प्रश्न
6.पर्यायवाची शब्द10 प्रश्न
कुल प्रश्नों की संख्या60

ये भी पढ़े: रेलवे में स्टेशन मास्टर कैसे बने?

हिंदी प्रश्नपत्र से सम्बंधित पाठ्यक्रम 

1.इसमें आप अच्छे अध्ययन के लिए हरदेव बाहरी की पुस्तक पढ़ सकते है |

2.यूथ प्रकाशन का आर.ओ/ए.आर.ओ सामान्य हिंदी के बारे में पढ़ सकते है |

3.इस परीक्षा के लिए अभ्यर्थी एस आर पब्लिकेशन की समीक्षा अधिकारी हिंदी पुस्तक पढ़ सकते है |

मुख्य परीक्षा (mains exam)

1.प्रथम प्रश्नपत्र- सामान्य अध्ययन यह प्रश्न पत्र बहुविकल्पीय कराया जाता  है ।

2.द्वितीय प्रश्नपत्र- सामान्य हिंदी एवं आलेखन यह प्रश्न पत्र वर्णनात्मक प्रकृति का कराया जाता है ।

3.तृतीय प्रश्नपत्र सामान्य शब्द एवं हिंदी व्याकरण यह प्रश्न पत्र वस्तुनिष्ठ (बहुविकल्पीय) प्रकृति का होता है।

4.चतुर्थ प्रश्नपत्र- हिंदी निबंध वर्णनात्मक प्रकृति के विषय में है ।

ये भी पढ़े: एसएससी CHSL परीक्षा तैयारी कैसे करे?

आर.ओ. मुख्य परीक्षा में कुल 400  अंक निर्धारित किये गए है 

प्रथम प्रश्नपत्र सामान्य अध्ययन में अभ्यर्थियों को कुल 120 वस्तुनिष्ठ प्रश्नों को हल करना रहता है | जिसके लिए उन्हें अधिकतम दो घंटे का समय  दिया जाता है, द्वितीय प्रश्नपत्र सामान्य हिंदी एवं आलेखन (वर्णनात्मक) के लिये अधिकतम 100 अंक निर्धारित किये गए है, जिसके लिए अभ्यर्थियों को  ढाई घंटे  का समय दिया जाता है, तृतीय प्रश्नपत्र सामान्य शब्द एवं हिंदी व्याकरण (वस्तुनिष्ठ) में अभ्यर्थियों को   कुल 30 प्रश्न  हल करने रहते हैं, इसका   अधिकतम 60 अंक निर्धारित किये गए है  इसे हल करने के लिए अभ्यर्थियों को अधिकतम आधे घंटे का समय मिलेगा ,चतुर्थ प्रश्नपत्र हिंदी निबंध के लिये अधिकतम 120 अंक निर्धारित  किये गए है, इसे हल करने के लिए अभ्यर्थियों को अधिकतम तीन घंटे  का समय दिया जाता है |

प्रश्न पत्रविषयप्रश्न स०                समयअंक
प्रथम प्रश्नपत्रसामान्य अध्ययन1202 घंटे120
द्वितीय  प्रश्नपत्रसामान्य हिंदी एवं आलेखन1002 घंटे 30 मिनट100
तृतीय  प्रश्नपत्रसामान्य शब्द एवं हिंदी व्याकरण3030 मिनट60
चतुर्थ  प्रश्नपत्रहिंदी निबंधप्रश्न पत्र के अनुसार3 घंटे120 अंक

ये भी पढ़े: एसएससी MTS की तैयारी कैसे करे?

वेतन (Salary)

समीक्षा अधिकारी  को   प्रतिमाह  वेतन 9,300-34,800 रुपये  दिए जाते है |

समीक्षा अधिकारी के कार्य

1.समीक्षा अधिकारी का मुख्य कार्य  रूप से अनुभाग में प्राप्त होनें वाले पत्रों को दैनिकी में अंकित करना, तथा अनुभाग के लिये निर्धारित पंजियों का रख-रखाव करना और कागज पत्रों, पत्रावलियों के संचालन को सही-सही अंकित करना रहता है ।

2.स्वच्छ प्रतियां तथा विवरण पत्र तैयार करना रहता है |

3.इसके अलावा प्रतियों का मिलान करनें में अन्य सहायकों को सहायता प्रदान करना रहता है |

4.समीक्षा अधिकारी निर्गत की जानें वाली समस्त डाक को पत्रवाहक-पुस्तिका में अंकित करना तथा पत्रों को वितरित हो जाने के उपरान्त पत्रवाहक पुस्तिका की जांच  करता है |

5.यह अधिकारी अपना कर्तव्य पूरा करने के लिए निर्गमन  से पूर्व पत्रों के सभी संलग्नकों की जांच  करते है |

यहाँ पर आपको  समीक्षा अधिकारी क्या होता है | RO कैसे बने, वेतन | योग्यता क्या है है | इस बात की सम्पूर्ण जानकारी दी गई है | इस प्रकार की अन्य जानकारी के लिए आप www.hindiraj.com पर विजिट कर सकते है | यदि  आप दी गयी जानकारी के विषय में अपने विचार या सुझाव अथवा प्रश्न पूछना चाहते है, तो कमेंट बॉक्स के माध्यम से संपर्क कर सकते है |

ये भी पढ़े: एलआईसी एएओ (LIC AAO) कैसे बने?

ये भी पढ़े: सरकारी बैंक और प्राइवेट बैंक की सूची

ये भी पढ़े: भारतीय संविधान क्या है?

ये भी पढ़े: मुख्यमंत्री (CM) को पत्र कैसे लिखे?