Radiologist क्या होता है ?

आमतौर पर चिकित्सा के क्षेत्र में डॉक्टर का पेशा सर्वाधिक लोकप्रिय माना जाता है, परंतु अगर आप डॉक्टर के अलावा मेडिकल से जुड़े किसी अन्य क्षेत्र में जाना चाहते हैं तो आप रेडियोलॉजिस्ट (Radiologist) बन कर भी अपने करियर को एक नई दिशा दे सकते हैं।

आज के समय में रेडियोलॉजिस्ट बन कर भी खुद को आर्थिक रूप से मजबूत किया जा सकता है जिसके अंतर्गत आप लोगों की मदद करने का कार्य भी बखूबी निभा सकते हैं। तो अगर आप भी भविष्य में बतौर रेडियोलॉजिस्ट (Radiologist) बनकर अपना करियर बनाना चाहते हैं। तो आज हम आपको रेडियोलॉजिस्ट (Radiologist) के बारे में संपूर्ण जानकारी देने वाले हैं ताकि आप सही तरीके से आगे बढ़ते हुए मार्गदर्शन प्राप्त कर सकें।

X-Ray Technician Kaise Bane

रेडियोलॉजिस्ट (Radiologist) क्या होता है?

Table of Contents

आसान शब्दों में कहें तो रेडियोलॉजिस्ट उस व्यक्ति को कहा जाता है जो आंतरिक बीमारियों को पहचानते हुए विभिन्न प्रकार की जांचों के माध्यम से किसी भी रोग की सार्थकता को साबित करता हैं। एक रेडियोलॉजिस्ट एक्सरे, सीटी स्कैन, एमआरआई, अल्ट्रासाउंड जैसी जाँचों को पूरा करते हैं।

रेडियोलॉजिस्ट (Radiologist) के माध्यम से शरीर के आंतरिक भागों में छुपे हुए रोगों को पहचानने का कार्य किया जाता है जिसके माध्यम से लोगों की जान भी बचाई जा सकती है।

रेडियोलॉजिस्ट (Radiologist) कैसे बने?

अगर आप भी एक अच्छे रेडियोलॉजिस्ट (Radiologist) बनना चाहते हैं आपके भविष्य के लिए काफी अच्छा फैसला साबित हो सकता है। अगर आप के मन में लोगों के लिए प्रेम और सम्मान की भावना हो तो आप अपने रेडियोलॉजी में डिप्लोमा या मास्टर डिग्री के माध्यम से रेडियोलॉजिस्ट बन सकते हैं।

इसके अलावा अगर आप चाहें तो पीएचडी करते हुए भी रेडियोलॉजिस्ट बन कर एक सुनहरे भविष्य की ओर आगे बढ़ सकते हैं। जैसे ही आपको रेडियोलॉजिस्ट बनने के बाद डिग्री प्राप्त होती है तो आप उसके बाद मेडिकल लाइसेंस के लिए अप्लाई कर सकते हैं और उसके बाद ही आप अपनी जनरल प्रैक्टिस शुरू कर सकते हैं।

रेडियोलॉजिस्ट (Radiologist) के प्रकार

अगर आप एक कुशल रेडियोलॉजिस्ट (Radiologist) बनना चाहते हैं ऐसे में आपको रेडियोलॉजी के प्रकारों के बारे में जानकारी होना आवश्यक है। सामान्य रूप से रेडियोलॉजी दो प्रकार की होती है–

डायग्नोस्टिक रेडियोलॉजी

यह एक ऐसी रेडियोलॉजी की प्रक्रिया होती है जिसके अंतर्गत किसी भी रोग का निवारण एक्सरे मशीन और अन्य तकनीकों के माध्यम से किया जाता है जहां पर शरीर के आंतरिक भागों का परीक्षण करते हुए उसकी कॉपी प्राप्त की जाती है जिसके माध्यम से रोग को पहचाना जा सके और फिर उचित उपयोग में दवाई दे दी जाती हैं।

