वेब डेवलपर (Web Developer) कैसे बने

आज के समय में हर कोई इंटरनेट पर अपनी पहचान बनाना चाहता है जिसके लिए लोगों को एक वेबसाइट की जरूरत होती है। स्कूलों से लेकर व्यपार कंपनियों तक हर कोई अपनी वेबसाइट बनवाता है। यहां तक कि एक साधारण व्यक्ति भी अपनी पर्सनल वेबसाइट के माध्यम से अपना एक पोर्टफोलियो बनवाता है। ऐसे में आप अगर टेक्नोलॉजी में रूचि रखते हैं और इंटरनेट पर काम करना चाहते हैं तो एक वेब डेवलपर (Web Developer) बनना आप के लिए एक अच्छा विकल्प हो सकता है क्योंकि समय के साथ साथ वेब डेवेलपर्स की मांग बढ़ती जा रही है और इसमें आपको सैलरी भी अच्छी मिलती है।

तो आज इस लेख के माध्यम से आपको बताएंगे कि एक वेब डेवलपर (Web Developer) कैसे बने और कैसे हम वेब डेवलपमेंट के क्षेत्र में अपना करियर बना सकते हैं। यह सब जानने के लिए आपको इस लेख को शुरू से लेकर अंत तक ध्यानपूर्वक पढ़ना होगा।

Dark web (डार्क वेब) क्या होता है

वेब डेवलपर (Web Developer) कौन होता है?

वेब डेवलपर (Web Developer) वह व्यक्ति होता है जो किसी वेबसाइट को स्क्रैच (शुरुवात) से विकसित करता है और उसकी देखभाल करने का कार्य करता है। वेबसाइटें भी कई प्रकार की होती हैं जैसे शॉपिंग वेबसाइट, सोशल मीडिया वेबसाइट, किसी संस्थान की वेबसाइट और किसी व्यक्ति विशेष की पर्सनल वेबसाइट। इन सभी प्रकार की वेबसाइटों को एक Web Developer मैनेज करता है। वेबसाइट बनाने के लिए कुछ Languages का उपयोग किया जाता है।

वेबसाइट का Front – End तैयार करने के लिए HTML, CSS और JavaScript का उपयोग होता है वहीं Back – End  के लिए कुछ सर्वर साइड प्रोग्रामिंग Languages जैसे कि PHP, ASP,NET (C#), Python, Node.js, Go या Java आदि का इस्तेमाल होता है। इसके अलावा भी डोमेन नाम को मैनेज करना, वेब होस्टिंग को मैनेज करना और वेबसाइट को डिज़ाइन करना आदि Web Development का ही हिस्सा हैं।

Web Developer द्वारा किये जाने वाले कार्य

  • कंप्यूटर लैंग्वेज के साथ संयोजन करके वेब पेज बनाना।
  • कंटेंट मैनेजमेंट सिस्टम (CMS) जैसे कि WordPress आदि पर वेबसाइट बनाना।
  • HTML, CSS और JavaScript द्वारा Static वेब पेज तैयार करना।
  • वेबसाइट को इस तरह डिज़ाइन करना कि विजिटर ज़्यादा से ज़्यादा समय उस वेबसाइट पर बिताए।
  • वेबसाइट को मैनेज और अपडेट करना।
  • वेबसाइट पर कोई Error आने पर उसे सॉल्व करना।
  • PHP और Node JS आदि की मदद से बैकेंड को मैनेज करना।
  • विजिटर और ग्राहकों की आव्यशकताओं को पूरा करना।

वेब डेवलपर (Web Developer) कैसे बनें?

एक सफल वेब डेवलपर (Web Developer) बनने की प्रक्रिया को हमने कुछ स्टेप्स में विभाजित किया है। निम्नलिखित स्टेप्स को फॉलो करके आप वेब डेवलपर बन सकते हैं:-

Internet की Basic Knowledge हासिल करें

एक वेब पेज को हम इंटरनेट के माध्यम से ही देखते हैं और इसे इंटरनेट पर ही अपलोड या Deploy किया जाता है। इस लिए आपको वेब डेवलपर बनने से पहले इंटरनेट के बुनियादी Concepts को समझना चाहिए।

आपको इंटरनेट कैसे काम करता है, डोमेन और होस्टिंग क्या होती है, HTTP क्या होता है और ब्राउज़र कैसे काम करते हैं आदि समझना होगा। इसके बाद जब आप वेबसाइट को सर्वर पर अपलोड करने और डोमेन नेम कनेक्ट करने जैसे कार्य करेंगे तो आपको बिलकुल मुश्किल नहीं होगी क्योंकि आपको इंटरनेट की बुनियादी चीज़ों का ज्ञान होगा।

