How To Do Meditation Explained in Hindi

हमारे देश में ध्यान अर्थात मेडिटेशन का इतिहास हजारों वर्ष पुराना है | ध्यान का आध्यात्मिक महत्व के साथ-साथ चिकित्सीय और धार्मिक महत्व भी है | ध्यान का हमारे व्यक्तित्व के साथ-साथ शरीर पर भी गहरा प्रभाव पड़ता है | वर्तमान समय में इसकी बढ़ती लोकप्रियता बढ़ती जा रही है, और ज्यादा से ज्यादा लोग इसकी तरफ आकर्षित हो रहे हैं, क्योंकि आज की इस भागदौड़ की जिंदगी में मेडिटेशन ही एक सरल उपाय है, जो ध्यान करनें वाले व्यक्ति को आंतरिक रूप से रिलैक्स करने में मदद करता है | तो आईये जानते है, कि मेडिटेशन या ध्यान क्या है, इसके प्रकार और इससे होनें वाले लाभ के बारें में |

पार्किंसन रोग क्या है

मेडिटेशन या ध्यान क्या है (What is Meditation)

ध्यान को इंग्लिश में मेडिटेशन (Meditation) कहा जाता है | अपनें मन को किसी एक बिंदु, किसी व्यक्ति या वस्तु पर एकाग्र करना और उसमे लीन हो जाना ही ध्यान कहलाता है | दूसरे शब्दों में मन को केंद्रित करने की किसी भी प्रकार की क्रिया मनोयोग अर्थात ध्यान कहलाती है | हमारे देश में इस क्रिया का अभ्यास प्राचीन काल से किया जा रहा है और इसे सिर्फ हिन्दू धर्म के लोग ही नहीं बल्कि इसे लगभग सभी धर्मों के लोग करते है | 

मेडिटेशन के माध्यम से हम एक सीमित समय के लिए अपनी सोचनें की शक्ति पर विराम लगा सकते है | ध्यान करते समय एक व्यक्ति किसी भी तरह के विचारों से मुक्त हो जाता है और उसका ध्यान सिर्फ एक ही ओर केन्द्रित होता है |  

कोरोना वायरस (CORONAVIRUS) क्या है

मेडिटेशन या ध्यान के प्रकार (Types of Meditation)

मेडिटेशन अर्थात ध्यान कई प्रकार होते हैं, परन्तु सभी प्रकार के मेडिटेशन करने का उद्देश्‍य एक ही होता है | किसी भी तरह का ध्यान आपको सिर्फ मानसिक रूप से प्रसन्न ही नहीं बनाता बल्कि भावनात्मक रूप से शांति और स्थिरता प्रदान करता है | चूँकि मेडिटेशन कई प्रकार होते हैं, इनमें से कुछ इस प्रकार है-

1.विपस्सना ध्यान (Vipassana meditation|

विपस्सना मेडिटेशन, ध्यान करनें की सबसे महत्वपूर्ण विधि है, और इस प्रक्रिया में सांस का उपयोग किया जाता है | विपस्सना मेडिटेशन करनें का मुख्य उद्देश्य मानसिक शांति के लिए ध्यान केंद्रित करना होता है | इस ध्यान के नियमित अभ्यास करनें से आप अपनें विचारों को समझने लगेंगे | यह ध्यान उन लोगो के लिए सबसे उपयुक्त है, जिनका मार्गदर्शन करने वाला कोई नहीं होता है, क्योंकि इसका अभ्यास अकेले और आसानी से किया जा सकता है |

कम उम्र में बाल सफेद होने के कारण और उपाय

2.आध्यात्मिक ध्यान (Spiritual meditation)

हमारे देश में सभी धर्मों के लोग रहते है और सभी लोग अपनें-अपनें धर्मानुसार पूजा-पाठ करते है, यह प्रकार से आध्यात्मिक ध्यान है जो प्रार्थना करने के समान ही है | जब कोई व्यक्ति पूजा करता है, तो उस समय वह अपनें चारों ओर शांति महसूस करते ही स्वयं को ईश्वर से जुड़ा हुआ महसूस करता हैं | इस ध्यान को आप अपनें पूजा करनें के स्थान पर कर सकते है | शांत वातावरण पसंद करनें वाले लोगो के लिए आध्यात्मिक ध्यान बहुत ही लाभकारी होता है |

3.केंद्रित ध्यान (Focused meditation)

