पीएचडी (PhD) क्या है ?



कुछ विद्यार्थी ऐसे होते हैं, जो सिर्फ ग्रेजुएशन तक की पढ़ाई करते हैं, वही ऐसे बहुत सारे विद्यार्थी हैं, जो पोस्ट ग्रेजुएशन की पढ़ाई करते हैं परंतु ऐसे भी कई विद्यार्थी होते हैं, जो आगे चलकर के पीएचडी जैसी डिग्री की पढ़ाई करते हैं, क्योंकि उन्हें यह पता होता है कि पीएचडी (PhD) का कोर्स करने के बाद वह गवर्नमेंट और प्राइवेट नौकरियों के लिए भी अप्लाई कर सकते हैं।

img-1


 साथ ही किसी भी यूनिवर्सिटी/कॉलेज में लेक्चरर अथवा प्रोफेसर की पोस्ट पाने के लिए भी अप्लाई कर सकते हैं। पीएचडी (PhD) डिग्री धारक एक अच्छी सैलरी के दावेदार होते हैं परंतु इस कोर्स को करना इतना आसान नहीं होता है क्योंकि यह काफी कठिन कोर्स माना जाता है। अगर आपको भी पीएचडी (PhD) कोर्स करने में रुचि है, तो आर्टिकल में आप जानेंगे कि पीएचडी (PhD) क्या है और पीएचडी (PhD)कोर्स कैसे किया जाता है।

बीएससी (B.Sc) क्या है ?

पीएचडी (PhD) क्या है ?

पीएचडी (PhD) , मास्टर डिग्री को हासिल करने के बाद की जाने वाली एक प्रोफेशनल डिग्री है, जिसके अंतर्गत आपको कुल 3 सालों तक पढ़ाई करनी पड़ती है। 3 साल की पढ़ाई पूरी करने के बाद आपको पीएचडी की डिग्री उस सब्जेक्ट में मिलती है, जिस सब्जेक्ट से आपने पीएचडी की होती है। इसके बाद आपको उस सब्जेक्ट की पूरी जानकारी हो जाती है और आप अपने नाम के आगे डॉक्टर लगा सकते हैं।



PHD करने के बाद किसी एक सब्जेक्ट के बारे में पूर्ण जानकारी मिल जाती है। मुख्य तौर पर गवर्नमेंट या प्राइवेट कॉलेज में प्रोफेसर या फिर लेक्चरर की पोस्ट प्राप्त करने के लिए ही अधिकतर विद्यार्थियों के द्वारा पीएचडी का कोर्स किया जाता है। पीएचडी (PhD) के कोर्स में एडमिशन पाने के लिए आपको UGC NET, RET, GATE, BITS जैसी एंट्रेंस एग्जाम देनी पड़ सकती है।

और इस कोर्स में आपको उस सब्जेक्ट के बारे में पूरी जानकारी हासिल होती है, जिस सब्जेक्ट से आप पीएचडी (PhD) करना चाहते हैं। पीएचडी की कई ब्रांच होती है जिसमें से आप अपनी मनपसंद ब्रांच में या फिर अपने इंटरेस्ट के हिसाब से पीएचडी कर सकते हैं।

पीएचडी (PhD) का फुल फॉर्म क्या है?

पीएचडी (PhD) का संक्षिप्त नाम “Doctor Of Philosophy” होता है, इस कोर्स में एडमिशन लेने से पहले आपको इस बात का ध्यान रखना होता है कि आपको जिस किसी भी सब्जेक्ट में रुचि हो, आपको उसी सब्जेक्ट से पीएचडी करनी चाहिए क्योंकि जब आपको उसे सब्जेक्ट में इंटरेस्ट रहेगा, तब आप पूरा ध्यान लगाकर के पीएचडी की पढ़ाई कर सकेंगे।

पीएचडी (PhD) के लिए आवश्यक योग्यतायें ?