Web Development का Basic ज्ञान प्राप्त करें

इंटरनेट का बेसिक ज्ञान प्राप्त करने के बाद आपको अब वेब डेवलपमेंट के बेसिक ज्ञान को प्राप्त करने की तरफ बढ़ना है। इसमें आपको  HTML, CSS और JavaScript के बेसिक ज्ञान को प्राप्त करना होगा। HTML समझने और लिखने में बेहद आसान है जिसे आप एक हफ्ते में ही सीख सकते हैं।

CSS का इस्तेमाल डिजाइनिंग के लिए किया जाता है जिसे आपको सीखने में 1 महीना लग सकता है वहीं JavaScript आपकी पहली programing लैंग्वेज होगी इसलिए इसे आपको ध्यानपूर्वक सीखना होगा। इसे सीखने में आपको लगभग एक से दो महीने लग सकते हैं।

अपने Technical Skills का विकास करें

एक बेसिक वेब पेज HTML, CSS और JavaScript पर ही बना होता है परन्तु आज के समय में केवल HTML, CSS और JavaScript का उपयोग करके ना तो आप एक बेहतरीन वेबसाइट बना सकते हैं और ना ही आपको जॉब मिल सकती है। इसलिए आपको अब अपने Technical Skills को इम्प्रूव करने में ध्यान देना होगा।

इसमें आपको वेबसाइट को मोबाइल फ्रेंडली और रेस्पॉन्सिव बनाना सीखना होगा और कुछ Frameworks जैसे Bootstrap, Tailwind CSS, React और Angular आदि सीखने होंगे जिससे वेबसाइट को बनाते समय आपका बहुत सारा समय बचता है। यहां पर आपको यह भी तय करना होगा कि आप front-end वेब डेवलपर बनना चाहते हैं या back-end वेब डेवलपर।

यूट्यूब (Youtube) चैनल कैसे बनाये

किसी Back-End Language को सीखें

HTML, CSS और JavaScript का इस्तेमाल करके आप केवल वेबसाइट का फ्रंट-एन्ड ही बनाया जा सकता है परन्तु वेबसाइट को डेटाबेस से कनेक्ट करने जैसे कार्यों के लिए हमें किसी Back-End Language को सीखना होगा। आजकल Back-End के लिए PHP और Node JS का इस्तेमाल ज़्यादा किया जाता है। यदि आप JavaScript सीख चुके हैं तो आपको Node JS सीखना चाहिए क्योंकि इसमें 90 प्रतीषत JavaScript का ही इस्तेमाल हुआ है।

वैसे PHP के भी बहुत सारे Concepts जावास्क्रिप्ट से मिलते हैं इसलिए इसे सीखने में भी आपको ज़्यादा मुश्किल नहीं होगी। जरूरी नहीं आपको केवल एक ही लैंग्वेज सीखनी है, आगे चलकर आव्यशकता के हिसाब से और भी languages को सीख सकते हैं। अगर आप केवल Back-End वेब डेवलपर बनना चाहते हैं तो आप इस पढ़ाव को skip भी कर सकते हैं।

एक Professional Certification हासिल करें।

वर्तमान में बहुत सारी कंपनियां डिग्री के बजाए कौशल पर ध्यान देती हैं। बीना किसी डिग्री के भी आपको वेब डेवलपर की जॉब मिल सकती है लेकिन जब आप Professional Certification प्राप्त कर लेते हैं तो आपके लिए जॉब के रस्ते खुल जाते हैं।

 और आप ज़्यादा वेतन प्राप्त कर सकते हैं। इसके लिए आप किसी संस्थान से वेब डेवलपमेंट का कोर्स कर सकते हैं या फिर Coursera, Udemy और Udacity जैसे ऑनलाइन प्लेटफार्म भी हैं कई जो वेब डेवलपमेंट का कोर्स कर सकते हैं।

Practice करें

जब हम किसी वेब पेज को बनाते हैं तो वह एक बार में ही नहीं बन जाता बल्कि इसके दौरान हमें कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। परन्तु कंपनियों और ग्राहकों को उनके प्रोजेक्ट जल्द से जल्द चाहिए होते हैं।