केंद्रित मेडिटेशन के अंतर्गत इस ध्यान को करनें वाला व्यक्ति अपनी पांचों इंद्रियों में से किसी भी एक का उपयोग करते हुए एकाग्रता लानें का प्रयास करता है | हालाँकि यह अभ्यास सुननें में काफी सरल लगता है, परन्तु लेकिन नए लोगों के लिए यह ध्यान करना काफी कठिन होता है | 

एयर क्वालिटी इंडेक्स (AQI) क्या है

4.गतिमान मेडिटेशन (Movement meditation)

इस ध्यान के अंतर्गत बागवानी करना, एकांत स्थानों में टहलना और अन्य गतिशील गतिविधियां शामिल होती है | बहुत से लोग कुछ ऐसे होते है, जिन्हें हर समय कुछ न कुछ करनें में बहुत ही शांति मिलती है | ऐसे लोगो के लिए गतिमान मेडिटेशन बहुत ही अच्छा होता है | यह ध्यान का एक सक्रिय रूप है जहां ये गतिविधियां आपका मार्गदर्शन करती हैं।  

5.मंत्र ध्यान (Mantra meditation)

ध्यान करनें की सभी प्रक्रियाओं में मंत्र ध्यान का एक अलग ही स्थान है, और सबसे अधिक इसका उपयोग हिंदू और बौद्ध परंपराओं के अंतर्गत किया जाता है | मंत्र ध्यान में  एक शब्द, वाक्य या ध्वनि का उच्चारण बार-बार किया जाता है | इस प्रक्रिया में मंत्र को कुछ समय जपने के बाद आप अपनें आपको एक्टिव महसूस करते है |  यह ध्यान उन लोगों के लिए भी एक अच्छा अभ्यास है, जिन्हें शांति बिल्कुल भी पसंद नहीं हैं |

आयुष 64 क्या है

6.दृश्य ध्यान (Visualization Meditation)

दृश्य ध्यान को इंग्लिश में विजुअलाइजेशन मेडिटेशन कहते है, यह ध्यान कि एक ऐसी प्रक्रिया है, जिसका वैज्ञानिक रूप से काफी अध्ययन किया गया है | यह ध्यान मंत्र मेडिटेशन की अपेक्षा अधिक अनुकूल है | इस ध्यान के अंतर्गत एक विशेष तस्वीर को आंखें बंद करके महसूस किया जाता है, जो कि एक तस्वीर, खुला आकाश, एक सुन्दर बहती हुई नदी या किसी ईश्वर की मूर्ति भी हो सकती है | हिंदू और तिब्बती परंपरा में दृश्य आधारित ध्यान सबसे अधिक किया जाता है |

E Sanjeevani Online Portal

ध्यान या मेडिटेशन से लाभ (Benefits Of Meditation)

हम सभी जानते है, कि ध्यान ध्यान करना हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभकारी होता है| यह हमें मानसिक, शारीरिक और भावनात्मक रूप से सेहतमंद बनाता है। इसे नियमित रूप से अभ्यास करनें से अनेक प्रकार के लाभ होते है, जो इस प्रकार है-

  • ध्यान करनें से हमारा तनाव काफी कम हो जाता है, इसके साथ ही यह कोर्टिसोल के स्तर को नियंत्रित करता है | 
  • मेडिटेशन का निरंतर अभ्यास करनें से डिप्रेशन और निराशा जैसी मानसिक स्थितियों में आपका मस्तिष्क शांत रहता है |
  • मेडिटेशन का निरंतर अभ्यास करनें से आपको अच्छी नींद लेने में काफी मदद मिलती है |
  • मेडिटेशन से बढ़ती उम्र के असर को भी दूर करने में काफी सफलता मिलती है |
  • मेडिटेशन (ध्यान) आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को दुरुस्त करने के साथ ही बीमारियों से लड़ने में भी आपकी मदद करता है |
  • मेडिटेशन के निरंतर अभ्यास से हम मेटाबॉलिज्म को दुरुस्त करके अपना वजन कम सकते है |

One Nation One Health Card

यहाँ आपको मेडिटेशन (Meditation) ध्यान के विषय में जानकारी दी गई है | अब उम्मीद करती हूँ आपको जानकारी अवश्य पसंद आयी होगी | यदि आप इससे रिलेटेड अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो कमेंट करके पूंछ सकते है | आपकी प्रतिक्रिया का जल्द ही जवाब देने का प्रयास किया जायेगा | अधिक जानकारी के लिए hindiraj.com पोर्टल पर विजिट करते रहे |

पोस्टमार्टम क्या होता है

Leave a Comment