इंटरवेंशनल रेडियोलॉजी

यह एक ऐसी रेडियोलॉजी की प्रक्रिया है जिसमें एक्सरे, सीटी स्कैन, एमआरआई, अल्ट्रासाउंड का न्यूनतम प्रक्रियाओं का उपयोग करके किसी भी प्रकार का इलाज और निदान किया जाता है ताकि मरीज जल्द से जल्द ठीक हो सके।

रेडियोलॉजिस्ट (Radiologist) बनने के लिए विशेष योग्यता

  • अगर आप एक कुशल रेडियोलॉजिस्ट बनना चाहते हैं तो इसके लिए आपके अंदर कुछ विशेष योग्यताओं का होना आवश्यक है जिसके रहते ही आप अपने कार्य को पूरा कर सकते हैं।
  • रेडियोलॉजिस्ट बनने के लिए सबसे पहले आपको 12वीं की परीक्षा पास करना होगा और उसके बाद आप को कोई भी डिप्लोमा या बैचलर डिग्री का कोर्स पूरा करना होगा।
  • जब हम कोई भी कोर्स  करते हैं, तो उसके मद्देनजर हमारी आयु पर विशेष रूप से ध्यान दिया जाता है लेकिन अगर आप रेडियोलॉजिस्ट बनना चाहते हैं, तो इसके लिए आयु की कोई सीमा नहीं है और आप आसानी से ही इस पढ़ाई को पूरी कर सकते हैं।

किसी भी रेडियोलॉजिस्ट (Radiologist) के प्रमुख कार्य

  • रेडियोलॉजिस्ट के कुछ कार्य होते हैं जिनके माध्यम से वे सही दशा को समझ पाते हैं
  • किसी भी रेडियोलॉजिस्ट के मुख्य कार्य के रूप में सिटी स्कैन एक्स-रे, MRI, अल्ट्रासाउंड जैसे जाँचों को किया जाता है।
  • रेडियोलॉजिस्ट का कार्य किसी भी बीमारी को पता लगाकर उसकी सही रिपोर्ट बनाना होता है। ऐसे में अगर किसी भी वजह से रेडियोलॉजिस्ट से गलती होती है तो वह दंड का भागीदार होता है।
  • रेडियोलॉजिस्ट हमेशा आने वाली नई बीमारियों के प्रति सचेत रहते हैं जहां उन्हें समय पर कार्य करने को कहा जाता है।
  • रेडियोलॉजिस्ट का काम किसी भी मरीज के दर्द को समझते हुए सही तरीके से इलाज शुरू करना होता है ताकि आगे इलाज में कोई दिक्कत ना हो पाए।

MRI क्या होता है

भारत में होने वाले कुछ मुख्य रेडियोलॉजिस्ट (Radiologist) कोर्स |

अगर आप भारत में मुख्य रेडियोलॉजिस्ट (Radiologist) कोर्स के बारे में जानकारी चाहते हैं, तो हम आपको मुख्य कोर्स के बारे में जानकारी देने वाले हैं जिसमें डिप्लोमा और डिग्री दोनों ही प्रकार के कोर्स शामिल है |

  • डिप्लोमा कोर्स फॉर रेडियोलॉजिस्ट |
  • डिप्लोमा इन सिटी स्कैन टेक्नीशियन |
  • डिप्लोमा इन एक्सरे टेक्नीशियन |
  • डिप्लोमा इन रेडियोग्राफी एंड इमेजिंग टेक्नोलॉजी |
  • डिप्लोमा इन मेडिकल रेडियोलॉजी थेरेपी ( DMRT)
  • डिग्री कोर्स फॉर रेडियोलॉजी |
  • बीएससी इन रेडियोग्राफी |
  • बीएससी इन रेडियोग्राफी एंड इमेजिंग टेक्नोलॉजी |
  • एमएससी इन रेडियोग्राफी एंड रेडियोलॉजी |
  • पीएचडी इन रेडियोलॉजी थेरेपी |
  • सर्टिफिकेट इन रेडियोग्राफी |
  • सर्टिफिकेट इन रेडियोग्राफी डायग्नोस्टिक |
  • सर्टिफिकेट इन रेडियोलॉजी असिस्टेंट |