जल्दी वेबसाइट बनाने के लिए हमें प्रैक्टिस करनी होगी। आपने भी सुना होगा इसलिए प्रैक्टिस करते रहें। इसके लिए आप अपने वेबसाइट प्रोजेक्ट्स बनाएं, Githhub पर प्रोजेक्ट्स में योगदान करते रहें या सबसे उत्तम वेब डेवलपमेंट के Internship प्रोग्राम को जॉइन करें क्योंकि इससे आपको जॉब मिलने के मौके बढ़ जाते हैं।

Work Portfolio बनाएं

जब आप किसी कंपनी में Web developer की जॉब एक लिए जाते हैं तो वह आपके portfolio के बारे में सबसे पहले पूछते हैं। इसलिए जो भी कौशल सीखे हैं उनका इस्तेमाल करके अपना portfolio बनाएं।

साथ ही अपना एक प्रोजेक्ट भी बनाएं। आप शॉपिंग वेबसाइट, सोशल मीडिया वेबसाइट, ब्लॉग या किसी वेबसाइट को क्लोन करके प्रोजेक्ट बना सकते हैं। अगर आपके दिमाग में कोई यूनिक आईडिया है तो उसका प्रोजेक्ट भी बना सकते हैं। इससे आपको जॉब मिलने में आसानी रहती है।

वेब डेवलपर (Web developer) बनने के लिए Courses

वेब डेवलपर (Web developer) बनने के लिए आप डिग्री और सर्टिफिकेट दोनों ही कोर्स कर सकते हैं जिसके बारे में आपको हम निम्नलिखित जानकारी दे रहे हैं:-

Degree Courses

  • वेब डेवलपर बनने के लिए बहुत सारे diploma/certificate कोर्स होते हैं जिन्हें आप कर सकते हैं। इसके बारे में आप अपने किसी नज़दीकी संस्थान से जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।
  • इसके अलावा आप BE का कोर्स भी कर सकते हैं।
  • बारहवीं कक्षा के बाद आप B.Sc. Computer Science, B.Com Computer science, BCA, B.Tech जैसे कोर्स कर सकते हैं क्यूंकि इनमे वेब डेवलपमेंट के बारे में जानकारी दी जाती है।
  • यदि आपने ग्रेजुएशन पूरी करली है या अपने वेब डेवलपमेंट के कौशल को इम्प्रूव करना चाहते हैं तो आप MCA या MBA IT का कोर्स भी कर सकते हैं ।

Certificate Courses

वेब डेवलपर बनने के लिए आप सर्टिफिकेट कोर्स भी कर सकते हैं। इन कोर्सेज़ की अवधि लगभग 6 महीने से लेकर 1 साल तक की हो सकती है। निम्न हम आपको कुछ सर्टिफिकेट कोर्सेज़ की जानकारी दे रहे हैं:-

कोर्स का नामप्लेटफार्म
Beginner Full Stack Web Development HTML, CSS, React & NodeUdemy
Responsive Website Development and Design SpecializationCoursera (University of London)
Professional Web Developer (Nanodegree certification)Udacity
Basic of Web Development and Coding SpecializationCoursera (University of Michigan)
Web Development with React SpecializationCoursera (The Hongkong University of Science and Technology)
Become Web Developer courseLinkedIn Learning Lynda
App Development Specialization             Coursera (The Hongkong University of Science and Technology)
The Web Developer BootcampUdemy

Computer Basic Knowledge in Hindi

वेब डेवलपर (Web Developer) के प्रकार

मुख्य तौर पर वेब डेवलपर (Web Developer) तीन प्रकार के होते हैं जोकि Fronted Web Developer, Backend Web Developer और Full Stack Developer हैं। इनके बारे में हम निम्न आपको विस्तार में बताने जा रहे हैं।

Fronted Web Developer

जब हम किसी भी वेबसाइट पर विजिट करते हैं तो हमें जो कुछ भी दिखाई देता है उसे Fronted कहा जाता है। इसमें वेबसाइट का लुक, रंग, तस्वीरें और लेआउट आदि शामिल होता है। इस लेख में भी आप जो कुछ भी देख पा रहे हैं वह Fronted का हिस्सा है। एक Fronted वेब डेवलपर बनने के लिए आपको HTML, CSS और JavaScript के साथ साथ कुछ Frameworks सीखने की आव्यशकता होती है। Fronted वेब डेवलपर की शुरुआती सैलरी 12,000 से 15,000 तक हो सकती है।

