राशन कार्ड पोर्टेबिलिटी क्या है

हमारे देश की सरकार देश जनता को हर तरह की सुविधाएं प्रदान करने के लिए हर संभव प्रयास करती रहती है, जिससे लोगों को किसी भी प्रकार की समस्याओं का सामना न करना पड़े | इन्ही सभी समस्याओं को देखते हुए केंद्र सरकार ने एक और बड़ा और अहम फैसला लिया है और अब केंद्र सरकार 1 जून 2020 से ‘एक राष्ट्र, एक राशन कार्ड’ योजना की शुरुआत करने जा रही है । यह एक ऐसी योजना है, जिसके माध्यम से पुराने और नए राशन कार्डधारक देश में किसी भी राशन की दुकान से कहीं भी राशन खरीद सकेंगे, क्योंकि पहले इस योजना के तहत आप जिस गाँव के निवासी है, उसी गाँव से राशन प्राप्त कर सकते थे, लेकिन अब इस योजना में बदलाव करते हुए केंद्र सरकार ने 1 जून से कार्डधारक को कहीं से भी राशन लेने की छूट प्रदान कर देगी, जिससे राशन लेने वाले लोगों को बहुत अधिक राहत प्राप्त होगी | इसलिए यदि आप भी राशन कार्ड पोर्टेबिलिटी के विषय में जानना चाहते है, तो यहाँ पर आपको राशन कार्ड पोर्टेबिलिटी क्या है ,Ration Card Portability Meaning in Hindi | इसकी पूरी जानकारी प्रदान की जा रही है |

अस्थायी राशन कार्ड ऑनलाइन आवेदन

राशन कार्ड पोर्टेबिलिटी (RATION CARD PORTABILITY) का क्या मतलब है ?

केंद्र सरकार द्वारा शुरू की जाने वाली यह योजना बिलकुल वैसे ही है जैसे मोबाइल सिम नंबर को बदले बिना ग्राहक ऑपरेटर को बदल सकता है। इसका मतलब यह हुआ है कि, यदि एक राज्य का राशन कार्डधारक किसी दूसरे राज्य में जाकर राशन  खरीदना चाहे तो दुसरे राज्यों में भी उसका कार्ड वैलिड माना जाएगा। यानी कि उसे नए कार्ड के लिए अप्लाई करने की आवश्यकता बिलकुल भी नहीं होगी | अब केंद्र सरकार ने उत्तर प्रदेश और बिहार के साथ-साथ देश के 17 राज्यों ने राशनकार्ड पोर्टेबिलिटी को मंजूरी प्रदान कर दी है। इसके तहत मानक राशन कार्ड दो भाषाओं में जारी किया जाता हैं। एक स्थानीय भाषा के साथ ही इसमें दूसरी भाषा हिंदी अथवा अंग्रेजी का इस्तेमाल भी होता है |

इससे पहले केंद्र सरकार ने 1 जनवरी 2020 को कुल 12 राज्यों को इस योजना से आपस में जोड़ा था अब पांच और राज्यों को इसमें  शामिल कर लिया है । जिसमें कर्नाटक, केरल, मध्य प्रदेश, गोवा, झारखंड और त्रिपुरा आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, गुजरात, महाराष्ट्र, हरियाणा, राजस्थान जैसे राज्य शामिल किये गए है।

राशन कार्ड की नई सूची ऑनलाइन कैसे देखें

वहीं वर्तमान समय में देश में कुल 79 करोड़ लोगों को  राशन कार्ड उपलब्ध कराये जा चुके है, यह योजना आमतौर पर कई प्रवासी लाभार्थियों जैसे कि मजदूरों, दैनिक मजदूरों, ब्लू-कॉलर श्रमिकों आदि के कल्याण के लिए महत्वपूर्ण  कही जाती  है, ये ऐसे लोग होते हैं, जो देश भर में रोजगार की तलाश में अक्सर अपना निवास स्थान बदलते रहते हैं। राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून (एनएफएसए) के तहत लोगों को यह फायदा दिया जा रहा है। इस योजना के तहत रियायती दर पर खाद्यान्न की आपूर्ति की जाती है  | इसलिए अब 1 जून से ऐसे लोगों को राशन से सम्बंधित किसी भी प्रकार की समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा |

राशन कार्ड पोर्टेबिलिटी योजना में शामिल होने वाले टॉप टेन शहर

  1. अलीगढ़- 5873
  2. कानपुर नगर- 5410
  3. लखनऊ- 4865
  4. झांसी- 4284
  5. मुजफ्फरनगर- 3346
  6. फिरोजाबाद- 2530
  7. खीरी- 2337
  8. फर्रुखाबाद- 2221
  9. इटावा- 2185
  10. बुलंदशहर- 1980

LOCKDOWN 3.0 GUIDELINES IN HINDI

यहाँ पर हमने आपको राशन कार्ड पोर्टेबिलिटी (RATION CARD PORTABILITY) के विषय में जानकारी उपलब्ध कराई है | यदि आप इस जानकारी से संतुष्ट है, या फिर इससे समबन्धित अन्य जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो कमेंट करे और अपना सुझाव दे सकते है, आपकी प्रतिक्रिया का जल्द ही निवारण किया जायेगा | अधिक जानकारी के लिए hindiraj.com पोर्टल पर विजिट करते रहे |

आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 क्या है