प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र कैसे खोलें



प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी की महत्वाकांक्षी योजनाओं में से एक प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र योजना महत्वपूर्ण योजनाओं में से एक है, जिसकी की शुरुवात भारत के फार्मास्युटिकल विभाग द्वारा की गई है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य हर गांव व शहर में एक जन औषधि केंद्र खोलना है, ताकि गरीबों को कम कीमत में सभी प्रकार की दवाइयां मिल सके और जो लोग भी पैसों की कमी के कारण दवाएं नहीं खरीद पाते हैं, वो भी जेनेरिक दवाइयां कम से कम कीमत में खरीद सकें। 

img-1


आज इस आर्टिकल के माध्यम से आपको प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र कैसे खोलें 2023 – ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया, डॉक्यूमेंट की जानकारी से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारियां बताई गई हैं।

आयुष्मान भारत योजना क्या है

जन औषधि केंद्र क्या है ?

भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी की महत्त्वाकांक्षी योजना प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र महत्वपूर्ण योजनाओं में से एक है, जिसका उद्देश्य भारत में रह रहे प्रत्येक व्यक्ति को सस्ती व सुलभ जेनेरिक दवाइयां आसानी से उपलब्ध कराना है। इसके लिए प्रधानमंत्री जी द्वारा भारत के प्रत्येक शहर व गांव में एक जन औषधि केंद्र खोल कर सस्ती दरों पर जेनेरिक दवाइयां मिल सके, इस योजना को तैयार किया गया है। ये जेनेरिक दवाइयां ब्रांडेड दवाइयों जितनी ही कारगर एवम प्रभावी होंगी।



इस योजना का संचालन फार्मास्यूटिकल एंड मेडिकल डिवाइसेज ब्यूरो ऑफ इंडिया के माध्यम से किया जाएगा, जिसे साल 2008 में 23 अप्रैल को शुरू किया गया था। जिसकी कार्यान्वयन नोडल एजेंसी के द्वारा निगरानी की जाएगी। औषधि केंद्र खोलने के लिए सार्वजनिक एवं निजी क्षेत्रों के उपक्रमों से दवाओं की खरीद की जाएगी।

योजना का नाम प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र 
योजना का उद्देश्यसस्ती व कम कीमत में दवाइयां उपलब्ध करवाना
लॉन्च की गईकेंद्र सरकार द्वारा 
लाभभारत के सभी नागरिकों को सस्ती जेनेरिक दवाइयां उपलब्ध करवाना 
दवाइयों का प्रकारजेनेरिक दवाइयां
दवाइयों मैं छूटबाजार मूल्य से 50 से 90% तक
संबंधित विभागआवेदन का माध्यमऔषधि विभाग भारत सरकार ऑनलाइन व ऑफलाइन दोनों माध्यम से 
आधिकारिक वेबसाइट janaushadhi।gov।in/index।aspx

बी फार्मा (B.Pharma) क्या होता है ?

प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र का उद्देश्य 

  • देश के प्रत्येक व्यक्ति को सस्ती और अच्छी दवाइयां मिले प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र योजना का मुख्य उद्देश्य है। 
  • इस योजना के अंतर्गत भारत सरकार ने देश के प्रत्येक जिले व शहरों में एक जन औषधि केंद्र खोलने की योजना तैयार की है, ताकि लोगों को उचित मूल्य पर सस्ती दवाइयां मिल सकें।
  • भारत के कोने-कोने तक इस योजना का लाभ दिलाने के लिए भारत का कोई भी व्यक्ति जन औषधि केंद्र खोल सकता है, और अपनी मासिक इनकम बढ़ा सकता है। 
  • जन औषधि केंद्र खोलने के लिए सरकार द्वारा आवेदक को आर्थिक सहायता दी जाती है, जो सीधे लाभार्थी के बैंक खाते में स्थानांतरित की जाती है।
  • इस योजना से देश के युवा वर्ग को रोजगार से जोड़ा जाएगा ताकि देश में निरंतर बढ़ रही बेरोजगारी की दर को कम किया जा सके।
  • इस योजना के अंतर्गत SC, ST व दिव्यांग आवेदकों को जन औषधि केंद्र खोलने के लिए 50,000 रुपये तक की दवाईयां एडवांस में दी जाएगी।

प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र खोलने की पात्रता 

  • आवेदक भारत देश का स्थाई निवासी हों
  • ऐसे लाभार्थी या विद्यार्थी जो नौकरी की तलाश में हो।
  • प्रैक्टिशनर, हॉस्पिटल, चैरिटेबल ट्रस्ट, फार्मासिस्ट, डॉक्टर आदि जन औषधि केंद्र के लिए आवेदन कर सकते हैं।
  • आवेदक के पास बी फार्मा या डी फार्मा की डिग्री अथवा पंजीकृत चिकित्सा व्यवसायी होना चाहिए।
  • अगर आप किसी हॉस्पिटल या फिर NGO के लिए जन औषधि केंद्र खुलवाने के लिए आवेदन करना चाहते हैं, तो आपको संस्था के रजिस्ट्रेशन का प्रमाण पत्र, आधार पैन कार्ड की जरुरी होगा।
  • कम से कम 18 वर्ष की आयु सीमा हो।
  • SC, STदिव्यांग महिला वर्ग जन औषधि केंद्र खोलने के लिए आवेदन कर सकते हैं।
  • आवेदक के पास 120 वर्ग फिट क्षेत्रफल का स्वयं का या किराए का स्थान होना चाहिए |

जन औषधि केंद्र खोलने के लिए आवश्यक दस्तावेज

आईसीएमआर (ICMR) क्या है

प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र खोलने के लिए कैसे करें आवेदन