इस कोर्स में एडमिशन पाने के लिए आपको नीचे बताई गई योग्यताओं को पूरा करना पड़ता है।

  • आपने किसी भी कोर्स को करके ग्रेजुएशन की डिग्री ली हो।
  • मास्टर डिग्री पूरी की हो।
  • परीक्षा में प्रतिशत की दर कम से कम 55 होनी चाहिए, अधिक ला सकते हैं तो यह आपके लिए ही फायदेमंद होगा।

पीएचडी (PhD) कैसे करें?

पीएचडी (PhD) कोर्स करने के लिए आपको 12वीं क्लास पास करने के बाद ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल करनी पड़ती है और उसके बाद आपको मास्टर डिग्री की पढ़ाई पूरी करने के बाद कुछ अन्य प्रक्रिया को करना पड़ता है। नीचे हमने उन सभी प्रक्रिया के बारे में डिटेल में आपको बताया हुआ है।

12वीं क्लास पास करें।

बता दें कि पीएचडी के कोर्स में आगे जाकर के एडमिशन पाने के लिए आपको 12वीं कक्षा पास करना होगी, और 12वीं क्लास में आपको उसी सब्जेक्ट का सिलेक्शन करना पड़ेगा। जिस सब्जेक्ट में आपको इंटरेस्ट हो या फिर जिस सब्जेक्ट की पढ़ाई करने में आपको मजा आता हो, साथ ही आपको यह भी कोशिश करनी है कि 12वीं क्लास को आप कम से कम 60 परसेंट से लेकर के 65 परसेंट अंकों के साथ पास करें।

ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी करें।

12वीं क्लास को पास करने के बाद आपको जिस किसी भी सब्जेक्ट में या फिर कोर्स में इंटरेस्ट हो, आपको उस कोर्स में एडमिशन पाने का प्रयास करना है, जिसके लिए आपको एंट्रेंस एग्जाम देनी पड़ सकती है तथा कुछ यूनिवर्सिटी में आपको डायरेक्ट एडमिशन भी मिल सकता है। इस प्रकार अच्छे से पढ़ाई करके ग्रेजुएशन की डिग्री भी हासिल कर ले।

मास्टर डिग्री की पढ़ाई पूरी करें

ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल करने के बाद आपको पोस्ट ग्रेजुएशन के कोर्स को करने के लिए अप्लाई करना होता है। याद रखें कि आपने जिस कोर्स का सिलेक्शन ग्रेजुएशन में किया था, उसी कोर्स का सिलेक्शन आपको मास्टर डिग्री में ही करना है, तभी आपको पीएचडी करने में फायदा प्राप्त होगा। मास्टर डिग्री की पढ़ाई करके आपको कम से कम 60% अंकों के साथ इसकी डिग्री हासिल करनी है।

यूजीसी नेट टेस्ट पास करें

पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल करने के बाद आपको यूजीसी नेट एग्जाम को देना पड़ता है और इसे पास करना पड़ता है।

पीएचडी (PhD) की एंट्रेंस एग्जाम पास करें

अब आपको पीएचडी (PhD) के कोर्स में एडमिशन पाने के लिए एंट्रेंस एग्जाम देना पड़ता है और एंट्रेंस एग्जाम को पास करने के बाद ही आपको एडमिशन मिल जाता है। इंडिया में कुछ यूनिवर्सिटी ऐसी है जो अपनी खुद की एंट्रेंस एग्जाम का आयोजन करती हैं और कुछ यूनिवर्सिटी गवर्नमेंट के द्वारा निर्धारित एंट्रेंस एग्जाम का आयोजन करती हैं। एंट्रेंस एग्जाम पास करने के बाद आपको कोर्स में एडमिशन प्राप्त हो जाता है।

पीएचडी (PhD) के सब्जेक्ट क्या है ?

