आंगनबाड़ी कार्यकर्ता कैसे बने

आंगनबाडी एक केंद्र होता हैं, जिसकी शुरुआत 1985 में की गई थी | उस समय केंद्र की शुरुआत एकीकृत बाल विकास सेवा कार्यक्रम के तहत  की गई थी।  वहीं अब वर्तमान समय इस योजना के तहत  केंद्र सरकार राज्यों की मदद से बच्चों और गर्भवती महिलाओं को कुपोषण से बचाने  का काम कर रही है, क्योंकि आंगनबाड़ी केंद्र में काम  करने वाली महिलायें मुख्य रूप  से 1 से 3 साल के बच्चों की देखभाल  और उन्हें शिक्षित करने काम करती हैं और इसके साथ ही आंगनबाड़ी केंद्र की महिलायें और गर्भवती महिलाओं के कुपोषण का भी ध्यान रखती है | इस योजना को लेकर विभाग की  तरफ से  कार्य करने के आदेश जारी किये जाते हैं, जिसके बाद आंगनबाड़ी केंद्र की कार्यकर्ता अपने काम को पूरा करती है | इसलिए यदि आप भी आंगनबाड़ी केंद्र के विषय में जानना चाहते हैं, तो यहाँ पर आपको आंगनबाड़ी कार्यकर्ता कैसे बने, योग्यता, आंगनबाड़ी भर्ती नियम, मानदेय की जानकारी प्रदान की जा रही है |

डब्ल्यूएचओ क्या है

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता कैसे बने

इन केंद्रों में पोषण, स्वास्थ्य, शिक्षा से जुडी सुविधा प्रदान करने के लिए Counseling भी कराई जाती है, जिससे इस तरह की सुविधाओं का लाभ अधिकतर बच्चे और महिलाएं उठा सके | इसलिए अधिकतर गांव या बस्ती के बीच आंगनबाड़ी  है, जहां केंद्रों की स्थापना की जाती है, जिससे गाँवों के सभी  बच्चे सुरक्षित रहकर खेल सकें और पोषक आहार ग्रहण में उन्हें मदद मिल सके | अभी भी केंद्र सरकार सुचारू रूप से आंगनबाड़ी की व्यवस्था को बेहतर  बनाने के लिए हर तरह की सुविधाएं प्रदान करने की कोशिश करता है | इसलिए आंगनबाड़ी केंद्र में नौकरी पाने के लिए महिलाओं को  8वीं और 10वीं में सफलता प्राप्त करना अनिवार्य होता है, जिसके बाद महिलायें आंगनबाड़ी केंद्र के लिए आवेदन फॉर्म भरकर इस पद को प्राप्त कर सकती है |  

आंगनबाडी कार्यकर्ता बनने के लिए यह आवश्यक है

  1. आंगनबाडी केंद्र के लिए आवेदन करने वाली महिलाओं का संबंधित राज्य की स्थानीय निवासी होना आवश्यक होता है |
  2. इस पद पर नौकरी करने वाली महिला की  न्यूनतम आयु 21  और अधिकतम आयु 45 वर्ष होनी चाहिए |
  3. आंगनबाड़ी केंद्र के लिए केवल विवाहित महिलायें  ही आवेदन कर सकती है |

आंगनबाडी कार्यकर्ता बनने हेतु योग्यता 

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता बनने के लिए महिलाओं को 10वीं में सफलता प्राप्त करना जरूरी होता है।  इसके साथ ही जो महिलायें आंगनबाड़ी सहायिका बनने के लिए आवेदन  करती हैं, तो उन्हें 8वीं में पास करना आवश्यक होता है, जिसके बाद वो आंगनबाड़ी में आवेदन करके इस पद को प्राप्त कर सकती है |

ग्राम प्रधान (GRAM PRADHAN) कैसे बने?

आंगनबाड़ी भर्ती नियम

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता  की भर्ती मेरिट के आधार पर  की जाती है |  इसलिए महिलाओं को साक्षात्कार  में 25 अंक  प्राप्त करने आवश्यक होते है । यह अंक इस तरह से प्रदान किये जाते है –

शैक्षिक योग्यता के लिए अंक

  1. इसमें महिलाओं को निर्धारित की गई योग्यता के मुताबिक़,  कुल 7 अंक, ग्रेजुएशन की डिग्री के लिए कुल 2 अंक, पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री के लिए 1 अंक  प्राप्त करने अनिवार्य है |
  2. नर्सरी टीचर या बाल सेविका का पद प्राप्त करने के लिए महिलाओं को 10 माह या इससे अधिक का अनुभव होना आवश्यक है, जिसके लिए  3 अंक निर्धारित किये गए है | 
  3. पति से सात साल से अलग रह रहने वाली महिला या अनाथ आश्रम में  रहने वाली महिला या फिर तलाकशुदा महिला के लिए – 3 अंक
  4. 40 फीसदी या इससे अधिक विकलांगता वाली अभ्यर्थी के लिए  – 2 अंक निर्धारित किये गए है |
  5. एससी/एसटी/ओबीसी से संबंधित अभ्यर्थी के लिए – 2 अंक निर्धारित किये गए है |
  6. पर्सनल इंटरव्यू में – 3 अंक प्राप्त करने अनिवार्य है | 
  7. अगर अभ्यर्थी के परिवार में दो बेटी  होने पर – 2 अंक ही निर्धारित किये गए है | 
  8. इस तरह अंकों का कुल योग करने के बाद महिला और अभ्यर्थी की मेरिट तैयार की जाती है, जिसके बाद  उसकी  भर्ती कर ली जाती है |

आंगनबाडी कार्यकर्ताओं का मानदेय 

आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की भर्ती एक निश्चित मानदेय के आधार पर  की जाती है। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता को 1500 से 4500 रुपये मानदेय प्रदान किया जाता है | आंगनबाडी कार्यकर्त्ता और सहायिका दोनों कार्यकर्ताओं को अलग-अलग मानदेय प्रदान किया जाता  है | 

आयुष्मान भारत योजना क्या है

यहाँ पर हमने आपको आंगनबाड़ी कार्यकर्ता बनने के विषय में जानकारी उपलब्ध कराई है | यदि इस जानकारी से रिलेटेड आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न या विचार आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है, हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

प्रधानमंत्री जन धन योजना (PMJDY) क्या है