डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें



12वीं पास करने के बाद ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल करना आज भी लाखों छात्रों का उद्देश्य रहता है। लेकिन,चूँकि समय की कमी के चलते और आर्थिक स्थिति की वजह से कई छात्र कॉलेज में पढ़ाई नहीं कर पाते, ऐसे में डिस्टेंस लर्निंग एक ऐसा विकल्प है जो उन्हें सुनहरा अवसर प्रदान करता है।



लेकिन अभी भी काफी ऐसे छात्र हैं जिनको इस विकल्प के बारे में पर्याप्त जानकारी नहीं है। और ऐसे में जो लोग यह जानना चाहते हैं कि डिस्टेंस लर्निंग क्या है ? डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें ? Distance Learning se Graduation Kaise Kare? उनके लिए यह पोस्ट बेहद काम आने वाली है।

पोस्ट ग्रेजुएशन (PG) क्या होता है ?

डिस्टेंस लर्निंग क्या होती है ? What is Distance Learning in Hindi

Table of Contents

डिस्टेंस लर्निंग को दूरस्थ शिक्षा अथवा मुक्त शिक्षा कहा जाता है, वही अंग्रेजी में इसका एक अन्य नाम भी है जिसे Distance Education कहा जाता है। आसान शब्दों में समझें तो डिस्टेंस लर्निंग के जरिए जब आप पढ़ाई करते हैं तो आपको पढ़ाई करने के लिए ना तो स्कूल जाने की जरूरत होती है ना ही कॉलेज जाने की आवश्यकता होती है।



बल्कि डिस्टेंस लर्निंग के जरिए पढ़ाई करने के लिए आपको अपने घर पर रहना होता है और इसमें पढ़ाई कंप्यूटर अथवा स्मार्टफोन के जरिए ऑनलाइन होती है। जब आपकी एग्जाम की तारीख नजदीक आती है तभी आपको परीक्षा देने के लिए संबंधित कॉलेज अथवा स्कूल में जाना पड़ता है। Distance शब्द का हिंदी में अर्थ दूरी से है जबकि लर्निंग का मतलब सीखना होता है।

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें ? [graduation from distance learning]

बारहवीं की परीक्षा को पास करने के पश्चात अगर आप डिस्टेंस लर्निंग के जरिए किसी कोर्स को करने के बारे में सोच रहे हैं। तो आप आसानी से डिस्टेंस लर्निंग के जरिए घर बैठे उस कोर्स में एडमिशन ले सकते हैं और आसानी से ऑनलाइन स्टडी कर सकते हैं।

डिस्टेंस लर्निंग के जरिए ग्रेजुएशन करने के लिए सबसे पहले आपको यह पता करना होता है कि जिस कोर्स को आप करना चाहते हैं क्या वह कोर्स डिस्टेंस लर्निंग के जरिए किया जा सकता है।?

अथवा नहीं, क्योंकि कुछ कोर्स ऐसे हैं जो डिस्टेंस लर्निंग के जरिए पूरे किए जाते हैं। हर कोर्स को डिस्टेंस लर्निंग के जरिए नहीं किया जा सकता है।

डिस्टेंस लर्निंग से पढ़ाई क्यों करनी चाहिए ?

जो विद्यार्थी नियमित कॉलेज नहीं जा सकते हैं उन्हें डिस्टेंस लर्निंग के जरिए अपनी स्टडी को जारी रखना चाहिए। इंडिया में बहुत सारे छात्र और छात्राएं 12वीं के बाद ग्रेजुएट बनने के लिए कोर्स में एडमिशन लेना चाहते है।

परंतु आर्थिक स्थिति सही नहीं होने की वजह से वह 12वीं के बाद पढ़ाई ना करके नौकरी करने में लग जाते हैं। परंतु ऐसे में अगर वह चाहे तो डिस्टेंस लर्निंग के जरिए अपने कोर्स में आवेदन कर सकते हैं और पढ़ाई करके ग्रेजुएशन की डिग्री भी हासिल कर सकते हैं।

इस प्रकार से अपने आवश्यक काम को करने के साथ ही साथ या फिर नौकरी करने के साथ ही साथ डिस्टेंस लर्निंग के जरिए पढ़ाई की जा सकती है। इस क्रिया से बीच में ही अपनी पढ़ाई छोड़ने वाले विद्यार्थियों की संख्या में कमी आएगी।

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करने हेतु ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया

डिस्टेंस लर्निंग के जरिए ऑनलाइन ग्रेजुएशन करने के लिए नीचे दी गई विधि को फॉलो करें।