पीएचडी (PhD) करने के लिए कौन सा सब्जेक्ट लेना चाहिए, यह पूरी तरह से विद्यार्थियों पर ही आधारित होता है परंतु फिर भी हमने आपकी हेल्प के लिए नीचे कुछ ऐसे सब्जेक्ट की लिस्ट दी है, जिसमें आप पीएचडी कर सकते हैं।

  • पीएचडी इन इंग्लिश |
  • पीएचडी इन मेंटल साइंस |
  • पीएचडी इन सोशियोलॉजी |
  • पीएचडी इन केमिस्ट्री |
  • पीएचडी इन फिजिक्स |
  • पीएचडी इन बायो साइंस |
  • पीएचडी इन मनी मैनेजमेंट |
  • पीएचडी इन बिजनेस मैनेजमेंट |
  • पीएचडी इन लॉ |

पीएचडी (PhD) की फीस क्या है?

पीएचडी (PhD) की फीस के बारे में बात करें तो इसकी फीस कॉलेज के हिसाब से अलग-अलग होती है। इसकी औसत फीस के बारे में बात करें तो गवर्नमेंट कॉलेज में इसकी सालाना फीस ₹15000 से लेकर के ₹20000 तक होती है और प्राइवेट कॉलेज में इसकी फीस इससे अधिक होती है। प्राइवेट कॉलेज में फीस के आंकड़े के बारे में बात की जाए तो आपको सालाना तौर पर तकरीबन ₹100000 से लेकर के ₹300000 तक की फीस इस कोर्स के लिए भरनी पड़ सकती है।

एमएससी (M.Sc) क्या होता है ?

पीएचडी (PhD) के फायदे क्या हैं ?

नीचे आपको पीएचडी (PhD) कोर्स के एडवांटेज अथवा बेनिफिट के बारे में बताया गया है।

  • यह प्रोफेशनल डिग्री मानी जाती है।
  • पीएचडी कोर्स करने के बाद आप अपनी फील्ड में एक्सपर्ट कहलाने लगेंगे।
  • कोर्स को पूरा करने के बाद आप अपने नाम के आगे डॉक्टर लगा सकते हैं।
  • कोर्स पूरा करने के बाद आप अधिकतर गवर्नमेंट और प्राइवेट नौकरी में अप्लाई करने के लिए एलिजिबल हो जाते हैं।
  • पीएचडी की डिग्री हासिल करने के बाद आप एनालिसिस/ रिसर्च भी कर सकते हैं।
  • आप चाहें तो कॉलेज में लेक्चरर या फिर प्रोफेसर की पोस्ट के लिए भी अप्लाई कर सकते हैं।

पीएचडी (PhD) के बाद क्या करें?

पीएचडी (PhD) डिग्री हासिल करने के बाद आप एजुकेशन की फील्ड में अपना करियर स्थापित कर सकते हैं और प्रोफेसर के तौर पर विद्यार्थियों को पढ़ा सकते हैं। आप चाहे तो मेडिकल रिसर्च या फिर डेवलपमेंट सेंटर में भी काम कर सकते हैं। अगर आपने केमिस्ट्री के सब्जेक्ट से पीएचडी का कोर्स किया है, तो आप केमिकल रिसर्च सेंटर और लेबोरेटरी एनालिस्ट में नौकरी पाने के लिए अप्लाई कर सकते हैं। न्यूट्रिशन में पीएचडी किए हुए लोग चाहे तो साइंटिफिक एडवाइजर की फील्ड में काम कर सकते हैं। कोर्स को पूरा करने के बाद आप विभिन्न प्रकार की गवर्नमेंट नौकरी के लिए भी अप्लाई कर सकते हैं। हालांकि इसके लिए अपनी उम्र का ध्यान अवश्य रखें।

पीएचडी (PhD) की तैयारी कैसे करें?