रेडियोलॉजिस्ट (Radiologist) कोर्स की फीस

जब भी आप मेडिकल जगत में अपना कदम रखते हैं तो यहां पर आपको लंबी फीस का भुगतान करना पड़ता है। ऐसे में अगर आप रेडियोलॉजिस्ट बनना चाहते हैं तो आपको डिप्लोमा कोर्स के अंतर्गत 1 से 2 वर्ष का कोर्स करना होगा और डिग्री कोर्स के अंतर्गत 3 से लेकर 5 वर्ष का कोर्स करना होता है जिसमें अलग-अलग प्रकार की फीस निर्धारित की गई है।

इसके अंतर्गत कोई भी रेडियोलॉजिस्ट संबंधित डिप्लोमा कोर्स करने पर आपको लगभग ₹100000 से लेकर साढे ₹3,00000 में यह कोर्स पूरा कर सकते हैं। इसके अतिरिक्त यदि आप कोई डिग्री कोर्स करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको लगभग ₹300000 से लेकर ₹8,00000 तक का खर्च आ जाता है।

रेडियोलॉजिस्ट (Radiologist) कोर्स के लिए प्रवेश की प्रक्रिया

अगर आप रेडियोलॉजिस्ट का कोर्स करना चाहते हैं लेकिन इसमें आपको दिक्कत महसूस हो रही है तो हम आपको बताते हैं कि अगर आपने सही दिशा की ओर कदम बढ़ाया है, तो इसके लिए सबसे पहले आपको प्रवेश परीक्षा के लिए तैयारी करनी होगी।

यह प्रवेश परीक्षा वर्ष में एक बार आयोजित होती है जो विभिन्न संस्थानों द्वारा आयोजित होती है जिसमें अलग-अलग तारीखों और पाठ्यक्रम का भी समावेश होता है उसे देखते हुए आप प्रवेश परीक्षा में शामिल होकर इस कोर्स को करने के लिए तैयार हो सकते हैं।

दूसरी तरफ इस कोर्स को करने के लिए मेरिट लिस्ट के आधार पर भी सूची तैयार की जाती है जिसके बाद आप निश्चित रूप से ही कोर्स कर सकते हैं लेकिन कभी-कभी इसके लिए लंबा इंतजार करना पड़ सकता है और यह उस संस्थान पर ही निर्भर करता है जहां से आप यह कोर्स कर लेना चाहते हैं।

रेडियोलॉजिस्ट (Radiologist) को मिलने वाली सैलरी

अगर आपने रेडियोलॉजिस्ट का कोर्स किया है तो इसके माध्यम से आपको महीनों के हजारों रुपए आसानी के साथ मिल जाते हैं। ऐसे में आपको यह ध्यान रखना होगा कि आपने डिग्री कोर्स किया है या फिर डिप्लोमा।

अगर आपने रेडियोलॉजी से संबंध में डिप्लोमा कोर्स किया है तो ऐसे में आपको अपेक्षाकृत थोड़ी कम सैलरी प्राप्त होती है लेकिन अगर आपने डिग्री कोर्स किया है तो ऐसे में आपको महीने के ₹50000 से ₹60000 आसानी के साथ प्राप्त हो जाते हैं।

भारत में रेडियोलॉजी (Radiologist) कोर्स के कुछ प्रमुख कॉलेज

अगर आप भारत में रहते हुए कुछ प्रमुख रेडियोलॉजी (Radiologist) कोर्स करना चाहते हैं ऐसे में हम आपकी मदद कर सकते हैं।

  • बुंदेलखंड यूनिवर्सिटी, झांसी |
  • अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान प्रशिक्षण संस्थान एम्स |
  • अपोलो इंस्टीट्यूट ऑफ हॉस्पिटल |
  • मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल, कोलकाता |
  • तीर्थंकर महावीर यूनिवर्सिटी, मुरादाबाद |
  • महारानी लक्ष्मी बाई मेडिकल कॉलेज झांसी, उत्तर प्रदेश |
  • टाटा मेमोरियल हॉस्पिटल एंड इंस्टीट्यूट, मुंबई |
  • दरभंगा मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल |

लैब टेक्नीशियन (Lab Technician) कैसे बने ?