  • सबसे पहले आपको अपनी पसंदीदा कॉलेज की आधिकारिक वेबसाइट को किसी भी ब्राउजर में ओपन करना है।
  • वेबसाइट ओपन होने के बाद आप जिस Course में अप्लाई करना चाहते हैं उस कोर्स के एप्लीकेशन फॉर्म को आपको भरना है।
  • एप्लीकेशन फॉर्म भरने के लिए आपके पास आपकी पासपोर्ट साइज की लेटेस्ट रंगीन फोटो और 12वीं क्लास की मार्कशीट होनी चाहिए।
  • फार्म भरने के पश्चात आपको उस फॉर्म को कॉलेज में जाकर के जमा कर देना है।
  • इस प्रकार से डिस्टेंस लर्निंग के जरिए आप ऑनलाइन ग्रेजुएशन हेतु आवेदन कर सकते हैं।

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करने हेतु ऑफलाइन आवेदन की प्रक्रिया

डिस्टेंस लर्निंग के तहत ग्रेजुएशन करने के लिए ऑफलाइन आवेदन की प्रक्रिया निम्नानुसार है।

  • ऑफलाइन आवेदन करने के लिए आपको सबसे पहले उस कॉलेज में जाना है जिस कॉलेज में आप एडमिशन लेना चाहते है।
  • कॉलेज जाने के बाद आपको एप्लीकेशन फॉर्म हासिल करना है और उसमें मांगी गई सभी जानकारियों को सही से भरना है।
  • अब आपको एप्लीकेशन फॉर्म के साथ अपनी फोटो और आधार कार्ड की फोटो कॉपी तथा 12वीं क्लास की मार्कशीट की फोटो कॉपी को अटैच करना है।
  • अब आपको एप्लीकेशन फॉर्म को कॉलेज में जाकर के जमा कर देना है।
  • इस प्रकार से डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करने के लिए आप ऑफलाइन आवेदन कर सकते हैं।

ग्रेजुएशन के बाद क्या करे ?

डिस्टेंस लर्निंग से किए जाने वाले कोर्स की लिस्ट | Distance Learning Course List

ऐसे बहुत सारे कोर्स है जो विद्यार्थियों को काफी ज्यादा पसंद होते हैं परंतु बता दें कि हर कोर्स को डिस्टेंस लर्निंग के जरिए नहीं किया जा सकता है। कुछ सिलेक्टेड कोर्स ही है जो डिस्टेंस लर्निंग के जरिए कर सकते हैं।

डिस्टेंस लर्निंग की सहायता से आप बैचलर ऑफ आर्ट,बैचलर ऑफ साइंस, बैचलर ऑफ कॉमर्स, मास्टर ऑफ कॉमर्स जैसे कोर्स कर सकते हैं। नीचे हमने कुछ ऐसे महत्वपूर्ण कोर्स की लिस्ट दी है जो डिस्टेंस लर्निंग के अंतर्गत किए जा सकते हैं।

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करने हेतु भारत के सर्वश्रेष्ठ कॉलेज

भारत में ऐसे बहुत सारे इंस्टिट्यूट है जो डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करने का मौका विद्यार्थियों को देते हैं। नीचे हमने कुछ चुनिंदा कॉलेज की सूची आपको दी है जो डिस्टेंस लर्निंग के जरिए ग्रेजुएशन पूरी करने के लिए बेस्ट कॉलेज की लिस्ट में आते हैं।

  • इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी |
  • दिल्ली यूनिवर्सिटी |
  • मद्रास यूनिवर्सिटी |
  • सिंबोसिस सेंटर फॉर डिस्टेंस लर्निंग |
  • आईएमटी डिस्टेंस एंड ओपन लर्निंग इंस्टीट्यूट |
  • सिक्किम मणिपाल यूनिवर्सिटी |
  • डॉक्टर भीमराव अंबेडकर ओपन यूनिवर्सिटी |
  • नेताजी सुभाष ओपन यूनिवर्सिटी |

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करने की मान्यता

काफी लोगों के मन में यह सोच पैदा होती है कि डिस्टेंस एजुकेशन से ग्रेजुएशन पूरी करने की मान्यता दैनिक तौर पर रेगुलर एजुकेशन से कम होती है, परंतु यह बात बिल्कुल झूठ है। चाहे व्यक्ति के द्वारा डिस्टेंस लर्निंग के जरिए ग्रेजुएशन किया जाए या फिर दैनिक तौर पर कॉलेज अटेंड करके ग्रेजुएशन किया जाए, दोनों की मान्यता एक जैसी ही होती है।

आप जहां जहां पर रेगुलर एजुकेशन के द्वारा प्राप्त डिग्री का इस्तेमाल कर सकते हैं वहां वहां पर डिस्टेंस लर्निंग के जरिए प्राप्त ग्रेजुएशन की डिग्री का भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करने हेतु फीस

