सॉफ्टवेयर इंजीनियर (Software Engineer) कैसे बने ?

आज का समय निश्चित रूप से ही टेक्नोलॉजी के नाम है, जहां पर युवा वर्ग आगे बढ़ते हुए टेक्नोलॉजी में कुछ बेहतर करना चाहते हैं और इसी क्षेत्र में आगे बढ़कर अपने भविष्य को भी संवारना चाहते हैं। ऐसे में आपने और हमने सॉफ्टवेयर इंजीनियर के बारे में पढ़ा और सुना है, जो आज के युवा वर्ग में विशेष रुझान का कारण बने हुए हैं।

अगर आप भी एक अच्छे सॉफ्टवेयर इंजीनियर (software engineer) बनना चाहते हैं, तो हम आपकी इसमें मदद करेंगे ताकि आप अपने भविष्य को संवार सकें। आज के इस आर्टिकल में हम आपको सॉफ्टवेयर इंजीनियर की योग्यता, जॉब सैलरी और इससे जुड़ी अतिरिक्त जानकारी देंगे।

सॉफ्टवेयर इंजीनियर ( software engineer) क्या होता है?

Table of Contents

सॉफ़्टवेयर इंजिनियरिंग कम्प्यूटर साइंस इंजीनियरिंग की एक शाखा है। एक सोफ्टवेयर इंजीनियर वह व्यक्ति होता है जो सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग के सिद्धातों जैसे डिजाइनिंग, मेंटेंनिंग, टेस्टिंग, प्रोग्रामिंग इत्यादि कार्य करता है।

दूसरे शब्दों में कहें तो सॉफ्टवेयर इंजीनियर एक प्रकार का कंप्यूटर इंजीनियरिंग संबंधित कोर्स होता है। एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर clients, कम्पनियों की आवश्यकता के मुताबिक यूज़र की जरूरतों को मुताबिक प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में डेवेलप करने का काम करता है जिसके लिए प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की जानकारी होना आवश्यक माना जाता है। आज के समय में युवा वर्ग आगे बढ़ते हुए सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने का सपना देखते हैं ताकि उन्हें भविष्य में किसी भी प्रकार की दिक्कत का सामना ना करना पड़े।

सॉफ्टवेयर इंजीनियर ( software engineer) बनने के लिए विशेष योग्यता

  1. अगर आप एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना चाहते हैं इसके लिए आपको 12वीं की क्लास में साइंस स्ट्रीम में पढ़ाई करनी होगी, जिसके अंतर्गत फिजिक्स, केमेस्ट्री, मैथ और कंप्यूटर साइंस अनिवार्य है।
  2. इसके लिए 12वीं कक्षा में सबसे कम 50% अंक आना अनिवार्य माना गया है।
  3. सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने के लिए कंप्यूटर और लैपटॉप के बारे में भी पर्याप्त जानकारी होना आवश्यक है।

सॉफ्टवेयर इंजीनियर ( software engineer) कैसे बने?

सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनने के लिए कुछ विशेष चरणों पर ध्यान देना होगा जो आपके लिए आवश्यक है–

प्रारंभिक शिक्षा पर जोर दें

प्रतिस्पर्धा के समय में इस बात का विशेष ख्याल रखना पड़ता है कि जिस सपने को आपने देखा है उसे पूरा करने के लिए जी तोड़ मेहनत की आवश्यकता होती है। ऐसे में अगर आप एक बेहतर सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना चाहते हैं,तो इसके लिए आपको अपनी तैयारी स्कूल शिक्षा से ही शुरू करनी होगी। स्कूल में विज्ञान और मैथ विषय पर अधिक जोर दिया जाता है और यही समय होता है जब आप शुरुआती शिक्षा के साथ अपने सपने को आगे बढ़ा सकते हैं।

अपने बैचलर डिग्री पर फोकस करें

अगर आप एक अच्छे सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना चाहते हैं इसके लिए आपको बैचलर डिग्री लेना आवश्यक होगा। यह बैचलर डिग्री आप कंप्यूटर साइंस में ले सकते हैं जिसके माध्यम से आप जल्द ही ऊंचे पायदान पर जा सकते हैं। कंप्यूटर साइंस की बैचलर डिग्री 4 सालों की होती है जिसके बाद आप अगर चाहे तो सॉफ्टवेयर इंजीनियर के लिए मास्टर कर सकते हैं।

इंटर्नशिप की करे शुरुआत

जब आप अपना कंप्यूटर साइंस पूरा कर लेते हैं या फिर में डिग्री ले लेते हैं उसके बाद आपको इंटर्नशिप करना आवश्यक माना जाता है। हमारे देश men कई सारे ऐसी सॉफ्टवेयर कंपनियां हैं, जो इंटर्नशिप देते हैं। ऐसे में आप भी किसी अच्छी कंपनी से इंटर्नशिप लेकर फायदा ले सकते हैं।

