भारत के प्रमुख जलप्रपात कौन-कौन से हैं



घाटियों में अविश्वसनीय ऊंचाइयों से गिरते हुए पानी को देखना कितना रोमांचक दृश्य होता है, इसकी कल्पना मात्र से ही मन में उथल-पुथल होने लगती है | जलप्रपात (Waterfall) अर्थात झरने वास्तव में प्रकृति द्वारा निर्मित मानव जाति के लिए एक उपहार है | हमारे देश में अनेक जलप्रपात है, जो लोगो के आकर्षण का केंद्र बनें हुए है |



प्रकृति की अद्भुत देन का नजारा देखनें के लिए प्रतिवर्ष लाखों की संख्या में दुनियाभर से पर्यटक आते है | भारत के प्रमुख जलप्रपात कौन-कौन से हैं, PDF Downloadऔर इन्हें याद रखनें के लिए ट्रिक के बारें में आपको यहाँ पूरी जानकारी दे रहे है |

भारत के पड़ोसी देशों के नाम व राजधानी 

जलप्रपात क्या होते है (What Are Waterfalls) ?

जलप्रपात, प्रकृति द्वारा दिए गये अनोखे उपहारों में से एक है | जलप्रपात या झरनापहाड़ों की चट्टानों से टकराकर गिरने वाली नदी या नालों को जलप्रपात कहते है | दूसरे शब्दों में किसी पहाड़ से ऊंचाई से गिरने वाले पानी को जलप्रपात कहते हैं | पूरे विश्व में अनेक पर्वत है और इन पर्वतों से अनेक प्रकार के गिरते हुए जलप्रपात देखने को मिलते हैं | इनमें से कुछ अपनी विशालतम ऊँचाइयों के लिये प्रसिद्द है, जबकि कुछ जलप्रपात पानी की अधिकतम मात्रा अर्थात चौड़ाई के लिये प्रसिद्ध हैं |




भारत के बंदरगाह की सूची

भारत के प्रमुख जलप्रपात की सूची | Bharat Ke Pramukh Jalprapat

1.शिवसमुद्रम् जलप्रपात (Shivasamudram Falls)

शिवसमुद्रम जलप्रपात कर्नाटक में कावेरी नदी पर स्थित पूर्वी और पश्चिमी दो शाखाओं में विभाजित है | पथरीली चट्टानों को घेरते हुए, ये झरने काफ़ी हद तक वनस्पतियों और जीवों से आच्छादित होते हैं | फोटोग्राफी के शौकीन लोगो के लिए यह बहुत ही उपयुक्त स्थान है |

2.जोग गरसोप्पा या महात्मा गाँधी जलप्रपात (Jog Garsoppa or Mahatma Gandhi Falls)

जोग गरसोप्पा जलप्रपात को महात्मा गाँधी जलप्रपात के नाम से भी जाना जाता है | यह जलप्रपात कर्नाटक में शरवती नदी पर स्थित है | सबसे खास बात यह है, कि यह जलप्रपात भारत का सबसे ऊँचा जलप्रपात है, जिसकी ऊँचाई 255 मीटर है |

भारत में कितनी नदियाँ है?

3.दूधसागर जलप्रपात (Dudhsagar Falls)

दूधसागर जलप्रपात भारत के सबसे बड़े झरनों में से एक है | यह जलप्रपात गोवा में मांडोवी नदी पर स्थित है | इसकी ऊंचाई लगभग 1017 फीट अर्थात 310 मीटर है | ऊँचाई से नीचे गिरता पानी नीचे की ओर दूधिया झाग के बादल बनाता है, जिससे सौंदर्य का आभास होता है। हरे रंग की वनस्पतियों के साथ कालीन के आकार की घाटी के बीच सेट, फॉल्स आपके हनीमून के लिए एक आदर्श स्थान हैं |

4.हुण्डरू जलप्रपात (Hundru Falls)

हुण्डरू जलप्रपात झारखंड में स्वर्णरेखा नदी के किनारे स्थित है। इस जलप्रपात की ऊंचाई लगभग 74 मीटर अर्थात 243 फीट है | हुण्डरू जलप्रपात झारखंड राज्य का सबसे ऊँचा जलप्रपात है | सबसे खास बात यह है, कि मानसून के दिनों में इस जलप्रपात की पानी की धारा काफी मोटी हो जाती है, जिसके कारण उस समय इसका दृश्य बहुत ही मनमोहक और सुन्दर हो जाता है |

5.धुआंधार जलप्रपात (Dhuandhar Falls)