पीएचडी (PhD) के कोर्स में एडमिशन पाने के लिए हर साल लाखों विद्यार्थी प्रयास करते हैं परंतु सफलता उन्हें ही मिलती है जिन्होंने अच्छे से इसकी तैयारी की होती है। इसलिए पीएचडी की तैयारी करने के लिए महत्वपूर्ण टिप्स हमने आपके साथ शेयर किए हैं।

  • इसकी तैयारी आपको कॉलेज के दिनों में ही चालू कर देनी चाहिए तभी आगे चलकर के आपको बेनिफिट प्राप्त होगा।
  • तैयारी करने के लिए आपको अपने सीनियर और पढ़ाने वाले टीचरों से भी राय सलाह अवश्य करनी चाहिए।
  • जिन विद्यार्थियों ने पीएचडी कर ली है, आपको उनसे मिलना चाहिए और उनसे आवश्यक मार्गदर्शन प्राप्त करना चाहिए।
  • कोर्स हेतु आपको कौन से कॉलेज में एडमिशन लेना है और वहां का वातावरण कैसा है, इसके बारे में पता करें और उसी हिसाब से अपनी तैयारी करें।
  • यूजीसी की एग्जाम के जो पिछले साल के क्वेश्चन पेपर हैं, उन्हें प्राप्त करके उन्हें सॉल्व करने का प्रयास करें।
  • बेहतर तैयारी के लिए अच्छे कोचिंग इंस्टिट्यूट को ज्वाइन करें या फिर घर पर रहकर ही यूट्यूब के जरिए अथवा अनअकैडमी या फिर अन्य टीचिंग एप्लीकेशन के जरिए पढ़ाई करें।

पीएचडी (PhD) हेतु इंडिया के टॉप कॉलेज कौन से हैं?

नीचे हमने कुछ ऐसे कॉलेज के नाम दिए हैं, जो पीएचडी कोर्स करने के लिए बेस्ट कॉलेज की लिस्ट में आते हैं।

  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट, अहमदाबाद |
  • यूनिवर्सिटी ऑफ दिल्ली, दिल्ली |
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट, बेंगलुरू |
  • इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, दिल्ली |
  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, कानपुर |
  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, मद्रास |

पीएचडी (PhD) के बाद नौकरी कहां मिलेगी?

पीएचडी (PhD) कोर्स कंप्लीट करने के बाद आप निम्न फील्ड में नौकरी पाने का प्रयास कर सकते हैं।

  • कॉलेज प्रोफेसर |
  • पब्लिक सेक्टर एंड साइंस कम्युनिकेशन |
  • एनालाइजर |
  • गवर्नमेंट फील्ड में एडवाइजर पोस्ट में सलाहकार पद |
  • भूवैज्ञानिक केंद्रों में सेवा के प्रमुख |
  • साइंस राइटिंग |
  • साइंटिफिक  एडवाइजर |
  • मेडिकल रिसर्च एंड डेवलपमेंट सेंटर्स |
  • पीएचडी के लिए आवश्यक दस्तावेज कौन से है? |
  • 10वीं और 12वीं की मार्कशीट |
  • बैचलर डिग्री |
  • मास्टर डिग्री |
  • इंग्लिश Skills का सर्टिफिकेट |
  • लेटर ऑफ़ रिकमेन्डेशन |
  • स्टेटमेंट ऑफ़ पर्पस |
  • अपडेटेड प्रोफेशनल रिज्यूम |

पीएचडी (PhD) के बाद सैलरी क्या होगी?

कोर्स को पूरा करने के बाद बैंक इन्वेस्टर, राइटर और रिसर्चर की फील्ड में आप अपने करियर को बनाने का प्रयास कर सकते हैं। पीएचडी (PhD) के बाद आपकी तनख्वाह आपके कौशल और आपके एक्सपीरियंस के हिसाब से होगी। इस कोर्स को पूरा करने के बाद स्टार्टिंग में कहीं पर भी आपकी नौकरी लगती है, तो आपको शुरुआत में कम से कम 15000 से ₹20000 की सैलरी अवश्य मिलेगी। यह सैलरी कम या ज्यादा भी हो सकती है। पद के हिसाब से सैलरी और भी हो सकती है।

बीकॉम (B.Com) क्या होता है ?

Leave a Comment