स्वप्रमाणित घोषणा पत्र क्या है

स्वप्रमाणित घोषणा पत्र खुद के द्वारा तैयार किया एक सरकारी दस्तावेज़ होता है | जिसकी जरूरत हर किसी को कभी न कभी जरूर हुई होगी | यह खुद के द्वारा प्रमाणित किया गया एक पत्र होता है | जन्म प्रमाण पत्र से लेकर मृत्यु प्रमाण पत्र तक की इंसान को जरूरत पड़ती है | इस तरह के सरकारी प्रमाण पत्रों को बनवाने के लिए पहले सरकारी दफ्तरों के चक्कर लगाने पड़ते थे,तथा सरकारी अधिकारियो या वकीलों की आवश्यकता पड़ती थी |

इसके अलावा आम नागरिक को इन सरकारी पत्रों को बनवाने के लिए 100 रूपए से लेकर 500 रूपए तक की आवश्यकता पड़ती थी, किन्तु वर्ष 2014 के बाद से सरकार ने आम नागरिको को राहत पहुंचाने के लिए स्वप्रमाणित घोषणा पत्र की अनुमति दे दी गई | यदि आप इस घोषणा पत्र से सम्बंधित अधिक जानकारी को प्राप्त करना चाहते है, तो इस पोस्ट में आपको स्वप्रमाणित घोषणा पत्र क्या है, Affidavit OR शपथ पत्र Format Download in Hindi इससे सम्बंधित महत्वपूर्ण जानकारी को उपलब्ध कराया जा रहा है |

ऑनलाइन आय | जाति | निवास | प्रमाण पत्र का सत्यापन कैसे करें

स्वप्रमाणित घोषणा पत्र क्या है (Self Attested Declaration Form Kya Hai)

यह एक स्वप्रमाणित घोषणा पत्र होता है, जिसमे व्यक्ति द्वारा यह प्रमाणित किया जाता है, कि पत्र में लिखी गई सभी बातें सत्य है | यदि उस पत्र में किसी तरह की गलती पायी जाती है तो उस गलती के लिए वह स्वयं जवाबदेह होगा | इसी तरह से यदि आप किसी तरह का ऑनलाइन आवेदन करते है तो उसमे आपको अनेक प्रकार की जानकारी को देना होता है | यदि आपके पास किसी तरह का सबूत नहीं होता है तो उन जानकारियों के सत्यापन के लिए आपको स्वप्रमाणित घोषणा पत्र देना होता है,इस प्रमाण पत्र को शपथ पत्र के रूप में भी जाना जाता है |

इस प्रमाण पत्र को कानून का स्वरुप देने के लिए 10 रुपये का स्टाम्प पेपर में प्रस्तुत किया जाता है, तथा कानूनी वैधता देने के लिए इसे नौटरी से भी प्रामाणित किया जाता है |

आय प्रमाण पत्र (INCOME CERTIFICATE)

स्वप्रमाणित घोषणा पत्र कैसे भरे (How to Fill Self Attested Declaration Form)

  • स्वप्रमाणित घोषणा पत्र को भरने के लिए आपको निम्न तरह की जानकारियों को भरना होता है,जो कि इस तरह है |
  • शपथ कर्ता अपना नाम भरे |
  • पिता या पति का नाम में आपको अपने पिता का नाम भरना होगा |
  • यदि घोषणा पत्र विवाहित महिला द्वारा भरा जा रहा है, तो उसे अपने पति का नाम भरना होगा और अविवाहित होने पर अपने पिता का नाम भरना होगा |
  • आयु वाले स्थान में अपनी उम्र को भरे |
  • जाति वाले स्थान में आपको अपनी जाति भरनी होगी |
  • निवास वाले स्थान में आपको अपना स्थायी पता भरना होगा |
  • जिले वाले स्थान में आपको अपने जिले का नाम भरना होगा |
  • राज्य वाले स्थान में आप किस राज्य में रहते है उस राज्य का नाम भरे |
  • बिंदुवॉर आप जिस उद्देश्य के लिए घोषणा पत्र दे रहे है जैसे :- आय के लिए, आयु के लिए,विकलांगता के लिए,जाति के लिए, दुकान,मकान, रोजगार के लिए तथा चुनाव से सम्बंधित आदि को भरे |
  • पूरे पत्र को भरने के बाद आपको घोषणा पत्र के अंत में दिनांक और अपना हस्ताक्षर करना होगा |

