द्विस्तरीय परीक्षा प्रणाली – प्रारंभिक परीक्षा (UPSSSC PET)

UPSSSC PET की परीक्षा उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग यानि कि  यूपीएसएसएससी (UPSSSC) द्वारा आयोजित कराई जाती है। यूपीएसएसएससी उत्तर प्रदेश (UP) के विभिन्न सरकारी संस्थानों में समूह ‘ग’ के पदो पर भर्ती हेतु आयोजन होता है | यह परीक्षा राज्य स्तर पर आयोजित होती है, तथा इसे वर्ष में 2 बार लिखित माध्यम से आयोजित कराये जाने का नियम प्रस्तावित किया गया है |  इस परीक्षा में लाखों छात्र भाग लेते है, इसलिए इस परीक्षा का कम्पटीशन भी बहुत अधिक है |

इसके अलावा आपको जानकारी देते हुए बता दे कि उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग अभी तक UPSSSC PET Exam से सम्बन्धित नोटिस या अपडेट के लिए इसकी आधिकारिक बेबसाइट पर विजिट कर सकते है | यदि आप भी यूपीएसएसएससी क्या है, फुल फॉर्म, द्विस्तरीय परीक्षा प्रणाली – प्रारंभिक परीक्षा (पेट) के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो यहाँ पर इसके बारे में बताया गया है |

लेखपाल (LEKHPAL) कैसे बने

UPSSSC PET का फुल फॉर्म

UPSSSC का फुल फॉर्म “Uttar Pradesh Subordinate Services Selection Commission तथा PET का फुल फॉर्म Preliminary Eligibility Test” होता है | इसका हिंदी में उच्चारण “उत्तर प्रदेश सबोर्डिनेट सर्विस सिलेक्शन कमीशन प्रिलिमिनरी एलिजिबिलिटी टेस्ट” होता है | हिंदी में इसका अर्थ ‘उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग प्रारंभिक पात्रता परीक्षा’ होता है|

पटवारी (Patwari) कैसे बने?

द्विस्तरीय परीक्षा प्रणाली प्रारंभिक परीक्षा (पेट) की जानकारी

इसके पहले उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग (UPSSSC) की किसी भी परीक्षा में छात्र के असफल हो जाने पर उसे आयोग की अन्य परीक्षा (Other Exam) में आवेदन हेतु अपनी पूरी जानकारी तथा उसका ब्योरा देना होता था। लेकिन अब नये नियम के तहत रजिस्ट्रेशन के बाद किसी भी ब्यौरा की जानकारी नहीं अपलोड करना पड़ेगा | एक वर्ष में दो बार परीक्षा विभिन्न विभागों के ‘समूह ग’ की भर्ती हेतु वर्ष में एक बार (One Time) आयोजित होने वाली प्रारंभिक पात्रता परीक्षा (Preliminary Eligibility Test) अब वर्ष में दो बार कराने का प्रावधान बनाया गया है | हालांकि, कि इस नियम में अभ्यर्थी को सिर्फ एक बार ही परीक्षा देनी होगी, लेकिन अगर वह अपने मार्क्स (Score) सुधारने हेतु फिर से परीक्षा में बैठ सकता है। इसके लिए किसी भी अधिकतम सीमा का नियम नहीं बांया गया है |यह स्कोर कार्ड (Score Card) केवल तीन वर्षों तक वैध माना जायेगा |

परीक्षा का आयोजन दो बार किया जाए जिसे प्रारंभिक और मैन्स में बाटा जाएगा| प्रथम चरण में 100 सवालो का क्वेश्चन पेपर आएगा जिसे 120 मिनट में पूरा करना होगा| इसके साथ ही आपको नेगेटिव मार्किंग का भी सामना करना पड़ेगा| 1 गलत उत्तर के लिए 1/4 अंक काट लिए जाएगा|

यह परीक्षा पूर्ण रूप से इंटर के स्तर की होगी और सारे सवाल 12वी कक्षा के स्तर से ही पूछे जायेगे| साथ ही सिलेबस के रूप में , सामान्य हिंदी एवं अपठित गद्यांश आधारित प्रश्न, प्रारंभिक गणित, तार्किक योग्यता, आंकड़े और ग्राफ के विश्लेषण के सवाल पूछे जायेगे|

UPSSSC PET से सम्बंधित विषय

प्रारंभिक परीक्षा (Preliminary Exam) में अभ्यर्थी का सामान्य ज्ञान (General Knowledge), हिंदी (Hindi), तार्किक क्षमता (Reasoning Ability) और हाईस्कूल स्तर के सामान्य गणित (Math) के विषयों को रखा गया है | इसके बाद अगले स्तर की मुख्य परीक्षा (Mains Exam), कौशल परीक्षा (Skill Test), शारीरिक परीक्षा (Physical Test) हेतु शार्टलिस्ट किया जाता है | जिसके लिए अभ्यर्थी को तीन वर्षों में पेट (PET) एग्जाम में प्राप्त उच्चतम स्कोर को मान्यता प्रदान किये जाने का प्रावधान है | 

संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) क्या है?

विज्ञाप्ति पद हेतु मुख्य परीक्षा (Mains Exam)

प्रारंभिक परीक्षा (Prelims Exam) में उत्तीर्ण अभ्यर्थियों को मुख्य परीक्षा (Mains Exam) देना होता है। इसके अतरिक्त विज्ञप्ति पदों की संख्या के 15 गुना आवेदकों की परीक्षा में पाए गए मार्क्स (Score) की तैयार की गई लिस्ट के अनुसार की जा सकेगी | मुख्य परीक्षा (Mains Exam) हेतु विषय व पाठ्यक्रम का चयन संबंधित विभाग की सलाह से शासन के अनुमोदन से होगा |

समीक्षा अधिकारी क्या होता है

यहाँ आपको UPSSSC PET क्या है, द्विस्तरीय परीक्षा प्रणाली – प्रारंभिक परीक्षा (पेट) के बारे में पूरी जानकारी उपलब्ध कराई गई है | यदि आपको इससे सम्बंधित अन्य जानकारी प्राप्त करनी है तो आप  अपने विचार या सुझाव कमेंट बॉक्स के माध्यम से पूंछ सकते है | इसके साथ ही आप अन्य जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो www.hindiraj.com पर विजिट करे |

बेसिक शिक्षा अधिकारी (BSA) कैसे बने

Leave a Comment