जॉब के लिए करें अप्लाई

कंप्यूटर साइंस में बैचलर या फिर मास्टर डिग्री करने के बाद जाँब के लिए अप्लाई कर सकते हैं। इसके लिए आपको अपने स्कील को सही तरीके से डेवलप करना होगा और साथ ही साथ अपने नॉलेज को भी बढ़ाना होगा जिसके माध्यम से आसानी से ही आप जॉब हासिल कर सकें। कई बार सॉफ्टवेयर कंपनी द्वारा प्लेसमेंट की सुविधा होती है जिसके माध्यम से भी आप एक अच्छी जॉब हासिल कर सकते हैं।

सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में उपयोग किए जाने वाले लैंग्वेज

जब भी सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग की जाती है तो उसमें कुछ मुख्य लैंग्वेज का समावेश होता है–

  • C language
  • C++
  • Java
  • HTML
  • RUBY
  • PYTHON
  • MATLAB
  • PHP
  • SQL
  • Net

सॉफ्टवेयर इंजीनियर ( software engineer) बनने के लिए आवश्यक स्किल

अगर आप एक अच्छे सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना चाहते हैं तो इसके लिए अंदर की स्किल को डेवलप कर सकते हैं ताकि जल्द से जल्द आप इसका लाभ ले सके। इन स्किल में कुछ मुख्य प्रकार की बातों को शामिल किया गया है |

  1. मैनेजमेंट |
  2. प्रॉब्लम सॉल्विंग सिस्टम |
  3. अच्छी कम्युनिकेशन स्किल |
  4. मल्टी टास्किंग स्किल |

सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग के लिए विभिन्न कोर्स

अगर आप सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना चाहते हैं, तो इसके अंतर्गत आपको विभिन्न प्रकार के कोर्स उपलब्ध होते हैं जिसके माध्यम से आप आगे बढ़ सकते हैं जिनमें कुछ कोर्स मुख्य हैं—

  1. B.tech — बैचलर आफ टेक्नोलॉजी( CS, IT)
  2. B.C.A — बैचलर आफ कंप्यूटर एप्लीकेशन
  3. B.SC — बैचलर ऑफ साइंस
  4. पॉलिटेक्निक डिप्लोमा कंप्यूटर साइंस

अगर आप बीटेक करते हैं,तो इसमें आपको 4 वर्ष का समय लगता है। इसके अतिरिक्त यदि आप पॉलिटेक्निक डिप्लोमा या फिर बीसीए करते हैं तो आपको 3 वर्ष का समय लगता है।

सॉफ्टवेयर इंजीनियर के लिए विभिन्न विषय

सॉफ्टवेयर इंजीनियर का कोर्स करना चाहते हैं इसके लिए आपको इन मुख्य विषयों के बारे में पढ़ना होगा–

Software Development Approaches

  • Introduction.
  • Evolving roll of software.
  • Software characteristics.
  • Software applications.

Software Design Processing

  • what is meant by software engineering?
  • Definitions of software engineering?
  • The serial and linear development model.
  • Iterative development model.
  • The incremental development model.
  • The parallel or concurrent development model..
  • Hacking.

Software Reliability

  • Introduction.
  • Software reliability metrics.
  • Programming for reliability.
  • Fault avoidance.
  • Fault tolerance.
  • Software reuse.

Object oriented design

  • object oriented design object classes and inheritance .object identification, object oriented design example object aggregation.
  • Service usage.
  • Data flow design.
  • Structure composition.
  • Object interface design.

Software design principle

  • system model — Data flow model, semantic data model, object model, inheritance model, object aggregation
  • Software design — design process, design methods, design description, design quality. design strategies
  • Architecture design — system structure, repository model, control models domain specific.

People and software engineering

  1. Traditional software engineering.
  2. The importance of people in problem solving process.
  3. The people factor.
  4. The customer factor.

Software technology and problem solving

  • software technology as enabling business tool.
  • The E business revolution.

Case study

  1. Introduction.
  2. System requirements.
  3. Architectural alternative.

सॉफ्टवेयर इंजीनियर के लिए टॉप के कॉलेज

आज के समय में भारत में कई सारे ऐसे कॉलेज है, जहां पर आसानी के साथ सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग की जा सकती है लेकिन आज हम आपको भारत के ही टॉप इंजीनियरिंग कॉलेज के बारे में जानकारी देंगे।

  1. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, मद्रास |
  2. ऑक्सफोर्ड कॉलेज ऑफ साइंस, बेंगलुरु |
  3. नेताजी सुभाष इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, न्यू दिल्ली |
  4. बिरला इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड साइंस, पिलानी |
  5. आरवी कॉलेज ऑफ़ इंजीनियरिंग, बेंगलुरु |
  6. नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, दुर्गापुर |
  7. इंडियन नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, इंदौर |
  8. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी, गुवाहाटी |
  9. इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी, हैदराबाद |
  10. देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी, इंदौर |
  11. नालंदा ओपन यूनिवर्सिटी |
  12. इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय |

सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग करने में आने वाला खर्च

अगर आप सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग का कोर्स करना चाहते हैं तो यह आपके भविष्य के लिए बेहतर होता है लेकिन इसके लिए आपको पढ़ाई हेतु प्रतिवर्ष ₹60,000 से लेकर ₹3,00000 खर्च करना होता है।

सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग करने के बाद बेहतर विकल्प

अगर आप किसी अच्छे कॉलेज से सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग करते हैं, तो इसके माध्यम से आप एक अच्छी नौकरी की तलाश पूरी कर सकते हैं और जिसके बाद आप इन मुख्य क्षेत्र में रोजगार प्राप्त कर सकते हैं।

  • वीडियो गेम डिजाइनर |
  • सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट |
  • सेल्स मैनेजर |
  • सॉफ्टवेयर डेवलपर |
  • टेक्निकल ऑफिसर |
  • साइबर सिक्योरिटी मैनेजर |
  • सॉफ्टवेयर expert |
  • सॉफ्टवेयर इंजीनियर |
  • स्वयं का बिजनेस |

सॉफ्टवेयर इंजीनियर की सैलरी

  • अगर आप सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग की पढ़ाई करते हैं, तो उसके बाद आपको विभिन्न प्रकार की कंपनियों में जॉब के ऑफर आते हैं, जहां पर सॉफ्टवेयर रिलेटेड काम होते हैं। ऐसे में आपको शुरुआत में ₹20,000 से ₹40,000 प्रति महीने प्राप्त हो सकते हैं।
  • इसके अलावा अगर आप एक्सपर्ट सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं, तब तो आप आसानी के साथ ही सालाना ₹75 लाख से 50 लाख रुपए कमा सकते हैं।
  • यदि आप किसी सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग करने के बाद मल्टीनेशनल कंपनी में नौकरी करते हैं तो आसानी के साथ आप महीने के लाखों रुपए कमा सकते हैं।

सॉफ्टवेयर इंजीनियर के लाभ

अगर आप एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर है,तो आपको इससे कई प्रकार के लाभ प्राप्त होते हैं–

  • सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग एक ऐसा क्षेत्र है जिसके माध्यम से किसी भी बड़े प्रोजेक्ट की समस्याओं को आसानी से दूर कर सकते हैं।
  • इनके माध्यम से बड़े से बड़े प्रोजेक्ट को जल्दी ही पूरा किया जा सकता है जिसमें कई सारे चरण होते हैं।
  • सॉफ्टवेयर इंजीनियर के माध्यम से किसी भी प्रोजेक्ट में बेहतरीन क्वालिटी और मैनेजमेंट का सहारा लेकर प्रोजेक्ट को पूरा करना आसान होता है।
  • किसी भी बड़े सॉफ्टवेयर रिलेटेड प्रोजेक्ट को मेंटेन करना सॉफ्टवेयर इंजीनियर के लिए काफी हद तक आसान होता है।

सॉफ्टवेयर इंजीनियर (software engineering) के कार्य

सॉफ्टवेयर इंजीनियर के कई प्रकार के कार्य होते हैं जिनके माध्यम से वे आगे बढ़ सकते हैं, जो मुख्य है

  • सॉफ्टवेयर डेवलप करना |
  • प्रोग्रामिंग करना |
  • कंप्यूटर के लिए सॉफ्टवेयर बनाना |
  • मोबाइल एप्लीकेशन बनाना |
  • सॉफ्टवेयर टेस्टिंग करना |
  • किसी भी डिजाइन को एनालाइज करना |
  • किसी भी सॉफ्टवेयर में प्रॉब्लम को पहचानना |
  • सॉफ्टवेयर में आने वाली समस्या को ठीक करना |

सॉफ्टवेयर इंजीनियरों के लिए विशेष कंपनियां

अगर आपने सॉफ्टवेयर इंजीनियर का कोर्स किया है तो आप आसानी के साथ ही एक अच्छी कंपनी में नौकरी हासिल कर सकते हैं। ऐसे में आज हम आपको विशेष या टॉप कंपनियां बताएंगे जिनमें आप कार्य कर सकते हैं और अपनी काबिलियत को दिखा सकते हैं।

  • Google
  • IBM
  • TCS
  • Oracle
  • Wipro
  • Symantec
  • Persistent
  • Cognizant

सॉफ्टवेयर इंजीनियर में अपार संभावनाएं

अगर आप एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर बनना चाहते हैं, तो हम आपको यहां पर यह बताना चाहते हैं कि इसके माध्यम से कई सारी अपार संभावनाओं को देखा जाता है जो कहीं ना कहीं आपके भविष्य के लिए फायदेमंद होता है। ऐसे में आप अच्छे इंस्टीट्यूट से अगर सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग का कोर्स कर ले, तो आप निश्चित रूप से ही आने वाली अपार संभावना को प्राप्त कर सकते हैं और आगे बढ़ सकते हैं।

Leave a Comment