किसी विद्यार्थी के द्वारा अगर डिस्टेंस लर्निंग के जरिए एजुकेशन प्राप्त की जाती है तो रेगुलर एजुकेशन की तुलना में उसे कम फीस भरनी पड़ सकती है और यह फीस विभिन्न क्षेत्रों में मौजूद अलग-अलग कॉलेज के हिसाब से अलग-अलग होती है।

अगर हम शहरों में मौजूद डिस्टेंस लर्निंग कोर्स ऑफर करने वाले कॉलेज की फीस के बारे में बात करें तो उनकी साधारण तौर पर फीस बैचलर डिग्री के लिए ₹10000 से लेकर के ₹17000 के आसपास में होती है।

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करने के लाभ

नीचे आपको यह बताया गया है कि डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करने के खास फायदे कौन कौन से है।

  • सबसे बड़ा फायदा डिस्टेंस लर्निंग का यह है कि इसमें आपको पढ़ाई करने के लिए रोजाना कॉलेज जाने की बिल्कुल भी आवश्यकता नहीं होती है। आप घर बैठे ही डिस्टेंस लर्निंग के जरिए पढ़ाई कर सकते हैं।
  • आप नौकरी करते हुए या फिर दूसरे काम को करते हुए भी अपनी ग्रेजुएशन की स्टडी कर सकते हैं।
  • किसी भी प्रकार की उम्र सीमा का निर्धारण डिस्टेंस लर्निंग के जरिए ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल करने के लिए नहीं किया गया है। इसलिए आप जब चाहे तब डिस्टेंस लर्निंग के जरिए ग्रेजुएशन की पढ़ाई करने के लिए आवेदन कर सकते हैं।
  • अगर किसी कंपनी में आप नौकरी करते हैं और कंपनी में प्रमोशन के लिए ग्रेजुएशन की डिमांड की जा रही है तो आप 40 से 45 साल की उम्र में भी ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त करने के लिए डिस्टेंस लर्निंग के जरिए आवेदन कर सकते हैं साथ ही अपने काम को भी जारी रख सकते हैं।
  • कोई व्यक्ति अगर ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल करने के लिए डिस्टेंस एजुकेशन के जरिए पढ़ाई करता है तो उसे रेगुलर एजुकेशन की तुलना में कम फीस भरनी पड़ती है।
  • डिस्टेंस एजुकेशन से पढ़ाई करने पर व्यक्ति को कॉलेज आने जाने के लिए जो खर्चा करना पड़ता है वह नहीं करना पड़ता।

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करने की हानि

ऊपर डिस्टेंस लर्निंग के फायदे जानने के बाद आइए जानते हैं कि डिस्टेंस लर्निंग के नुकसान क्या है।

  • डिस्टेंस लर्निंग के जरिए पढ़ाई करने पर आपको रोजाना कॉलेज नहीं जाना पड़ता है जिसकी वजह से आपको क्लास अटेंड नहीं करनी पड़ती है। और कई बार यह देखा गया है कि इसकी वजह से बहुत से विद्यार्थी स्टडी में जरा भी इंटरेस्ट नहीं लेते हैं क्योंकि उन्हें पढ़ाई का माहौल नहीं मिल पाता है।
  • जो विद्यार्थी डिस्टेंस लर्निंग के जरिए पढ़ाई करते हैं उनका मुख्य लक्ष्य सिर्फ ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल करना होता है। इसके लिए उन्हें ग्रेजुएशन से संबंधित बहुत ही कम इंफॉर्मेशन होती है।
  • कुछ यूनिवर्सिटी ऐसी है जो डिस्टेंस लर्निंग के अंतर्गत भी अधिक फीस विद्यार्थियों से लेती है।

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन करने के बाद क्या करें ?

डिस्टेंस लर्निंग के बाद जब आपके हाथ में ग्रेजुएशन की डिग्री आ जाए तो उसके पश्चात आप चाहे तो अपनी पसंदीदा गवर्नमेंट नौकरी के लिए अप्लाई कर सकते हैं या फिर आप प्राइवेट नौकरी के लिए भी आवेदन कर सकते हैं।

अथवा आप चाहे तो अपना खुद का कोई बिजनेस स्टार्ट कर सकते हैं या फिर आप डिस्टेंस लर्निंग के अंतर्गत ही हायर स्टडी के लिए भी अप्लाई कर सकते हैं अथवा आप पोस्ट ग्रेजुएशन कर सकते हैं।

FAQ:

डिस्टेंस लर्निंग को हिंदी में क्या कहते हैं ?

दूरस्थ शिक्षा

डिस्टेंस लर्निंग से प्राप्त सर्टिफिकेट से क्या हम सरकारी नौकरी के लिए आवेदन कर सकते हैं ?

जी हां

इग्नू (IGNOU) क्या है

Leave a Comment