प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र खोलने की प्रक्रिया बहुत ही आसान है। अभ्यर्थी ऑनलाइन या ऑफलाइन दोनों माध्यमों से आवेदन कर सकते हैं। ऑनलाइन आवेदन करने की प्रक्रिया आपको नीचे बताई गई है।

  • अपने मोबाइल या लैपटॉप में Google को ओपन करें  |
  • Google ओपन करने के बाद उसमें जन औषधि केंद्र की आधिकारिक वेबसाइट janausadhi.gov.in को सर्च कर ओपन करें।
  • वेबसाइट पर पहुंचने के बाद आपको कई अलग-अलग टैब दिखाई देंगी जिनमें से आपको Apply For Kendra पर क्लिक करके ओपन करना है।
img-2
  • इसके आपको Click Here to Apply का ऑप्शन दिखेगा, इस पर क्लिक कर दें। 

img-3

  • अब अगर आप नए यूजर हैं, तो आपको पहले Register Now पर क्लिक करके अपनी ID बनानी होगी।
img-4
  • Register Now पर क्लिक करते ही एक Registration Form ओपन होगा, जिसमें आपको मांगी गई सभी जानकारियां भरनी हैं और Terms & Condition पर टिक करके Submit पर क्लिक करके अपना अकाउंट बनाना है।

img-5

  • यहां क्लिक करते ही आपके द्वारा प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र खोलने के लिए ऑनलाइन आवेदन कर दिया जायेगा।

Medical Store का लाइसेंस कैसे बनता है ?

प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र खोलने के लिए ऑफलाइन आवेदन

प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र खोलने के इच्छुक अभ्यर्थी ऑनलाइन के अलावा ऑफलाइन तरीके से भी आवेदन भी कर सकते हैं जिसके लिए उन्हें निम्न स्टेप्स को फॉलो करना होगा।

  • प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र खोलने के लिए लाभार्थी आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं।
  • इसके बाद आपको Apply for Kendra पर क्लिक करना है।
  • अब आपको विभिन्न फॉर्म व उनके सामने PDF लिस्ट शो होगी। 
  • इनमें से आपको Guideline for PMBJK Opening फॉर्म की PDF को डाउनलोड करना होगा।
  • फॉर्म डाउनलोड करने के बाद आपको इस फॉर्म का प्रिंटआउट निकलवाना है। 
  • प्रिंट आउट निकलवाने के बाद फार्म में मांगी गई सारी जानकारियां भरनी होंगी
  • इसके साथ ही आपको सभी दस्तावेजों की कॉपी अटैच करनी होगी
  • अब आपको ये फॉर्म आपको BPPI (Bureau Of Pharma Public Sector Undertakings Of India) कार्यालय में जमा करवाना है।
  • कुछ ऑफिशियली कागजी कार्यवाही के बाद आपको जन औषधि केंद्र खोलने की अनुमति प्राप्त हो जायेगी।

जन औषधि केंद्र खोलने के लिए सरकार द्वारा विभिन्न प्रकार से आर्थिक मदद की जाती है, जिससे कोई भी पात्र व्यक्ति जन औषधि केंद्र खोल सकता है। केंद्र सरकार के द्वारा आवेदक को लगभग 2 लाख रुपए तक की आर्थिक मदद की जाती है।

प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र कौन खोल सकता है ?

भारत सरकार के फार्मा विभाग द्वारा मिली जानकारी के अनुसार जन औषधि केंद्र को कोई भी व्यक्ति खोल सकता है, जो भी व्यक्ति इस केंद्र को खोलना चाहता है, इसके लिए सरकार द्वारा लाभार्थी को एक साल तक कुछ पारिश्रमिक दिया जायेगा और साल में होने वाली सेल की 10% राशि सरकार द्वारा इंसेंटिव के रूप में दी जायेगी। अगर कोई भी लाभार्थी नक्सल प्रभावित स्थान पर इस केंद्र को खोलता है, तो उसे 15% तक मार्जिन दिया जायेगा तथा इंसेंटिव राशि नक्सल प्रभावित क्षेत्र में 15000 निर्धारित की गई है। स्टोर मालिकों को सरकार की तरफ से दवाइयां 16% कम दाम में दी जायेगी जहां से मालिक सीधे कमाई कर सकते हैं।

निष्कर्ष (Conclusion)

जन औषधि केंद्र प्रधानमंत्री जी की एक महत्वाकांक्षी योजनाओं में से एक है, जिसका एक मात्र उद्देश्य है, कि भारत के प्रत्येक व्यक्ति तक कम मूल्य में जेनेरिक दवाइयां पहुंच सकें। जो की ब्रांडेड दवाइयों की अपेक्षा बहुत अधिक सस्ती होती हैं। इस आर्टिकल में मैने आपको प्रधानमत्री जन औषधि केंद्र खोलने की सभी जानकारियां दे दी है उम्मीद है, कि आपको आर्टिकल पसंद आया होगा। धन्यवाद!

FAQ’s 

प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र से संबंधित हेल्प लाइन नंबर क्या है ?

प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र हेल्पलाइन नंबर – 18001808080 है।

अभी तक कितने जन औषधि केंद्र खुल चुके हैं ?

देखा जाए तो भारत में अभी तक 8604 से अधिक प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र खोले जा चुके हैं।

क्या जन औषधि केंद्र द्वारा दी गई दवाईयां ब्रांडेड दवाईयों जैसी ही प्रभावी हैं ?

जी हाँ, जन औषधि केंद्र द्वारा दी गई दवाईयों का NABL लैबों द्वारा परिक्षण किया जाता है, जिससे ये दवाईयाँ ब्रांडेड दवाईयों की तरह ही प्रभावी होती हैं।

D Pharma क्या होता है ?

Leave a Comment