धुआंधार जलप्रपात मध्यप्रदेश में जबलपुर के समीप नर्मदा नदी पर स्थित है। इसके बारें में लोग यह कहते है, कि ये झरने इतनी ज़ोर से गूँजते हैं कि इन्हें दूर से भी सुना जा सकता है। इस जलप्रपात की ऊँचाई लगभग 15 मीटर है।

6.रुद्र नाग जलप्रपात (Rudra Nag Waterfall)

रुद्र नाग जलप्रपात हिमाचल प्रदेश में स्थित भारत के सबसे रोमांचक झरनों में से एक है । हिमाचल प्रदेश में सबसे अद्भुत ट्रेकिंग ट्रेल्स में से एक मार्ग स्थित है, यह शांति चाहने वालों के लिए एक उचित स्थान है।

7.चित्रकूट जलप्रपात (Chitrakoot Falls)

चित्रकूट जलप्रपात छत्तीसगढ़ राज्य में इंद्रावती नदी पर स्थित है, इस जलप्रपात को न्याग्रा प्रपात के नाम से जाना जाता है | इस जलप्रपात को देखनें के लिए दुनियाभर से लाखों लोग आते है | यह भूमि स्तर से लगभग 300 मीटर ऊपर से नीचे की ओर बहते हैं |

NDA और UPA क्या है ?

8.मीनमुट्टी जलप्रपात (Meenmutty Falls)

मीनमुट्टी जलप्रपात केरल में स्थित प्रसिद्ध झरनों में से एक हैं, जिन्हें देश के दक्षिणी क्षेत्र में देखा जा सकता है। मीनमुट्टी जलप्रपात तीन स्तरों में लगभग 300 मीटर की ऊंचाई से गिरता है। आसपास की प्रकृति जो हरे रंग के कई रंगों को प्रदर्शित करती है। यह जलप्रपात वास्तव में सभी प्रकृति प्रेमियों के लिए एक उपहार है।

9.पायकारा जलप्रपात (Pykara Falls)

तमिलनाडु में नीलगिरि की पहाड़ियों में स्थित पायकारा जलप्रपात प्रकृति द्वारा निर्मित एक अनोखी रचना है | इस जलप्रपात का प्रयोग जल विद्युत उत्पादन के लिए किया जाता है।

10.चूलिया जलप्रपात (Chulia Falls)

चूलिया जलप्रपात मध्य प्रदेश राज्य के मंदसौर में चम्बल नदी पर स्थित है। इस जलप्रपात की ऊँचाई लगभग 18 मीटर है |

आईएएस (IAS) कैसे बने

जलप्रपात के नाम याद रखनें की ट्रिक

वर्तमान समय में लगभग सभी प्रतियोगी परीक्षाओं में जलप्रपातों से सम्बंधित प्रश्न पूछे जाते है| ऐसे में परीक्षा की द्रष्टि से देश के जलप्रपातों से सम्बंधित जानकारी याद रखना अत्यंत आवश्यक है| इन जल प्रपातों के नाम याद रखनें के लिए आपको एक ट्रिक बता रहे है, जिसकी सहायता से आप आसानी से उनके नाम याद रख सकते है|  

ट्रिक –चुपचाप पानी से बिस्किट खाओ ये धुन सुनकर शिकारी जोश में जोर से हंसा

ट्रिकी वर्डजलप्रपातनदी का नाम
चुपचापचूलिया पुनासाचंबल नदी
पानीपायकारानीलगिरि क्षेत्र
बिस्किटबिहारटोंस नदी
ये-धुनयेन्ना धुंआधारनर्मदा नदी
शिकारीशिवसमुद्रमकावेरी नदी
जोशजोग शरबती नदी
जोरजोन्हारारू नदी
हंसाहुंडरूस्वर्णरेखा

भारत की राष्ट्रभाषा क्या है ?

यहां आपको भारत के प्रमुख जलप्रपात कौन-कौन से हैं, इसके विषय में जानकारी दी गई है | यदि इस जानकारी से रिलेटेड आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न या विचार आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है, हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

FAQ

भारत का सबसे ऊंचा जलप्रपात कौनसा है ?

भारत का सबसे ऊंचा जलप्रपात कुंचिकल जलप्रपात है |

एशिया का सबसे बड़ा जलप्रपात कौन सा है?

छत्तीसगढ़ के चित्रकोट जलप्रपात को एशिया का सबसे बड़ा जलप्रपात माना जाता है।

Lord Shiva Names in Hindi

Leave a Comment