रेडियोलॉजी (Radiologist) कोर्स करने के बाद मिलने वाली नौकरी की संभावना

अगर आपने रेडियोलॉजी कोर्स पूरा कर दिया हो ऐसी स्थिति में नौकरी की संभावना अलग-अलग क्षेत्र में होती है जिसके अंतर्गत आप अच्छे भविष्य की ओर आगे बढ़ सकते हैं।

  • Radiologist.
  • रेडियोलॉजी असिस्टेंट |
  • Radiology technician.
  • Ct  scan technician.
  • एमआरआई टेक्निशियन |
  • रेडियोलॉजिक टेक्नोलॉजिस्ट |
  • Radiology lab attendant.

रेडियोलॉजिस्ट (Radiologist) के क्षेत्र में मिली करियर की संभावनाएं

अगर आपने रेडियोलॉजिस्ट या रेडियोलॉजी का कोर्स किया हो ऐसे में यह आपके लिए बहुत ही फायदेमंद साबित होता है। चिकित्सा के क्षेत्र में देखा जा रहा है कि लगातार बीमारियों के बढ़ते रहने से रेडियोलॉजिस्ट का काम बढ़ने लगा है जहां पर उनके काम को जिम्मेदारी पूर्वक देखा जाता है वहीं पर उन्हें ज्यादा से ज्यादा लाभ प्राप्त हो रहा है। ऐसे में आप भी रेडियोलॉजिस्ट कोर्स करते हुए एक बेहतरीन फायदा हासिल कर सकते हैं जहां पर आपको किसी भी प्रकार की परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता है और आप अपने आर्थिक स्थिति को मजबूत कर पाने में सक्षम होते हैं।

वैसे तो मेडिकल क्षेत्र में किसी भी फील्ड में जाने पर कई प्रकार की संभावनाएं नजर आती हैं लेकिन अगर आप रेडियोलॉजिस्ट का कोर्स करते हैं तो आपको कई प्रकार की संभावनाएं नजर आती है जहां पर आप खुद का ही क्लीनिक या फिर ऑफिस खोल सकते हैं जहां पर आप लोगों का इलाज कर सकते हैं। बीते कुछ दशकों में रेडियोलॉजिस्ट की भरपूर संख्या प्रत्येक हॉस्पिटल क्लीनिक में बढ़ती जा रही है। ऐसे में आप भी अपार संभावनाओं को देखते हुए निश्चित रूप से ही इस क्षेत्र में आगे बढ़ सकते हैं।

रेडियोलॉजिस्ट (Radiologist) की विशेष कौशल क्षमता

  • अगर आप एक सफल रेडियोलॉजिस्ट बनना चाहते हैं तो इसके लिए आपको अपनी कौशल क्षमता को विकसित करना होगा जिसके अंतर्गत आप अपने गुणों का विकास कर सकें।
  • इस कौशल क्षमता के अंतर्गत आपको अपने स्वभाव में धैर्य और मेहनती गुण लाना आवश्यक है क्योंकि कई बार रेडियोलॉजिस्ट को घंटो तक किसी भी जांच को करने के लिए समय देना होता है।
  • इसके अलावा कम्युनिकेशन स्किल भी अच्छी होनी चाहिए जिसके माध्यम से आप मरीजों के साथ सही तरीके से तालमेल बैठाकर काम कर सके।
  • रेडियोलॉजिस्ट बनने के लिए हिंदी और अंग्रेजी दोनों ही भाषा का सही तरीके से ज्ञान होना आवश्यक है।
  • इसके अतिरिक्त Radiologist को हमेशा अपने उपकरणों का विशेष ध्यान रखना होता है जहां पर किसी भी प्रकार की चूक और गलती से काम बिगड़ भी सकता है।
  • इस प्रकार अगर आपने अपनी कौशल क्षमता का सही तरीके से विकास ना किया हो तो इसका नुकसान आपको भी उठाना पड़ सकता है। ऐसे में अगर आप सही दिशा में बढ़ना चाहते हैं, तो एकाग्र चित्त होकर इस कोर्स को करने में ही आपकी भलाई है ताकि आप सही तरीके से आगे बढ़ सके।

पॉलीग्राफ (Polygraph) टेस्ट क्या होता है

Leave a Comment