निवास प्रमाण पत्र के लिए आवेदन कैसे करे

स्वप्रमाणित घोषणा पत्र के लाभ (Benefits of Self Attested Declaration Form)

स्वप्रमाणित घोषणा पत्र का प्रारूप कानूनी वैधता के लिए मान्य है | यदि आपको अनेक प्रकार कि जानकारियों को देना है, तो उसके लिए आपके पास उसे सार्वजानिक करने या साबित करने के लिए किसी तरह का कानूनी दस्तावेज़ न हो, तो उस स्थिति में घोषणा पत्र या शपथ पत्र आपका दस्तावेज़ बन जाता है | इसे कानूनी मान्यता/वैधता दोनों ही प्राप्त होती है |

संविधान के मौलिक अधिकार एवं कर्तव्य क्या है

इस तरह के घोषणा पत्र का इस्तेमाल कहा किया जाता है (The Use of Such a Manifesto is Called)

घोषणा पत्र या शपथ पत्र का इस्तेमाल उस स्थिति में किया जाता है,जब हमारे पास किसी तरह का प्रलेख नहीं होता है या अति शीघ्र उपलब्ध नहीं है | जैसे हमे कही पर अपनी आय को दिखाना है तो हमे अपनी आय का स्त्रोत तो पता है किन्तु हमारे पास किसी तरह का प्रलेख उपस्थित नहीं होता है | ऐसी स्थिति में उक्त राशि के लिए एक हलफनामा या शपथ पत्र प्रस्तुत किया जाता है | यह सभी व्यक्ति या विभाग को मान्य होता है | इस तरह के घोषणा पत्र को दिए गए स्थानों में इस्तेमाल किया जा सकता है:-

भारतीय संविधान की प्रस्तावना क्या है

स्वप्रमाणित घोषणा पत्र का प्रारूप (Self Attested Declaration Form)

  • इसके नाम से आप यह समझ सकते है, या घोषणा पत्र किसी व्यक्ति को कुछ बताना चाहता है,तथा किसी चीज को घोषित करना चाहता है, जो उसकी जानकारी में है |
  • वह जानकारी को अपने सम्बन्ध में ही देता है | इसलिए शपथ पत्र को शपथ कर्ता द्वारा अपने बारे में दिया जाता है |
  • इस शपथ पत्र में दी गई जानकारी को अधिकारी या नौटरी द्वारा सत्यापित किया जाता है | इससे यह सत्यापित होता है, कि शपथ कर्ता द्वारा दी गई जानकारी सत्य है |
  • यह सपथ पत्र सिविल प्रक्रिया संहिता 1908 की धारा 53 के अधीन नियुक्त नोटरी के तहत मान्य है |
  • ऐसा कोई भी अधिकारी जिसे उच्च न्यायालय द्वारा इस कार्य के लिए नियुक्त किया गया है |
  • इसके अतिरिक्त आने वाले अन्य न्यायालय जिसे राज्य सरकार द्वारा इस कार्य के लिए साधारण या विशेष रूप से संभावित किया गया हो |
  • घोषणा पत्र / शपथ पत्र को एक विशेष प्रकार की अहम भूमिका प्राप्त है |
  • यह एक ऐसा प्रलेख है, जिसे कानूनी महत्त्व और मान्यता प्राप्त है |
  • यह एक स्व – प्रमाणित कानूनी वैधता वाला अभिलेख है, जिसे किसी भी विभाग द्वारा अमान्य नहीं किया जा सकता है |

भारतीय संविधान क्या है

Leave a Comment