Backend Web Developer

Fronted के बाद अब Backend के बारे में जानते हैं। Fronted में जब हम कुछ लिखते हैं तो उसे बदला नहीं जा सकता। लेकिन डेटाबेस से रियल टाइम डेटा प्राप्त करने  के लिए Backend का इस्तेमाल होता है। जैसे कि हम जब किसी वेब पेज पर लॉगिन करते हैं तो यूज़र्स का डाटा सेव होता है जिसे Backend लैंग्वेज का इस्तेमाल करके यूज़र का पता लगाया जाता है।

जिसके बाद यूज़र को या तो लॉगिन किया जाता है या गलत पासवर्ड शो किया जाता है। इसके लिए आपको किसी Backend लैंग्वेज जैसे को सीखना होगा। Backend वेब डेवलपर की सैलरी Frontend डेवलपर के मुकाबले ज़्यादा होती है। एक Backend Web Developer शुरुआत में कम से कम 30,000 रूपये प्रति माह कमा सकता है।

Full Stack Web Developer

Full Stack Developer को Frontend और Backend दोनों का ही ज्ञान होता है। इसमें डेवलपर को वेबसाइट से संबंधित सभी कार्य करने होते हैं। Full Stack Developer की सैलरी Frontend और Backend दोनों से ही ज़्यादा होती है।

भारत में बड़ी बड़ी कंपनियां Full Stack Developer की मांग कर रही हैं। एक Full Stack Developer बनना मुश्किल कार्य होता है क्योंकि इसमें सारा कुछ आपको ही संभालना होता है।

वेब डेवलपर (Web Developer) बनने के लाभ

  • यदि आपको ऑफिस में जाकर काम करना नहीं पसंद तो आप घर बैठे भी वेब डेवलपमेंट का काम कर सकते हैं। बहुत सारी कंपनियां वेब डेवेलपनेंट के WFH (Work From Home) प्रदान करती हैं।
  • आप अपनी खुद की वेबसाइट बनाकर भी मोनेटाइज कर सकते हैं और पैसे कमा सकते हैं।
  • अधिकतर Tech स्टार्टअप को वेब डेवलपर की आव्यशकता होती है इसलिए आप आसानी से जॉब प्राप्त कर सकते हैं। वेब डेवलपर के बारे में कहावत है कि यदि आप वेब डेवलपमेंट सीख लेते हैं तो आप कभी भूखे नहीं मरने वाले।
  • आप एक Freelancer के रूप में काम कर सकते हैं जिसमें आप नई नई कंपनियों के साथ काम करने का मौका प्राप्त कर सकते हैं।

वेब डेवलपर (Web Developer) की सैलरी कितनी होती है?

एक वेब डेवलपर (Web Developer) की सैलरी उसके कौशल पर निर्भर करती है। आपको जितनी टेक्नोलोजीज़ की जानकारी होगी उतनी ही अधिक आपकी सैलरी होगी। HTML, CSS और JavaScript और Frameworks सीखने के बाद भी आप न्यूनतम 10,000 रूपये कमा सकते हैं। इसके साथ जैसे ही आपका अनुभव बढ़ता जाता है उसके साथ ही आपके वेतन में बढ़ोतरी होती रहती है। आपको यदि वेब डेवलपमेंट में 7-8 वर्षों का अनुभव हो चूका है तो आप प्रति माह 1 लाख रूपये भी कमा सकते हैं।

Web Developer और Web Designer में अंतर

Web Designing भी वेब डेवलपर का ही हिस्सा होता है परन्तु वेब डिजाइनिंग में वेबसाइट के डिजाइनिंग पर विशेष ध्यान दिया जाता है। Web Designing में वेबसाइट के रंग, लेआउट, UI, UX पर ध्यान दिया जाता है। इसमें वेबसाइट के नए ट्रेंड्स और विजिटर के मनोविज्ञान में भी दिया जाता है। जबकि वेब डेवलपमेंट में एक वेबसाइट को स्क्रैच से बनाया जाता है और ग्राहकों ओर विज़िटर्स की आव्यशकताओं पर ज़ोर दिया जाता है।

वेब डेवलपर (Web Developer) के लिए भारत के सर्वश्रेष्ठ कॉलेज

  • University of Greenwich.
  • Peralta Community College District.
  • College of Southern Nevada.
  • San Mateo Colleges of Silicon Valley.
  • Macquarie University.
  • Manchester Metropolitan University.
  • The University of Winnipeg.
  • New Jersey Institute of Technology.
  • Mira Costa College.
  • Maynooth University.
  • University of Portsmouth.

एमसीए (MCA) कोर्स क्या होता है ?